स्त्री गुप्तांगों में खुजली और जलन Vaginal Itch, Redness and Irritation

जानिये योनि में खुजली इरीटेशन के क्या कारण होते हैं और इससे बचने के उपाय क्या हैं? अगर योनी में खुजली हो रही है तो इसका मतलब है की कोई बैक्टीरियल या यीस्ट इन्फेक्शन हुआ है। जानिये योनी की खुजली के घरेलु उपाय क्या क्या हैं।

योनि शरीर का बहुत ही महत्वपूर्ण और संवेंदनशील हिस्सा है। यह हमेशा नमी युक्त रहता है इसलिए थोड़ी सी असावधानी से इसमें संक्रमण आसानी से हो सकते हैं। यदि संक्रमण योनि के रास्ते सर्विक्स cervix या गर्भाशय तक पहुँच जाए तो आन्तरिक प्रजनन अंगों को नुकसान हो सकता है जिससे फर्टिलिटी प्रभावित हो सकती है। सभी स्त्रियों को कभी न कभी योनि में खुजली, जलन और किसी संक्रमण की शिकायत का सामना करना पड़ता है। जैसे संक्रमण के कारण अलग हो सकते हैं उसी प्रकार उसके निवारण भी अलग हो सकते हैं।

योनि में खुलजी होने से न केवल असुविधा होती है बल्कि बार-बार खुजलाना स्वास्थ्य और सामजिक दृष्टि से भी बुरा है। यदि आपको इसकी समस्या है तो उसके कारण को जानने का प्रयत्न करें। जरुरत हो तो स्त्री रोग विशेषज्ञ से सलाह लें, शरमायें नहीं। इसके अतिरिक्त कुछ हाइजीन सम्बंधित बातें ध्यान रखें क्योंकि हो सकता है की बार-बार होने वाली यह समस्या कही न कहीं आप की खराब हाईजीन के कारण से हो।

Pruritus vulvae, vaginal itching, Vulvar itching are the synonym for the itching in vaginal areal of females. It can be due to many reasons and depending on the reason treatment is done.

योनि की खुजली क्या है?

What is Vaginal itching?

योनि के दो भाग होते हैं बाह्य और आंतरिक भग Vulva, भगोष्ठ labia, भगनासिका clitoris, और योनिछिद्र vaginal orifice बाह्य हिस्से हैं और गर्भाशय ग्रीवा cervix, गर्भाशय uterus, डिम्ब ग्रंथियां ovary, डिम्ब ग्रंथियों की नलिकाएं fallopian tube, बर्थोलिन ग्रंथियां bartholin glands आदि आंतरिक हिस्से है।

वेजाइनल इच इसके बाह्य अंगों में होने वाली खुजली है। खुजली बहुत ताज होती है और इसे करने से संवेंदंशील अंगों में चोट लग सकती है।

योनि में खुजली, इरीटेशन और जलन का क्या कारण है?

What are the reasons for Vaginal itch, irritation and burning?

योनि में खुजली, इरीटेशन और जलन के कई सामान्य कारण हैं , जिनमें शामिल हैं:

इसे भी पढ़ें -  पीरियड (माहवारी) जल्दी लाने के 14 उपाय How to Get Periods

यौन संचारित रोग (एसटीडी) STIs: क्लैमाइडिया, जननांग हर्पीस , जेनाइटल वार्ट्स, ट्रेकोमिनास, और गोनोरिया सभी योनि / vulvar खुजली और जलन और अन्य लक्षण पैदा कर सकते हैं।

बैक्टीरियल वेजीनोसिस Bacterial Vaginosis: इस मेडिकल कंडीशन में एक तरह के बैक्टीरिया की संख्या योनि में बहुत अधिक बढ़ जाती है। बैक्टीरियल वेजिनोसिस में योनि में दर्द, खुजली, आसामान्य डिस्चार्ज होने लगता है। अक्सर सेक्स के बाद बदबूदार fishy discharge योनि से स्रावित होता है। देखने में यह स्राव सफ़ेद या ग्रे रंग का होता है और पतला पानी जैसा होता है।

यीस्ट संक्रमण कैंडिडिआसिस: यीस्ट संक्रमण, फंगल इन्फेक्शन है। यह संक्रमण तब होते हैं जब खमीर, कैंडिडा, योनि में अत्यधिक बढ़ती है। गर्भावस्था, संभोग, एंटीबायोटिक , और कमजोर प्रतिरक्षा प्रणाली सभी महिलाओं में इसके होने ही संभावना को बढ़ा देते हैं। खुजली और जलन के अलावा, इसमें योनि से सफ़ेद, थिक, डिस्चार्ज भी होता है। यह डिस्चार्ज देखने में सफ़ेद और लम्प में होता है।

रजोनिवृत्ति: मेनोपौज़ होने के दौरान एस्ट्रोजेन उत्पादन कम हो जाता है जिससे से योनि की दीवारों को पतली और सूखी हो सकती है। इससे खुजली और जलन हो सकती है। यह समस्या स्तनपान कराने वाली महिला में भी देखि जाती है।

रासायनिक पदार्थ: क्रीम, कंडोम , गर्भनिरोधक फोम, कपड़े धोने का डिटर्जेंट, साबुन, सुगंधित टॉयलेट पेपर, और फैब्रिक सॉफ्टनर, गंदे पैड सहित कई रासायनिक पदार्थ योनि में जलन और ख्जली पैदा कर सकते हैं।

योनि में खुजली, इरीटेशन और जलन का इलाज कैसे किया जाता है?

What are treatments available for Vaginal itch?

ज्यादातर मामलों में यह स्थिति अपनेआप कुछ समय में ठीक हो जाती है। लेकिन, यदि ऐसा बार-बार हो रहा है और दैनिक काम करने में दिक्कत आ रही है तो स्त्री रोग विशेषज्ञ की सलाह लें। वे इसके सही कान को टेस्ट के द्वारा जान कर इलाज सही दिशा में कर सकेंगे। हर मामले में एक ही इलाज नहीं है। यदि बैक्टीरियल इन्फेक्शन है तो एंटीबायोटिक दिए जाते हैं, फंगस-यीस्ट में एंटीफंगल क्रीम या गोलों दी जाएगी, यौन संचारित रोग है तो लक्षणों के आधार पर एंटीवायरल या र एंटीबक्टेरियल इलाज किया जाएगा।

इसे भी पढ़ें -  माइग्रेन : कारण, लक्षण, उपचार और दवा | Migraine

यौन संचारित रोग: कौन सा यौन संचारित रोग है, इलाज़ उस पर निर्भर है।

बैक्टीरियल वेजीनोसिस Bacterial Vaginosis: इसके लिए किसी भी तरह के इलाज़ की ज़रूरत नहीं होती।

लेकिन गर्भावस्था में यदि ये हो तो डॉक्टर से अवश्य संपर्क करें। बैक्टीरियल वेजीनोसिस के इलाज़ के लिए एंटीबायोटिक टेबलेट और जेल का प्रयोग किया जाता है।

यीस्ट संक्रमण: इसमें एंटिफंगल दवाओं जैसे की क्रीम, मलहम, आवश्यक हो तो गोली दी जाती है।

रजोनिवृत्ति: इसमें एस्ट्रोजन क्रीम, गोलियां, या योनि रिंग के साथ इलाज किया जा सकता है।

योनि खुजली के लिए घरेलू उपाय क्या हैं?

What home remedies are available for vaginal itch?

  1. घर पर योनि की जलन को रोकने और उपचार करने के लिए यहां कुछ सुझाव दिए गए हैं:
  2. गुप्तांगों को धोने के लिए या केवल पानी का इस्तेमाल करें या बिना तेज गंध वाला माइल्ड साबुन प्रयोग करें।
  3. खुशबूदार साबुन, डियो, सुगंधित पैड या टॉयलेट पेपर, क्रीम, टब में नहाना, स्प्रे, आदि का इस्तेमाल न करें।
  4. बार-बार गुप्तांग न धोएं। 1-2 बार धोना ही काफी है।
  5. साफ़ पैड का इस्तेमाल करें।
  6. नहाने के बाद गुप्तांगों को पोंछें।
  7. शौच के बाद गुप्तांगों को साफ़ पानी से रिंस करें।
  8. बहुत टाइट अंडरवियर न पहने।
  9. सूती जाँघिया पहनें (कोई कृत्रिम कपड़े नहीं), और हर दिन अपनी अंडरवियर बदलें।
  10. शिशु लड़कियों के डायपर को नियमित रूप से बदलें।
  11. प्रजनन अंगों के आस-पास पाउडर न लगाएं।
  12. सेक्स के बाद पानी से धो लें।
  13. यौन संचारित रोगों को रोकने के लिए संभोग के दौरान कंडोम का प्रयोग करें।
  14. यदि आप योनि सूखापन का अनुभव कर रहे हैं , तो योनि मॉइस्चराइज़र का प्रयोग करें।
  15. जब तक आपके लक्षणों में सुधार न हो, तब तक संभोग से बचें।

मैं डॉक्टर से कब संपर्क करूं?

डॉक्टर से मिलें यदि:

  1. आसामान्य योनि स्राव हो रहा है।
  2. बुखार है।
  3. श्रोणि या पेट क्षेत्र में दर्द होता है।
  4. योनि डिस्चार्ज की मात्रा, राशि, रंग में अचानक परिवर्तन होता है।
  5. गुप्तांग में खुजली, लाली, और सूजन है।
  6. आप चिंतित हैं कि आपको एसटीआई हो सकता है।
  7. लक्षण उपायों के बावजूद 1 सप्ताह में अधिल खराब हो गए हैं।
  8. आपके योनि या योनी पर फफोले या अन्य घाव हैं।
  9. पेशाब या अन्य मूत्र सम्बंधित लक्षण हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.