V Wash Plus के उपयोग और साइड इफेक्ट बारे में जानिए

Learn how to use V Wash plus in Hindi and benefits and side effects of this product. V Wash plus को कैसे प्रयोग करते हैं और इसके क्या क्या फायदे और नुक्सान हैं।

वी वाश प्लस V wash Plus इंटिमेट हायजीन वाश, फीमेल्स के लिए एक प्रोडक्ट है। इसे गुप्तांगों की सफाई के लिए प्रयोग किया जाता है। इसमें लैक्टिक एसिड है व इससे गुप्तांगों को धोने से पीएच pH संतुलित रहता है।

Loading...
v wash plus usage

योनि शरीर का बहुत ही महत्वपूर्ण और संवेंदनशील हिस्सा है। यह हमेशा नमी युक्त रहता है इसलिए थोड़ी सी असावधानी से इसमें संक्रमण आसानी से हो सकते हैं। यदि संक्रमण योनि के रास्ते सर्विक्स cervix या गर्भाशय तक पहुँच जाए तो आन्तरिक प्रजनन अंगों को नुकसान हो सकता है जिससे फर्टिलिटी प्रभावित हो सकती है। सभी स्त्रियों को कभी न कभी योनि में खुजली, जलन और किसी संक्रमण की शिकायत का सामना करना पड़ता है।

लैक्टिक एसिड, एसिडिक होता है और इसका पी एच कम होता है जिससे यह योनि में संक्रमण करने वाले बैक्टीरिया और फंगस को नहीं बढ़ने देता। यह योनि में प्राकृतिक रूप से मौजूद होता है। इसके कारण ही योनि में पीएच 3.5 से 4.5 के करीब पाया जाता है। कम पीएच यानि एसिडिक मीडियम में बैक्टीरिया या फंगस की वृद्धि नहीं होती है। लेकिन मीडियम जैसे ही कम एसिडिक होता है, पैथोजेनिक बैक्टीरिया के बढ़ने के लिए उपयुक्त कंडीशन बन जाती है. इस प्रोडक्ट की सहायता से वेजिनल एरिया का पी एच सही रखा जा सकता है।

V Wash is a vaginal hygiene product from Glenmark. It helps to maintain pH level in vaginal area. It is a gel.  Wet your private part and take a small quantity of the Gel in your palm and apply it on the external part of the vaginal area and rub to make lather and then rinse it with clean water. Dry the area with a clean towel.

वी वाश के इंग्रेडियंट क्या हैं?

Lactic Acid 1.2%w/v

Purified water, Triethanolamine Lauryl Sulphate, Ammonium Lauryl Sulphate, Cocamidopropyl Betaine, PEG-7 Glyceryl Cocoate, Phenoxyethanol and Benzoic Acid(and) Dehydroacetic Acid, Sorbitol, Hydroxypropyl Cellulose, Polyquaternium-7, Fragrance, Hippophae Rhamnoides (Sea buckthorn) Fruit Oil, Sodium Hydroxide, Tea Tree Oil (Melaleuca Alternifolia).

इसे भी पढ़ें -  महिला नसबंदी के फायदे, नुकसान और सावधानी Female Sterilization

Vwash Plus वी वाश का प्राइस क्या है?

200 ml करीब 280 रुपए का है।

क्या Vwash Plus बच्चों पर इस्तेमाल कर सकते हैं?

  1. नहीं, यह बच्चों के लिए नहीं है।
  2. बच्चों के प्राइवेट पार्ट्स को नहाते समय पानी से धो देना ही काफी है। बेकार के केमिकल के प्रयोग से बचें। बच्चों के अंग बहुत ही कोमल होते हैं।
  3. बच्चों के प्राइवेट पार्ट्स के आस-पास पाउडर का छिडकाव भी न करें।

V wash Plus वी वाश प्रयोग के क्या लाभ हैं?

What are the advantages of using VWash?

  1. यह गुप्तांगों की साफी के लिए विशेष रूप से बनाया गया है।
  2. इससे खुजली, जलन और दाने आदि दूर होते हैं।
  3. यह दुर्गन्ध को रोकता है।
  4. इसे दैनिक प्रयोग कर सकते हैं।
  5. इससे पी एच बैलेंस होता है।
  6. इसमें टीट्री आयल और सी बकथोर्न आयल हैं जो प्राकृतिक हैं।
  7. इसमें पराबेन और सोडियम sodium lauryl sulfate लौरयल सल्फेट नहीं है।
  8. इसमें लैक्टिक एसिड 1.2 % है।
  9. यह योनि का पी एच 2.5 से 4.5 के बीच बनाए रखने में मदद करता है।
  10. इससे इन्फेक्शन और बदबूददार डिस्चार्ज रोकने में सहायता होती है।
  11. इससे ड्राईनेस नहीं होती।

वी वाश कैसे प्रयोग करते हैं?

How to use V wash Plus in Hindi?

  1. वाश को दिन में एक बार इस्तेमाल करना है।
  2. यह केवल बाह्य प्रयोग के लिए है।
  3. इसे बार-बार प्रयोग न करें।

V wash Plus वी वाश एक जेल है और इसे कुछ बूंदों की मात्रा में हथेली पर लगाकर गुप्तांगों पर, साबुन की अप्लाई करते हैं और फिर पानी से अच्छे से रिंस कर लेते हैं। अच्छे से रिंस करना बहुत ज़रूरी है।

इसे पीरियड के दौरान इस्तेमाल करने से दुर्गन्ध और संक्रमण कम होता है।

क्या इसे गर्भावस्था में प्रयोग कर सकते हैं?

इसे गर्भावस्था में बिना डॉक्टर से पूछे प्रयोग न करें।

V wash Plus के साइड इफेक्ट्स क्या है?

What are the Side-effects of VWash Plus?

  1. इसके कोई भी ज्ञात साइड-इफ़ेक्ट नहीं है।
  2. इसे केवल बाह्य प्रयोग के लिए इस्तेमाल करें और अच्छे से साफ़ पानी से रिंस करें।
इसे भी पढ़ें -  एंडोमेट्रियोसिस Endometriosis लक्षण, कारण, रोग का निदान और उपचार

 

गुप्तांगों की हाईजीन कैसे रखें ?

  1. गुप्तांगों को धोने के लिए या केवल पानी का इस्तेमाल करें या बिना तेज गंध वाला माइल्ड साबुन या इंटिमेट वाश प्रयोग करें।
  2. खुशबूदार साबुन, डियो, सुगंधित पैड या टॉयलेट पेपर, क्रीम, टब में नहाना, स्प्रे, आदि का इस्तेमाल न करें।
  3. बार-बार गुप्तांग न धोएं। 1-2 बार धोना ही काफी है।
  4. साफ़ पैड का इस्तेमाल करें।
  5. नहाने के बाद गुप्तांगों को पोंछें।
  6. शौच के बाद गुप्तांगों को साफ़ पानी से रिंस करें।
  7. बहुत टाइट अंडरवियर न पहने।
  8. सूती जाँघिया पहनें (कोई कृत्रिम कपड़े नहीं), और हर दिन अपनी अंडरवियर बदलें।
  9. शिशु लड़कियों के डायपर को नियमित रूप से बदलें।
  10. प्रजनन अंगों के आस-पास पाउडर न लगाएं।
  11. सेक्स के बाद पानी से धो लें।
  12. यौन संचारित रोगों को रोकने के लिए संभोग के दौरान कंडोम का प्रयोग करें।
  13. यदि आप योनि सूखापन का अनुभव कर रहे हैं, तो योनि मॉइस्चराइज़र का प्रयोग करें।
  14. जब तक कोई योनि संक्रमण हो तब तक संभोग से बचें।
Loading...

2 Comments

  1. I am 14 years old may I use this

  2. Sex se pahle wash kar sakte hai

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.