अनचाहे बालों को हटाने के उपाय Removing Unwanted Hairs

शरीर के अनचाहे बाल और चेहरे के बाल हटाने के घरेलु उपाय, क्या अनचाहे बालों से हमेशा के लिए छुटकारा पाया जा सकता है? बस एक बार लेजर और जिंदगी भर के लिए अनचाहे बालों से छुटकारा पाए remove unwanted hairs.

शरीर के कुछ हिस्सों में अनचाहे बाल होते हैं। यह बाल महिलाओं में अपर लिप के ऊपर, कान और गाल के आस-पास, ठोड़ी या ठुड्डी पर, माथे और हाथ-पैर पर होते हैं। इन बालों के होने से त्वचा का रंग डार्क लगता है और वे कम चिकनी और मुलायम लगती हैं। आजकल फैशन के दौर में शरीर पर बालों का होना भद्दा और बुरा माना जाता है।

unwanted hair removal

आजकल कई तरीके हैं जिनका इस्तेमाल बालों को हटाने के लिए किया जा सकता है। हेयर रिमूवल क्रीम (hair removal cream),  वैक्सिंग, थ्रेडिंग, ट्वीज़िंग (tweezing), इलेक्ट्रोलीसिस (electrolysis), लेज़र (laser), एपिलेटर्स (epilators)  आदि के द्वारा अनचाहे बाल हटाये जा सकते हैं। इनमें से कुछ तरीके सेफ हैं जबकि कुछ में रिस्क है। केमिकल बेस्ड हेयर रिमोविंग टेकनीक का इस्तेमाल जहाँ तक हो सके रेगुलर इस्तेमाल के लिए अवॉयड किया जाना चाहिए। यह केमिकल बालों पर लगाने पर उन्हें गला देते हैं और इस तरह से काम करते हैं। लेकिन इन हार्श केमिकल के असर से त्वचा पर भी बुरा असर हो सकता है। लम्बे समय तक ऐसा करने से त्वचा का रंग काला हो सकता है यह त्वचा सेंसिटिव हो सकती है।

आजकल क्रीम से लेकर उच्च तकनीक वाली महंगे लेजर ट्रीटमेंट उपलब्ध हैं जो बालों को हटाने के विकल्प देते हैं। प्रत्येक के अपने जोखिम और लाभ हैं। नीचे बालों को हटाने के तरीके दिए जा रहे हैं:

नीडल एपिलेटर, इलेक्ट्रोलिसिस, और चिमटी Needle, Electrolysis, and Tweezers

नीडल एपिलेटर में त्वचा के नीचे, बाल शाफ्ट के करीब तार को डाल कर, एक विद्युत प्रवाह कराया जाता है और बाल कूप की जड़ को इस प्रकार नष्ट किया जाता है, और निकले हुए बाल को चिमटी से हटा दिया जाता है।

इसे भी पढ़ें -  रजोनिवृत्ति के यौन दुष्प्रभाव Sexual Side Effects of Menopause

मेडिकल इलेक्ट्रोलाइसिस डिवाइस बाल की ग्रोथ को एक शोर्ट वेव रेडियो फ्रीक्वेंसी के साथ नष्ट करती हैं। इन विधियों से होने वाली जोखिमों में अनचाहे सुई से संक्रमण और अनुचित तकनीक से जख्म शामिल हैं।

इलेक्ट्रोलिसिस को स्थायी बाल हटाने की विधि permanent hair removal method माना जाता है, क्योंकि यह बाल कूप को नष्ट कर देता है। इसके लिए कई सेटिंग में ट्रीटमेंट की ज़रूरत होती है।

ट्वीज़र एपिलेटर भी बाल निकालने के लिए बिजली का उपयोग करते हैं। ट्वीज़र एपिलेटर त्वचा के करीब बाल पकड़ते हैं, और एनर्जी को tweezer की नोक पर लागू किया जाता है। स्थायी रूप से बालों को हटाने के लिए ट्वीज़र एपिलेटर की प्रभावशीलता स्थापित करने वाली महत्वपूर्ण जानकारी नहीं है।

सुई, इलेक्ट्रोलिसिस, और चिमटी के साइड इफेक्ट्स

यह अवांछित शरीर के बालों को हटाने में काफी प्रभावी हैं, लेकिन उनके कुछ साइड इफेक्ट भी हैं जिनके बारे में आपको पता होना चाहिए। इनसे से बाल हटाने के साइड इफेक्ट्स में शामिल हैं, दर्द, सूजन, लाली, लाल डॉट्स, इन्ग्रोन हेयर आदि।

जेल, क्रीम depilatories

हेयर रिमुविंग जेल, क्रीम, लोशन, और रोल-ऑन उपलब्ध है जो बालों को घर पर ही हटा देने की आप्शन देते हैं। यह हेयर रिमुविंग उत्पाद अत्यधिक क्षारीय (या, कुछ मामलों में, अम्लीय) होते हैं जो बालों के प्रोटीन संरचना को प्रभावित करते हैं, जिसके कारण यह बाल गल जाते हैं जिसे उपयोगकर्ता आसानी से त्वचा पोंछ कर हटा सकते हैं।

यह तरीका गहर पर ही किया जा सकता है। इसके लिए आपको इस तरह का प्रोडक्ट खरीदना होता है। इससे आप हार्ट, पैर और अंडर आर्म के बाल हटा सकती हैं।

उपभोक्ताओं को सावधानीपूर्वक निर्देशों का पालन करना चाहिए और उत्पाद लेबल पर सभी चेतावनियों को ध्यान में रखना चाहिए।

उदाहरण के लिए, निर्माताओं आमतौर पर एलर्जी की प्रतिक्रिया और जलन के लिए प्रारंभिक त्वचा परीक्षण करने की सलाह देते हैं। जेल, क्रीम का उपयोग आइब्रो या आसपास की आंखों या सूजन या टूटी त्वचा पर नहीं किया जाना चाहिए।

इसे भी पढ़ें -  पीरियड्स के दौरान सेक्स Sex During Periods

हेयर रिमुविंग जेल, क्रीम, लोशन के साइड इफेक्ट्स

इन हेयर रिमुविंग उत्पादों से जलने, छाले, खुजली, चकत्ते और त्वचा के छीलने आदि के साइड इफेक्ट्स हो सकते हैं। इससे एलर्जी रिएक्शन भी हो सकते हैं। सूखापन, खुजली, दाने और संवेदनशीलता आम हैं।

वैक्सिंग, शुगरिंग, और थ्रेडिंग Waxing, Sugaring, and Threading

रासायनिक हेयर रिमुविंग उत्पाद, त्वचा की उपरी सतह पर बाल निकालते हैं लेकिन वैक्सिंग, शुगरिंग, और थ्रेडिंग विधियों द्वारा स्किन के नीचे से हेयर फोलिकल से बाल निकाल दिया जाता है ।

वैक्सिंग, में पिघली हुआ मोम की एक परत त्वचा पर लागू की जाती है। इसके लिए इस्तेमाल वैक्स दो तरह की है। कोल्ड वैक्स, जो कमरे के तापमान पर नरम रहती हैं और उपयोगकर्ता को इस वैक्स पिघलाने की ज़रूरत नहीं पड़ती। हॉट वैक्स जो कमरे के तापमान पर हार्ड रहती हैं और उपयोगकर्ता को इस वैक्स को पिघला कर लगाने की ज़रूरत होती है।

वैक्सिंग, में वैक्स को त्वचा पर फैला कर लगाते हैं और स्ट्रिप लगाते हैं। फिर बाल की ग्रोथ की विपरीत दिशा में जल्दी से इस स्ट्रिप खींच लिया जाता है, जिससे बाल उखड़ जाते हैं ।

वैक्सिंग, का उपयोग मधुमेह और संचार संबंधी समस्याओं से नहीं किया जाना चाहिए। वेरिकोज़ नसों varicose veins, मस्सों, और वार्ट्स पर भी मोम का इस्तेमाल नहीं किया जाना चाहिए। वैक्सिंग को पलको, नाक, कान, या निपल्स, जननांग क्षेत्रों, या झुलसी, कटी-फटी त्वचा पर इस्तेमाल नहीं किया जाना चाहिए।

शुगरिंग, वैक्सिंग, के समान है। एक गर्म चीनी का मिश्रण त्वचा पर फैलाया जाता है, और कपड़े की पट्टी के साथ कवर किया जाता है, और फिर बालों को हटाने के लिए इसे खींच लिया जाता है।

थ्रेडिंग एक प्राचीन तकनीक है जिसमें बालों को उखाड़ने के लिए धागे का लूप इस्तेमाल होता है। इससे आइब्रो, माथे और अपर लिप के बाल उखाड़े जा सकते हैं। इसे आप खुद से नहीं कर सकती। इसके लिए आपको ब्यूटी पार्लर जाना होता है।

इसे भी पढ़ें -  बैक्टीरियल वेजिनोसिस के लक्षण और उपचार | Bacterial Vaginosis Treatment

वैक्सिंग, शुगरिंग, और थ्रेडिंग के साइड इफेक्ट्स

इन सभी तकनीकों में त्वचा की जलन और संक्रमण हो सकता है। इनका का उपयोग दर्द भरा होता है।

लालिमा, जलन, चकत्ते, रक्त स्राव, संवेदनशील त्वचा हो सकती है। आपकी त्वचा पर एलर्जिक प्रतिक्रिया हो सकती है। वैक्सिंग, त्वचा की ऊपरी परत को नष्ट कर सकती है, इसलिए संक्रमण के प्रति सावधानी बरतनी चाहिए। वैक्सिंग त्वचा की सतह के छोटे टुकड़े निकाल सकती है, जिससे संक्रमण हो सकता है।

शेविंग Shaving

शेविंग में ब्लेड से बालों को काटा जाता है। बालों को काटने से पहले पानी और साबुन की सहायता से गीला किया जाता है और जिस दिशा में बाल उगते हैं, उस दिशा में रेज़र को चलाया जाता है।

इससे त्वचा की जलन और कट लग सकते हैं लेकिन इससे कोई गंभीर या लॉन्ग टर्म साइड इफ़ेक्ट नहीं होता। शेविंग का तरीका घर पर बाल साफ़ करने के लिए किया जा सकता है। इससे प्युबिक एरिया यानिकी योनि या पेनिस के आस पास के बालों को साफ़ कर सकते हैं।

शेविंग के साइड इफेक्ट्स

शेविंग से जलन होती है और कट लग सकते हैं जिससे संक्रमण हो सकता है।

लेज़र से अनचाहे बाल हटाना Laser Hair Removal

यदि आप अवांछित बालों को हटाने के लिए शेविंग, चिमटी या एपिलेशन से खुश नहीं हैं तो लेजर से बालों को हटाना एक विकल्प हो सकता है। लेजर बालों को हटाने के लिए की जाने वाली कॉस्मेटिक प्रक्रिया है।

इस विधि में, लेजर गर्मी से बाल के फोलिकल follicles को नष्ट कर देती है। कभी-कभी लेजर से बालों को हटाने की प्रक्रिया से पहले एक टोपिकल एनेस्थीसिया का इस्तेमाल किया जता है जिससे दर्द कम हो। इसमें उपभोक्ता को चिकित्सकीय पेशेवर से पहले ही चर्चा करनी चाहिए कि किस टोपिकल एनेस्थीसिया का उपयोग किया जाएगा और इसका उपयोग उचित है या नहीं।

टोपिकल एनेस्थीसिया का उपयोग हो रहा हो तो व्यक्ति को निर्देशों का पालन करना चाहिए और उस उत्पाद का उपयोग करने पर विचार करना चाहिए जिसमें निम्नतम एनेस्थीसिया दवाएं हों।

इसे भी पढ़ें -  महिलाओं में कामेच्छा बढ़ाने वाली पिंक गोली - ADDYI (Flibanserin)

लेज़र्स चेहरे, पैर, हाथ, अंडरआर्म, बिकनी लाइन और अन्य क्षेत्रों से अनचाहे बालों को हटाने के लिए उपयोगी होते हैं।

लेजर से बालों को हटाने की लागत शरीर के हिस्से के आकार, जटिलता और इलाज क्षेत्र के अन्य कारकों के आधार पर भिन्न होती है। एक सत्र के लिए कीमतें 1000 रु से लेकर 30000 रूपये तक हो सकती हैं।

लेज़र से अनचाहे बाल हटाने के साइड इफेक्ट्स

टोपिकल एनेस्थीसिया का इस्तेमाल कुछ लोगों में साइड इफेक्ट्स का कारण बन सकता है इसलिए डॉक्टर से कंसल्ट करना ज़रूरी है और साथ ही इसकी कम से कम मात्रा को इस्तेमाल करना आवश्यक है।

लेजर से बालों को हटाने के दुष्प्रभाव में ब्लिस्टरिंग, उपचार के बाद त्वचा का रंग बदल जाना, सूजन, लालिमा और जलन शामिल हो सकते हैं। प्रक्रिया के बाद उपचार के दौरान सूर्य के प्रकाश से बचा जाना चाहिए।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.