Lactacyd Feminine Hygiene Wash

लैक्टैसीड फेमिनाइन हाइजीन वॉश प्रयोग के क्या लाभ हैं? लैक्टैसिड फेमिनाइन हाइजीन वॉश के साइड इफेक्ट्स क्या है? गुप्तांगों की हाईजीन कैसे रखें ? संक्रमण न हो, इसके लिए क्या करें?

लेक्टेसिड फेमिनिन हाइजीन वाश, योनि की नियमित सफाई के लिए विशेष रूप से बनाया गया उत्पाद है। यह एक वेजाइनल वाश है जिसे रोजाना नहाते समय गुप्तांगों को साफ़ करने के लिए इस्तेमाल कर सकते हैं।

Loading...

योनि शरीर का बहुत ही महत्वपूर्ण और संवेंदनशील हिस्सा है। यह हमेशा नमी युक्त रहता है इसलिए थोड़ी सी असावधानी से इसमें संक्रमण आसानी से हो सकते हैं। संक्रमणों में सबसे ज्यादा बैक्टीरियल और फंगल इन्फेक्शन कॉमन हैं। यदि संक्रमण योनि के रास्ते सर्विक्स cervix या गर्भाशय तक पहुँच जाए तो आन्तरिक प्रजनन अंगों को नुकसान हो सकता है जिससे फर्टिलिटी प्रभावित हो सकती है। सभी स्त्रियों को कभी न कभी योनि में खुजली, जलन और किसी संक्रमण की शिकायत का सामना करना पड़ता है।

लेक्टेसिड में लैक्टिक एसिड है व इससे गुप्तांगों को धोने से पीएच pH संतुलित रहता है। लैक्टिक एसिड, एसिडिक होता है और इसका पी एच कम होता है जिससे यह योनि में संक्रमण करने वाले बैक्टीरिया और फंगस को नहीं बढ़ने देता। यह योनि में प्राकृतिक रूप से मौजूद होता है। इसके कारण ही योनि में पीएच 3.5 से 4.5 के करीब पाया जाता है। कम पीएच यानि एसिडिक मीडियम में बैक्टीरिया या फंगस की वृद्धि नहीं होती है। लेकिन मीडियम जैसे ही कम एसिडिक होता है, पैथोजेनिक बैक्टीरिया के बढ़ने के लिए उपयुक्त कंडीशन बन जाती है। इस प्रोडक्ट की सहायता से वेजिनल एरिया का पी एच सही रखा जा सकता है।

लेक्टेसिड में दूध से एक्सट्रेक्ट किये गए पदार्थ हैं जोकि प्राकृतिक है। किसी भी अन्य वेजाइनल वाश के अपेक्षा यह अधिक माइल्ड है और योनि में बैक्टीरियल और यीस्ट ग्रोथ को नहीं होने देता जिससे बदबू, खुजली, सूजन आदि नहीं होते। यह योनि में नार्मल पीएच बनाये रखता है। यह डॉक्टर्स के द्वारा अक्सर योनि की देखभाल के लिए बताया जाता है।

Lactacyd Feminine Hygiene Wash is a vaginal hygiene product from SANOFI. It helps to maintain pH level in vaginal area. You can use it like any other soap. Wet your private part and take a small quantity of the Gel in your palm and apply it on the external part of the vaginal area and rub to make lather and then rinse it with clean water. Dry the area with a clean towel.

इसे भी पढ़ें -  एमेनोरिया: Amenorrhea मासिक धर्म का नहीं आना की जानकारी और इलाज

लैक्टैसीड फेमिनाइन हाइजीन वॉश के इंग्रेडियंट formulation/Composition क्या है?

The formulation as written on label:

Lactoserum whey 1.016 % w/v, Phenoxyethanol 1.01 % w/v, lactic acid 0.071 % w/v.

Zetesol MGS 25.2 % w/v, Tegobetaine HS 5.0 % w/v, Euperlan PK810 5 % w/v, Cetiol HE 1 % w/v, Antil 141 1 % w/v, Lindum TE 5482 0.5 % w/v, Bronidox L 0.2 % w/v and Purified water.

लेक्टोसीरम Lactoserum मिल्क प्लाज्मा या वे प्रोटीन है जिसमें जलन दूर करने, रूखापन न होने देने के और खुजली दूर करने के गुण है। यह लेक्टिक एसिड के प्रभाव को सपोर्ट करता है।

लेक्टिक एसिड, दूध से प्राप्त किया गया एसिड है। यह प्राकृतिक रूप से योनि में मौजूद होता है और बैक्टीरियल और यीस्ट ग्रोथ नहीं होने देता। योनि में मौजूद अच्छे बैक्टीरिया लेक्टोबेसिलस इसे बनाते हैं।

लैक्टैसीड फेमिनाइन हाइजीन वॉश का प्राइस क्या है?

Lactacyd Feminine Hygiene Wash 100 ml Liquid in bottle @ Rs 176 ओन्ली.

क्या यह बच्चों पर इस्तेमाल कर सकते हैं?

बच्चों के प्राइवेट पार्ट्स को नहाते समय पानी से धो देना ही काफी है। बेकार के केमिकल के प्रयोग से बचें। बच्चों के अंग बहुत ही कोमल होते हैं।

बच्चों के प्राइवेट पार्ट्स के आस-पास पाउडर का छिड़काव भी न करें।

लैक्टैसीड फेमिनाइन हाइजीन वॉश प्रयोग के क्या लाभ हैं?

What are the advantages of using Lactacyd?

  1. यह गुप्तांगों की साफ़-सफाई के लिए विशेष रूप से बनाया गया है।
  2. इससे खुजली, जलन और दाने आदि दूर होते हैं।
  3. यह दुर्गन्ध को रोकता है।
  4. इसे दैनिक प्रयोग कर सकते हैं।
  5. इससे पी एच बैलेंस होता है।
  6. इससे इन्फेक्शन और बदबूददार डिस्चार्ज रोकने में सहायता होती है।
  7. इसे पीरियड के दौरान इस्तेमाल करने से दुर्गन्ध और संक्रमण कम होता है।
  8. इसे प्रसव बाद इन्फेक्शन दूर रखने के लिए योनि साफ़ करने के लिए प्रयोग करें।
  9. इसके प्रयोग से ड्राईनेस नही होती।

लैक्टैसिड फेमिनाइन हाइजीन वॉश कैसे प्रयोग करते हैं?

How to use Lactacyd in Hindi?

  1. यह केवल बाह्य प्रयोग के लिए है।
  2. इसे बार-बार प्रयोग न करें।
  3. लेक्टेसिड एक जेल है और इसे कुछ बूंदों की मात्रा में हथेली पर लगाकर गुप्तांगों पर, साबुन की अप्लाई करते हैं और फिर पानी से अच्छे से रिंस कर लेते हैं। अच्छे से रिंस करना बहुत ज़रूरी है।
इसे भी पढ़ें -  गर्भनिरोधक, प्रेगनेंसी रोकने के उपाय, गर्भधारण से बचने के उपाय

क्या इसे गर्भावस्था में प्रयोग कर सकते हैं?

इसे गर्भावस्था में बिना डॉक्टर से पूछे प्रयोग न करें।

लैक्टैसिड फेमिनाइन हाइजीन वॉश के साइड इफेक्ट्स क्या है?

What are the Side-effects of Lactacyd?

  1. इसके कोई भी ज्ञात साइड-इफ़ेक्ट नहीं है।
  2. इसे केवल बाह्य प्रयोग के लिए इस्तेमाल करें और अच्छे से साफ़ पानी से रिंस करें।

गुप्तांगों की हाईजीन कैसे रखें ? संक्रमण न हो, इसके लिए क्या करें?

  1. गुप्तांगों को धोने के लिए या केवल पानी का इस्तेमाल करें या बिना तेज गंध वाला माइल्ड साबुन या इंटिमेट वाश प्रयोग करें।
  2. खुशबूदार साबुन, डियो, सुगंधित पैड या टॉयलेट पेपर, क्रीम, टब में नहाना, स्प्रे, आदि का इस्तेमाल न करें।
  3. बार-बार गुप्तांग न धोएं। 1-2 बार धोना ही काफी है।
  4. साफ़ पैड का इस्तेमाल करें।
  5. नहाने के बाद गुप्तांगों को पोंछें।
  6. शौच के बाद गुप्तांगों को साफ़ पानी से रिंस करें।
  7. बहुत टाइट अंडरवियर न पहने।
  8. सूती जाँघिया पहनें (कोई कृत्रिम कपड़े नहीं), और हर दिन अपनी अंडरवियर बदलें।
  9. शिशु लड़कियों के डायपर को नियमित रूप से बदलें।
  10. प्रजनन अंगों के आस-पास पाउडर न लगाएं।
  11. सेक्स के बाद पानी से धो लें।
  12. यौन संचारित रोगों को रोकने के लिए संभोग के दौरान कंडोम का प्रयोग करें।
  13. यदि आप योनि सूखापन का अनुभव कर रहे हैं, तो योनि मॉइस्चराइज़र का प्रयोग करें।
  14. जब तक कोई योनि संक्रमण हो तब तक संभोग से बचें।
Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.