महिलाओं के लिए हार्मोन रिप्लेसमेंट थेरेपी Hormone replacement therapy

जानिये हार्मोन रिप्लेसमेंट थेरेपी क्या है? इसे कैसे किया जाता है और इसको लेने के क्या खतरे होते हैं, जानिये किन महिलाओं के लिए हार्मोन रिप्लेसमेंट थेरेपी ठीक होती है और किसको नहीं करनी चाहिए?

हार्मोन रिप्लेसमेंट थेरेपी, को रजोनिवृत्ति के लक्षणों menopausal symptoms को कम करने या गर्भाशय-ओवरी निकाल दिए जाने के बाद शरीर में हॉर्मोन नहीं बनने, में किया जाता है।

हार्मोन रिप्लेसमेंट थेरेपी में, मेनोपौज़ के बाद स्त्री हॉर्मोन दिए जाते हैं जिससे शरीर में इन होर्मोन की आपूर्ति बनी रहे। अभी तक इसे मेनोपौज़ के लक्षणों से राहत पाने के लिए एक स्टैण्डर्ड इलाज़ की तरह किया जाता रहा है। होर्मोन थेरेपी को इसलिए भी किया जाता है कि हॉर्मोन नहीं होने कारण होने वाली हड्डियों की कमजोरी, यादाश्त, हृदय रोगों को रोका जा सके।

हार्मोन रिप्लेसमेंट थेरेपी को एस्ट्रोजन की गोली (Long-term systemic hormone therapy), स्किन पैच, जेल, क्रीम, स्प्रे या योनि में रखने के क्रीम, टेबलेट या रिंग से किया जाता है। योनि में लगाने वाले प्रोडक्ट्स (Low-dose vaginal products) कम डोज़ के होते हैं जबकि एस्ट्रोजन की गोली आदि वाले अधिक डोज़ के होते हैं। अधिक डोज वाली एस्ट्रोजन गोलियां हॉट फ़्लैश और रात में अधिक पसीने में आराम दे सकती है लेकिन कम डोज़ वाली से केवल योनि के लक्षणों जैसे ड्राईनेस, खुजली, जलन, सेक्स के दौरान दिक्कत में आराम दे सकती है।

होर्मोन थेरेपी काफी समय तक की जाती रही है। लेकिन आजकल किये जाने वाले शोध और बड़े क्लिनिकल ट्रायल होर्मोन रिप्लेसमेंट थेरपी के पक्ष में नहीं हैं। इस शोधों से पता चलता है कि यह फायदा करने के लिए दिए जाते हैं लेकिन इन इस थेरपी से कई अन्य रोग होने का खतरा बढ़ जाता है।

होर्मोन थेरपी कराने से ज्यादा उम्र की महिलाओं के स्वास्थ्य पर अधिक खराब असर हो सकता है।  लम्बे समय तक गोली के माध्यम से चलने वाली होर्मोन थेरपी Long-term systemic hormone therapy for से  कई नुकसान देखे गए हैं। आजतक किये गए सबसे बड़े क्लिनिकल ट्रायल ने दिखाया कि इस तरह हॉर्मोन (estrogen-progestin pill) देने से हृदय रोगों, स्ट्रोक, ब्लड क्लॉट, और ब्रैस्ट कैंसर होने के रिस्क बढ़ गए।

इसे भी पढ़ें -  स्तन संक्रमण का कारण और इलाज

केवल एस्ट्रोजन लेने वाली महिलाओं में भी स्ट्रोक और ब्लड क्लॉट होने के रिस्क में वृद्धि हुई।

इन कारणों से डॉक्टर भी इसे अब कम ही प्रेस्क्राइब करते हैं। आजकल होर्मोन थेरपी को मेनोपौज़ के बाद हृदय रोग, याददाश्त की कमी, हड्डियों की कमजोरी आदि के लिए नहीं कहा जाता। यह केवल कुछ ख़ास रोगों में महिलाओं को इसके नुकसान होते हुए भी कही जा सकती है, यदि इससे उन्हें नुकसान की तुलना में लाभ अधिक हो।

जिन स्त्रियों में गर्भाशय को हटा दिया गया हो उन्हें केवल एस्ट्रोजन ही दिया जाता है। उनमें प्रोजेस्टेरोन होर्मोन की कोई ज़रूरत नहीं होती।

हार्मोन थेरेपी के जोखिम इस बात पर भी निर्भर हैं कि क्या एस्ट्रोजेन अकेले दिया जाता है या एक प्रॉजेस्टिन के साथ दिया जाता है, रजोनिवृत्ति पर आपकी वर्तमान  उम्र क्या है, डोज़- एस्ट्रोजेन का प्रकार क्या है, और अन्य स्वास्थ्य जोखिम जैसे हृदय और रक्त वाहिका के जोखिम (कार्डियोवास्कुलर) रोग, कैंसर के जोखिम और परिवार का चिकित्सा इतिहास क्या है।

इन सभी जोखिमों को तय करने में विचार किया जाना चाहिए और फिर देखा जाना चाहिए की क्या हार्मोन चिकित्सा आपके लिए एक सही विकल्प हो सकता है या नहीं।

हार्मोन रिप्लेसमेंट थेरेपी क्या है?

हार्मोन रिप्लेसमेंट थेरपी (एचआरटी, रजोनिवृत्ति संबंधी हार्मोन थेरेपी, एस्ट्रोजेन रिप्लेसमेंट थेरेपी) एक उपचार है जिसका प्रयोग रजोनिवृत्ति के लक्षणों को दूर करने के लिए किया जाता  है। इसके द्वारा शरीर में वे हार्मोन पहुचाएं जाते हैं जो रजोनिवृत्ति के कारण निम्न स्तर पर होते हैं।

रजोनिवृत्ति के सामान्य लक्षणों के लिए स्त्री हार्मोन – एस्ट्रोजन और प्रोजेस्टेरोन, दिए जाते हैं, यही हार्मोन रिप्लेसमेंट थेरेपी है।

पीरियड आना बंद  हो जाने से हार्मोन के स्तर में गिरावट, से हॉट फ़्लैश, योनि का सूखापन, और कभी कभी ऑस्टियोपोरोसिस की स्थिति हो जाती है। ऐसे में हार्मोन रिप्लेसमेंट थेरेपी की जा सकती है।

आपके शरीर को एस्ट्रोजन क्यों चाहिए?

इसे भी पढ़ें -  पेल्विक इन्फ्लेमेटरी बीमारी (पीआईडी) लक्षण और उपचार

एस्ट्रोजन गर्भावस्था को बनाए रखने वाला होर्मोन होने के साथ-साथ शरीर में कैल्शियम के उपयोग, हड्डियों की मजबूती करता है, और रक्त में अच्छे कोलेस्ट्रॉल को बढ़ाने में मदद करता है। इसकी कमी से हड्डियों का क्षय हो सकता है।

एस्ट्रोजेन थेरेपी : डॉक्टर आम तौर पर उन महिलाओं के लिए एस्ट्रोजन की कम खुराक का सुझाव देते हैं जिनका गर्भाशय निकाला जा चूका हो। एस्ट्रोजन विभिन्न रूपों में आता है। दैनिक गोली और पैच सबसे लोकप्रिय हैं, लेकिन हार्मोन योनि रिंग, जेल या स्प्रे में भी उपलब्ध है।

एस्ट्रोजेन / प्रोजेस्टेरोन / प्रोजेस्टीन हार्मोन थेरेपी: इसे अक्सर संयोजन उपचार कहा जाता है, क्योंकि इसमें प्रोजेस्टेरोन के सिंथेटिक रूप प्रोजेस्टिन और एस्ट्रोजेन दोनों को दिया जाता है।

हार्मोन रिप्लेसमेंट थेरेपी लेने के जोखिम क्या हैं?

Loading...

एचआरटी पर कई अध्ययन पिछले 15 वर्षों में प्रकाशित हुए हैं जिन्होंने संभावित जोखिमों को उजागर किया है।

कुछ अध्ययन दिखाते हैं इससे कुछ स्त्रियों में निम्न जोखिम बढ़ सकते हैं:

  1. स्तन कैंसर
  2. अंडाशयी कैंसर
  3. गर्भ कैंसर
  4. खून के थक्के
  5. हृदय रोग और स्ट्रोक

हार्मोन रिप्लेसमेंट थेरेपी के दुष्प्रभाव क्या हैं?

एचआरटी साइड इफेक्ट्स का कारण बन सकता है। लेकिन ये लक्षण आमतौर पर उपचार शुरू करने के तीन महीने के भीतर ही होते हैं।

एस्ट्रोजन oestrogen के साइड इफेक्ट्स

  1. सूजन Bloating
  2. स्तन सूजन या कोमलता Breast swelling or tenderness
  3. सिर दर्द Headaches
  4. मनोदशा में बदलाव Mood changes
  5. जी मिचलाना Nausea
  6. योनि खून बहना Vaginal bleeding
  7. पैर में ऐंठन leg cramps
  8. पाचन बिगड़ना indigestion

प्रोजेस्टोजन progestogen के साइड इफेक्ट्स

  1. स्तनों में दर्द breast tenderness
  2. सूजन swelling
  3. सिर में दर्द headaches or migraines
  4. मूड स्विंग mood swings
  5. अवसाद depression
  6. मुंहासे acne
  7. पेट में दर्द tummy (abdominal) pain
  8. पीठ में दर्द back pain
  9. योनि से ब्लीडिंग vaginal bleeding

एचआरटी और वजन

एचआरटी से कुछ महिलाओं में वज़न बढ़ जाता है।

किसे हार्मोन रिप्लेसमेंट थेरेपी नहीं लेना चाहिए?

स्तन कैंसर, डिम्बग्रंथि के कैंसर, एंडोमेट्रियल कैंसर, पैरों या फेफड़ों में रक्त के थक्कों, या स्ट्रोक आदि होने पर महिलाओं को आमतौर पर हार्मोन थेरेपी नहीं दी जानी चाहिए। हार्मोन थेरेपी लेने वाली महिलाओं को धूम्रपान नहीं करना चाहिए।

  1. थक्के बनना Blood clots
  2. कैंसर Cancer (such as breast, uterine, or endometrial)
  3. हृदय या लिवर रोग Heart or liver disease
  4. हार्ट अटैक Heart attack
  5. प्रेगनेंसी होना Known or suspected pregnancy
  6. स्ट्रोक Stroke
इसे भी पढ़ें -  स्तनपान के दौरान गर्भ निरोधक गोली Contraceptive Pills During Breastfeeding

मुझे कैसे पता चलेगा कि हार्मोन रिप्लेसमेंट थेरेपी मेरे लिए सही है?

  1. स्वास्थ्य जोखिमों के बावजूद, सिस्टेमेटिक एस्ट्रोजन अभी भी menopausal लक्षणों के लिए सबसे प्रभावी उपचार है।
  2. हार्मोन थेरेपी के लाभ, जोखिमों से अधिक हो सकते हैं अगर आप स्वस्थ हैं और
  3. हॉट फ़्लैश (अचानक पसीना आना, चेहरा लाल हो जाना, धड़कन बढ़ जाना ) तथा अन्य रजोनिवृत्ति के लक्षण का काफी अधिक हैं।
  4. अन्य उपचार से बर्दाश्त नहीं कर सकते हैं या लाभ नहीं हो रहा है।
  5. समयपूर्व रजोनिवृत्ति / 40 की उम्र से पहले, पीरियड रुक चुके हैं।
  6. ओवरी ने ठीक से काम करना बंद कर दिया है।

जिन महिलाओं में मेनोपौज़ जल्दी हो गया है, ओवरी हटा दी गई हैं और जो एस्ट्रोजन थेरपी नहीं ले रहीं हैं उनमें निम्न रोग होने की संभावना बढ़ सकती है:

  1. ऑस्टियोपोरोसिस Osteoporosis
  2. हृद – धमनी रोग Coronary heart disease
  3. पार्किंसंस Parkinson’s-like symptoms
  4. चिंता या अवसाद Anxiety or depression

इसलिए जिन स्त्रियों में 40 के पहले रजोनिवृत्ति किन्ही कारणों से हो गई है, उनमें हॉर्मोन रिप्लेसमेंट से नुकसान के बजाए अधिक लाभ हो सकता है। 45 वर्ष की आयु से कम उम्र की महिलाओं को एस्ट्रोजेन की कमी के को दूर रखने के लिए पर्याप्त एस्ट्रोजन की आवश्यकता होती है।

उम्र, रजोनिवृत्ति के प्रकार और रजोनिवृत्ति कितने समय से हुई हैं, पर हार्मोन थेरेपी से जुड़े जोखिमों में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। इसलिए इन सबको ध्यान में रखते हुए आपको क्या रिस्क हो सकते हैं, के बारे में अपने चिकित्सक से बात करें।

महिलायें जो रजोनिवृत्ति के लक्षणों से परेशान नहीं होती है और जिनमे 45 वर्ष की आयु के बाद रजोनिवृत्ति शुरू होती है उन्हें स्वस्थ रहने के लिए हार्मोन थेरेपी की आवश्यकता नहीं होती है। इसके बजाय, ऑस्टियोपोरोसिस और हृदय रोग जैसी स्थितियों के रिस्क को कम करने के लिए डॉक्टर से बात करें, और ज़रूरी खान-पान और लाइफस्टाइल में परिवर्तन लायें।

इसे भी पढ़ें -  सेक्स के बाद योनी (vegina) से ब्लीडिंग होने के कारण

अपने दैनिक दिनचर्या में शारीरिक गतिविधि और व्यायाम शामिल करें, स्वस्थ आहार खाएं, स्वस्थ वजन बनाए रखें, धूम्रपान न करें, कैफीनयुक्त पेय पदार्थ-अल्कोहल को सीमित करें, तनाव का प्रबंधन करें, और पुराने कोर्सेस्टॉल या उच्च रक्तचाप जैसी पुरानी स्वास्थ्य स्थितियों का प्रबंधन करें।

लक्षणों के उपचार के लिए आवश्यक न्यूनतम समय के लिए न्यूनतम प्रभावी मात्रा का प्रयोग करें।

यह निर्धारित करने के लिए कि हार्मोन थेरेपी आपके लिए एक अच्छा इलाज विकल्प है, अपने व्यक्तिगत लक्षणों और स्वास्थ्य जोखिमों के बारे में अपने डॉक्टर से बात करें। यदि आप लगातार रजोनिवृत्ति के लक्षणों को जारी रखते हैं, तो नियमित रूप से अपने चिकित्सक के साथ इलाज के विकल्पों की समीक्षा करें।

Hormone replacement therapy (HRT), also called menopausal hormone therapy, is done to relieve symptoms of menopause. Menopause is the time in a woman’s life when her period stops. This leads to drop of hormones and causes many symptoms such as hot flash, night sweats, vaginal dryness etc. By Hormone replacement therapy, hormones are supplied in form of tablets, patch or gel.

However, HRT also has side-effects and risks. It can increase risk of breast cancer, heart disease, and stroke. Certain types of HRT have a higher risk, and each woman’s own risks can vary depending upon her health history and lifestyle.

If HRT is decided, it should be in the lowest dose that helps and for the shortest time needed. Taking hormones should be re-evaluated every six months.

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.