पीरियड (माहवारी) जल्दी लाने के 14 उपाय How to Get Periods

कुछ कारणों से लडकियां या महिलायें जल्दी पीरियड्स लाना चाहती हैं। पीरियड्स जल्दी हो जाएँ तो यह भी कंफ़र्म हो जाता है कि प्रेगनेंसी नहीं है। जानिये माहवारी जल्दी सुरु करने के घरेलू तरीके।

माहवारी को पीरियड, पीरियड्स Menstruation, or period, मासिक, माहवारी, ऋतुस्राव, ऍमसी, मासिक धर्म भी कहते हैं। पीरियड्स में योनि से ब्लीडिंग होती है। यह अक्सर 28 दिन के गैप पर आते हैं। कुछ में यह 21 दिन पर और कुछ में 45 दिन पर हो सकते हैं, जो पूरी तरह से नार्मल है।

कुछ कारणों से लडकियां या महिलायें जल्दी पीरियड्स लाना चाहती हैं। पीरियड्स जल्दी हो जाएँ तो यह भी कंफ़र्म हो जाता है कि प्रेगनेंसी नहीं है।

कई बार घूमने जाना है, बच्चा प्लान करना है तो भी पीरियड्स जल्दी लाने की सोचा जाता है। इर्रेगुलर पीरियड्स हैं, तो भी महिलायें पीरियड्स जल्दी आना चाहती हैं। कई बार पीरियड्स नहीं आते तो महिलायें तनावग्रस्त या चिंतित महसूस करती हैं कि पता नहीं पीरियड्स क्यों नहीं आ रहे।

कुछ तरीके हैं जो आपको पीरियड्स को लाने में मदद कर सकते हैं। यव घरेलू तरीके सेफ हैं लेकिन कोई गारंटी नहीं कि इन्हें अपनाने पर पीरियड्स आ ही जायेंगे। लेकिन फिर भी आप इन्हें कर सकती हैं।

पीरियड्स को जल्दी कैसे लाएं

पीरियड्स को जल्दी लाने का कोई भरोसेमंद तरीका नहीं है। आप किसी निश्चित डेट पर अपने पीरियड्स नहीं ला सकती है। आप कोशिश कर सकती है। आप तासीर में गर्म भोज्य पदार्थों का सेवन कर सकती है जैसे की गुड़, साग, तिल के बीज आदि।

गर्म तासीर का भोजन शरीर में पित्त बढ़ाता है, गर्मी लाता है और ब्लड सर्कुलेशन को तेज करता है। ये सब फैक्टर कुछ मामलों में पीरियड्स ला सकते हैं। लेकिन हर मामला अलग होता है। साथ ही आपको ये घरेलू उपाय 10-15 दिन तक करने होते हैं जिससे हॉर्मोन पर असर हो। एक दिन के इस्तेमाल से पीरियड्स जल्दी हो जायेंगे, ऐसा नहीं है।

इसे भी पढ़ें -  अंडकोष दर्द क्यों होता है और उपचार कैसे करें

आप कोशिश कर सकती है। ये उपाय घरेलू तरीके हैं और इन्हें करने का कोई साइड इफ़ेक्ट नहीं है। लेकिन अगर बहुत कोशिश करने के बाद भी पीरियड्स नहीं हो रहे तो कारण को जानने का प्रयास करें।

अजमोद (पेट्रोसीलिनुम क्रिस्पम) Parsley

पार्सेली परंपरागत रूप से सदियों से मासिक धर्म को प्रेरित करने के लिए प्रयोग किया जाता है। इसमें में निहित दो पदार्थ, गर्भाशय के संकुचन को उत्तेजित करते हैं।

पार्सेली के सूखे हुए पत्ते के मात्रा 6 ग्राम होनी चाहिए। एक कप पानी में दो ग्राम पत्ते उबालें और दिन में 3 पियें।

अजवाइन

अजवाइन और गुड दोनों ही तासीर में गर्म हैं। गर्म तासीर के भोजन के सीन से पीरियड्स आ सकते हैं। अजवाइन और गुड खा कर देखें। अजवाइन का पाउडर खाएं अथवा एक चम्मच अजवाइन को एक कप पानी में उबालकर पी जाएँ।

धनिया के बीज

धनिया के बीज अनियमित अवधि के लिए सबसे प्रभावी घरेलू उपचार माना जाता है। धनिया के बीज, 1 चम्मच की मात्रा में एक कप पानी में उबाल लें। जब पानी आधा हो जाए तो इसे छान लें। कुछ दिन तक दिन में तीन बार इसे पीएं।

मेथी के बीज

मेथी के बीज सक्रिय तत्वों का एक समृद्ध स्रोत हैं जो अवधि को जल्दी से प्रेरित कर सकते हैं।  साफ पानी में मेथी के 3 चम्मच भिगोएं। सुबह इसे उबाल लें। इसे रोजाना एक बार लें।

मेथी के बीजों 1 चम्मच की मात्रा में रात भर पानी में भिगो दें। सुबह एक कप पानी में उबालें और छान कर पिए।

सौंफ बीज

फेनल बीज, से बनी चाय पीरियड्स ला सकती है। फनेल चाय तैयार कर, इसे सुबह में खाली पेट पियें या रात में 2 से 3 चम्मच सौंफ़ के बीज को पानी में भिगो कर, अगली सुबह, चाय बना कर इसे खाली पेट में पीलें।

अदरक

अदरक की चाय पीने से गर्भाशय में संकुचन हो सकते हैं। यह मासिक धर्म स्राव को उत्तेजित करता है। जिसके परिणामस्वरूप मासिक आता है।

इसे भी पढ़ें -  योनी में दर्द, चुभन, जलन (वुल्वोडायनिआ) का उपचार

अदरक का ताज़ा रस निकालें और शहद के साथ मिलाकर पी लें। इसे रोज खाली पेट पीएं जब तक पीरियड्स नहीं हो जाएँ । प्रति दिन 2-3 कप अदरक चाय लेना शुरू करें।

गर्म कॉम्प्रेस या स्नान करके देखें

गर्म पानी की थैली, को नाभि के पास रखें। इससे गर्भाशय में रक्त के प्रवाह उत्तेजित होता है। इसी जिससे पीरियड्स हो सकते हैं। दिन में 2-3 बार, 10-15 मिनट के लिए नाभि के आस पास पर गर्म पानी का पैक या बोतल रखें।

पपीता

कच्चे पपीता का सेवन गर्भाशय में संकुचन को उत्तेजित करता है। इससे पीरियड्स आते हैं। कच्चे पपीते में मौजूद कैरोटीन एस्ट्रोजेन हार्मोन को उत्तेजित करते हैं।

कच्चे पपीते को या पपीते के रस को दिन में दो बार खाया जा सकता है। एक कप पपीता का रस लगभग 200 मिलीलीटर या पके हुए पपीता का एक कटोरा खाया जा सकता है।

अनानास

अनानास जल्दी से पीरियड लाने का प्रभावी विकल्प है। यह फल कुछ एंजाइमों के लिए जाना जाता है जो तुरंत पीरियड्स को प्रेरित करने में मदद करते हैं। नियमित भोजन में 2-3 ग्लास अनानास का रस शामिल करें। सलाद में अनानस भी शामिल कर सकते हैं। अधिक फायदे के लिए आपको इसे अधिक खाने की आवश्यकता है।

विटामिन सी

अधिक मात्रा में विटामिन सी का सेवन शरीर में एस्ट्रोजेन के स्तर को बढ़ाकर पीरियड्स को प्रेरित कर सकता है। एस्ट्रोजेन गर्भाशय संकुचन को उत्तेजित करते हैं जिससे पीरियड्स हो सकें।

विटामिन सी गर्भाशय की अस्तर की मात्रा में वृद्धि करने में मदद करता है, जो मासिक धर्म होने की संभावनाओं को बढ़ाने में मदद करता है। विटामिन सी की अनुशंसित दैनिक भत्ता 60 मिलीग्राम है। यदि आप सप्लीमेंट लेने का फैसला करती हैं, तो सुनिश्चित करें कि अनुशंसित खुराक से अधिक न हो। पपीता, खट्टे फलों, कीवी, और टमाटर, ब्रोकोली और शिमला मिर्च का दैनिक सेवन करें।

इसे भी पढ़ें -  जानिये किन चीजों से मर्द को बिस्तर में नहीं डरना चाहिए

सेक्स करने से

सेक्स करने से गर्भाशय में संकुचन हो सकते हैं जिससे पीरियड्स हो सकते हैं। लेकिन कई बार देखा जाता है कि यदि से सेक्स असुरक्षित हो तो पीरियड्स डिले हो जाते हैं।

हल्दी करे मदद

हल्दी तासीर में गर्म होती है। चावल, उबले हुए सब्जियों और अन्य व्यंजनों पर हल्दी छिड़कें।  इसे दो तीन ग्राम की मात्रा में एक गिलास पानी में उबालें और दिन में दो बार सेवन करें। ऐसा 10 दिन पहले से करें। आपको पीरियड्स की तारीख से 15 दिन पहले इसे लेना शुरू करना चाहिए।

तिल के बीज

तिल के बीज, शरीर में बहुत गर्मी पैदा करते हैं। तिल के बीज, गर्भावस्था से बचने के लिए त्वरित पीरियड्स लाने में मदद कर सकते हैं। लगभग 15 दिन पहले से तिल के बीज खाना शुरू कर दें ताकि पीरियड्स हो सकें। इसे दिन में 2-3 बार खाएं।

हींग

हींग शरीर में गर्मी लाती है। यह प्रोजेस्टेरोन हार्मोन की अतिरिक्त मात्रा और महिला प्रजनन अंगों के उचित कामकाज में सहायता करने में बहुत मदद करता है। हींग को पानी से भरे ग्लास में मिलाकर नियमित आधार पर उपभोग करें।

आपको पीरियड्स आते थे, लेकिन कोशिशों क बाद भी नहीं आ रहें तो हो सकता है आपको कोई समस्या हो। इसलिए पहले तो प्रेगनेंसी डिटेक्शन कार्ड से प्रेगनेंसी है या नहीं, पता करें।

तनाव से भी पीरियड्स देर से आते हैं। तनाव से कोर्टिसोल या एड्रेनालाईन हार्मोन का उत्पादन का होता है जो स्त्री में एस्ट्रोजन और प्रोजेस्टेरोन के उत्पादन को रोक सकते हैं, जो नियमित मासिक धर्म चक्र को बनाए रखने के लिए आवश्यक हैं।

तनाव को कम करने की कोशिश करें। ऐसा आप प्राणायाम करके, सो कर या शांत रह कर कर सकती हैं।

लेकिन इससे पहले कि आप मासिक धर्म जल्दी लाने का फैसला करें, गर्भावस्था परीक्षण करें, क्योंकिपीरियड्स को लाने वाले तरीके, नकारात्मक रूप से प्रेगनेंसी प्रभावित कर सकते हैं और अबोर्शन करवा सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.