गर्भनिरोधन Contraception के उपाय

जांनिये गर्भनिरोधन के घरेलु उपाय, गर्भनिरोधक गोली, गर्भनिरोधक इंजेक्शन और परिवार नियोजन के प्राकृतिक उपाय। गर्भनिरोधक घरेलू नुस्खे। Definition of contraception, oral contraceptives meaning, contraceptive methods in hindi.

गर्भनिरोधन(Contraception) जिसे इंग्लिश में कॉण्ट्रासेप्शन कहते हैं, अनचाही प्रेगनेंसी को रोकने को किया जाने वाला उपाय है। इसके लिए जो उपाय या दवाएं प्रयोग में लायी जाती हैं उन्हें गर्भनिरोधक या कॉण्ट्रासेप्टिव कहते हैं। कॉण्ट्रासेप्टिव का इस्तेमाल रिप्रोडक्टिव एज के सभी उम्र के लोगों के लिए हो सकता है। उम्र के हिसाब से किया गया उपाय तो भिन्न हो सकता है लेकिन सभी का उद्देश्य गर्भ ठहरने से रोकना है। सही से कॉण्ट्रासेप्टिव के इस्तेमाल से बहुत सी परेशानियों, स्ट्रेस और शरीर पर होने वाली तकलीफों से बचा जा सकता है।

Loading...

भिन्न तरह के गर्भनिरोधक

गर्भ निरोधक(Contraception) कई प्रकार के होते हैं। यह बैरियर टाइप, हार्मोनल टाइप या गर्भाशय में लगाईं जाने वाली कॉपर टी, हो सकती है।

बैरियर टाइप barrier method में महिलाओं द्वारा सर्वाइकल कैप्स, फीमेल कंडोम्स, और डायाफ्राम तथा पुरुषों के लिए कंडोम्स शामिल हैं। इन्हें बाहरी रूप से इन्सर्ट करके (कैप्स,डायाफ्राम, रिंग for females) अथवा लगाकर (कंडोम्स males) द्वारा प्रयोग किया जाता है। कंडोम्स के इस्तेमाल का सबसे बढ़ा फायदा है, कि यदि इसे एक्ट के दौरान हमेशा पहना गया है तो किसी भी तरह के यौन संचारित रोग से बचा जा सकता है।

होर्मोन की गोलियां, इंजेक्शन से दिए जाने वाले हॉर्मोंस, इम्प्लान्ट्स, गर्भनिरोधक के नाम से मिलाने वाली गोलियां, इमरजेंसी कॉण्ट्रासेपटिव पिल्स, यूटरस में लगने वाली डिवाइस और पैच आदि हार्मोनल तरीकों के उदाहरण है।

हार्मोनल तरीके महिलाओं के लिए हैं तथा इसमें शरीर में उन हॉर्मोंस को रोका जाता है, जो गर्भधारण के लिए जिम्मेदार होते हैं। ये ऑव्युलेशन या अंडों के बनने की प्रक्रिया को रोक देते हैं। गोलियां बेहतर तरीका हो सकती हैं क्योंकि यदि इनके सेवन से साइड इफ़ेक्ट हो तो इनका सेवन बंद किया जा सकता है तथा इसके के डॉक्टर की क्लिनिक पर भी नहीं जाना पड़ता।

इसे भी पढ़ें -  मिफेजेस्ट किट कैसे इस्तेमाल करते हैं Mifegest Kit Zydus

इंप्लांट, आईयूडी आदि को डॉक्टर से ही लगवाते हैं और कभी-कभी यह ब्लीडिंग को बढ़ा देती है।

होर्मोन की गोलियां सभी को सूट नहीं करती और कुछ महिलाओं में इनके सेवन से होर्मोन का असंतुलन हो सकता है जो की मोटापा, वाटर रिटेंशन, से लेकर सिर दर्द, उलटी, चक्कर, आदि का कारण बन सकता है।

गर्भनिरोधन के बैरियर उपाय

Loading...
  1. मेल कंडोम्स condoms (male)
  2. कैप्स caps
  3. फीमेल कंडोम्स condoms (female)
  4. डायाफ्राम diaphragms
  5. वेजाइनल रिंग vaginal ring

गर्भनिरोधन के हार्मोनल तरीके

  1. कंबाइंड पिल्स combined pill
  2. इम्प्लांट contraceptive implant
  3. इंजेक्शन contraceptive injection
  4. पैच contraceptive patch
  5. हार्मोनल इंट्रायूट्रीन डिवाइस कॉपर टी intrauterine device (IUD)
  6. प्रोजेस्टोजन पिल्स progestogen-only pill
  7. इमरजेंसी कॉन्ट्रासेप्टिव

इमरजेंसी कॉन्ट्रासेप्टिव के रूप में i-pill, unwanted 72 आदि गोली उपलब्ध हैं जो की असुरक्षित सेक्स होने के बाद 24 घंटे में लिए जाने पर गर्भ ठहरने से रोकने में नब्बे प्रतिशत से ज्यादा असरदार हैं। यदि इसे 25 से 48 घंटे के भीतर लें तो 85 प्रतिशत, 49-72 घंटे में करीब 60 प्रतिशत कारगर है। संबंध बनाने के जितनी देर बाद इन पिल्स को खाया जाता है, इनका असर उतना ही कम हो जाता है।

इमर्जेंसी पिल को रेगुलर गर्भनिरोध की तरह प्रयोग नहीं किया जाना चाहिए। अगर कभी गलती हो गई हो तो इसे लेने से अनचाहे गर्भ से बच सकते हैं, लेकिन रेगुलर लेने से यह यह काफी नकसान दायक हो सकती हैं। इमर्जेंसी पिल के सेवन से पेट दर्द , सिरदर्द, उलटी, पीरियड सही से न आना, ओवरी में प्रॉब्लम, हॉर्मोंस में गड़बड़ी, यौन संचारित रोग, आदि परेशानियाँ हो सकती हैं।

गर्भनिरोधन के स्थायी तरीके

  1. गर्भनिरोधक के दो स्थायी तरीके हैं:
  2. महिला नसबंदी
  3. पुरुष नसबंदी

स्थाई तरीके या नसबंदी करा देने के बाद यदि फिर से बच्चा करना चाहें तो कन्सेप्शन के असार न के बराबर हो जाते हैं। कुछ महिलाओं में जब नसबंदी का ऑपरेशन पूरी तरह से सफल नहीं हो पाता तो गर्भ भी ठहर जाता है।

इसे भी पढ़ें -  जी-पिल का उपयोग और नुकसान g pill Emergency Contraceptive

गर्भनिरोधन के अन्य तरीके

सेफ पीरियड सेक्स | प्राकृतिक परिवार नियोजन natural family planning

वीड्रावल तरीका

गर्भनिरोध के कुछ प्राकृतिक उपाय भी हैं लेकिन ये तभी कारगर हो सकते है जब सही से कण्ट्रोल के साथ प्रयोग किये जाएँ। जैसे की सेफ पीरियड में यदि सेक्स किया जाए तो गर्भ नहीं ठहरता लेकिन आपको सेफ पीरियड की जानकारी होनी चाहिए। एजकुलेशन को कण्ट्रोल कर वेजाइना में डिस्चार्ज न करके बाहर करने (वीड्रावल तरीका) से भी बच्चा नहीं होता लेकिन इसमें पुरुष को पूरा कण्ट्रोल होना चाहिए। यदि ठीक से जानकारी न हो तो प्राकृतिक तरीके बहुत अधिक कारगर नहीं होते।

कौन सा तरीका आपके लिए सबसे अच्छा काम करेगा, यह उम्र सहित कई कारकों पर निर्भर करता है, जैसे कोई मेडिकल कंडीशन, दवाओं का सेवन, भविष्य में बच्चा चाहिए की नहीं आदि। जरूरतों और सहूलियतों के हिसाब से गर्भनिरोध के सही तरीके को चुनना चाहिए। कॉन्डम का पर्योग सबसे आसान और कारगर है। यह न सिर्फ गर्भनिरोधक की तरह काम करता है बल्कि इससे यौन संचारित रोगों STD sexually transmitted diseases से फैलाने वाली बीमारियों से भी बचा जा सकता है।

बैरियर प्रकार के गर्भनिरोधक के लिए, किसी डॉक्टरी सलाह की ज़रूरत नहीं है। लेकिन किसी भी हार्मोनल तरीके के लिए डॉक्टर की सलाह ज़रूर ली जानी चाहिए।

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

error: Content is protected !!