सनस्क्रीन Sunscreen All you need to know in Hindi

Sunscreens को लगाने का फायदा क्या है? क्या सनस्क्रीन सर्दियों में भी लगाते हैं? सनस्क्रीन कब लगाते हैं? एसपीएफ़ नंबर क्या है? क्या एक उच्च-संख्या एसपीएफ़ कम-संख्या से बेहतर है? सनस्क्रीन काम कैसे करती है?

सनस्क्रीन सूरज की यूवी किरणों से त्वचा को बचाने के लिए आजकल आम रूप से प्रयोग की जाती हैं। संस्क्रीन में एसपीऍफ़ SPF फैक्टर होता हैं जिसका मतलब है सन प्रोटेक्शन फैक्टर Sun Protection Factor और इससे पता चलता है कि क्रीम सनबर्न से बचाने में कितनी इफेक्टिव हो सकती है।

एसपीएफ़ पता लगाने के लिए प्रयोगशाला में मानव त्वचा पर यह मापा जाता है कि पराबैंगनी विकिरण ultra violet (विशेष रूप से यूवीबी) उस त्वचा को बर्न करने में कितना समय लेती हैं जिस पर काफी मात्रा में सनस्क्रीन लगाया गया है, बजाए ऐसी त्वचा के जिस पर सनस्क्रीन नहीं लगी है। उदाहरण के लिए, यदि सनस्क्रीन के साथ त्वचा को बर्न होने में 300 सेकंड्स लगते हो, और सनस्क्रीन के बिना जलने के लिए केवल 10 सेकेंड लगते हैं, तो एसपीएफ़ 300/10 होता है, जो 30 है। लेकिन, बताये गए फैक्टर जितनी सुरक्षा चाहिए तो सन्स्क्रींस को अधिक मात्रा में ही लगाया जाना चाहिए।

सनस्क्रीन जो ब्रॉड स्पेक्ट्रम broad spectrum हैं, उनसे सूर्य की यूवीए और यूवीबी विकिरण से बचाव हो सकता है। 290 से 320 नैनोमीटर की तरंग दैर्ध्य wavelengths के सूर्य के यूवी स्पेक्ट्रम का भाग यूवीबी’ के रूप में जाना जाता है और मुख्य रूप से सनबर्न के लिए जिम्मेदार है। 320 से 400 नैनोमीटर सीमाओं में तरंग दैर्ध्य के साथ सूर्य के यूवी स्पेक्ट्रम का भाग यूवीए’ के ​​रूप में जाना जाता है। यह यूवीबी विकिरण की तुलना में त्वचा में गहरा प्रवेश करती है और मुख्य रूप से लंबे समय तक क्षति के लिए जिम्मेदार माना जाता है जिसके कारण मेलेनोमा और अन्य त्वचा के कैंसर होते हैं।

सनस्क्रीन पर यदि प्लस का चिह्न है तो इसका मतलब है कि इसका एसपीएफ़ दिखाई गई संख्या से अधिक है। उदाहरण के लिए, एसपीएफ़ 50 + का अर्थ है कि एसपीएफ़ 50 से काफी अधिक है। 50 + रेटिंग के योग्य होने के लिए परीक्षा परिणाम 60 या अधिक होना चाहिए।

इसे भी पढ़ें -  बार बार बालतोड़ होने पर क्या करना चाहिए

सनस्क्रीन को एक बार लगा लेना काफी नहीं है। इसे हर दो घंटे में काफी मात्रा में लगाया जाना चाहिए। इसे चेहरे, गर्दन और कान आदि पर कम से कम आधा चम्मच से एक चम्मच की मात्रा में फैला कर लगाना चाहिए।

सनस्क्रीन की आवश्यकता किसे है?

सनस्क्रीन को कोई भी लगा सकता है। यह सभी के लिए है। सनस्क्रीन का उपयोग आपको सूरज के हानिकारक पराबैंगनी किरणों से बचाता है। इसका उपयोग उम्र, लिंग पर निर्भर नहीं करता।

6 महीने से कम उम्र के बच्चों में संभव हो तो सनस्क्रीन उपयोग से बचा जाना चाहिए।

माता-पिता 6 महीने या उससे अधिक उम्र के बच्चों को ब्रॉड-स्पेक्ट्रम, पानी प्रतिरोधी सनस्क्रीन, 30 या उससे अधिक एसपीएफ़की लगा सकते हैं।

सनस्क्रीन कब लगाते हैं?

सनस्क्रीन को किसी भी मौसम में सूरज की यूवी किरणों से बचाने के लिए लगाते हैं। सूरज की किरणों से त्वचा बर्न हो जाती है जिसे सन बर्न कहते हैं। झुलसी हुई त्वचा काली और बेजान लगती है। इससे लकीरें, झुर्रियां, झाइयाँ आदि हो सकते हैं।

क्या सनस्क्रीन सर्दियों में भी लगाते हैं?

चर्मरोग विशेषज्ञ हर दिन सनस्क्रीन का उपयोग करने की सलाह देते हैं, न कि केवल गर्मियों के दौरान।

क्या सनस्क्रीन लगाने से विटामिन डी नहीं बनती?

सनस्क्रीन का प्रयोग आपकी त्वचा के विटामिन डी का उत्पादन कम कर सकता है। यदि आप चिंतित हैं कि आपको पर्याप्त विटामिन डी नहीं मिल रहा है, तो आपको अपने डॉक्टर के साथ विटामिन डी प्राप्त करने के लिए अपने विकल्पों पर विचार करना चाहिए।

सनस्क्रीन को लगाने का फायदा क्या है?

  1. यह सनबर्न और त्वचा को टैन होने से बचा सकती है।
  2. इसको लगाने से धूप में जाने से त्वचा के काले होने का इसक कम होता है।
  3. यह धूप के कारण होने वाली स्किन की एजिंग को रोकने में मदद कर सकती है।

लेकिन, अकेले सनस्क्रीन से धूप से पूरी तरह से बचाव नहीं हो सकता।

इसे भी पढ़ें -  मुहांसों का लेजर से उपचार

सनस्क्रीन के अलावा, त्वचा विशेषज्ञ त्वचा की रक्षा करने के लिए निम्नलिखित कदम उठाने की सलाह देते हैं :

सूर्य की किरणें सुबह 10 बजे से दो बजे के बीच सबसे तेज़ होती हैं। हो सके तो ऐसे में धूप में छाता ले कर चलें और खुले हिस्सों को प्रॉपर कवर करें।

सुरक्षात्मक कपड़ों पहनें , जैसे कि लंबे बाजू की शर्ट, पैंट, टोपी और धूप का चश्मा, आदि।

पानी, बर्फ और रेत के पास अतिरिक्त सतर्क रहें। क्योंकि वे सूर्य के हानिकारक किरणों को रेफ्लेट करते हैं, जो सनडैमेज के रिस्क को बढ़ा सकते हैं।

एसपीएफ़ नंबर क्या है?

एसपीएफ़, सन प्रोटेक्टिंग फैक्टर को कहते हैं। यह जितना ज्यादा होगा त्वचा को इसके लगाने के बाद नुकसान उतना कम होगा।

त्वचा पर सनस्क्रीन की मोटी परत लगाई जानी चाहिए और इसे बार बार लगाने से ही सूरज की अल्ट्रा वोइलेट किरणों से बचा जा सकता है।

क्या एक उच्च-संख्या एसपीएफ़ कम-संख्या से बेहतर है?

त्वचा विशेषज्ञ, कम से कम 30 की एक एसपीएफ़ के साथ सनस्क्रीन का उपयोग करने की सलाह देते हैं, जो सूर्य के यूवीबी किरणों के 97% ब्लॉक करता है।

उच्चतर संख्या वाले एसपीएफ़ सूरज की यूवीबी किरणों से थोड़ा अधिक ब्लॉक करते हैं, लेकिन सूरज की यूवीबी किरणों का 100 प्रतिशत ब्लॉक नहीं कर सकता है।

यह भी याद रखना महत्वपूर्ण है कि उच्च-संख्या वाली एसपीएफ़ कम-संख्या वाली एसपीएफ़ के रूप में उसी समय की अवधि तक चलती हैं। एक उच्च-संख्या एसपीएफ़ आपको दोबारा बिना अतिरिक्त समय बिताने की अनुमति नहीं देता है। सभी सनस्क्रीन को लगभग हर दो घंटे या लेबल पर समय के अनुसार लागू किया जाना चाहिए, यहां तक ​​कि बादलों के दिनों में भी, और तैराकी या पसीने के बाद।

सनस्क्रीन काम कैसे करती है?

सनस्क्रीन जैविक और अकार्बनिक सक्रिय सामग्रियों organic and inorganic का एक संयोजन है। अकार्बनिक सामग्री जैसे जिंक ऑक्साइड या टाइटेनियम ऑक्साइड सूर्य की किरणों की पराबैंगनी (यूवी) विकिरण को या तो रिफ्लेक्ट करती है या बिखेर देती है। कार्बनिक अवयव जैसे ओक्टाइलल मेथॉक्सिनामेट (ओएमसी) या ऑक्सीबैनेज़ोन octyl methoxycinnamate (OMC) or oxybenzone यूवी विकिरण को अवशोषित करते हैं, इसे गर्मी के रूप में फैलाते हैं।

इसे भी पढ़ें -  इक्थियोसिस (ichthyosis): कारण, लक्षण और उपचार

कुछ सनस्क्रीन दो प्रकार के हानिकारक यूवी विकिरण से बचाव करते हैं: यूवी-ए और यूवी-बी। यूवी-ए और यूवी-बी दोनों के कारण सनबर्न और त्वचा के कैंसर जैसे हानिकारक प्रभाव होते हैं।

पराबैंगनी विकिरण तीन प्रकार के तरंग दैर्ध्यों में विभाजित है:

यूवी-ए UV-A: यह सबसे लम्बी तरंग दैर्ध्य है और ओजोन द्वारा अवशोषित नहींकी जाती है। यह यूवी-बी से अधिक गहरा त्वचा को प्रवेश करती है। यूवीए किरण (or aging rays) आपकी त्वचा की उम्र से पहले, झुर्रियाँ और उम्र के धब्बे पैदा कर सकती हैं। यह काँच से गुजर सकती हैं।

यूवी-बी UV-B: यह सनबर्न के लिए जिम्मेदार (or burning rays) यह आंशिक रूप से ओजोन परत द्वारा रोकी जाती है। सनबर्न का मुख्य कारण हैं और खिड़की काँच से नहीं निकल पाती।

यूवी-सी UV-C: यह पूरी तरह से पृथ्वी के वायुमंडल द्वारा अवशोषित है और केवल कृत्रिम विकिरण के स्रोतों से ही इंसानों तक पहुँचती है।

सनस्क्रीन क्रय करते समय, सन प्रोटेक्शन फैक्टर SPF या एसपीएफ़ को देखा जाना जरुरी है। एसपीएफ़ जितना अधिक होता है, उतना ही यूवी-बी किरणों से सनस्क्रीन प्रोटेक्ट करेगी। एसपीएफ़ यूवी-ए को नहीं मापता है यदि आप यूवी-ए से बचाव करना चाहते हैं तो सुझाव है कि आप उस सनस्क्रीन को खरीदें, जो ब्रॉड स्पेक्ट्रम broad-spectrum protection है।

सनस्क्रीन का चयन कैसे करें?

अपनी त्वचा के अनुसार ही सनस्क्रीन खरीदें। ऑयली त्वचा के लिए आयल फ्री क्रीम का चयन करें। ड्राई स्किन के लिए एलो वेरा, ग्लिसिरीन युक्त सनस्क्रीन ले सकते हैं।

  • इसके एसपीऍफ़ को देखें और फिर चयन करें। 15 से कम के SPF वाली क्रीम नहीं खरीदें।
  • इसमें जिंक ऑक्साइड और टाइटेनियम डाइऑक्साइड होने चाहिए।
  • तेज खुशबू या तेज गंध वाली सनस्क्रीन न खरीदें।
  • ध्यान रखें कि अधिक महंगा होने का यह मतलब नहीं है कि यह अधिक बेहतर है।
  • ब्रॉड स्पेक्ट्रम सनस्क्रीन चुनें जो कि यूवी-ए और यूवी-बी किरणों से रक्षा करती है और कम से कम इसका एसपीएफ़15 होना चाहिए।
  • यदि आप पैरा-अमिनोबेंजोइक एसिड (पीएबीए) para-aminobenzoic acid (PABA) के प्रति संवेदनशील हैं तो ऐसी सनस्क्रीन लें जिसमें ये नहीं है।
  • यदि ऑयली स्किन है या मुँहासे की संभावना है तो वाटर बेस्ड सनस्क्रीन का प्रयोग करें।
  • सनस्क्रीन को चिपचिपा और रोमछिद्रों को बंद करने वाला नहीं होना चाहिए।
  • सभी सनस्क्रीन में समान सामग्री नहीं होती इसलिए यदि सूट नहीं करे तो कोई और ब्रांड खरीदें।
इसे भी पढ़ें -  एटॉपिक डर्मेटाइटिस : लक्षण, कारण और उपचार | Atopic Dermatitis

संक्षेप में ऐसी सनस्क्रीन चुने:

  • व्यापक-स्पेक्ट्रम संरक्षण (यूवीए और यूवीबी किरणों के विरुद्ध सुरक्षा करता है) Broad-spectrum protection
  • एसपीएफ़ 30 या अधिक SPF 30 or higher
  • पानी प्रतिरोध Water resistance

 मुझे सनस्क्रीन का उपयोग कब करना चाहिए?

सर्दी, गर्मी, या धूप वाला कोई भी मौसम, जब भी आप त्वचा को सन डैमेज से बचाना चाहते हैं इसे लगाएं क्योंकि सूरज वर्ष भर में हानिकारक यूवी किरणों का उत्सर्जन करता है यहां तक ​​कि बादलों के दिनों में, सूर्य के हानिकारक यूवी किरणों का 80 प्रतिशत तक आपकी त्वचा को घुस सकता है। बर्फ, रेत, और पानी सनस्क्रीन की आवश्यकता को बढ़ाते हैं क्योंकि वे सूरज की किरणों को रिफ्लेक्ट करते हैं।

सनस्क्रीन को ठीक से कैसे उपयोग करें?

धूप में जाने से लगभग 20-30 मिनट पहले (सबसे अच्छे परिणाम के लिए) सनस्क्रीन लगाएं ताकि यह त्वचा के द्वारा अवशोषित absorb की जा सके और पसीने के द्वारा इसके हटने के आसार कम हों।

  • तैराकी या अभ्यास के बाद सनस्क्रीन फिर से लगाई जानी चाहिए।
  • यदि आप धूप में काम करते हैं, तो टोपी और सुरक्षात्मक कपड़ों पहने और पूरे दिन सनस्क्रीन को अक्सर लगाएं।
  • होंठों की रक्षा के लिए, लिप बाम या लिपस्टिक लगा सकते हैं जिसका एसपीएफ़ 30 या उससे अधिक हो।
  • बोतल पर दिए गए निर्देशों के अनुसार लगभग हर दो घंटे या तैराकी या पसीने के बाद सनस्क्रीन को फिर से लगाएं।

सनस्क्रीन कैसे लगायें?

  • कंटेनर को उपयोग करने से पहले अच्छी तरह हिलाएं।
  • पर्याप्त सनस्क्रीन लगायें। पूरे शरीर को कवर करने के लिए करीब 20-30 ml सनस्क्रीन का उपयोग करें।
  • कान, पीठ, कंधे, और घुटनों और पैरों के पीछे सहित त्वचा के सभी हिस्सों पर सनस्क्रीन अच्छी मात्रा में लगाएं।
  • आंखों के चारों ओर सनस्क्रीन लगाने पर सावधान रहें।
  • हर दो घंटे पर या जब ज़रूरी हो दुबारा लगाएं।

Sunscreens protect skin by absorbing and/or reflecting UVA and UVB rays.

इसे भी पढ़ें -  मुँहासे (पिम्पल) क्या होते हैं? What is acne?

UVA rays, are not absorbed by the ozone layer. These penetrate deep into the skin and contribute to premature aging. Up to 90 percent of the visible skin changes commonly attributed to aging are caused by sun exposure.

UVB Rays are partially absorbed by the ozone layer. It is the primary cause of sunburn.

Sun Protection Factor SPF tells the relative amount of sunburn protection that a sunscreen can provide an average user when correctly used.

Sunscreens with an SPF of at least 15 are recommended. SPF of 30 is not twice as protective as an SPF of 15. But when properly used, an SPF of 15 protects the skin from 93 percent of UVB radiation, and an SPF 30 sunscreen provides 97 percent protection.

SPF ratings apply mainly to UVB rays, many sunscreen manufacturers include ingredients that protect the skin from some UVA rays as well. These are broad-spectrum sunscreens. Use a broad-spectrum sunscreen with an SPF rating of 15 or higher. Apply sunscreen 20-30 minutes before going out into the sun. Apply it generously and regularly. Apply on lips, ears, feet, hands, bald spots and the back of the neck.

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.