सेक्सुअल ओरिएंटेशन की जानकार | Sexual Orientation

सेक्सुअलिटी (लैंगिकता, काम-वासना sexuality) इंसानों के लिए बहुत महत्वपूर्ण है। कामुकता परिभाषित करती है कि हम अपने आप को कैसे देखते हैं और हम किस लिंग के प्रति आकर्षण और उत्तेजना का अनुभव करते हैं।

सेक्सुअल ओरिएंटेशन या यौन अभिविन्यास या लैंगिक अभिविन्यास, से मतलब है कि आप किसके साथ यौन संबंध रखते हैं या रखना चाहते हैं। यह भावनात्मक, रोमांटिक, और यौन आकर्षण के पैटर्न और उन आकर्षणों के आधार पर व्यक्तिगत और सामाजिक पहचान की हमारी भावना का वर्णन करता है। यह बताता है कि हम रोमांटिक और शारीरिक रूप से किस लिंग की और आकर्षित होते हैं

Loading...

यौन अभिविन्यास एक विशेष शब्द है जो पुरुष या महिला के भावनात्मक, रोमांटिक, और यौन आकर्षण को संदर्भित करता है। आम यौन ओरिएंटेशन में हेट्रोसेक्स्युअल / स्ट्रेट, होमोसेक्सुअल / समलैंगिक, और बायसेक्सुअल / उभयलिंगी शामिल हैं।

सेक्सुअल ओरिएंटेशन में व्यक्ति की अपने लिए भावनायें और पहचान की भावना शामिल होती है। ऐसा बिलकुल ज़रूरी नहीं कि यह व्यक्ति के दिखने के तरीके या व्यवहार में स्पष्ट हो कि उसका सेक्सुअल ओरिएंटेशन क्या है।

सेक्सुअल ओरिएंटेशन के आधार पर ही व्यक्ति विपरीत लिंग या समान लिंग के व्यक्ति की तरफ आकर्षित होता है और कामुकता का अनुभव करता है। सेक्सुअल ओरिएंटेशन के विरूद्ध व्यक्ति के साथ होने पर उसे उत्तेजना और कामुकता का अनुभव नहीं हो पाता और ऐसा कई मामलों में सामाजिक समस्या भी कर सकता है। उदाहरण के लिए, एक समलैंगिक केवल अपने स्वयं के सेक्स के व्यक्तियों के लिए आकर्षित होता है। यदि वह लड़का है तो उसे किसी लड़की में आकर्षण और सेक्स उत्तेजना महसूस नहीं होगी। यदि उसकी शादी कर दी जाती है तो वह उसके साथ सेक्स करने में उत्सुक नहीं होगा और उससे बचने की चाह रखेगा। यह निश्चित ही दोनों के लिए परेशानी वाली बात है।

इसे भी पढ़ें -  ओरकाइटिस (Orchitis) अण्डकोष की सूजन Orchitis

सेक्सुअल ओरिएंटेशन या यौन अभिविन्यास क्या है?

सेक्सुअल ओरिएंटेशन शब्द उस जेंडर को बताता है जो किसी पुरुष या महिला को आकर्षित करते हैं। यह कई तरीके का होता है।

यदि आप अपोजिट सेक्स के लिए आकर्षित होते हैं, तो आप हेट्रोसेक्सुअल या विषमलैंगिक या स्ट्रेट हैं। यदि आप अपने ही जेंडर के लिए कामुकता महसूस करते हैं, तो आप समलैंगिक हो सकते हैं। यदि आप दोनों लिंगों से आकर्षित होते हैं तो आप उभयलिंगी हो सकते हैं।

अगर आपको लगता है कि आप गलत शरीर में हैं जैसे आप एक महिला हैं, तो आपको लगता है कि आपको पुरुष शरीर में जन्म लेना चाहिया था या यदि आप पुरुष हैं तो आप महसूस कर सकते हैं कि आपको महिला शरीर में पैदा होना चाहिए था, तो आप ट्रांसजेन्डर हैं।

हेट्रोसेक्सुअल Heterosexual (straight)

Loading...

हेट्रोसेक्सुअल केवल विपरीत सेक्स के प्रति आकर्षित होते हैं। विषमलैंगिक संबंध एक पुरुष और एक महिला के बीच यौन संबंध है।

होमोसेक्सुअल Homosexual

समलैंगिक या होमोसेक्सुअल वे हैं केवल समान लिंग के लोगों के लिए आकर्षित होते हैं। यह पुराना शब्द है जो समलैंगिक पुरुष और महिला दोनों को शामिल करता है।

उभयलिंगी या बायसेक्सुअल Bisexual

उभयलिंगी, ऐसे किसी व्यक्ति का वर्णन करता है जिनके आकर्षण केवल एक लिंग तक ही सीमित नहीं हैं। जब कोई व्यक्ति भावनात्मक, बौद्धिक और यौन रूप से पुरुष और महिला दोनों के लिए आकर्षित होता है तो वह बायसेक्सुअल है। बायसेक्सुअल व्यक्ति की औरतों और मर्दों में समान रूप से दिलचस्पी होती है। यह लोग लिंग की परवाह किए बिना दूसरे के प्रति आकर्षित होते हैं।

समलैंगिकता और उभयलिंगी होने को मानसिक बिमारियों में शामिल नहीं किया गया है। 1 9 73 में अमेरिकन साइकोट्रिक एसोसिएशन ने मानसिक विकारों की आधिकारिक सूची से समलैंगिकता को हटा दिया। अध्ययन बताते हैं कि लोगों के यौन अभिविन्यास से उनके मानसिक स्वास्थ्य और भावनात्मक स्थिरता पर कोई असर नहीं पड़ता है। समलैंगिकता या उभयलिंगी व्यक्ति को अवसाद और अन्य मनोवैज्ञानिक समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है।

इसे भी पढ़ें -  पेनिस पंप Penis Pump जानकारी और इस्तेमाल का तरीका

समलैंगिकता या होमोसेक्सुअलिटी क्या है?

समलैंगिकता एक ही लिंग के लोगों के बीच भावनात्मक, रोमांटिक, और यौन आकर्षण है। समलैंगिक आदमी को गे और समलैंगिक औरत को लेस्बियन कहते हैं।

समलैंगिक आदमी Gay Man

समलैंगिक आदमी वो आदमी हैजो अन्य पुरुषों के लिए आकर्षित होता है। समलैंगिक आदमी कई स्तरों पर अन्य लोगों को पसंद करता है – भावनात्मक, बौद्धिक और यौन – और खुद को समलैंगिक के रूप में परिभाषित करता है।

लेस्बियन या समलैंगिक महिला lesbian / Gay Woman

लेस्बियन वह महिला है जो अन्य महिलाओं की और आकर्षित होती है। एक समलैंगिक महिला भावनात्मक, बौद्धिक और यौन रूप से अन्य महिलाओं को पसंद करती है।

ट्रांसजेंडर transgender और ट्रांससेक्सुअल Transsexual क्या होते हैं?

ट्रांसजेंडर वो व्यक्ति है जो अपने जन्म के लिंग birth gender से अपने को भिन्न मानता है। जैसे कोई लड़का जोकि नेचुरली मेल है अपने को लड़की की तरह महसूस करे या कोई लड़की अपने को लड़के के रूप में महसूस करे। ऐसे लोगों के मुंह से अक्सर सुना जाता है उन्हें ऐसा लगता है वे गलत शरीर में ट्रैप है।

कुछ बार ऐसे लोग अपने चुने हुए लिंग को व्यक्त करने के लिए, सेक्स चेंज के लिए प्रयास करते है। वे अपने नाम, या पोशाक की शैली बदल सकते हैं। कुछ ट्रांसजेंडर लोग चिकित्सा विशेषज्ञों की सहायता से सेक्स चेंज करवानाभी चुनते हैं, जो हार्मोन और / या सर्जरी से किया जाता है।

ट्रांससेक्सुअल (Transsexual लिंगपरिवर्तित) लोग ऐसे लोग होते हैं जो अपने आप को जन्म वाले जेंडर से अलग जेंडर का मानते और वे अपना जन्म वाला जेंडर, हार्मोन और / या शल्यचिकित्सा प्रक्रियाओं के उपयोग के माध्यम से बदल लेते है, जैसे जब महिला के रूप में पैदा हुए व्यक्ति पुरुष बन जाता तो वह एक ट्रांसमैन transman है जबकि एक पुरुष जो महिला बन जाता है ट्रांसवीमेन transwomen है।

ट्रांसजेंडर लोग भले अपना लिंग बदलवा लें वे सेक्स की प्रजनन क्षमताएं प्राप्त नहीं कर सकते हैं। जन्म का जेंडर इंसान के गुणसूत्र, हार्मोन संतुलन, आंतरिक और बाहरी शरीर रचना विज्ञान के लिए जिम्मेदार है।

कुछ लोग समलैंगिक या उभयलिंगी Homosexual or Bisexual क्यों होते हैं?

अधिकांश वैज्ञानिक इस बात से सहमत हैं कि यौन अभिविन्यास (समलैंगिकता और उभयलिंग सहित) पर्यावरण, भावनात्मक, हार्मोनल और जैविक कारकों के संयोजन का परिणाम है। दूसरे शब्दों में, कई कारक हैं जो किसी व्यक्ति की यौन अभिविन्यास में योगदान करते हैं, और विभिन्न लोगों के लिए कारक भिन्न हो सकते हैं।

इसे भी पढ़ें -  मेसोप्रिल किट Mesopril Kit for Abortion

लेकिन ऐसा माता-पिता द्वारा बच्चे की देखभाल के तरीके से या उसके किसी अन्य अनुभव के कारण नहीं होता।

इसके अलावा, समलैंगिक या उभयलिंगी होने का मतलब यह नहीं है कि व्यक्ति किसी तरह मानसिक रूप से बीमार या असामान्य है, यद्यपि इससे सामाजिक समस्याएं हो सकती हैं जो गलत सूचना होने की कारण हो सकती है।

LGBT या GLBT क्या है?

एलजीबीटी lesbian, gay, bisexual, transgender लेस्बियन, गे, उभयलिंगी और ट्रांसजेन्डर के टर्म है।

जेंडर कितने होते हैं?

तीन।

Male मेल, Female फीमेल और Third Gender थर्ड जेंडर।

हिजड़ा intersex किसे कहते हैं? किन्नर कौन हैं?

ऐसे मानव को हिजड़ा कहते हैं जो जन्म पर लैंगिक रूप से न नर होते हैं न मादा। यह एक जन्मजात विकृति है और उस व्यक्ति की चॉइस नहीं है जैसा की होमोसेक्सुअल या बायसेक्सुअल के केस में होता है ।

जन्म पर उनमें अस्पष्ट जननांग या जन्मजात दोनों लिंगों की विशेषता होती है। जन्म के समय लैंगिक विकृति के कारण ऐसा होता है।

‘हिजड़ा’ शब्द दक्षिण एशिया में प्रचलित है। हिजड़ा एक उर्दू या अरेबिक भाषा के शब्द हिजर से बना है। हिजर, उसे कहते हैं जो अपने समुदाय से निकाला गया हो या जिसने अपना समुदाय छोड़ दिया हो। हिजड़ा समुदाय भी समाज के स्त्री पुरुषों से दूर अपने अलग समाज में रहते हैं।

हिजड़ों को किन्नर, ख्वाजासरा, छक्का आदि भी कहते हैं। गुजरात में पावैया, पंजाबी में खुस्ना, जनखा, तेलुगु में नपुन्सकुडू, कोज्जा, मादा और तमिल में शिरूरनान गाई, अली, अरवन्नी, अरावानी, अरुवनी कहते हैं।

अधिकांश हिजड़े शारीरिक रूप से ‘नर’ होते हैं या अन्त:लिंगी (intersex) किन्तु कुछ मादा (स्त्री) भी होते हैं। हिजड़ों को आधिकारिक रूप से दक्षिण एशियाई देशों में तीसरे लिंग के रूप में मान्यता प्राप्त है। हर 2,000 लोगों में से एक इंटरसेक्स जन्म होता है।

हिजड़े और ट्रांसजेंडर में अंतर Difference Between Hijra and Transgender

हिजड़े स्त्री की भूमिकाएं अपनाते हैं, स्त्रियों की तरह बोलते हैं और अधिकतर महिलाओं की पोशाक में दिखाई देते हैं। ये न ही आदमी होते हैं और न ही औरत और इसलिए इसे थर्ड जेंडर कहते हैं। इसे ट्रांस जेंडर से अलग समझा जाना चाहिए।  ​​

ट्रांसजेंडर या ट्रांससेक्सुअल (transsexual, लिंगपरिवर्तित) हिजड़ा या किन्नर नहीं होते। ट्रांसजेंडर एक ऐसा व्यक्ति है जिसका सेक्सुअल ओरिएंटेशन अलग है और वो क्रॉस ड्रेसर है। वह किसी अलग समुदाय का सदस्य नहीं है। यह अपनी मानसिक प्रेरणा से एक महिला की तरह महसूस करना चाहता है। दूसरी ओर, हिजड़े अलग समुदाय में रहते हैं, अधिकतर महिला की पोशाक में दिखाई देते हैं और ऐसा उनके सेक्सुअल ओरिएंटेशन के कारण नहीं है।

15 अप्रैल 2014 को सुप्रीम कोर्ट ने तीसरे लिंग के रूप में हिजड़ों transgenders को कानूनी मान्यता प्रदान की।

इसे भी पढ़ें -  योनि के कैंडिडिआसिस Vaginal Candidiasis की जानकारी और इलाज

सुप्रीम कोर्ट ने स्पष्ट किया है कि तीसरे लिंग में ट्रांसजेडर’ श्रेणी के अंतर्गत गे, लेस्बियन और बायसेक्सुअल व्यक्ति शामिल नहीं हैं।

फैसले में स्पष्ट रूप से कहा गया था कि “तीसरा लिंग” का लाभ ट्रांजेन्डर  समुदाय जिसे हिजरा, कोठियों, अरविनीस, जोगप्पा, शिव-शक्ती आदि कहा जाता है को मिलेगा।

लोग अपने यौन अभिविन्यास को कैसे जानते हैं?

कई लोगों के लिए, किशोरावस्था या युवा वयस्कता के दौरान उनकी यौन अभिविन्यास स्पष्ट हो जाता है। उदाहरण के लिए, हेट्रोसेक्सुअल, अपोजिट सेक्स के लिए आकर्षण महसूस करते हैं लेकिन होमोसेक्सुअल केवल सेम सेक्स के लोगों के प्रति आवेगों / आकर्षणों को महसूस करते हैं।

समलैंगिकों के यौन विचार और गतिविधियां अपने ही लिंग के लोगों पर केंद्रित करती हैं।

क्या किसी व्यक्ति का यौन अभिविन्यास sexual orientation बदला जा सकता है?

ज्यादातर विशेषज्ञ मानते हैं कि यौन अभिविन्यास बदला नहीं जा सकता है। कुछ लोग मजबूरी में अपने सेक्सुअल ओरिएंटेशन को छुपा सकते हैं जिससे उन्हें सामजिक समस्याएं और परेशानियां नहीं झेलनी पड़ें। वे सामज में हेट्रोसेक्सुअल बन कर रह सकते हैं जबकि वे ऐसा महसूस नहीं करते।

उदाहरण के लिए कोई लड़की जो केवल लड़कियों के लिए कामुकता महसूस करती हो वो किसी पुरुष के साथ रह सकती है और उसे सेक्स करने दे सकती है लेकिन अपनी सेक्सुअलिटी को वह जाहिर नहीं करती।

एक लड़का जो केवल लड़कों के लिए कामुकता महसूस करता है उसे किसी लड़की के पहले स्पर्श से भी कोई उत्तेजना नहीं आती और न ही सेक्स करने का मन करता है लेकिन वह घर परिवार के दबाव में किसी लड़की से शादी कर लेता है।

क्या उनकी sexuality से संघर्ष करने वाले लोगों के लिए सहायता समूह हैं?

हाँ। लैंगिक अभिविन्यास के साथ संघर्ष करने वालों के लिए कई अलग-अलग समर्थन समूह और संगठन उपलब्ध हैं। वे किसी व्यक्ति को समलैंगिकता से जुड़े प्रतिकूल प्रभाव से निपटने के लिए रणनीतियों को विकसित करने और पूर्वाग्रह और रूढ़िवादी के हानिकारक प्रभावों की सहायता कर सकते हैं।

इसे भी पढ़ें -  जी-पिल का उपयोग और नुकसान g pill Emergency Contraceptive

Sexual Orientation refers to an enduring pattern of emotional, romantic, and/or sexual attractions to men, women, or both sexes. Sexual orientation also refers to a person’s sense of identity based on those attractions, related behaviors, and membership in a community of others who share those attractions.

Three sexual orientations are commonly recognized – heterosexual, homosexual (gay and lesbian) and bisexual.

  • LGBT: LGBT stands for lesbian, gay, bisexual and transgender.
  • Lesbian: Woman romantically, sexually and/or emotionally attracted to women.
  • Gay: Man romantically, sexually and/or emotionally attracted to men.
  • Bisexual: Person who is romantically, sexually and/or emotionally attracted to people of both sexes.
  • Transgender or Trans: Umbrella term for people whose gender identity (internal feeling of being male, female or transgender) and/or gender expression, differs from that usually associated with their birth sex.

Hijra

In South Asia, Hijra is a term given to eunuchs or intersex people or transgenders. It is officially recognized as third gender in South Asian countries.

Intersex people or hermaphrodites are people born with ambiguous genitalia or genitalia having characteristics of both sexes. Usually a doctor will immediately perform surgery to assign the infant’s sex, usually removing male characteristics and creating a female. Because this surgery is medically unnecessary, advocates today are asking that doctors and parents wait until the child is old enough to self-identify the appropriate biological sex and gender and also old enough to choose whether or not to have the surgery. Some who had surgery as infants later experience conflict with their assigned gender, similar to that experienced by transgender people. They may opt for hormone therapy and surgery to transition to the gender that they should have had. About one in every 2,000 people is intersex.

On 15 April 2014 justices K.S. Radhakrishnan and A.K. Sikri granted legal recognition to transgenders or eunuchs as third gender.  Supreme Court has clarified that third gender did not include lesbians, gays and bisexual persons under the category of ‘transgenders’. The judgment had clearly said that the benefit of “third gender” would be enjoyed by the transgender community comprising “hijras, eunuchs, Kothis, Aravanis, Jogappas, Shiv-Shakthis, etc.

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.