पेनिस रिंग Penis Ring | Constriction Rings

लिंग छल्ला या पेनिस रिंग एक रिंग है जो लिंग के चारों ओर पहना जाता है, आमतौर पर आधार पर। एक पेनिस की अंगूठी पहनने का प्राथमिक उद्देश्य एक मजबूत उत्तेजना का निर्माण करने के लिए या एक लंबी अवधि के लिए उत्तेजना बनाए रखने के लिए खड़े लिंग से खून के प्रवाह को प्रतिबंधित करना है।

पेनिस रिंग, कंसस्ट्रिकशन रिंग या कॉक रिंग एक रिंग या छल्ला है जो पुरुषों में स्तम्भन को बनाए रखने में मददगार हो सकता है।

Loading...
penis ring

पुरुष में स्तंभन या इरेक्शन होने पर शिश्न / पेनिस टाइट और खड़ा हो जाता है। यौन उत्तेजित होने पर पेनिस में इरेक्शन लाने के लिए शिश्न की धमनियाँ स्वतः फैल जाती हैं, जिसके कारण अधिक रक्त शिश्न के तीन स्पंजी ऊतक कक्षों मे भर जाता है। रक्त के भर जाने पर पेनिस बड़ा, लंबा और कड़ा हो जाता है। रक्त से भरे ऊतक, रक्त को पेनिस से वापस ले जाने वाली शिराओं पर दबाव डाल कर सिकोड़ देते है, जिसके कारण अधिक रक्त प्रवेश करता है और कम रक्त वापस लौटता है। ऐसा होने से शिश्न को एक निश्चित स्तंभन आकार मिलता है।

ब्लड के भर जाने पर ही पेनिस सेक्स के लिए सक्षम हो पाता है। लेकिन इरेक्टाइल डिसफंक्शन की स्थिति में पुरुष संभोग के लिए पर्याप्त इरेक्शन / स्तम्भन को पाने या उसे बरकरार रखने में असमर्थ रहता है। इरेक्टाइल डिसफंक्शन या इडी, में पेनिस उतना कड़ा नहीं हो पाता जिससे पेनेट्रेटिव सेक्स हो सके। इस स्थिति को इम्पोटेंस भी कह दिया जाता है। यह अनुमान लगाया गया है कि 40 और 70 की उम्र के बीच के सभी आधे पुरुषों में यह समस्या कुछ हद तक पायी जाती है।

इरेक्टाइल डिसफंक्शन के मामलों में पेनिस में रक्त, धमनियों के माध्यम से आता है लेकिन यह रक्त पेनिस के अंदर बना नहीं रह पाता। शिराएँ या वीन्स ठीक से नहीं सिकुड़ती और आया हुआ रक्त वापस लौट जाता है और परिणामतः पेनिस डाउन हो जाता है।

पेनिस रिंग, कोंस्ट्रिकशन रिंग या कॉक रिंग को ऐसे मामलों में पेनिस पंप के साथ इस्तेमाल करने से सेक्स करने की क्षमता को बढ़ाया जा सकता है।

पेनिस रिंग क्या है?

पेनिस रिंग किसे कहते हैं? इसे कब इस्तेमाल करते हैं?

इसे भी पढ़ें -  उम्र के साथ पुरुष के सेक्सुअल अंगों में होने वाले बदलाव

पेनिस रिंग, कॉक रिंग या कंसट्रिक्शन रिंग, एक अंगूठी/छल्ला है जिसे सामान्यतः इरेक्ट पेनिस के आधार पर लगाते हैं।

शिश्न के छल्ले का उपयोग शिश्न के रक्त के प्रवाह को सीमित करने के लिए किया जाता है। इससे पेनिस में टाइटनेस आती है और उत्तेजना पैदा हो सकती है। इससे इरेक्शन को बनाए रखने में मदद मिलती है। कुछ पुरुष इसे ज्यादा यौन आनंद पाने के लिए इस्तेमाल करते हैं जबकि बहुत से पुरुषों में यह ईडी की समस्या में उपयोगी हो सकता है।

कुछ पेनिस रिंग्स वाइब्रेटर के साथ भी आती हैं, जैसे की ड्यूरेक्स की Durex Play Little Devil, Play Ultra, Play Vibrations.

पेनिस रिंग कैसे काम करती है?

Loading...

जब एक आदमी यौन उत्तेजित होता है तो उसका लिंग खून से भर जाता है, जो पेनिस को फर्म को बनाता है और संभोग के लिए इरेक्ट करता है। पेनिस रिंग को पेनिस के आधार पर पहना जाता है। ऐसा करने से रक्त को पेनिस के अंदर ही रोके रखने में मदद होती है। यह अक्सर वैक्यूम बिल्डिंग डिवाइस या पेनिस पंप के साथ संयोजन में प्रयोग किया जाता है। एक उपकरण इरेक्शन बनाए रखने के लिए उपयोग किया जा सकता है।

वैक्यूम बिल्डिंग डिवाइस या पेनिस पंप के प्लास्टिक सिलेंडर को पेनिस के ऊपर रखा जाता है। फिर, वैक्यूम बनाते हैं जिससे इरेक्शन होता है। इरेक्शन के हो जाने पर पेनिस रिंग को पेनिस के बेस पर लगा देते हैं।

पेनिस रिंग, आकार, आकृति और टाइटनेस में भिन्न होती हैं। व्यक्तिगत संरचनात्मक अंतरों के कारण, पेनिस के छल्ले सभी पुरुषों को समान रूप से अच्छी तरह फिट नहीं होते । व्यक्ति को अपने लिए ऐसे साइज़ की रिंग का चुनाव करना चाहिए जो प्रभावी और आरामदायक दोनों हो। धातु के छल्ले का प्रयोग नहीं किया जाना चाहिए।

यद्यपि पेनिस रिंग, पहनने से इरेक्शन में मदद होती है लेकिन यह सलाह दी जाती है कि चिकित्सक से पहले परामर्श किए बिना इसका उपयोग नहीं करें। प्रयोग विधि सही नहीं होने पर या किसी अन्य कारणवश इसका इस्तेमाल खतरनाक हो सकता है। इसलिए सावधान रहें।

इसे भी पढ़ें -  वेरिकोसील Varicocele का इलाज क्या होता है

पेनिस रिंग के इस्तेमाल में क्या सावधानियां ज़रूरी है?

पेनिस रिंग या छल्ले का उपयोग करते समय पुरुषों को सावधान रहने की जरूरत है। अधिकांश निर्माताओं ने इसे 30 मिनट से अधिक समय तक नहीं पहनने के खिलाफ चेतावनी दी है। अगली बार इस्तेमाल करने में कम से कम एक घंटे का गैप रखें।  रिंग का प्रयोग करने से पहले, रिंग के साथ आए दिशानिर्देशों को ध्यान से पढ़ें। रिंग को सेक्स के बाद लगा नहीं रहने दे।बताए गए तरीके से इसे निकाले और साफ़ करके रखें।

ज्यादा देर तक खून का दौरा रोकना खतरनाक हो सकता है। इससे पेनिस स्थायी रूप से घायल हो सकता है।

ज्यादा देर खून रोक देने से नेक्रोसिस हो सकती है। नेक्रोसिस आवश्यक ऑक्सीजन नहीं मिलने से जीवित कोशिकाओं का नष्ट हो जाना है।

गंभीर मामलों में, पुरुष गैंगरेन विकसित कर सकते हैं और पेनिस का विघटन हो सकता है।

पेनिस रिंग का इस्तेमाल नहीं करें, यदि:

  • आसानी से रक्तस्राव होता है।
  • ब्लड क्लॉटिंग डिसऑर्डर है।
  • डायबिटीज है।
  • परिधीय संवहनी या तंत्रिका रोग से पीड़ित है।
  • एंटी-कॉग्ग्यूएलेंट, एस्पिरिन, या कोई अन्य रक्त को पतला करने की दवा लेते हैं।

पेनिस रिंग को तुरंत निकाल दिया जाना चाहिए यदि पुरुष को दर्द या नंबनेस लगती हो या पेनिस ठंडा महसूस होने लगे। यदि पेनिस सूज हो जाता है और वे रिंग को नहीं हटा पा रहे हैं, तो उन्हें तत्काल आपातकालीन उपचार की तलाश करनी चाहिए।

Cock ring or cockring or penis ring or constriction ring or C rings or shaft rings, is a ring worn around the penis, usually at the base. When used for erectile dysfunction (ED), they are known by various other names, such as erection rings and tension rings.

Cock rings worn just behind the corona of the glans of the penis are known as glans rings, head rings or cock crowns.

Cock ring is used to restrict the flow of blood from the erect penis in order to produce a stronger erection or to maintain an erection for a longer period of time. It is used for enhancing sexual pleasure and also in case of erectile dysfunction. It is highly recommended to know the benefits and risks of using such rings.

इसे भी पढ़ें -  गोनोरिया (सुजाक) का लक्षण, उपचार और बचाव | Gonorrhoea

Related Posts

पेनिस की देखभाल कैसे करें Penis Care Tips
पेनिस में खुजली Penis Itch कैसे ठीक करें
पेनिस के बारे में जानकारी | Penis Information
आप का लिंग बहुत छोटा है, Really Small Penis?
पेनिस पर स्पॉट Lumps and Spots on the Penis के कारण

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

error: Content is protected !!