महिलाओं में आर्गेज्म नहीं होने की समस्या Orgasm Problems in Women

यौन गतिविधि के दौरान किसी महिला को कभी भी संभोग से चरमोत्कर्ष नहीं होने का अनुभव, असामान्य नहीं है। 50% महिलायें कभी भी चरमोत्कर्ष का अनुभव नहीं कर पाती। सेक्स के दौरान ओरगास्म नहीं होना को, मेडिकल भाषा में ऑर्गैजिमिक डिसफंक्शन orgasmic dysfunction कहते हैं।

चरमोत्कर्ष या आर्गेज्म Orgasm, यौन क्रिया के दौरान अचानक आने वाला यौन आनंद है। यह अनैच्छिक होता है या स्वायत्त तंत्रिका तंत्र द्वारा नियंत्रित होता है। यह श्रोणि क्षेत्र में लयबद्ध पेशियों के संकुचन से होता है। चरमोत्कर्ष, सेक्स का चरम है। यह तीव्र यौन सुख की भावना है।

पुरुषों और महिलाओं दोनों को ही चरमोत्कर्ष का अनुभव होता है। चरमोत्कर्ष, के दौरान दिल तेजी से धड़कता है और श्वास तेज और भारी हो जाती है और सेक्स का क्लाइमेक्स हो जाता है।

चरमोत्कर्ष से पुरुषों में, मांसपेशियों के संकुचन के साथ पेनिस से स्खलन हो जाता है। चरमोत्कर्ष के बाद, लिंग और अंडकोष अपने सामान्य आकार में वापस सिकुड़ते हैं।

महिलाओं में चरमोत्कर्ष, पुरुषों से भिन्न होता है। महिलाओं में स्खलन नहीं होता। उन्हें चरम उत्तेजना का अनुभव होता है। यह चरम पेल्विस circumvaginal पेशी के अनैच्छिक,लयबद्ध संकुचन और गर्भाशय और गुदा संकुचन से होता है।

यौन गतिविधि के दौरान किसी महिला को कभी भी संभोग से चरमोत्कर्ष नहीं होने का अनुभव, असामान्य नहीं है। 50% महिलायें कभी भी चरमोत्कर्ष का अनुभव नहीं कर पाती। सेक्स के दौरान ओरगास्म नहीं होना को, मेडिकल भाषा में ऑर्गैजिमिक डिसफंक्शन orgasmic dysfunction कहते हैं। यह कठिनाई तब भी होती है जब पर्याप्त यौन उत्तेजना होती है। पुरुष भी orgasmic शिथिलता का अनुभव कर सकते हैं, लेकिन यह बहुत कम आम है। अध्ययनों से पता चलता है कि ऑर्गैजिमिक डिसफंक्शन 11 से 41 प्रतिशत महिलाओं को प्रभावित करता है

ऑर्गैजिमिक डिसफंक्शन तब होता है जब एक महिला को चरमोत्कर्ष नहीं होता जब महिला यौन उत्तेजित होती है। चरमोत्कर्ष नहीं होने से सेक्स मज़ेदार नहीं रह जाता है। यह दोनों भागीदारों के लिए संतोषजनक-अंतरंग अनुभव होने के बजाय रोज का काम बन सकता है। यौन इच्छा अक्सर कम हो जाती है। और सेक्स करना कम हो जाता है। इससे रिश्ते में असंतोष और संघर्ष उत्पन्न हो सकता है।

इसे भी पढ़ें -  शुक्राणु की गतिशीलता में कमी (स्पर्म में गति की कमी) Asthenozoospermia in Hindi

ऑर्गजमिक डिसफंक्शन के लक्षण क्या हैं?

यौन चरमोत्कर्ष को प्राप्त करने में असमर्थता ऑर्गजमिक डिसफंक्शन का मुख्य लक्षण है। अन्य लक्षणों में असंतुष्ट सेक्स  एक्ट और चरमोत्कर्ष तक पहुंचने में सामान्य से अधिक समय लेना शामिल है।

कारक जो चरमोत्कर्ष को प्रभावित कर सकते हैं

Factors that may affect orgasm

ऑर्गजमिक डिसफंक्शन के अंतर्निहित कारण को निर्धारित करना मुश्किल हो सकता है। शारीरिक, भावनात्मक या मनोवैज्ञानिक कारकों के कारण महिलाओं को संभोग करने में कठिनाई हो सकती है।

यदि सेक्स से किसी महिला को चरमोत्कर्ष नहीं हो रहा तो ऐसा होने के कई कारण हो सकते हैं। सामान्य कारणों में शामिल हो सकते हैं:

  • आत्मविश्वास कि कमी lack of self confidence
  • उत्तेजित नहीं होना not being stimulated enough
  • गंभीर बीमारियों जो स्वास्थ्य और यौन रुचि को प्रभावित करते हैं Chronic illnesses that affect health and sexual interest
  • चिंतित होना Relationship worries
  • तनाव Stress
  • थकान और तनाव या अवसाद Fatigue and stress or depression
  • दवाएं, अवसाद की दवा, फ्लुऑक्सेटीन (प्रोजैक), पेरोक्सेटीन (पाक्सिल), और सर्ट्रालाइन (ज़ोलॉफ्ट)
  • बड़ी उम्र aging
  • बहुत ज्यादा शराब पीने से consuming too much alcohol
  • भावनात्मक दुख emotional distress
  • मनोरंजक दवाओं का उपयोग use of recreational drugs
  • मानसिक स्वास्थ्य की स्थिति, जैसे कि अवसाद या चिंता
  • योनि सूखापन vaginal dryness
  • यौन गतिविधि या रिश्ते में ऊब Boredom in sexual activity or a relationship
  • यौन दुर्व्यवहार या बलात्कार का एक इतिहास history of sexual abuse or rape
  • यौन फंक्शन के बारे में ज्ञान की कमी Lack of knowledge about sexual function
  • शर्म या शर्मिंदगी Shyness or embarrassment about asking for the type of touching off that works best
  • श्रोणि की आपूर्ति करने वाली तंत्रिकाओं को नुकसान जैसे स्केलेरोसिस, मधुमेह तंत्रिका क्षति और रीढ़ की हड्डी की चोट जैसी स्थितियों के कारण Damage to the nerves that supply the pelvis due to conditions such as multiple sclerosis, diabetic nerve damage, and spinal cord injury
  • श्रोणि दर्द जैसे एंडोमेट्रियोसिस से Chronic pelvic pain, such as from endometriosis
  • सेक्स करने के बारे में चिंता या डर worries or fears about having sex
  • सेक्स के बारे में नकारात्मक भावनाएं Negative feelings about sex (often learned in childhood or teen years)
  • स्त्रीरोग संबंधी सर्जरी का इतिहास, जैसे कि एक हिस्टेरेक्टोमी Hysterectomy
  • हार्मोनल विकार या परिवर्तन जैसे रजोनिवृत्ति Hormone changes। for example after childbirth or during menopause
इसे भी पढ़ें -  मेगालिस Megalis Uses, Benefits, Side Effects, Dosages, Warnings in Hindi

यदि स्खलन नहीं हो पाता, तो क्या करना चाहिए?

कभी-कभी, कई कारकों का संयोजन एक संभोग सुख को प्राप्त करना कठिन बना सकता है। चरमोत्कर्ष नहीं होने से संभोग सुख तक पहुंचने में असमर्थता हो जाती है। महिला सेक्स में रूचि नहीं रखती और बार बार इसके लिए मना कर देती है जिससे उसके पति में सेक्स संतुष्टि नहीं होती और रिश्तों में समस्या हो सकती है।

सलाह लेना

अगर चरमोत्कर्ष के बारे में कोई चिंता है। तो आपको अपने चिकित्सक से मिलना चाहिए। खासकर यदि यह स्पष्ट कारण नहीं है।

आपका डॉक्टर आपको अपने यौन जीवन, रिश्ते और चिकित्सा इतिहास के बारे में प्रश्न पूछ सकता। वे कुछ परीक्षण भी कर सकते हैं यदि उन्हें लगता है कि आपकी दवा या स्वास्थ्य स्थिति आपकी चिंता का मूल कारण हो सकती है।

आपका डॉक्टर आपको स्त्री रोग डॉक्टर के पास भी भेज सकता है जो यौन मुद्दों से निपटने के साथ-साथ इस मुद्दे को सुलझाने के लिए सर्वोत्तम कदमों पर आपको सलाह दे सकता है।

जीवन शैली में परिवर्तन

महिला यौन रोग के संभावित कारणों की संख्या को देखते हुए। विशिष्ट देखभाल सलाह देने में मुश्किल है। स्वस्थ जीवन जीने से आपको एक स्वस्थ सेक्स जीवन होने की संभावना में सुधार हो सकता है।

  • वजन कम करना (यदि आप अधिक वजन वाले हैं)
  • शराब की मात्रा को कम करने के लिए
  • दवाओं का उपयोग नहीं करना
  • नियमित रूप से व्यायाम करना
  • यदि आप धूम्रपान करती हैं। इसे छोड़ दें
  • जब तक आप अपने डॉक्टर से बात नहीं कर लेते तब तक किसी भी निर्धारित दवा को नहीं रोकें।

आप को सेक्स के बारे में स्वस्थ रुख रखना चाहिए। आपको अपनी यौन ज़रूरतों और इच्छाओं, मौखिक या गैर-मौखिक रूप से संवाद करने के लिए स्पष्ट रूप कहना आना चाहिए। आपको चाहिए कि सेक्स को रूटीन काम की तरह नहीं बल्कि एक आनन्द और आपस में स्वस्थ्य सम्बन्ध बनाने का रास्ता समझा जाना चाहिए जो शादीशुदा जिन्दगी का अनिवार्य हिस्सा है।

  • सेक्स बेहतर बनाने के लिए और चरमोत्कर्ष या आर्गेज्म Orgasm पाने के लिए टिप्स
  • अन्य यौन गतिविधियों पर ध्यान केंद्रित करें। न कि सिर्फ संभोग पर।
  • आराम करें और अच्छी तरह से खाएं। शराब, ड्रग्स और धूम्रपान नहीं करें।
  • कीगल व्यायाम करें।
  • गर्भनिरोधक जो आप और आपके साथी दोनों के लिए काम करता है का उपयोग करें। सेक्स से पहले इस पर चर्चा करें अगर आप एक अवांछित गर्भावस्था के बारे में चिंतित हों।
  • यदि अन्य यौन समस्याएं, जैसे रूचि की कमी और संभोग के दौरान दर्द, डर या सूखेपन की समस्या से ग्रस्त हैं तो पहले इसे सुलझाएं।
  • सेक्स के दौरान जो अच्छा नहीं लगता उसके बारे में पति से बात करें।
  • सेक्स के लिए अपने आप को मानसिक रूप से तैयार करें।
  • हस्तमैथुन और संभोग के दौरान क्लिटोरल उत्तेजना में वृद्धि करें।
इसे भी पढ़ें -  पेनिस पंप Penis Pump जानकारी और इस्तेमाल का तरीका

डॉक्टर से सलाह लें, यदि

  • चिकित्सा समस्या। जैसे कि मधुमेह या मल्टीपल स्केलेरोसिस है।
  • नई दवाइयां लेने लगी हैं।
  • रजोनिवृत्ति के लक्षण है।

कुछ मामलों में, एस्ट्रोजेन हार्मोन थेरेपी का इस्तेमाल किया जा सकता है। एस्ट्रोजेन यौन इच्छा बढ़ाने या ऊपरी संवेदनशीलता के लिए जननांगों को रक्त प्रवाह की मात्रा बढ़ाने में मदद कर सकता है। एस्ट्रोजेन हार्मोन थेरेपी एक गोली लेने, पैच पहनने, या जननांगों को जेल लगाने में शामिल हो सकता है।

कुछ ओवर-द-काउंटर (ओटीसी) उत्पाद, तेल और पोषण संबंधी पूरक महिलाओं को ऑर्गैजिकिक डिसफंक्शन में मदद कर सकते हैं।

सेक्स के दौरन ओर्गास्म को केवल पेनिस में योनि के डालने से नहीं पाया जा सकता। एक अच्छा फोरप्ले बहुत ज़रूरी है। ज्यादातर महिलाओं को संभोग सुख तक पहुंचने के लिए क्लिटोरल उत्तेजना clitoral stimulation की आवश्यकता होती है। यौन गतिविधि में clitoral stimulation ज़रूर करें। आपस में बात करें और अपनी इच्छाओं को बताएं।

महिलायों में यौन प्रतिक्रिया एक जटिल तरीके से काम करती है और इसमें मन और शरीर दोनों शामिल हैं। मन और शरीर, दोनों के स्वस्थ्य होनेपर ही सेक्स के दौरान चरम सुख को पाया जा सकता है।

यौन क्रियाकलापों के माध्यम से एक संभोग सुख पहुंचाना एक कौशल है जिसे सीखना चाहिए। यदि आप संभोग से चरमोत्कर्ष नहीं मिलने के बारे में चिंतित हैंतो आप खुद हस्तमैथुन कर इसे पाने की कोशिश कर सकते हैं। हस्तमैथुन पूरी तरह से सामान्य और स्वस्थ है। आपको सीखना चाहिए कि जननांगों को कैसे छूने पर आप उत्तेजित और अच्छा महसूस करती हैं और आपको क्या अच्छा लगता है।

हर कोई अलग होता है और अलग-अलग चीजें जननांगों को अलग-अलग तरीकों से उत्तेजित करती हैं। जब आप अपने आप को खुश करने का तरीका जानती हैं तो आप इसे अपने साथी के साथ साझा कर सकती हैं और सेक्स के दौरान चरमोत्कर्ष पर पहुँच सकती हैं।

Inhibited sexual excitement or orgasmic dysfunction or Anorgasmia or Sexual dysfunction is condition in which woman either cannot reach orgasm, or has trouble reaching orgasm when she is sexually excited.

इसे भी पढ़ें -  एंडोमेट्रियोसिस Endometriosis लक्षण, कारण, रोग का निदान और उपचार

About 10% to 15% of women have never had an orgasm. Surveys suggest that up to one half of women are not satisfied with how often they reach orgasm.

The symptoms of orgasmic dysfunction include:

  • Being unable to reach orgasm
  • Taking longer than you want to reach orgasm
  • Having only unsatisfying orgasms

The treatment involves treating responsible factors having proper foods and diet and keep a loving relationship.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.