गुप्तांग डार्क क्यों होते हैं Dark Private Parts and What You Can Do

जानिये पुरुषों का पेनिस और औरतों की काले रंग या गहरे रंग की क्यों होते हैं? क्या इनको गोरा किया जा सकता है ? गुप्तांगो को गोरा करने के नुकसान और सावधानियां क्या है?

गुप्तांगों की त्वचा का रंग शरीर के बाके हिस्सों की तुलना में अधिक गहरा होता है या दूसरे शब्दों में काला होता है। प्राइवेट हिस्सों के आस पास के अंगों का रंग, जैसे इनर थाई, बट्स भी नार्मल से अधिक गहरे शेड के होते हैं।

यह शरीर के वे हिस्से हैं जो हमेशा ही ढके हुए होते हैं लेकिन फिर भी काले होते हैं। जबकि आम अवधारणा है कि स्किन को जितना कवर रखते हैं वे उतने फेयर होते हैं। लेकिन यह बात प्राइवेट पार्ट्स के लिए ठीक नहीं बैठती। प्राइवेट पार्ट्स काले क्यों होते हैं? इस प्रश्न का उत्तर जानने के लिए आगे पढ़ें।

लिंग और योनी काले क्यों होते हैं?

प्राइवेट पार्ट्स या गुप्तांग मनुष्य के बहुत निजी अंग हैं और लगातार ही ढके रहते हैं। चाहे दिन हो या रात, अंडरआर्म, योनि और आंतरिक जांघ को हमेशा ही कई लेयर के अंदर रहना होता है। इन सभी हिस्सों पर बाल भी पाए जाते हैं। जो इन्हें अधिक गहरा रंग का दिखाते हैं। इन कारकों से हमेशा ही प्राइवेट पार्ट्स को नमी, घर्षण और ताजी हवा के बैगर रहना होता है। यह फैक्टर्स ही इन हिस्सों को डार्क बनाने के लिए जिम्मेदार हैं।

नाजुक त्वचा

प्राइवेट पार्ट्स (योनी या पेनिस) की त्वचा बहुत नाजुक और पतली होती है। यह त्वचा शरीर के अन्य अंगों की तुलना में प्रकार में ही अलग होती है। जैसे सभी के होठों का रंग अलग होता है। उसी तरह से योनी के लिप्स या पेनिस की स्किन भी डार्क ही होती है।

नमी

प्राइवेट पार्ट्स में हमेशा नमी बनी रहती है। यहाँ नमी होने के कई कारण हैं जैसे नहाने के बाद ठीक से नहीं सुखाना, शौच के बाद अंडर गारमेंट गीला हो जाना, हवा नहीं लगना, पसीना होना, आदि। नमी की वजह से, आपके निजी क्षेत्र की त्वचा का रंग बदल जाता है।

इसे भी पढ़ें -  महिलाओं में आर्गेज्म नहीं होने की समस्या Orgasm Problems in Women

पसीना

पसीना शरीर के तापमान को नियंत्रित करने और शरीर से वेस्ट को निकालने के लिए जिम्मेदार है। यह गर्मियों के दिनों में ज्यादा होता है। व्यायाम के बाद, भी इसकी मात्रा बढ़ जाती है। क्योंकि निजी क्षेत्रों को शायद ही कोई दिन में कई बार साफ़ करता है इसलिए यह पसीना त्वचा पर बना रहता है जब तक कि आप स्नान न कर लें। यह पसीना भी त्वचा का रंग बदलने के लिए जिम्मेदार है।

हवा का नहीं पहुँच पाना

निजी क्षेत्र में हवा नहीं के बराबर जा पाती है। यह अंग कई लेयर के अंदर होते हैं और यह कारक भी त्वचा की बनावट और रंग बदलने के लिए जिम्मेदार है।

चुस्त वस्त्र

टाइट कपड़े निजी क्षेत्रों में रगड़, हवा नहीं पहुचने देने और त्वचा की साफ़ सफाई को प्रभावित करते हैं जिससे स्किन डार्क होती है।

रगड़ / घर्षण

चलने, उठने, बैठने आदि से होने निरंतर घर्षण से निजी क्षेत्रों के बनावट और रंग बदल जाता है।

हेयर रिमोविंग क्रीम

कुछ लोग Hair Removal Cream का इस्तेमाल प्राइवेट पार्ट्स के बालों को हटाने के लिए करते हैं। लेकिन यह प्रयोग प्राइवेट पार्ट्स की स्किन को काला कर देता है।

हार्मोनल परिवर्तन

शरीर में होने वाले हार्मोनल परिवर्तनों से भी गुप्तांगों की त्वचा का रंग बदल जाता है। प्रेगनेंसी में जैसे निप्पल्स का रंग गहरा हो जाता है वैसे भी शरीर के अन्य अंग प्रभावित होते हैं।

आनुवंशिकी

आनुवंशिकी भी इसका एक कारण हो सकती है।

ठीक से साफ़ सफाई नहीं रखना

अंडरगारमेंट, को बहुत देर तक सूखा रखना बहुत मुश्किल है। महिलाओं में यूरिन करने के बाद पैंटी को सूखा रखा पाना लगभग असंभव है। यदि दिन में २-३ बार पैंटी नहीं बदलें तो गंदगी, नमी और रगड़ से यह पार्ट्स काले हो ही जाते हैं। अंडर गारमेंट की नमी और रगड़ से आंतरिक जांघें भी काली हो जाती हैं।

इसे भी पढ़ें -  ओरल सेक्स Oral Sex कुछ सवाल और जवाब

प्राइवेट पार्ट्स पर बाल होना

यौवन या प्यूबर्टी के बाद गुप्तांगों पर बाल आ जाते हैं। वह बाल शरीर के बाकी हिस्सों की तुलना में अधिक कड़े और काले होते हैं। इन बालों के कारण भी निजी अंग काले लगते हैं।

लिंग और योनी का कालापन दूर करने के उपाय

अगर आप गुप्तांगों और उनके आस-पास के हिस्सों के काले होने के लिए जिम्मेदार कारकों को देखें तो आप यह पायेंगे इन में कुछ फैक्टर्स को आप चाह कर भी बदल नहीं सकते। लेकिन कुछ को आप ठीक कर सकते हैं। कुछ फैक्टर्स पर आप काम कर सकते हैं और निजी अंगों की अच्छी देखभाल कर सकते हैं।

ठीक साफ़ सफाई रखें

प्राइवेट पार्ट्स की ठीक से साफ़ सफाई रखें। दिन में २-३ बार पैंटी बदलें। पीरियड्स के दौरान लड़कियां और महिलायें पैड्स नियमित बदलें। निजी अंगों को ड्राई रखने की कोशिश करें।

प्राइवेट पार्ट्स को ठीक से धोएं

अपने प्राइवेट पार्ट्स को नहाते समय बहुत खुशबूदार या हार्श शैम्पू का इस्तेमाल नहीं करें। योनी के लिए पी एच बैलेंस रखने वाले प्रोडक्ट का फीमेल्स इस्तेमाल कर सकती है। पुरुष बहुत ही माइल्ड शैम्पू याफेश वश का इस्तेमाल कर सकते हैं।

बालों को ट्रिम करें

प्युबिक हेयर को ट्रिम कर सकते हैं जिससे प्राइवेट पार्ट्स कुछ फेयर दिखें।

हेयर रिमोविंग क्रीम का इस्तेमाल नहीं करें

प्यूबिक बालों को हटाने के लिए कभी भी हेयर रिमोविंग क्रीम का इस्तेमाल नहीं करें। यह समय के साथ स्किन को काला कर देगा।

प्राइवेट पार्ट्स की त्वचा को सूखा रखने की कोशिश करें

नहाने के बाद प्राइवेट पार्ट्स को अच्छे से सुखालें और फिर चड्ढी पहने। सोने से पहले भी अंडर गारमेंट को बदल लें।

इन टिप्स का उद्देश्य प्राइवेट पार्ट्स की ठीक देखभाल होना चाहिए क्योंकि आप चाहे कितनी ही कोशिश कर लें चाह कर भी किसी भी होम रेमेडी/घरेलू उपचार, फेश वाश, वेजाईनल वाश (जैसे क्लीन एंड ड्राई, सी एंड ड़ी आदि) से अपने निजी पार्ट्स को गोरा नहीं कर सकते।

इसे भी पढ़ें -  हिमकोलिन जेल के फायदे, उपयोग और प्रयोग का तरीका

नेचर ने इन्हें ऐसा ही बनाया है और सही बात यह भी है कि ज़रूरी यह है कि आप के पूरे शरीर के साथ साथ यह अंग भी साफ़ सुथरे रहें, इनकी प्रॉपर हाईजीन राखी जाए और इनमें कोई रोग नहीं हो।

कुछ वेबसाइट, निजी अंगों के लिए प्रोडक्ट बनाने वाली क्रीम या फेयरनेस उत्पाद दावा करते हैं कि वे जननागों को गोरा बनाने में आपकी मदद कर सकते हैं। कुछ जगहों पर जानकारी दी गई है कि प्राइवेट पार्ट्स में एप्पल सीडर विनेगर लगायें। दही लगाएं। बेसन – नींबू लगायें। लेकिन हमारी सलाह है यह प्रयोग लडकियों-महिलाओं में योनि के पी एच् को बिगाड़ सकते हैं और बैक्टीरिया या फंगल इन्फेक्शन करा सकते हैं। गुप्तांगों में खुजली, जलन या सफ़ेद पानी की समस्या हो सकती है। इसलिए इन से बचें। योनि के आसपास कोई भी ऐसा उत्पाद इस्तेमाल नहीं करें।

यह अंग प्रजनन के लिए जिम्मेदार हैं और इनके गोरा या काले होने से न आपको और न ही दुनिया में किसी और को कोई फर्क पड़ना चाहिए। मन और मस्तिष्क का स्वस्थ होना ज़रूरी है। बाहरी आवरण का कैसा है यह तथ्य विचार योग्य ही नहीं होना चाहिए।

इसलिए अपने निजी पार्ट्स को गोरा करने के चक्कर में नहीं पड़ें। जहाँ तक फिल्मों में दिखने वाले हीरो-हेरोइन की बात है तो सुंदर लगना उनका काम है। हेरोइन जो बिकनी मे पूरे शरीर का प्रदर्शन करती हैं वे ऐसा या तो मेकअप की मदद से करती हैं या स्पेशल महंगे ट्रीटमेंट करवाती हैं। समझदार बनें और प्राइवेट पार्ट्स को गोरा करने के चक्कर में नहीं पड़ें। अपने शरीर की सही साफ़ सफाई और गुड हाईजीन पर ध्यान दें और फेयरनेस को ही सब कुछ नहीं समझें।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.