प्रीक्लेम्पसिया (Preeclampsia) गर्भावस्था में उच्च रक्तचाप और मूत्र में प्रोटीन जानकारी, लक्षण और इलाज़

प्रीक्लेम्पसिया (Preeclampsia) और एक्लम्पसिया गर्भावस्था के दौरान होने वाली विकार हैं, हाई ब्लड प्रेशर, या उच्च रक्तचाप इसके लक्षणों का हिस्सा हैं। प्रीक्लैम्पसिया को कैसे रोक सकते हैं? इससे बच कैसे सकते हैं? इसके लिए प्रिवेंटिव स्टेप्स क्या हैं?

Contents

प्रीक्लेम्पसिया  (Preeclampsia) (प्री-एक्लम्पसिया) को पहले टॉक्सीमिया toxemia or pregnancy-induced hypertension (PIH) के नाम से जाना जाता था। यह एक ऐसी स्थिति है जो गर्भावस्था के दौरान ही होती है। प्रीक्लंपसिया, एक्लम्पसिया eclampsia में बदल सकती हैं जो एक गंभीर स्थिति है और गर्भवती महिला और उसके बच्चे को खतरे में डाल सकती है, और दुर्लभ मामलों में, मौत का कारण बन सकती है।

गर्भावस्था के 20 वें सप्ताह के पूर्व प्री-एक्लम्पसिया शायद ही कभी होता है। ज्यादातर मामलों यह 24-26 सप्ताह के बाद होता है या आमतौर पर गर्भावस्था के अंत में। प्रीक्लेम्पसिया में गर्भावस्था के दौरान उच्च रक्तचाप (हाई बीपी ) और मूत्र में प्रोटीन पाया जाता है। इसमें महिला के पैरों, टांगों और हाथों में सूजन हो सकती है।

प्रीक्लंपिसिया से मस्तिष्क में क्षति हो सकती है। यह किडनी और लिवर फंक्शन को ख़राब कर सकती है, साथ ही रक्त में थक्के की समस्याएं, फुफ्फुसीय एडिमा (फेफड़ों पर तरल पदार्थ), दौरे आदि को कर सकती है साथ ही यह गंभीर रूपों में या इलाज़ न किये जाने पर गर्भवती महिला एवं शिशु मृत्यु के कारण बन सकती है।

गर्भस्थ शिशु को इसके कारण ऑक्सीजन और पोषक तत्वों की कमी हो सकती है। प्रीक्लेम्पसिया के कारण भ्रूण के विकास में कमी हो सकती है। इस के कारण बच्चा समय से पहले जन्म ले सकता है। जन्म के पहले ही प्लेसेंटा अलग हो सकता है। प्लेसेंटा के अलग होने पर गर्भपात Stillbirth के कारण गर्भवती महिला को बहुत अधिक ब्लीडिंग हो सकती है।

इसे भी पढ़ें -  शराब Alcohol का सेवन और गर्भावस्था

गर्भवती महिला में प्रीक्लेम्पसिया क्या है?

प्रीक्लेम्पसिया गर्भावस्था की वह स्थिति है जिसमें उच्च रक्तचाप hypertension और मूत्र में प्रोटीन proteinuria होता है।

प्रीक्लैम्पसिया ज्यादातर गर्भावस्था के 34 वें सप्ताह के बाद होती है, लेकिन यह इससे पहले भी या शिशु को जन्म देने के बाद यह विकसित हो सकता है। गर्भावस्था के दौरान यह उच्च रक्तचाप से जुड़ी एक कंडीशन है। यह उच्च रक्तचाप, एडिमा (सूजन), और मूत्र में प्रोटीन होने की एक गंभीर जटिलता है।

गर्भावस्था के दौरान उच्च रक्तचाप आवश्यक रूप से प्रीक्लेम्पसिया का संकेत नहीं है, यह किसी और समस्या का संकेत हो सकता है। प्रीक्लेम्पसिया गर्भावस्था के कम से कम 5-8% मामलों को प्रभावित करती है।

प्रीक्लंपसिया के होने के क्या संभावित कारक हो सकते हैं?

Loading...
  • ऑटोइम्यून विकार Autoimmune disorders
  • रक्त वाहिका समस्याएं Blood vessel problems
  • आपका आहार Your diet
  • आपके जीन Your genes

प्रीक्लंपसिया (Preeclampsia) किसे हो सकता है?

निम्नलिखित से प्रीक्लेम्पसिया के विकास के जोखिम में वृद्धि हो सकती है:

  • पहली गर्भावस्था
  • पिछली गर्भावधि में उच्च रक्तचाप या प्रीक्लेम्पसिया
  • जिन महिलाओं की बहनों या माता में प्रीक्लैम्पसिया हुआ
  • गर्भ में कई बच्चे
  • 20 वर्ष से कम उम्र के और 35 वर्ष से अधिक आयु की महिलाएं
  • गर्भवती होने से पहले जिन महिलाओं को उच्च रक्तचाप या किडनी की बीमारी थी
  • जो महिलाओं मोटापे से ग्रस्त हैं या बीएमआई 30 या अधिक है

प्रीक्लेम्पसिया के लक्षण क्या हैं?

What are the symptoms of preeclampsia?

  • हल्के प्रीक्लेम्पसिया Mild preeclampsia में
  • मूत्र में प्रोटीन, उच्च रक्तचाप,
  • पानी अवधारण
  • हाथ और चेहरे या आंखों की सूजन (एडिमा)
  • एक हफ्ते में 1 से 2 दिनकरीब 1 किलोग्राम से अधिक वजन बढ़ना

गंभीर प्रीक्लंपिसिया Severe preeclampsia

सिरदर्द , धुंधली दृष्टि, तेज रौशनी में दिक्कत होना, थकान , मतली / उल्टी , थोड़ी मात्रा में पेशाब, ऊपरी दाएं पेट में दर्द, सांस की तकलीफ, और आसानी से चोट लगना । अपने चिकित्सक से तुरंत संपर्क करें यदिठीक से दिखाई नहीं दे रहा, गंभीर सिरदर्द, पेट में दर्द और / या बहुत बार-बार पेशाब हो रहा है।

  • सिरदर्द जो ठीक नहीं हो रहा
  • साँस लेने में कठिनाई
  • पसलियों के नीचे दाएं तरफ पेट दर्द
  • दायें कंधे में दर्द
  • मूत्र कम होना में, अक्सर पेशाब नहीं जाना
  • मतली और उल्टी
  • दिखाई देने में परिवर्तन, अस्थायी अंधापन सहित, चमकती रोशनी दिखना या धब्बे दिखना, प्रकाश की संवेदनशीलता, और धूमिल दृष्टि
इसे भी पढ़ें -  सिजेरियन डिलीवरी कैसे होती है और इसके खतरे क्या हैं

मुझे कैसे पता चलेगा कि मुझे प्रीक्लेम्पसिया है?

How do I know if I have preeclampsia?

डॉक्टर, हर प्रीनेटल चेकअप में रक्तचाप को नापते हैं। यदि उच्च रक्तचाप देखा जाता है तो डॉक्टर कुछ और टेस्ट के लिए कह सकते हैं। टेस्टों के आधार पर आप जान सकते हैं कि प्रीक्लैम्पसिया है या नहीं। प्रीक्लंपिसिया में निम्न लक्षण देखे जा सकते हैं:

  • उच्च रक्तचाप, जो अक्सर 140/90 मिमी / एचजी से अधिक होता है
  • हाथ और चेहरे में सूजन
  • भार बढ़ना

साथ ही कुछ सप्ताह में अंतर पर मूत्र जांच भी करवाई जाती है। रक्त और मूत्र परीक्षण दिखा सकता है:

  • मूत्र में प्रोटीन (प्रोटीनूरिया)
  • उच्चतर-सामान्य यकृत एंजाइम
  • प्लेटलेट गिनती जो कम है

प्रीक्लंपिसिया कैसे गर्भवती महिला को प्रभावित करता है?

गर्भावस्था के दौरान प्रीक्लेम्पसिया करीब 75% मामलों में मामूली होता है। हालांकि, कई मामलों में गर्भवती महिला में हल्के से गंभीर प्रीक्लंपिसिया या पूर्ण एक्लम्पसिया होने में ज्यादा समय नहीं लग सकता। प्रीक्लेम्पसिया और एक्लैप्सिया eclampsia दोनों माता और शिशु के लिए गंभीर स्वास्थ्य समस्याएं पैदा कर सकते हैं।

यदि प्रीक्लंपिसिया का इलाज जल्दी और ठीक से नहीं किया जाता है, तो यह लीवर या गुर्दे की विफलता और भविष्य में कार्डियोवास्कुलर रोगों की गंभीर जटिलताओं का कारण बन सकता है।

इससे निम्नलिखित स्थिति भी हो सकती हैं, जो जानलेवा भी बन सकती है:

एक्लम्पसिया Eclampsia: यह प्रीक्लेम्पसिया का एक गंभीर रूप है जिसमें महिला को दौरे seizures (sudden, abnormal electrical activity in the brain) आते हैं। एक्लम्पसिया होने पर से महिला चेतना खो सकती हैं और अनियंत्रित रूप से उसे झटके आ सकते हैं।

एचएलएलपी सिंड्रोम (हेमोलिसिस , एलिवेटेड लिवर एंजाइम और कम प्लेटलेट गिनती) HELLP Syndrome: यह गर्भावस्था में बाद में होने वाली स्थिति है जो लाल रक्त कोशिकाओं के टूटने को प्रभावित करती है, रक्त के थक्के और यकृत के काम को प्रभावित करती है।

 Preeclampsia से संभव जटिलताएं

  • रक्त स्राव समस्याएं Bleeding problems
  • एक्लम्पसिया Seizure (eclampsia)
  • भ्रूण विकास मंदता Fetal growth retardation
  • बच्चा का गर्भाशय नाल से हट जाना Premature separation of the placenta from the uterus before the baby is born
  • यकृत का टूटना Rupture of the liver
  • आघात Stroke
इसे भी पढ़ें -  आरएच फैक्टर Rh factor और गर्भावस्था

प्रीक्लेम्पसिया वाली महिला में किडनी, लीवर, मस्तिष्क और अन्य अंगों और रक्त प्रणालियों को नुकसान होने का रिस्क बढ़ जाता है। प्रीक्लेम्पसिया प्लेसेंटा को भी प्रभावित कर सकती है। यह टूट कर अलग हो सकता है (referred to as placental abruption)। कुछ मामलों में, प्रीक्लेम्पसिया से अंग विफलता या स्ट्रोक हो सकता है।

प्रीक्लंपिसिया से महिला में भविष्य में निम्न समस्याओं के होने का खतरा बढ़ जाता है, जैसे कि:

  • दिल की बीमारी Heart disease
  • मधुमेह Diabetes
  • गुर्दे की बीमारी Kidney disease

HELLP syndrome क्या है?

गर्भावस्था में उच्च रक्तचाप की गंभीर जटिलताओं में से एक एचएलएलपी सिंड्रोम HELLP syndrome है। इस स्थिति में प्रीक्लंपिसिया या एक्लम्पसिया वाली गर्भवती महिला में यकृत और रक्त कोशिकाओं को नुकसान पहुंचता है। HELLP नाम इन शब्दों से बना है:

  • एच – हिमोलिसिस H – (Hemolysis): जिसमें ऑक्सीजन युक्त लाल रक्त कोशिकाएं टूट जाती हैं।
  • ईएल EL (Elevated Liver enzymes): लीवर एंजाइमों का बढ़ जाना जो लीवर को नुकसान दिखाता है।
  • एल पी LP (Low Platelet count): कम प्लेटलेट, जिसका मतलब है रक्तस्राव रोकने के लिए जिम्मेदार कोशिकाएं कम हैं।

एक्लम्पसिया Eclampsia क्या है?

एक्लम्पसिया, प्रीक्लंपसिया (उच्च रक्तचाप और मूत्र में प्रोटीन) की एक गंभीर जटिलता है। यह एक दुर्लभ लेकिन गंभीर स्थिति है जिसमें महिला में दौरे (आक्षेप) शुरू हो जाते हैं। यह एक आपातकालीन स्थिति है तथा इसके लक्षण निम्नलिखित हैं:

  • दौरे Seizures
  • भयानक सरदर्द Severe headache
  • विजन की समस्याएं, जैसे अस्थायी अंधापन Vision problems, such as temporary blindness
  • पेट के दर्द, विशेषकर पेट के ऊपरी दाएं क्षेत्र में Abdominal pain, especially in the upper right area of the belly
  • मतली और उल्टी Nausea and vomiting
  • मूत्र उत्पादन या बहुत अक्सर पेशाब नहीं होना Smaller urine output or not urinating very often

एक्लेमसिया माता और बच्चे दोनों के लिए गंभीर हो सकता है और यह भी घातक भी हो सकता है। दौरे के इलाज के लिए और भविष्य में दौरे को रोकने के लिए मैग्नेशियम सल्फेट (एक प्रकार का खनिज) दिया जा सकता है।

इसे भी पढ़ें -  अनवांटेड 21 गर्भनिरोधक गोली Unwanted 21 (Birth Control Pills)

प्रीक्लंपिसिया (Preeclampsia) गर्भ में शिशु को कैसे प्रभावित करता है?

प्रीक्लेम्पसिया होने से, नाल में पर्याप्त रक्त प्राप्त रुक सकता है। यदि प्लेसेंटा को पर्याप्त रक्त नहीं मिलता है, तो बच्चे को कम ऑक्सीजन और भोजन मिलता जिससे बच्चे का वजन कम हो सकता है।

यदि प्रीक्लेम्पसिया का प्रारंभिक स्टेज में पता लगाया जाता है और नियमित देखभाल के साथ इलाज किया जाता है, तो ज्यादातर महिलाएं स्वस्थ बच्चे को जन्म देती हैं।

  • ऑक्सीजन और पोषक तत्वों की कमी, जो भ्रूण के विकास को कम कर सकती है।
  • अपरिपक्व जन्म
  • स्टिलबर्थ

जिन शिशुओं की माताओं को गर्भावस्था में प्रीक्लंपिसिया था, उनमें बाद में स्वास्थ्य समस्याओं के होने का रिस्क अधिक होता है, भले ही वे फुल टर्म (गर्भावस्था के 39 सप्ताह) में पैदा हुए हों।

प्रीक्लंपसिया की वजह से समयपूर्व जन्में शिशुओं में कुछ दीर्घकालिक स्वास्थ्य समस्याओं का ज्यादा खतरा होता है जिनमें सीखने की विकार, सेरेब्रल पाल्सी, मिर्गी, बहरापन और अंधापन भी शामिल है। जिन बच्चों को गर्भाशय में कम वृद्धि हुई है, उन्हें बाद में मधुमेह , हृदय रोग की विफलता और उच्च रक्तचाप का खतरा अधिक हो सकता है।

प्रीक्लैम्पसिया किन अंगों को प्रभावित करता है?

प्रीक्लैम्पसिया में रक्त वाहिकायें सिकुड़ जाती हैं जिसके परिणामस्वरूप उच्च रक्तचाप और कम रक्त प्रवाह होता है। यह लिवर, किडनी और मस्तिष्क को प्रभावित कर सकता है। इससे गर्भस्थ शिशु भी प्रभावित हो जाता है।

प्रीक्लैम्पसिया का निदान Diagnosis कैसे किया जाता है?

गर्भावस्था में उच्च रक्तचाप होने का मतलब प्रीक्लैम्पसिया नहीं है। गर्भावस्था में 140/90 मिमी एचजी से अधिक रक्तचाप होना असामान्य है।

प्रीक्लैम्पसिया होने के लिए गर्भावस्था के 20 वें सप्ताह के बाद उच्च रक्तचाप के साथ निम्नलिखित जटिलताओं में से एक या अधिक का होना चाहिए:

  • मूत्र (प्रोटीनूरिया) में प्रोटीन proteinuria
  • कम प्लेटलेट गिनती low platelet count
  • लिवर ठीक काम नहीं करना Impaired liver function
  • मूत्र में प्रोटीन के अलावा किडनी से सही नहीं काम करने के संकेत Signs of kidney trouble other than protein in the urine
  • फेफड़े में द्रव (फेफड़े के एडिमा) Fluid in the lungs
  • सिरदर्द या ठीक से नहीं दिखाई देना headaches or visual disturbances
इसे भी पढ़ें -  गर्भावस्था में टीकाकरण Pregnancy and Vaccination

निम्न टेस्ट की आवश्यकता हो सकती है:

रक्त परीक्षण Blood tests

डॉक्टर ब्लड टेस्ट, लिवर फ़ंक्शन टेस्ट, किडनी फ़ंक्शन टेस्ट और प्लेटलेट्स को मापने का टेस्ट कह सकते हैं। प्लेटलेट्स वे कोशिकाएं है जो रक्त का थक्का बनाने में मदद करती हैं।

मूत्र विश्लेषण Urine analysis

मूत्र में प्रोटीन की मात्रा के मापने के लिए डॉक्टर 24 घंटे के मूत्र को इकट्ठा करने के लिए कह सकते हैं। एक एकल मूत्र का नमूना जो कि प्रोटीन के क्रिएटिनिन के अनुपात को मापता है, का भी इस्तेमाल किया जा सकता है।

अल्ट्रासाउंड Fetal ultrasound

  • अल्ट्रासाउंड के माध्यम से डॉक्टर भी बच्चे के विकास की बारीकी से निगरानी की सिफारिश कर सकता है।
  • अल्ट्रासाउंड से डॉक्टर को भ्रूण के वजन और गर्भाशय में द्रव की मात्रा (एम्नियोटिक द्रव) का अनुमान लगाने में मदद हो सकती है।

नॉनस्ट्रेस टेस्ट या बायोफिजिकल प्रोफाइल Nonstress test or biophysical profile

नॉनस्ट्रेस टेस्ट एक सरल प्रक्रिया है जो यह जांचता है कि बच्चा जब हिलता है तो बच्चे का हार्ट रेट कैसे बदलता है।

बायोफिजिकल प्रोफाइल, अल्ट्रासाउंड की मदद से बच्चे के श्वास, मांसपेशियों की टोन, मूवमेंट और आपके गर्भाशय में अम्नीओटिक द्रव की मात्रा को मापने के लिए प्रयोग किया जा सकता है।

प्रीक्लैम्पसिया (Preeclampsia) का इलाज क्या है?

प्रीक्लैम्पसिया में रक्तचाप बढ़ा हुआ होता है जिससे दौरे, प्लेसेंटा अलग होना, स्ट्रोक और संभवतः गंभीर ब्लीडिंग होने का खतरा बढ़ जाता है।

प्रीक्लैम्पसिया का उपचार इस बात पर निर्भर करता है कि आप एक्सपेक्टेड डेलिवेरी डेट के कितने करीब हैं। यदि एक्सपेक्टेड डेलिवेरी डेट के आस-पास हैं, और बच्चा विकसित है, तो संभव है कि डॉक्टर जल्द से जल्द प्रसव करवा दें।

प्रीक्लैम्पसिया  (Preeclampsia) का एकमात्र इलाज डिलीवरी/प्रसव कराना है। 37 सप्ताह में, बच्चे में गर्भ के बाहर स्वस्थ रहने के लिए पर्याप्त रूप से विकास हो चुका होता है।

अगर गर्भावस्था में प्रीक्लैम्पसिया बहुत जल्दी हो गया हो तब डिलीवरी का विकल्प ठीक नहीं हैं। ऐसे में संभवतः डॉक्टर आपको जांच के लिए नार्मल गर्भावस्था की तुलना में अधिक बार प्रीनेटल परीक्षण के लिए बुलाते हैं। वे अधिक बार रक्त परीक्षण, अल्ट्रासाउंड और नॉनस्ट्रेस टेस्ट को कह सकते हैं।

इसे भी पढ़ें -  गर्भावस्था में बहुत ज्यादा लगातार उल्टी होना | Hyperemesis gravidarum

हल्के प्रीक्लेम्पसिया में जब बच्चा पूर्ण विकसित नहीं है, तो डॉक्टर संभवत: आपको निम्नलिखित काम करने की सलाह देगा:

  • आराम करें। अपने लेफ्ट साइड पर लेतें जिससे मुख्य रक्त वाहिकायें बच्चे के वज़न से नहीं दबें।
  • डॉक्टर को नियमित दिखाते रहें।
  • कम नमक खाएं।
  • कम से कम 8 गिलास पानी एक दिन में पियें।
  • अपने आहार में अधिक प्रोटीन शामिल करें।

गंभीर प्रीक्लेम्पसिया  (Preeclampsia) में डॉक्टर रक्तचाप की दवा के साथ इलाज करने की कोशिश कर सकता है। कभी-कभी, प्रीक्लेम्पसिया वाली गर्भवती महिला को अस्पताल में भर्ती कराया जाता है जिससे डॉक्टर, गर्भस्थ बच्चे और महिला को ऑब्जरवेशन में रख सकें।

  • अस्पताल में उपचार शामिल हो सकते हैं:
  • गर्भस्थ बच्चे और महिला को क्लोज ऑब्जरवेशन में रखना।
  • रक्तचाप को नियंत्रित करने और दौरे वअन्य जटिलताओं को रोकने के लिए दवाएं देना।
  • शिशु के फेफड़ों के विकास में तेजी लाने के लिए 34 सप्ताह से कम की गर्भावस्था में स्टेरॉयड इंजेक्शन लगाना।

प्रीक्लैम्पसिया (Preeclampsia) के लिए दवाएं Medications कौन सी हैं?

प्रीक्लैम्पसिया के संभावित इलाज में शामिल हो सकते हैं:

यदि रक्तचाप खतरनाक रूप से उच्च होता है, तो इस को कम करने के लिए एंटीहाइपरटेन्सिव दवाएं दी जा सकती हैं। 140/90 मिलीमीटर ऑफ़ मर्करी (मिमी एचजी) के रक्तचाप का आमतौर पर इलाज नहीं किया जाता है।

हालांकि कई विभिन्न प्रकार के एंटीहाइपरेटिव दवाएं हैं, उनमें से कई गर्भावस्था के दौरान उपयोग करने के लिए सुरक्षित नहीं हैं। अपने चिकित्सक से चर्चा करें कि क्या आपको अपने रक्तचाप को नियंत्रित करने के लिए अपनी स्थिति में एक एंटीहाइपरेटिव दवा का उपयोग करना होगा।

कॉर्टिकॉस्टेरॉइड Corticosteroids

गंभीर प्रीक्लेम्पसिया या एचएलएलपी सिंड्रोम HELLP syndrome में कॉर्टिकॉस्टेरॉइड दवाएं अस्थायी रूप से गर्भावस्था की अवधि बढ़ाने में, यकृत और प्लेटलेट फ़ंक्शन में सुधार सकती हैं।

कॉर्टिकॉस्टेरॉइड, अजन्मे बच्चे के फेफड़ों को 48 घंटों के समय में ही परिपक्व बना सकते हैं जिससे गर्भ के बाहर उसे सांस लेने में परेशानी नहीं हो।

इसे भी पढ़ें -  प्रेगनेंसी में  टेटनस टोक्सॉयड (टीटी) टेटनस के टीके क्यों और कब लगते हैं

एंटीकनवाल्स्लेट Anticonvulsant दवाएं

गंभीर प्रीक्लेम्पसिया में डॉक्टर मैग्नीशियम सल्फेट जैसे एंटीकॉल्लेसंट दवा दे सकते हैं ।

क्या प्रीक्लैम्पसिया में बेडरेस्ट Bed rest करना चाहिए?

प्रीक्लेम्पसिया में गर्भवती महिलाओं को अक्सर बेडरेस्ट की सिफारिश की जाती है लेकिन अनुसंधान ने इससे कोई लाभ नहीं दिखाया है।

इससे ब्लड क्लॉट/ रक्त के थक्कों के जोखिम बढ़ सकते है। साथ इससे आर्थिक और सामाजिक जीवन प्रभावित हो सकता है। अब ज्यादातर महिलाओं को बिस्तर लगातार लेट कर आराम करने की सिफारिश नहीं की जाती है।

क्या प्रीक्लैम्पसिया (Preeclampsia) में अस्पताल में भर्ती होना पड़ सकता है?

गंभीर प्रीक्लेम्पसिया में अस्पताल में भर्ती कराया जाना ज़रूरी हो सकता है। अस्पताल में, बच्चे का नियमित रूप से नॉनस्ट्रेस टेस्ट या बायोफिजिकल प्रोफाइल किया जा सकता है और अम्मोनियोटिक द्रव की मात्रामापी जा सकती है। एम्नियोटिक द्रव की कमी बच्चे को खराब रक्त की आपूर्ति का संकेत है।

प्रसूति Delivery

 यदि गर्भावस्था पूरे होने के आस-पास प्रीक्लेम्पसिया हुआ हो, तो डॉक्टर तुरंत लेबर शुरू कराने की सिफारिश कर सकता है। गर्भाशय ग्रीवा / सर्विक्स, की स्थिति, यह निर्धारित करने में एक कारक हो सकती है कि लेबर को प्रेरित किया जाएगा या नहीं।

गंभीर मामलों में, गर्भाशय ग्रीवा की स्थिति पर विचार करना संभव नहीं है। यदि इंतजार करना संभव नहीं है, तो डॉक्टर लेबर को प्रेरित कर सकता है या सी-सेक्शनकिया जा सकता है। प्रसव के दौरान, गर्भवती महिला को सीज़र रोकने के लिए मैग्नीशियम सल्फेट नसों intravenously में दिया जा सकता है।

निम्न स्थितियों में तुरंत डेलिवेरी करवानी चाहिए:

टेस्ट दिखा रहे हैं कि बच्चे की बढ़वार नहीं हो रही और उसे पर्याप्त रक्त और ऑक्सीजन नहीं मिल रही है।

लगातार 24 घंटे तक, रक्तचाप की नीचे की संख्या 110 एमएमएचजी या इससे अधिक है।

  • लिवर फंक्शन टेस्ट से पता चल रहा है लिवर ठीक से काम नहीं कर रहा।
  • गंभीर सिरदर्द
  • पेट में दर्द
  • मानसिक कार्य में बदलाव ( (eclampsia)
  • मां के फेफड़ों में फ्लूइड बिल्डअप
  • एचएलएलपी सिंड्रोम HELLP syndrome
  • कम प्लेटलेट गिनती या रक्तस्राव
  • कम मूत्र उत्पादन, मूत्र में बहुत से प्रोटीन, और अन्य लक्षण जो कि दिखा रहे हों कि गुर्दे ठीक से काम नहीं कर रहे हैं।
इसे भी पढ़ें -  पोस्ट टर्म गर्भावस्था : कारण | Post-term Pregnancy

यदि आपको प्रसव के बाद दर्द निवारक दवा चाहिए, तो डॉक्टर से पूछें कि आपको क्या लेना चाहिए। एनआईएसएड्स, जैसे कि इबुप्रोफेन (एडिविल, मॉट्रिन आईबी, अन्य) और नैरोरोक्सन सोडियम (एलेव), आपके रक्तचाप को बढ़ा सकते हैं।

प्रीक्लैम्पसिया (Preeclampsia) को कैसे रोक सकते हैं? इससे बच कैसे सकते हैं? इसके लिए प्रिवेंटिव स्टेप्स क्या हैं?

वर्तमान में, प्रीक्लेम्पसिया को रोकने के लिए कोई निश्चित तरीका नहीं है। उच्च रक्तचाप के लिए जिम्मेदार कारकों को नियंत्रित किया जा सकता है।

  • आहार और व्यायाम के द्वारा रक्तचाप नियंत्रित कर सकते हैं।
  • भोजन में कम नमक डालें। कोई अतिरिक्त नमक का उपयोग नहीं करें। चिप्स, नमकीन, इनो साल्ट, आदि का इस्तेमाल करने से बचें।
  • एक दिन में पानी के 6-8 गिलास पिएं।
  • बहुत सारे तले हुए खाद्य पदार्थ और जंक फूड नहीं खाएं।
  • पर्याप्त आराम प्राप्त करें।
  • नियमित रूप से व्यायाम करें।
  • शराब, कैफीन युक्त पेय पदार्थों, कोल्ड ड्रिंक्स नहीं पिएं।

प्रीक्लेम्पसिया को रोकने के लिए कोई ज्ञात तरीका नहीं है। सभी गर्भवती महिलाओं के लिए जन्मपूर्व देखभाल महत्वपूर्ण है। प्रीक्लैम्पसिया के लक्षण अक्सर प्रसव के 6 सप्ताह के भीतर ठीक हो जाते हैं। हालांकि, डिलीवरी के पहले कुछ दिनों में उच्च रक्तचाप कभी-कभी आधिक हो जाता है। कम सामान्यतः, प्रीक्लेम्पसिया वाली माताओं को उनके अंगों, जैसे कि गुर्दे और यकृत को स्थायी क्षति हो सकती है। वे फेफड़े में द्रव का अनुभव भी कर सकती हैं।

यदि पहले की प्रेगनेंसी में प्रीक्लेम्पसिया है, तो आगे होने वाली गर्भावस्था के दौरान यह फिर से हो सकता है। ज्यादातर मामलों में, यह पहली बार जितना गंभीर नहीं होता। यदि गर्भावस्था के दौरान उच्च रक्तचाप है, तो आपको आगे भी उच्च रक्तचाप होने की अधिक संभावना है। अध्ययनों से पता चला है कि प्रीक्लेम्पसिया वाले महिलाओं को उच्च रक्तचाप विकसित करने की चार गुना ज्यादा संभावना होती है और बाद में हृदय रोग (दिल की मांसपेशियों को कम रक्त की आपूर्ति, जो दिल के दौरे का कारण बन सकता है) , नस में खून का थक्का, और स्ट्रोक आदि के रिस्क भी अधिक होते हैं।

इसे भी पढ़ें -  आई पिल I-pill 72 hour pill, Uses, Side Effects and Price

Toxemia, Pregnancy-induced hypertension (PIH), Gestational hypertension, High blood pressure – preeclampsia, refers to spectrum of high blood pressure, or hypertensive, disorders that can occur during pregnancy along with other mild or severe symptoms indicating impaired liver and kidney function.

Preeclampsia includes blood pressure at or greater than 140/90 mmHg, increased swelling, and protein in the urine. This condition is serious and can result in preterm birth (before 37 weeks of pregnancy). If it is severe enough to affect brain function, causing seizures or coma, it is called eclampsia.

Eclampsia can be defined as a condition in which one or more convulsions occur in a pregnant woman suffering from high blood pressure, often followed by coma and posing a threat to the health of mother and baby.

Eclampsia requires immediate treatment, in a hospital to stop the seizures, treat blood pressure levels that are too high, and deliver the fetus. Magnesium sulfate (a type of mineral) may be given to treat active seizures and prevent future seizures. Antihypertensive medications may be given to lower the blood pressure.

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.