क्या गर्भावस्था में पीरियड्स होते हैं

प्रेगनेंसी में पीरियड्स कभी नहीं हो सकते हैं, अगर किसी को प्रेगनेंसी में खून आ रहा है तो उसका कारण दूसरा होगा, जानने के लिए पढ़िए।

पीरियड्स Menstruation, period, मासिक, ऍमसी, मासिक धर्म, ऋतुस्राव आदि फीमेल्स में प्यूबर्टी के बाद हर महीने योनि से होनी वाली ब्लीडिंग को कहते हैं। यह ब्लीडिंग पूरी तरह से नार्मल है और इसके होने का मतलब है प्रजनन अंग सही से काम कर रहे हैं फंक्शनल हैं। लड़की में एक बार पीरियड्स शुरू होने के बाद, असुरक्षित यौन सम्बन्ध बनाने पर बच्चा ठहर जाता है, लेकिन गर्भावस्था में पीरियड्स बंद हो जाते हैं। कई बार तो ऐसा केवल एक ही बार बनाए गए शरीरिक सम्बन्ध से भी हो सकता है।

मासिक धर्म में हर महीने 4-5 दिन योनि से ब्लीडिंग होती है। यह ब्लीडिंग गर्भाशय की लाइनिंग के टूटने से होती है। स्त्री में ओवरी में सैकड़ों की संख्या में अंडे / ओवा होते हैं। 21-40 दिन के अंतराल पर  एक अंडा अंडाशय द्वारा निकाला जाता है। यह ओवा फैलोपियन ट्यूब में पहुंचता है। फैलोपियन ट्यूब में यदि इसे स्पर्म मिल जाता है तो यह निषेचित होकर गर्भाशय में चला जाता है।

गर्भाशय में फ़र्टिलाइज्ड एग इम्प्लांट हो जाता है और प्लेसेंटा के द्वारा ह्यूमन कोरिओनिक गोनेडोट्रोपिन  human chorionic gonadotropin hCG बनाया जाने लगता है। ह्यूमन कोरिओनिक गोनेडोट्रोपिन, अंडाशय के एलएचसीजी रिसेप्टर के साथ संपर्क करता है और गर्भावस्था की शुरुआत के दौरान कॉर्पस ल्यूटियम corpus luteum के रखरखाव को बढ़ावा देता है। इससे कॉर्पस लिट्यूम से पहली तिमाही के दौरान हार्मोन प्रोजेस्टेरोन को अधिक स्राव होने लगता है। प्रोजेस्टेरोन रक्त वाहिकाओं और केशिकाओं की एक मोटी परत के साथ गर्भाशय को समृद्ध करता है जिससे कि वह बढ़ते भ्रूण को बनाए रख सके।

एक तरफ, ओवा फैलोपियन ट्यूब में जाता है और दूसरी तरफ हार्मोन एस्ट्रोजेन और प्रोजेस्टेरोन के असर से गर्भाशय लाइनिंग टूटती  नहीं और मोटी होने लगती है जिससे निषेचित ओवा इसमें इम्प्लांट हो सके और सेल्स के विभाजन के साथ बच्चे की संरचना शुरू की जा सके।

इसे भी पढ़ें -  गर्भावस्था में कमर दर्द और पीठ दर्द का इलाज

यदि निषेचन नहीं होता है, तो गर्भाशय की इस लाइनिंग की कोई आवश्यकता नहीं है क्योंकि वहाँ पोषण और रक्षा करने के लिए कोई भ्रूण नहीं है। प्रोजेस्टेरोन का स्तर गिरने लगता है और गर्भाशय में कुशन वाले रक्त वाहिनियों की लाइनिंग टूट जाती है और योनि से मासिक धर्म के स्राव की तरह बाहर कर दी जाती है।

इस तरह आप देखें तो हर महीने होने वाले पीरियड, प्रेगनेंसी की तैयारी हैं। यदि प्रेगनेंसी होगी तो लाइनिंग नहीं टूटेगी और शिशु का विकास होगा। यदि प्रेगनेंसी नहीं हुई तो पीरियड आ जाएगा। प्रेगनेंसी होने का सबसे सटीक लक्षण पीरियड्स का न होना ही है। इसी के बाद प्रेगनेंसी डिटेक्शन कार्ड में मूत्र की कुछ बूंदे डाल कर प्रेगनेंसी को कन्फर्म कर लेते हैं।

तो इस प्रश्न ‘क्या गर्भावस्था में पीरियड्स होते हैं’ का उत्तर है नहीं, गर्भावस्था में पीरियड नहीं होते। आप को गर्भावस्था और पीरियड एक साथ नहीं हो सकते। या तो पीरियड्स होंगे या प्रेगनेंसी होगी।

 कुछ मामलों में गर्भावस्था के दौरन योनि से खून जाने की समस्या या स्पोटिंग हो सकती है। लेकिन यह पूरी तरह से अलग कारणों से होता है। योनि से होने वाली ब्लीडिंग का हमेशा मतलब पीरियड नहीं होता। कई बार प्रेगनेंसी में भी ब्लीडिंग होती है लेकिन उसके होने के कारण अलग होते हैं और गर्भावस्था में पीरियड्स होते नहीं होते हैं।

शुरू के तीन महीने में ब्लीडिंग होना कॉमन है। करीब 25 से 30 % महिलाओं में ऐसा देखा जाता है। कई बार यह ब्लीडिंग महीने भर या उससे ज्यादा भी हो सकती है। लेकिन इसका मतलब यह नहीं है की यह पीरियड वाली ब्लीडिंग है। यह पीरियड्स नहीं हैं लेकिन इसके कारण निम्न में से कोई हो सकता है:

इसे भी पढ़ें -  प्रेगा न्यूज़ - प्रेगनेंसी पता लगाने के लिए

बाद के 6 महीने में ब्लीडिंग निम्न कारणों से हो सकती है:

  • गर्भपात होना
  • गर्भाशय पर बाहर से आघात आदि।
  • गर्भाशय मे चोट
  • प्लेसेंटा का टूट जाना
  • सर्विक्स का खुल जाना

पूरी प्रेगनेंसी में अलग-अलग कारणों से ब्लीडिंग हो सकती है जो साधारण कारण से भी हो सकती है और गंभीर कारण से भी। लेकिन यह ब्लीडिंग पीरियड नहीं है क्यों की गर्भावस्था में पीरियड्स होते ही नहीं हैं। इसके होने का कारण कुछ असामान्यता है न कि प्राकृतिक कारण। प्रेगनेंसी में गर्भाशय से स्राव शिशु के विकास के लिए ठीक नहीं है। यदि कभी भी प्रेगनेंसी में योनि से असामान्य डिस्चार्ज हो तो तुरंत डॉक्टर को दिखा कर इसके होने के कारण का पता किया जाना चाहिए और जो उपचार उपलब्ध हो डॉक्टर के निर्देशानुसार करवा लेने चाहिए।

Loading...

5 Comments

  1. Mam mera periods 14 August ko aya thaa September me date badh gai kit sw chek kiya positive h Lekin 10 Din bad hamne sex kiya uske doran blooding hui din 4 bar Ho Jata h Koi khatra to nhi h

  2. Mam maine apni gf ke sath sex kiya tha uske periods ane ke 1 din pehle aur ab uske periods start naj hue abhi tak aur maine protection bhi use kiya tha kya app bata sakti hai ki aisa kyon ho raha hai haar month usse periods 18 ya 19 ko ajate the but iss baar uss date ko nai ho rahe

  3. Maam ye bataye ki period ke dauran bina protection ke sex karne se pregnancy ki kitni chanses hoti hai

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.