आरएच फैक्टर Rh factor और गर्भावस्था

जानिये आरएच फैक्टर (कारक) क्या है rh factor in hindi और यह गर्भावस्था में क्या असर डालता है, आरएच नकारात्मक मां दूसरी गर्भावस्था में क्या असर डालता है? हिंदी में गर्भावस्था में आरएच फैक्टर, आर एच फैक्टर नाम का आधार रिसिस बंदर है।

इंसानों में ब्लड ग्रुप और आरएच फैक्टर (आरएच कारक) का पता ऑस्ट्रिया के वैज्ञानिक कार्ल लैंडस्टीनर ने लगाया था। कार्ल लैंडस्टीनर (karl landsteiner) को रक्‍त समूह (Blood group) का जनक माना जाता है। लैंडस्टीनर ने 1901 में ब्लड के अलग-अलग ग्रुप की खोज की। एबीओ सिस्टम के अनुसार, ग्रुप ए जिस पर antigen A है, बी जिस पर antigen B है, एबी जिसमें दोनों एंटीजन ए और बी है और ओ ग्रुप जिस पर कोई एंटीजन नहीं है।

लैंडस्टीनर ने रिसिस बंदर के खून में एक विशेष प्रकार के प्रोटीन की खोज की जिसे Rh फैक्टर (आरएच कारक) कहा जाता है। यह करीब 85 % लोगों में होता है। आरएच फैक्टर (रीसस ), लाल रक्त कोशिकाओं red blood cells की सतह पर पाया जाने वाला एक प्रोटीन है। यदि आपके रक्त में यह प्रोटीन है, तो आप आरएच पॉजिटिव Rh positive हैं। यदि आपके रक्त में प्रोटीन नहीं है, तो आप आरएच नेगेटिव Rh negative हैं। इसी के आधार पर आप का खून + या – होता है, जैसे A+, A-, B+, B-, Ab+, Ab-, O+ और O -। आरएच पॉजिटिव होना कॉमन है। ज्यादातर लोगों का ब्लड ग्रुप पॉजिटिव होता है। आरएच नेगेटिव कम लोगों में देखा जाता है।

आरएच नेगेटिव होना कोई बीमारी नहीं होती है और यह आपके स्वास्थ्य को प्रभावित नहीं करता है। लकिन गर्भवती महिला के आरएच नेगेटिव होने पर यह गर्भधारण को प्रभावित कर सकता है। यदि महिला आरएच नेगेटिव हो और बच्चे के पिता आरएच पॉजिटिव हैं तो गर्भधारण में विशेष देखभाल की आवश्यकता होती है।

आरएच फैक्टर टेस्ट (RH Factor Test), गर्भवती महिला के आरएच फैक्टर की पहचान करने के लिए किया जाता है। कुछ मामलों में, बच्चे के पिता को भी एक आरएच कारक टेस्ट की आवश्यकता हो सकती है। गर्भावस्था के दौरान, यदि महिला आरएच नेगेटिव हो लेकिन शिशु आरएच पॉजिटिव है तो दिक्कतें हो सकती हैं।

  • यदि महिला Rh + और पुरुष Rh +, कोई दिक्कत नहीं।
  • यदि महिला Rh – और पुरुष Rh – , कोई दिक्कत नहीं।
  • यदि महिला Rh + और पुरुष Rh – , कोई दिक्कत नहीं।  
  • यदि महिला Rh – और पुरुष Rh +, है तो बच्चा Rh + या – हो सकता है, और इसलिए महिला को Rh immune globulin injections लगवाना चाहिए।

आरएच कारक क्या है?

What is the Rh factor?

इसे भी पढ़ें -  ए केयर किट की जानकारी A Kare Kit in Hindi

एबीओ ब्लड सिस्टम, में खून के ब्लड टाइप्स A, B, AB, और O हैं। ब्लड टाइप्स के अलावा खून में रीसस या आरएच Rhesus or Rh factor भी होता है जिसेक अनुसार खून को पॉजिटिव या नेगेटिव कहा जाता है।

रीसस ( आरएच फैक्टर) लाल रक्त कोशिकाओं की सतह पर पाया जाने वाला एक प्रोटीन है। यदि खून में प्रोटीन है, तो ब्लड आरएच पॉजिटिव हैं नहीं तो ब्लड आरएच नेगेटिव है।

आरएच कारक माता-पिता के जीनों के माध्यम से अपने बच्चों को मिलता है। यदि मां आरएच – है और पिता आरएच + है, तो भ्रूण आरएच पॉजिटिव या आरएच नेगेटिव हो सकता है। यदि माता और पिता दोनों आरएच – हैं, तो बच्चे भी आरएच – होंगे।

क्या आरएच कारक गर्भावस्था के दौरान समस्याएं पैदा कर सकता है?

Loading...

आरएच कारक समस्या पैदा कर सकता है यदि महिला आरएच नेगेटिव हैं और भ्रूण आरएच पॉजिटिव हैं। इसे आरएच असंगति Rh incompatibility कहा जाता है। समस्याएं आमतौर पर पहली गर्भावस्था में नहीं होती हैं, लेकिन ये बाद में होने वाली गर्भावस्था में हो सकती हैं।

यदि आप का आरएच फैक्टर नेगेटिव हैं और आपका बच्चा आरएच पॉजिटिव हो सकता है तो ऐसी किसी भी स्थिति जिसमें रक्त आपस में संपर्क में आ सकता है, इंजेक्शन लगवाना ज़रूरी हो जाता है। उदाहरण के लिए:

गर्भावस्था के दौरान आरएच फैक्टर की असंगति Rh incompatibility होने पर क्या होता है?

जब आरएच-नेगेटिव मां का खून उसके आरएच पॉजिटिव गर्भ के रक्त के संपर्क में आ जाता है, तो आरएच-नेगेटिव माँ के रक्त में शिशु के रक्त के खिलाफ एंटीबॉडी बनने लगते है।

ये एंटीबॉडी आरएच कारक पर हमला करते हैं। आरएच-नेगेटिव खून वाला व्यक्ति जो आरआर एंटीबॉडी बनाता है उसे आरएच संवेदीकृत Rh sensitized कहा जाता है।

आरएच संवेदीकरण Rh sensitization गर्भावस्था के दौरान कैसे हो सकता है?

इसे भी पढ़ें -  7 गर्भावस्था में होने वाली जटिलतायें Common complications of pregnancy

गर्भवती महिला का रक्त और गर्भस्थ शिशु का रक्त आपस में नहीं मिलता लेकिन प्रसव या गर्भावस्था के किसी समय के दौरान, बच्चे के खून की छोटी मात्रा महिला के रक्त के संपर्क में आ सकती है। निम्नलिखित स्थितियों में महिला और बच्चे का रक्त संपर्क में आ सकता है:

  • अमिनोसेंटीसिस Amniocentesis
  • कोरियोनिक विलस सैंपलिंग Chorionic villus sampling (CVS)
  • गर्भावस्था के दौरान रक्त स्राव Bleeding during pregnancy
  • प्रसव के दौरान बच्चे को मैनुअल रोटेशन देना Manual rotation of a baby in a breech presentation before labor
  • गर्भावस्था के दौरान पेट के लिए ब्लंट पर आघात Blunt trauma to the abdomen during pregnancy

यदि महिला का आरएच फैक्टर पॉजिटिव हैं, तो चिंता का विषय नहीं है। लेकिन यदि महिला आरएच नेगेटिव हैं और बच्चा आरएच पॉजिटिव है खून के आपस में संपर्क होने पर महिला के शरीर में एंटीबॉडी Rh antibodies प्रोटीन बन सकती हैं। पहली प्रेगनेंसी में यह एंटीबॉडी समस्या नहीं है लेकिन अगली गर्भावस्था में यदि अगला बच्चा आरएच पॉजिटिव है, तो आपका शरीर Rh antibodies एंटीबॉडी का उत्पादन करेगा जो प्लेसेंटा को पार कर सकते हैं और बच्चे के लाल रक्त कोशिकाओं को नुकसान पहुंचा सकते हैं।

आरएच-संवेदीकृत महिला से एंटीबॉडी प्लेसेंटा को पार करते हुए और आरएच पॉजिटिव गर्भ के रक्त पर हमला करते हैं। एंटीबॉडी भ्रूण की लाल रक्त कोशिकाओं में से कुछ को नष्ट कर देते हैं। यह हेमोलाइटिक एनीमिया का कारण बनता है , जहां लाल रक्त कोशिकाओं को तेजी से नष्ट कर दिया जाता है, शरीर में उनके बनने की तुलना में।

लाल रक्त कोशिकाओं शरीर में ऑक्सीजन ले जाती हैं। पर्याप्त लाल रक्त कोशिकाओं के बिना, भ्रूण को पर्याप्त ऑक्सीजन नहीं मिलेगा। हेमोलिटिक एनीमिया गंभीर बीमारी का कारण बन सकता है गंभीर हेमोलीटिक एनीमिया भी भ्रूण के लिए घातक हो सकता है।

यदि इस स्थिति को रोका नहीं जाता है, तो आपकी अगली हर गर्भावस्था में प्रत्येक आरएच पॉजिटिव बच्चे को गंभीर एनीमिया हो सकता है।

इसे भी पढ़ें -  कोडीन (Codeine) खांसी की दवाऔर गर्भावस्था

क्या आरएच संवेदनशीलता Rh sensitization को रोका जा सकता है?

हाँ। यदि आप आरएच नेगेटिव हैं, तो आपको एक रक्त परीक्षण – एंटीबॉडी स्क्रीन की आवश्यकता हो सकती है। यह एंटीबॉडी स्क्रीन टेस्ट पहली तिमाही और 28 सप्ताह के दौरान किया जाता है। एंटीबॉडी स्क्रीन को आरएच पॉजिटिव रक्त में एंटीबॉडी का पता लगाने के लिए उपयोग किया जाता है।

यदि आप आरएच नेगेटिव हैं, तो आपको आरएच इम्युनोग्लोब्युलिन (आरआईआईजी) Rh immunoglobulin (RhIg) का एक इंजेक्शन दिया जाएगा ।

यह रक्त दान से बनाया गया एक इंजेक्शन और जब इसे गैर-संवेदनशील आरएच नेगेटिव व्यक्ति nonsensitized Rh-negative (आरएच एंटीबॉडी नहीं है) को दिया जाता है तो यह रक्त में आरएच पॉजिटिव कोशिकाओं को एंटीबॉडी के उत्पादन करने से रोकता है।

जब एक आरएच फैक्टर नेगेटिव महिला को यह इंजेक्शन दिया जाता है जिसमें अभी तक आरएच फैक्टर के खिलाफ एंटीबॉडी नहीं बनी है, तो RhIg बाद में होने वाली गर्भावस्था में भ्रूण के हेमोलिटिक एनीमिया को रोक देता है।

क्या इंजेक्शन Rh immune globulin (RhIg), एंटीबाडी बन चुके हो तो भी फायदा करेगा?

नहीं।

यदि एंटीबॉडी स्क्रीन से पता चलता है कि शरीर में एंटीबॉडी बन चुके हैं, तो आरएच प्रतिरक्षा ग्लोब्युलिन Rh immune globulin का इंजेक्शन लगाने का फायदा नहीं है। ऐसे में बच्चे को मॉनिटर किया जाता है। यदि आवश्यक हो, तो उसे गर्भावस्था में ही या प्रसव के तुरंत बाद गर्भनाल के माध्यम से खून चढ़ाया जा सकता है।

गर्भवती महिला को आरएच इम्यून ग्लोब्युलिन इंजेक्शन Rh immune globulin (RhIg) कब लगाते हैं?

निम्नलिखित स्थितियों में आरएच नेगेटिव महिलाओं को RhIg दिया जाता है:

  • गर्भावस्था के 28 वें सप्ताह के आसपास
  • आरएच पॉजिटिव शिशु होने के 72 घंटों के भीतर
  • एबॉर्शन, मिसकैरिज, या एक्टोपिक गर्भावस्था के बाद
  • अमीनोसेंटिस या कोरियोनिक विल्मस नमूनाकरण के बाद

यदि आपका बच्चा आरएच नेगेटिव पैदा हुआ है, तो कोई अतिरिक्त उपचार की आवश्यकता नहीं है। यदि आपका बच्चा आरएच पॉजिटिव होता है, तो आपको डिलीवरी के तुरंत बाद एक और इंजेक्शन की आवश्यकता होगी।

इसे भी पढ़ें -  सेविस्टा टैबलेट गर्भनिरोधक गोली की जानकारी

एबॉर्शन, मिसकैरिज या अस्थानिक गर्भावस्था के बाद भी महिला में एंटीबॉडी विकसित हो सकती हैं । यदि इन घटनाओं में से किसी एक के हो जाने के आरएच-नेगेटिव महिला फिर गर्भवती हो जाती है, और भ्रूण आरएच पॉजिटिव है, तो खतरा हो सकता है। इसलिए इन मामलों में भी इंजेक्शन की ज़रूरत होगी।

यदि महिला का ब्लड ग्रुप नेगेटिव है और उसके पति का पॉजिटिव तो उसे शुरू से स्त्री रोग विशेषज्ञ को दिखाते रहना चाहिए, जिससे समय पर इंजेक्शन लग सकें और गर्भावस्था तथा प्रसव के दौरान कोई दिक्कत नहीं हो।

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.