नेचुरल फैमिली प्लानिंग – बच्चा ठहरने के चांस कब ज्यादा होते हैं

जानिये कुछ नेचुरल फैमिली प्लानिंग तरीको के बारे में, क्या ये तरीके गर्भनिरोधन के सही तरीके हैं। नेचुरल फैमिली प्लानिंग या गर्भनिरोधन के तरीके की इफेक्टिवनेस कपल पर निर्भर करती है। गर्भावस्था का जोखिम सबसे बड़ा तब होता है जब कपल किसी अन्य विधि का उपयोग किए बिना फर्टाइल दिनों में सेक्स करते हैं।

महीने के दौरान कुछ दिन बच्चा ठहरने के चांस बहुत ज्यादा होते हैं और कुछ दिन ऐसे होते हैं जब बच्चा ठहरने के आसार न के बराबर होते हैं। अगर किसी को अपनी फर्टिलिटी के बारे में जागरूकता है तो वह नेचुरल फैमिली प्लानिंग को गर्भ ठहरने या नहीं ठहरने के लिए इस्तेमाल कर सकता है। यह जानकारी पुरुष या महिला दोनों के लिए ही महत्वपूर्ण है। परिवार नियोजन के लिए यह जानकारी होना लाभप्रद है।

पुरुषों में पूरे महीने प्रजनन क्षमता में कोई बदलाव नहीं आता लेकिन महिला में मासिक की पूरी अवधि के दौरान कभी बच्चा ठहरने से आसार अधिक होते हैं तो कभी बिलकुल ही नहीं होते।

मासिक धर्म चक्र के कुछ दिनों के दौरान महिला में कुछ बदलाव आते हैं जिसे वह नोटिस कर सकती हैं और उसी से  अपना फर्टाइल पीरियड fertile period जान सकती है। फर्टाइल पीरियड के दौरान असुरक्षित सम्भोग से बच्चा ठहर सकता है। इसलिए इस  दौरान संयम या अवरोध तरीकों का उपयोग किया जा सकता है ।

Natural Family Planning Methods

फर्टाइल पीरियड की गणना महिला को स्वयं निम्नलिखित विधियों का उपयोग करके की जा सकती है:

कैलेंडर लय विधि Calendar rhythm method

Loading...

सभी महिलायें कैलेंडर-आधारित विधि का उपयोग कर सकती हैं। इस पद्धति पर निर्भर होने से पहले, एक महिला कम से कम 6 महीने के लिए मासिक धर्म चक्र में दिनों की संख्या रिकॉर्ड करती है मासिक रक्तस्राव का पहला दिन हमेशा दिन 1 के रूप में गिना जाता है।

महिला अपने रिकॉर्ड किए गए सबसे कम दिन के साइकिल में से 18 को घटाती है। यह उसे अपने फर्टाइल पीरियड का अनुमानित पहला दिन बताता है। फिर, वह अपने सबसे लंबे समय रिकॉर्ड किए गए चक्र की लंबाई से 11 दिनों घटा देती है। यह उसे अपने उपजाऊ समय का अनुमानित अंतिम दिन बताता है।

इसे भी पढ़ें -  नूवारिंग NuvaRing Vaginal rings

इस दौरान या तो सेक्स नहीं किया जाना चाहिए या  कंडोम या डायाफ्राम का इस्तेमाल किया जाना चाहिए।

उदाहरण:

पीरियड की ब्लीडिंग वाले दिन को पीरियड का पहला दिन और अगले पीरियड की ब्लीडिंग के पहले दिन तक एक साइकिल माना जाता है।

अगर पिछले 6 चक्रों में महिला का सबसे पीरियड 27 दिन का था तो, 27 – 18 = 9। उसे  9वें दिन से असुरक्षित यौन संबंध से नहीं बनाना चाहिए।

अगर पिछले 6 चक्रों का सबसे लंबा पीरियड 31 दिन का था, 31 – 11 = 20। वह 21वें दिन से  फिर से असुरक्षित यौन संबंध रख सकती है।

इस प्रकार, उसे अपने चक्र के दिन 9 से दिन 20 से असुरक्षित सेक्स से बचना चाहिए। वह पीरियड के 20वें दिन से जब तक पीरियड नहीं आएं असुरक्षित सेक्स कर सकती है।

योनि के म्यूकस का तरीका Cervical mucus method

फर्टाइल पीरियड के दौरान योनि से निकलने वाला म्यूकस पतला, फिसलने वाला और अधिक होता है। यह म्यूकस स्पर्म को आगे बढ़ने देने में मदद करता है। इस समय असुरक्षित सेक्स से बचना चाहिए।

इसमें महिला हर दोपहर और / या शाम को ग्रीवा के स्राव की जांच करती है। इसके लिए योनि में ऊँगली डाल कर म्यूकस लेकर इसकी कंसिस्टेंसी को चेक करती है। यदि योनि ड्राई होती है तो यह फर्टाइल पीरियड नहीं समझा जाता।

यदि एक महिला को योनि संक्रमण या एकोई अन्य योनि की बीमारी है  जो गर्भाशय ग्रीवा के श्लेष्म को बदलती है, तो यह तरीका प्रयोग करना मुश्किल होगा।

बेसल शरीर का तापमान Basal body temperature (symptothermic method)

ओवुलेशन के समय शरीर के तापमान में करीब 0.2 से 0.5 0C (0.4 ओ से 1.0 oF) के तापमान में वृद्धि हो सकती है। यह समय तीन तक देखा जा सकता है। ओवुलेशन का मतलब है ओवरी से एग निकलना। यही एग या ओवा फैलोपियन ट्यूब में कुछ घंटे रहता और इस समय इसे यदि स्पर्म मिल जाता है तो बच्चा ठहर जाता है। इसलिए ओवुलेशन के आस-पास किये गए सेक्स से बचना चाहिए यदि बच्चा नहीं चाहिए या सेक्स करना चाहिए यदि बच्चा चाहिए।

इसे भी पढ़ें -  गर्भावस्था में ब्रूफेन ibuprofen का उपयोग और सावधानी

पीरियड की एक्सपेक्टेड डेट से 5 दिन पहले का समय

पीरियड की एक्सपेक्टेड डेट से 5 दिन पहले का समय, इनफर्टाइल होता है। इस समय किए सेक्स से बच्चा नहीं होता। लेकिन इस तरीके के प्रयोग के लिए पीरियड का रेगुलर होना ज़रूरी है।

यदि मासिक रक्तस्राव के दौरान सेक्स करते है, तो क्या  महिला गर्भवती हो सकती है?

मासिक रक्तस्राव के दौरान गर्भावस्था की संभावना कम है लेकिन शून्य नहीं है। मासिक रक्तस्राव के पहले कई दिनों में, गर्भावस्था की संभावना सबसे कम होती है। उदाहरण के लिए, ब्लीडिंग के शुरू के 2 दिन, गर्भवती होने का रिस्क बेहद कम है (1% से कम)। जैसे-जैसे दिन गुजरते हैं, गर्भावस्था की संभावना बढ़ जाती है, चाहे ब्लीडिंग हो रही हो। गर्भावस्था का खतरा ovulation तक बढ़ जाता है ओव्यूलेशन के बाद दिन में गर्भावस्था की संभावना

नेचुरल फैमिली प्लानिंग के फायदे Natural Family Planning Benefits

  • इसका कोई  दुष्प्रभाव नहीं है।
  • इसके लिए आपको विशेष खर्चा करने की ज़रूरत नहीं है।
  • इसे सभी कपल कर सकते हैं।
  • इससे ब्रेस्ट मिल्क पर कोई प्रभाव नहीं पड़ता।

नेचुरल फैमिली प्लानिंग के नुकसान Natural Family Planning

  • यह तरीके 100 प्रतिशत सुरक्षित नहीं है। थोड़ी सी चूक से दिक्कत हो सकती है।
  • अन्य प्रतिवर्ती विधियों की तुलना में इसकी प्रभावकारिता कम है।
  • दोनों ही पार्टनर को इसमें भागीदार होना होगा।
  • अनियमित पीरियड में यह टेकनीक काम नहीं करती।
  • यह तरीके एसटीआई / एचआईवी से बचाव नहीं करते।
  • योनि स्राव और बुखार से पीड़ित महिला में ग्रीवा स्राव और बेसल शरीर तापमान माप पर आधारित तरीके से उपजाऊ दिनों की सही गणना नहीं हो सकती।
  • प्रसव के बाद और स्तनपान के दौरान इन तरीकों के प्रयोग से फर्टिलिटी पीरियड नहीं जान सकते।
  • ये तरीके एचआईवी, एड्स से बचाव नहीं करते

कुछ स्थितियां उन्हें प्रभावी ढंग से उपयोग करने के लिए कठिन बना सकती हैं।  इन तरीकों का सही उपयोग सुनिश्चित करने के लिए अतिरिक्त या विशेष परामर्श की आवश्यकता हो सकती है। अनियमित पीरियड में या दवाओं के सेवन  से  lithium, tricyclic anti-depressants, anti-anxiety drugs, certain antibiotics, anti-inflammatory drugs पीरियड प्रभावित हो सकता है, ऐसे में कैलेंडर विधि का उपयोग करना उपयुक्त नहीं हैं। मासिक धर्म चक्र अनियमितताएं period irregularity होने पर यह तरीके नहीं प्रयोग किये जा सकते।

इसे भी पढ़ें -  गर्भावस्था में बहुत ज्यादा लगातार उल्टी होना | Hyperemesis gravidarum

नेचुरल फैमिली प्लानिंग या गर्भनिरोधन के तरीके की इफेक्टिवनेस कपल पर निर्भर करती है। गर्भावस्था का जोखिम सबसे बड़ा तब होता है जब कपल किसी अन्य विधि का उपयोग किए बिना फर्टाइल दिनों में सेक्स करते हैं। इस तरीकों के प्रयोग से 100 में से करीब 25 महिलाओं में प्रेगनेंसी हो जाती है।

कई जोड़ों के लिए, ये तरीके फर्टाइल दिनों के बारे में विश्वसनीय जानकारी प्रदान करते है। अगर कपल योनि सेक्स से नहीं करते या कंडोम या डायाफ्राम का इस्तेमाल करते हैं तो यह तरीके बहुत प्रभावी हो सकते हैं।

गर्भनिरोधक के बारे में पढ़ें: गर्भनिरोधक, प्रेगनेंसी रोकने के उपाय, गर्भधारण से बचने के उपाय

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

error: Content is protected !!