गर्भपात (miscarriag) के बारे में जानकारी

जानिये गर्भपात क्या होता है जिसे miscarriage या अपने आप एबॉर्शन होना भी कहते हैं, क्या गर्भपात को रोका जा सकता है और इसके कारण की क्या होते है? अगर किसी महिला को बार बार गर्भपात हो रहा है तो उसे क्या करना चाहिए जानिये इन सभी सवालों के जबाब।

गर्भपात क्या होता है? What is pregnancy loss/miscarriage?

गर्भपात, जिसे गर्भावस्था के नुकसान या स्वस्थ गर्भपात भी कहा जाता है, गर्भावस्था के 20 वें सप्ताह से पहले या गर्भावस्था (गर्भ धारण से बच्चे के जन्म तक की अवधि)में गर्भ का अप्रत्याशित नुकसान (बच्चा गिर जाना) को गर्भपात कहते हैं। गर्भ के 20 वें सप्ताह के बाद के गर्भपात को stillbirth (मरा हुआ बच्चा पैदा होना) कहा जाता है और प्रसव से पहले या प्रसव के दौरान हो सकता है।

Loading...

गर्भपात के लक्षण क्या हैं?

Loading...

What are the symptoms of miscarriag?

गर्भपात के लक्षणों में शामिल हैं योनि से रक्तस्राव, पेट में दर्द या पेट की ऐंठन, कमर के निचले हिस्से में दर्द,या योनि से तरल या उतकों के थक्के का आना। हालांकि योनि खून बहना एक सामान्य लक्षण है जब किसी महिला का गर्भपात होता है, कई गर्भवती महिलाओं को अन्य कारणों की वजह से गर्भावस्था के सुरवात में स्पोटिंग होती है लेकिन गर्भपात नहीं होता है। गर्भवती महिलाओं को गर्भपात के किसी भी लक्षणों में तुरंत अपने डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए।

कितनी महिलाओं को गर्भपात होता है या होने का खता होता है

महिलाओं में गर्भपात की अनुमानित दर 15% से 20% होती है, जो जानती हैं कि वे गर्भवती हैं, परन्तु सभी निषेचित अंडों में से आधेका अपने आप ही गर्भपात हो सकता है और अक्सर महिलाओं को पता ही नहीं होता है कि वो गर्भवती हैं। महिलाएं जिनको एक बार गर्भपात हो चूका है उनको दुबारा गर्भपात होने का ज्यादा खतरा होता है। गर्भपात का खतरा 30 वर्ष की आयु से बढ़ाना शुरू हो जाता है और 35 वर्ष की उम्र के बाद और अधिक हो जाता है।

इसे भी पढ़ें -  संभोग: क्या है, कैसे किया जाता है

गर्भपात के क्या कारण होते हैं?

कई अलग-अलग कारणों के कारण गर्भपात होता है, उनमें से कुछ ज्ञात होते हैं और कुछ अज्ञात अन्य होते हैं। अक्सर जब गर्भावस्था सामान्य रूप से विकसित नहीं होती है तो गर्भपात हो जाता है। सभी गर्भपात में आधे से अधिक गर्भ में chromosomal abnormality गुणसूत्र असामान्यता के कारण होते हैं, जो की ज्यादा उम्र के माता-पिता में ज्यादा होता है, विशेष रूप से 35 वर्ष से अधिक उम्र वाली महिलाएं के साथ ज्यादा होता है।

गर्भपात के अन्य संभावित कारण में महिला का स्वास्थ्य और रसायनों के संपर्क में आना होता है। मातृ स्वास्थ्य संबंधी कारणों में पुरानी बीमारी शामिल होती है, जैसे कि मधुमेह, थायरॉयड रोग, या पॉलीसिस्टिक अंडाशय सिंड्रोम (पीसीओएस) polycystic ovary syndrome (PCOS), या प्रतिरक्षा प्रणाली (mmune system) से संबंधित समस्याओं, जैसे कि एक ऑटोइम्यून डिसऑर्डर (autoimmune disorder)। अन्य मातृ स्वास्थ्य संबंधी समस्याएं जो गर्भपात के खतरे को बढ़ा सकती हैं जैसे की संक्रमण, हार्मोन की समस्याएं, मोटापे या नाल placenta, गर्भाशय ग्रीवा या गर्भाशय की समस्याएं शामिल हैं। पर्यावरण के विषाक्त पदार्थों का एक्सपोजर, नशीली दवाओं का उपयोग या शराब का उपयोग, धूम्रपान, या प्रति दिन 200 मिलीग्राम या अधिक कैफीन की मात्रा भी गर्भपात का खतरा बढ़ सकते हैं।

गर्भपात का पता कैसे लगते हैं?

अगर गर्भवती महिला गर्भस्राव के लक्षणों में से किसी भी तरह का अनुभव करती है, जैसे पेट या पीठ दर्द, हल्की ब्लीडिंग, या खून का बहना, तो उसे तुरंत डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए, निदान के लिए,

  1. एचसीजी hCG के स्तर की जांच
  2. गर्भावस्था हार्मोन परीक्षा के लिए महिला को रक्त परीक्षण करवाना पड़ सकता है और आंतरिक पैल्विक परीक्षण यह जांचने के लिए किया जा सकता है की उसके गर्भाशय की ग्रीवा फैली हुई है या पतली है, जो गर्भपात का संकेत हो सकता है
  3. उसके आखिरी मासिक धर्म की अवधि के समय की लंबाई और रक्त में गर्भावस्था के हार्मोन के स्तर के आधार पर
  4. उसे एक अल्ट्रासाउंड टेस्ट की आवश्यकता हो सकती है ताकि उसके स्वास्थ्य देखभाल प्रदाता गर्भावस्था और मातृ प्रजनन अंग देख सकें, जैसे कि गर्भाशय और नाल
  5. अगर एक महिला में एक से अधिक गर्भपात होता है, तो उसको गुणसूत्र असामान्यताओं या हार्मोन की समस्याओं की जांच करानी पद सकती है
  6. immune system disorders प्रतिरक्षा प्रणाली विकारों का पता लगाने के लिए रक्त परीक्षण किया जा सकता है।
इसे भी पढ़ें -  आरएच फैक्टर Rh factor और गर्भावस्था

गर्भपात के लिए उपचार क्या हैं?

ज्यादातर मामलों में, गर्भवती महिलाओं में जिनका गर्भपात शुरू में ही हो गया है उनको किसी उपचार की जरूरी नहीं है, क्योंकि गर्भपात में रक्तस्राव आमतौर पर गर्भावस्था संबंधी ऊतक को गर्भाशय से बहार निकल देता है। हालांकि, कुछ मामलों में, महिला को गर्भाशय में शेष किसी भी गर्भावस्था संबंधी ऊतक को हटाने के लिए डी एंड सी नामक एक शल्य प्रक्रिया की आवश्यकता हो सकती है। एक डी एंड सी उन महिलाओं में किया जाता है जिनको बहुत खून बह रहा है या अल्ट्रासाउंड परीक्षण में गर्भाशय में किसी भी शेष ऊतक का पता लगा है।

डी एंड सी के लिए एक विकल्प है मिसोप्रोस्टोल नामक एक दवा जो ऊतक को गर्भाशय से बाहर निकालने में मदद करती है। मिसोप्रोस्टोल का उपयोग अध्ययन किए गए मामलों के 84% में प्रभावी साबित हुआ है। किसी महिला के गर्भपात के बाद अन्य उपचार में हल्के से मध्यम रक्तस्राव और संक्रमण की रोकथाम, दर्द निवारण की दवा, और भावनात्मक समर्थन शामिल हो सकते हैं। यदि भारी रक्तस्राव होता है, तो महिला को उसके डॉक्टर से तुरंत संपर्क करना चाहिए।

क्या गर्भपात का कोई इलाज है?

कई मामलों में, महिला गर्भपात को रोकने के लिए बहुत कुछ कर सकती है। हालांकि, गर्भवती होने से पहले और गर्भावस्था के दौरान गर्भावस्था से जुड़ी सभी जटिलताओं के लिए सर्वोत्तम रोकथाम उपलब्ध है। किसी रोग की वजह से गर्भपात को अक्सर गर्भावस्था के पहले रोग की पहचान कर और उपचार के द्वारा रोका जा सकता है। महिला किसी भी संक्रामक रोगों, एक्स-रे, ड्रग्स और अल्कोहल और उच्च स्तर की कैफीन जैसे पर्यावरणीय खतरों से बचकर गर्भपात के जोखिम को कम कर सकती है।

गर्भपात: अन्य सामान्य प्रश्न

क्या गर्भपात को रोकने के लिए एक महिला कुछ कर सकती है?

ज्यादातर समय, महिला गर्भपात को रोकने के लिए कुछ भी नहीं कर सकती है।

इसे भी पढ़ें -  एम्नियोसेंटेसिस Amniocentesis के बारे में जानकारी

गर्भधारण से पूर्व देखभाल और प्रसव पूर्व देखभाल गर्भवती बनने से पहले और गर्भावस्था के दौरान कुछ जटिलताओं को रोकने में मदद कर सकते हैं।

क्या कोई स्वास्थ्य समस्या गर्भपात या मरे बच्चे को जन्म का कारण हो सकती है?

गर्भपात के कई अलग अलग कारण होते हैं। सभी गर्भपात में आधे से अधिक गर्भ में chromosomal abnormality गुणसूत्र असामान्यता के कारण होते हैं, जो की ज्यादा उम्र के माता-पिता में ज्यादा होता है, विशेष रूप से 35 वर्ष से अधिक उम्र वाली महिलाएं के साथ ज्यादा होता है।

हालांकि, कुछ स्वास्थ्य स्थितियां हैं जो गर्भावस्था के नुकसान में योगदान कर सकती हैं जैसे उच्च रक्तचाप, मधुमेह, थायरॉयड रोग, रक्त के थक्के का विकार, प्रतिरक्षा प्रणाली, गर्भाशय या ग्रीवा संबंधी असामान्यताएं, हार्मोन, मोटापे का असामान्य स्तर, और मातृ या भ्रूण संक्रमण के कुछ विकार हैं।

क्या ख़राब जीवन शैली भी गर्भपात या मरे बच्चे के जन्म के जोखिम को बढ़ा सकते हैं?

पर्यावरण के विषाक्त पदार्थों का एक्सपोजर, नशीली दवाओं का उपयोग या शराब का उपयोग, धूम्रपान, या प्रति दिन 200 मिलीग्राम या अधिक कैफीन की मात्रा भी गर्भपात का खतरा बढ़ सकते हैं।

मोटापे से ग्रस्त महिलाओं में मरे बच्चे के जन्म का खतरा बढ़ जाता है। महिलाओं को मोटापे से ग्रस्त होने को स्थिति में बच्चे की कोशिश करने से पहले डॉक्टर से बात करके पहले वजन कम करने की कोशिश करनी चाहिए।

एक गर्भपात होने के तुरंत बाद औरत एक और शिशु के लिए फिर से कोशिश कर सकती है?

गर्भपात के बाद एक सामान्य मासिक धर्म चक्र होने के बाद फिर से गर्भधारण करना आमतौर पर सुरक्षित है। हालांकि, तब तक इंतजार करना अच्छा होता है जब तक की महिला शारीरिक और मानसिक रूप से गर्भवती होने के लिए फिर से तैयार हो जाती है। और गर्भपात के कारणों का इलाज पूरा होने और डॉक्टर के कन्फर्म करने तक इन्तजार करना चाहिए।

इसे भी पढ़ें -  ओरकाइटिस (Orchitis) अण्डकोष की सूजन Orchitis

अगर एक महिला को एक बार गर्भपात हुआ है, तो क्या उसे दूसरा गर्भपात होने की संभावना ज्यादा है?

गर्भपात आमतौर पर एक बार होने वाली घटना है। हालांकि, लगभग 1% महिलाओं ने लगातार एक से अधिक गर्भपात का अनुभव किया है, या उनको कई बार गर्भपात हुआ है। कुछ मामलों में, कोई स्वास्थ्य समस्या इन गर्भपात का कारण बनती है। इसके लिए किसी डॉक्टर से मिल कर टेस्ट कराकर इलाज करना चाहिए।

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.