गर्भावस्था में ब्रूफेन ibuprofen का उपयोग और सावधानी

जानिये क्यों गर्भवती महिला को ब्रूफेन का सेवन नहीं करना चाहिए? गर्भावस्था में ब्रूफेन के सेवन से गर्भ में शिशु पर क्या बुरा असर पड़ता है? गर्भवती महिला को हल्के दर्द के साथ बुखार में पेरासिटामोल लेना चाहिए।

एलोपैथिक दवाई ब्रूफेन एक नॉनस्टोरायडियल एंटी इन्फ्लैमेटरी ड्रग्स non-steroidal anti-inflammatory drug (NSAID) के समूह की दवा है जो की सूजन और दर्द को दूर करती है। जानिये गर्भावस्था में ब्रूफेन का उपयोग करते समय क्या सावधानी बरतनी चाहिए और इसके साइड इफेक्ट्स क्या हो सकते हैं।

गर्भवती महिलाओं को आमतौर पर इबुप्रोफेन नहीं लेने की सलाह दी जाती है। गर्भवती होने पर पेरासिटामोल उससे अधिक सुरक्षित विकल्प है जिसे बुखार कम करने और दर्द से राहत पाने के लिए प्रयोग किया जा सकता है। गर्भावस्था में कभी भी ब्रुफेन लेने से गर्भ में पल रहे बच्चे पर बुरा प्रभाव पड़ सकता है। गर्भावस्था में ब्रूफेन जटिलताओं को बढ़ा सकती है और गर्भ गिर भी सकता है।

गर्भावस्था के शुरू में ब्रूफेन लेने से एबॉर्शन हो सकता है। डॉक्टर इसे तभी देते हैं जब इसे लेने का फायदा होने वाले नुकसान से अधिक हो, और यदि इसे देना एक मजबूरी हो तथा कोई अन्य सेफ दवा न दी जा सकती हो।

जब आप 30 या कम सप्ताह की गर्भवती हों, तो इसे नहीं लेना चाहिए। इसका कारण यह है कि गर्भावस्था के पहले 30 सप्ताह में आईबुप्रोफेन लेने से गर्भपात सहित अन्य जटिलताओं का खतरा बढ़ सकता है। शुरू के 12 सप्ताह में बच्चे में अंगों का विकास हो रहा होता है। ऐसे में दवाओं का सेवन बच्चे के अंगों के विकास को बाधित कर सकता है और बर्थ डिफेक्ट कर सकता है।

पहली तिमाही के दौरान ibuprofen लेने से बच्चा समय से पहले (गर्भावस्था के 37 सप्ताह से पहले) होने के आसार हो जाते हैं। गर्भावस्था के दूसरी तिमाही में ब्रुफेन लेने से जन्म के समय 2500 ग्राम से भी कम बच्चे का वजन होने का अधिक खतरा होता है।

सुनिश्चित करें कि आप गर्भावस्था के पहले छह महीनों में इबुप्रोफेन लेने से पहले संभावित लाभों और जोखिमों के बारे में अपने डॉक्टर या फार्मासिस्ट से बात करें।

इसे भी पढ़ें -  गर्भधारण से पहले स्वास्थ्य देखभाल | Preconception Health

जब आप 30 या अधिक सप्ताह की गर्भवती हों, तब तक इबुप्रोफेन का उपयोग नहीं किया जाना चाहिए, जब तक कि यह एक डॉक्टर की सलाह नहीं हो। इसका कारण यह है कि गर्भावस्था के इस स्तर पर इबुप्रोफेन लेने से आपके बच्चे में हृदय की समस्या और अमीनोटिक द्रव की कम मात्रा हो सकती है।

ज़रूरी नहीं कि हर महिला के साथ ऐसा हो लेकिन ऐसा हो भी सकता है। ब्रुफेन लेने से एबॉर्शन होता है कि नहीं, को जांचने के लिए मनुष्यों पर अध्ययन नहीं किये गए हैं।

Ibuprofen (Pregnancy Category-C) is indicated in pain and inflammation in rheumatic disease and other musculoskeletal disorders including juvenile arthritis; mild to moderate pain including dysmenorrhoeal pain, headache; pain in children; acute migraine attack. It is highly advisable NOT TO TAKE Ibuprofen during pregnancy.

क्या गर्भावस्था में ब्रूफेन से बच्चे में बर्थ डिफेक्ट हो सकते हैं?

गर्भावस्था के पहले 12 सप्ताह के दौरान बच्चे के शरीर के सबसे आंतरिक अंगों का निर्माण होता है। इस समय दवाओं का सेवन मुख्य रूप जन्म दोषों के कारण जाने जाते हैं।

कोई ठोस वैज्ञानिक प्रमाण तो नहीं है कि आईबुप्रोफेन को प्रारंभिक गर्भावस्था के दौरान जन्म दोषों का कारण बनता है। वैज्ञानिक प्रमाण इसलिए भी नहीं हैं क्योंकि मनुष्यों पर अधिक अध्ययन नहीं किये गए हैं।

एक अध्ययन से यह दिखाया कि गर्भावस्था में इबुप्रोफेन का उपयोग बच्चे में गैस्ट्रोस्काइसिस gastroschisis (बच्चे के आंत का हिस्सा नाभि के पास से शरीर से बाहर निकला हुआ) होने की संभावना बढ़ सकती है, लेकिन अन्य अध्ययनों ने यह नहीं दिखाया है।

एक अध्ययन में यह संकेत दिया गया कि जिस गर्भावस्था में इबुप्रोफेन लिया गया था उनके जन्मे लड़के में जन्म के समय अन्तर्निहित अंडकोष undescended testicles at birth की संभावना थी, लेकिन यह एक और अध्ययन में नहीं पाया गया।

एक अध्ययन ने सुझाव दिया कि जिन बच्चों की मां ने गर्भावस्था के शुरुआती दिनों में आईबुप्रोफेन को ले लिया था, उनमें स्पाइना बिफिडा (रीढ़ की कमी), या फेटे तालू, या अम्मोनियोटिक बैंड सिंड्रोम देखा गया।

इसे भी पढ़ें -  गर्भावस्था के दौरान खट्टा या अजीब चीजे खाने का मन करना

हालांकि, कोई अन्य अध्ययन ने गर्भावस्था और इन जन्म दोषों में इबुप्रोफेन उपयोग के बीच किसी भी संभावित लिंक की जांच नहीं की है।

कुछ अध्ययन (जिनमें एक विशेष रूप से इबुप्रोफेन पर नजर रखता है) ने सुझाव दिया है कि प्रारंभिक गर्भावस्था के दौरान एनएसएआईडी लेने वाले महिलाओं को हृदय दोष के साथ एक बच्चा होने की अधिक संभावना हो सकती है, हालांकि अन्य अध्ययनों ने एनएसएडी उपयोग को गर्भावस्था के प्रारंभिक समय में हृदय दोष के साथ जोड़ा नहीं है।

गर्भावस्था के 30 सप्ताह के बाद मेरे बच्चे में आईबुप्रोफेन लेने से क्या समस्या हो सकती है?

नलिका धमनी के समय से पहले बंद हो जाना Premature closure of the ductus arteriosus

डक्टस आर्टियरेसस नामक ब्लड वेसेल को जन्म से पहले, बच्चे को माता से पोषक तत्वों और ऑक्सीजन आपूर्ति करने के लिए खुले रहने की जरूरत होती है। यह धमनी जन्म के बाद बंद होती है जिससे बच्चे में रक्त फेफड़ों के माध्यम बहे।

डक्टस आर्टेरियस, गर्भावस्था के 30 हफ्तों के बाद आईबुप्रोफेन या किसी अन्य एनएसएडी को लिए जाने पर बंद हो सकती है जबकि बच्चा गर्भ में अभी भी है। गर्भावस्था के 30 सप्ताह के बाद एनएसएडी की कई खुराक या अधिक खुराक ली गई हूँ तो तुरंत अपने चिकित्सक से संपर्क करना महत्वपूर्ण है।

नवजात शिशु (पीपीएनएच) की लगातार पल्मोनरी उच्च रक्तचाप Persistent pulmonary hypertension of the newborn PPHN

नवजात शिशु के लगातार पल्मोनरी उच्च रक्तचाप’ तब होता है जब एक नवजात शिशु गर्भ के बाहर श्वास लेने के लिए अनुकूल नहीं होते हैं। माना जाता है कि कुछ मामलों में, डक्टस आर्टेरियस के प्रारंभिक बंद होने जाने से ऐसा हो सकता है। पीपीएनएन सामान्य आबादी में प्रत्येक 1000 नवजात शिशुओं में से 1 या 2 को प्रभावित करता है लेकिन महत्वपूर्ण है क्योंकि यह गंभीर हो सकता है।

ऑलिगोहाइड्रमनिओस Oligohydramnios

गर्भधारण के 30 सप्ताह के बाद इबुप्रोफेन और अन्य एनएसएडीएस का उपयोग ऑलिगोहैड्रमनिओस (जहां बच्चे के आसपास के थैल में बहुत कम अमीनोइटिक द्रव होता है) के परिणामस्वरूप हो सकता है। ऑलोगोहाइड्रमनिओस कई जटिलताओं का कारण बन सकता है। इससे शिशु के फेफड़ों, मूत्राशय का विकास सही से नहीं होता। गर्भ में मां से बच्चे तक रक्त प्रवाह कम हो सकता है तथा गर्भ में गर्भनाल की संपीड़न (स्क्वैशिंग) हो सकता है।

इसे भी पढ़ें -  कोडीन (Codeine) खांसी की दवाऔर गर्भावस्था

यदि आपने 30 सप्ताह की गर्भावस्था के बाद आईबुप्रोफेन ले लिया है, तो आपका डॉक्टर अल्ट्रासाउंड स्कैन द्वारा अपने अमीयोटिक द्रव स्तर की जांच कर सकता है।

जहां तक संभव हो, गर्भावस्था के तीसरे तिमाही के दौरान इबुप्रोफेन का उपयोग नहीं करना चाहिए।

क्या होगा अगर मैंने पहले से ही इबुप्रोफेन लिया है?

यदि आपने 30 सप्ताह की गर्भवती होने से पहले कभी-कभी ibuprofen ले लिया है, तो यह संभव है कि आप अपने अजन्मे बच्चे को प्रभावित न करें।

यदि आपने 30 सप्ताह गर्भवती होने के बाद ibuprofen लिया है, तो गर्भ में आपके बच्चे की भलाई का मूल्यांकन किया जाना चाहिए।

गर्भावस्था में पेरासिटामोल

जब आप गर्भवती हो, पैरासिटामोल, आमतौर पर हल्के से मध्यम दर्द या उच्च तापमान (बुखार) के उपचार के लिए सबसे अच्छा विकल्प होता है। लेकिन गर्भवती होने पर किसी भी दवा लेने से पहले अपने डॉक्टर से सलाह लेना एक अच्छा रहता है।

गर्भावस्था के दौरान दवाओं से बचें

जब आप गर्भवती हो, विशेष रूप से पहले तीन महीनों के दौरान दवाइयाँ लेने से बचें। यह सबसे अच्छा है। कम और मामूली दर्द को अक्सर दवाओं के साथ इलाज की जरूरत नहीं होती है।

जब गर्भावस्था के दौरान किसी प्रकार की दवा लेते हैं, तो आपको सबसे कम संभव समय के लिए न्यूनतम प्रभावी खुराक का उपयोग करना चाहिए। यदि अनुशंसित खुराक आपके लक्षणों को नियंत्रित नहीं करता है तो डॉक्टर से कंसल्ट करें।

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.