एम्नियोसेंटेसिस Amniocentesis के बारे में जानकारी

एम्नियोसेंटेसिस Amniocentesis टेस्ट गर्भावस्था में क्यों किया जाता है, एम्नियोसेंटेसिस परिक्षण के फायदे और खतरे क्यों होते हैं और एम्नियोसेंटेसिस Amniocentesis परिक्षण कैसे किया जाता है?

एम्नियोसेंटेसिस (उल्ववेधन Amniocentesis) एक तकनीक है जिसे गर्भावस्था के दौरान प्रयोग किया जाता है। यह एक रूटीन टेस्ट नहीं है और सभी महिलाओं में नहीं किया जाता। केवल विशेष कंडीशन में इसे करवाने के लिए डॉक्टर बोलते हैं।

एम्नियोसेंटेसिस टेस्ट की हर गर्भवती महिलाओं में आवश्कता नहीं होती। जब किसी रोग के लिए किए गए स्क्रीनिंग टेस्ट की रिपोर्ट पॉजिटिव आई हो या आंतरिक संक्रमण डॉक्टर को अल्ट्रासाउंड से बच्चे में कोई अबनोर्मलिटी दिखे या परिवार में कोई जेनेटिक रोग है जिसके बच्चे में होने या न होने को पता लगाना हो तो ही यह टेस्ट करवाया जाता है। इससे गर्भाशय के का भी पता कर सकते हैं।

एम्नियोसेन्टेसिस के द्वारा स्त्री के गर्भ में पलने वाले शिशु की जेनेटिक स्थिति का पता कर सकते हैं। यह टेस्ट जन्म से पहले बच्चे में संभव रोगों का पता लगाने के लिए की जाती है। यह जन्म पूर्ण रोग पता लगाने की विधि के तौर पर समझी जा सकती है। इससे शिशु का जेंडर भी पता लग सकता है।

गर्भाशय में विकसित होता शिशु एक द्रव से भरी थैली के अंदर सुरक्षित तैरता रहता है। यह थैली, एमनियोटिक थैली कहलाती है और इसके अंदर के द्रव को एमनियोटिक द्रव या फ्लूइड कहा जाता है। एम्नियोसेन्टेसिस में गर्भाशय से एमनियोटिक द्रव या फ्लूइड को सिरिंज के द्वारा निकाला जाता है। गर्भधारण के लगभग 12 दिनों के बाद अमानियोटिक द्रव का उत्पादन शुरू होता है। अमानियोटिक द्रव के कई काम हैं। यह बच्चे को सपोर्ट करता है, उसके अंगों, फेफड़े और पाचन अंग के विकास में सहायता करता है। यह बच्चे को शॉक से बचाता है और शरीर का उचित तापमान बनाए रखने में सहायता करता है।

इसे भी पढ़ें -  मॉर्निंग सिकनेस : गर्भावस्था में उल्टी और मतली आना

एम्नियोसेन्टेसिस द्वितीय तिमाही में शिशु की आनुवांशिक बनावट के मूल्यांकन के लिए सबसे अच्छा तरीका है।

एम्नियोसेन्टेसिस (Amniocentesis) क्या है?

  • गर्भ में ही शिशु के परीक्षण को एमिनोसेंटेसिस कहा जाता है।
  • एम्नियोसेन्टेसिस prenatal test की तकनीक के द्वारा जन्म से पहले भ्रूणीय अवस्था में गुणसूत्रों में विकृतियों (Chromosomal abberation) का पता किया जा सकता है।
  • सिरिंज के द्वारा गर्भाशय में मौजूद अम्नियोटिक कैविटी से एमनियोटिक द्रव या फ्लूइड निकाला जाता है।
  • एमनियोटिक फ्लूइड में उपस्थित फीटस की सेल्स को कल्चर in-vitro culture किया जाता है।
  • इस द्रव को सेंट्रीफ्यूज करते हैं जिससे सेल्स सेडीमेंट हो जाती हैं या नीचे बैठ जाती हैं।
  • सेडीमेंट सेल्स को स्लाइड पर लेकर स्टेन करते हैं।
  • इन स्टेंड सेल्स को कैरियोटाइप karyotype, डीएनए एनालिसिस DNA Analysis, एंजाइम प्रोडक्शन आदि के लिए स्टडी करते हैं।
  • इससे करीब 35 तरह के जेनेटिक डिसीज का पता लगा सकते हैं, जैसे cysytic fibrosis, haemophilia, sickle cell anemia आदि।

एमिनोसेंटेसिस (Amniocentesis) क्यों करते हैं?

Loading...

एमीनोसेंटिस कुछ प्रकार के जन्म दोषों, जैसे कि डाउन सिंड्रोम जो एक गुणसूत्र असामान्यता है, आदि को को देखने के लिए किया जाता है। हिमोफिलिया में गर्भ के आठवें सप्ताह में एमिनोसेंटेसिस टेस्ट द्वारा पता चल सकता है कि गर्भ में पल रही लड़की करियर है या लड़का है तो हिमोफिलिया का मरीज है या नहीं। अगर है तो फिर कानूनी रूप से गर्भपात कराकर इस लाइलाज बीमारी से पीड़ित बच्चे को आने से रोका जा सकता है।

इस टेस्ट से महिला और उसके बच्चे के लिए कुछ रिस्क रहता है, इसलिए इसे केवल विशेष परिस्थितियों में किया जाता है। इसे किया जाता है, यदि,

  • असामान्य अल्ट्रासाउंड या असामान्य लैब स्क्रीनिंग टेस्ट
  • कुछ जन्म दोषों का एक पारिवारिक इतिहास
  • पहले जन्म दोष के साथ एक बच्चे या गर्भावस्था का होना
  • 35 साल से अधिक उम्र में प्रेगनेंसी

एम्नियोसेन्टेसिस से सभी जन्म दोषों का पता नहीं लगता है, लेकिन इसका उपयोग निम्नलिखित को पता लगाने के लिए किया जा सकता है:

  • जन्म दोष
  • आनुवंशिक समस्याएं
  • डाउन सिंड्रोम
  • सिकल सेल रोग
  • सिस्टिक फाइब्रोसिस
  • मांसपेशीय दुर्विकास
  • संक्रमण
  • जांचने के लिए कि बच्चे के फेफड़े विकसित और डिलीवरी के लिए तैयार हैं या नहीं
  • ट्राइसॉमी 18 जैसी अन्य आनुवांशिक समस्याओं, Tay-Sachs और इसी तरह की बीमारियों
इसे भी पढ़ें -  गर्भावस्था के दौरान पेट दर्द, पीठ, पैर और अन्य हिस्सों में दर्द

Amniocentesis से कुछ न्यूरल ट्यूब दोष (रोगों जहां मस्तिष्क और रीढ़ की हड्डी का स्तंभ ठीक से विकसित नहीं होता है) पता लगा सकता है, जैसे कि स्पाइना बिफिडा और अनानेसफैली । यह जन्म से पहले बच्चे के लिंग को निर्धारित करने का सबसे सटीक तरीका है।

गर्भावस्था के तीसरे तिमाही के दौरान एम्नियोसेन्टेसिस यह निर्धारित करने के लिए भी किया जा सकता है कि क्या बच्चे के फेफड़े डिलीवरी के लिए पर्याप्त परिपक्व हैं या अम्नीओटिक तरल में संक्रमण को देखने के लिए ।

एम्नियोसेन्टेसिस कराने के क्या कारण हैं?

एम्नियोसेंटेसिस आमतौर पर गर्भावस्था के 15 और 18 सप्ताह के बीच निर्धारित होती है।

आनुवंशिक अमीनोसेन्टिसिस Genetic amniocentesis

आनुवंशिक अमीनोसेन्टिसिस बच्चे के आनुवंशिक मेकअप के बारे में जानकारी प्रदान कर सकते हैं। आम तौर पर, आनुवंशिक एम्नियोसेंटेसिस की पेशकश तब की जाती है जब टेस्ट रिजल्ट गर्भावस्था को जारी रखने देने या टर्मिनेट करने के लिए निर्णय लेने पर महत्वपूर्ण प्रभाव डाल सकते हों।

आनुवंशिक अमीनोसेंटिस आमतौर पर गर्भावस्था के 15वें सप्ताह  के बाद किया जाता है। कई मामलों में आनुवंशिक अमीनोसेंटिस गर्भावस्था 11वें सप्ताह में भी किया जा सकता है।

आनुवंशिक amniocentesis की जा सकती है अगर:

जन्म के पूर्व स्क्रीनिंग टेस्ट prenatal screening test से सकारात्मक परिणाम आएं। यदि पहली तिमाही के टेस्ट चिंताजनक हैं, तो निदान की पुष्टि करने के लिए amniocentesis का विकल्प चुन सकते हैं।

पिछली गर्भावस्था में गुणसूत्र या न्यूरल ट्यूब दोष था। यदि पिछली गर्भावस्था डाउन सिंड्रोम या न्यूरल ट्यूब दोष से प्रभावित है तो इस गर्भावस्था में इसका रिस्क हो सकता है।

उम्र 40 या उससे ज्यादा है। 40 वर्ष और उससे अधिक उम्र की महिलाओं से जन्मे शिशुओं को क्रोमोसोमल स्थितियों का अधिक रिस्क होता है, जैसे डाउन सिंड्रोम।

परिवार में विशिष्ट आनुवंशिक स्थिति का इतिहास है, या आप या आपके साथी एक आनुवांशिक स्थिति का ज्ञात वाहक है।

डाउन सिंड्रोम और स्पाइना बिफिडा की पहचान करने के अलावा, अमीनोओसेंटिस का उपयोग कई अन्य स्थितियों के निदान के लिए किया जा सकता है- जैसे कि सिस्टिक फाइब्रोसिस।

इसे भी पढ़ें -  गर्भावस्था के दौरान पैर ऐंठन से बचाव और उपचार

परिपक्वता अमीनोसेन्टिसिस Maturity amniocentesis

परिपक्वता अमीनोसेन्टिसिस गर्भावस्था के 32 और 39 सप्ताह के बीच किया जाता है। 32 हफ्तों से पहले, एक बच्चे के फेफड़े पूरी तरह से विकसित होने की संभावना नहीं है। इससे पता चलता है कि एक बच्चे के फेफड़े जन्म के लिए तैयार हैं या नहीं।

इस प्रकार की एम्निओसेंटिस को केवल तभी किया जाता है जब प्रसव, प्रेरण या सी-सेक्शन के द्वारा कराया जाता है और मां के लिए गर्भावस्था संबंधी जटिलतायें अधिक होती है।

आनुवंशिक अमीनोसेन्टिसिस से प्रेगनेंसी को चलने देने या टर्मिनेट करने का निर्णय करने के लिए की जा सकती है। अंततः, आनुवंशिक अमीनोसेन्टिसिस का निर्णय आपके ऊपर है।

अमीनोसेन्टिसिस के लिए अन्य कारण

कभी-कभी अम्निओसेंटिस का उपयोग निम्न में किया जाता है:

  • संक्रमण या अन्य बीमारी
  • एम्नोयोटिक द्रव की मात्रा कम करने के लिए
  • आरएएच संवेदीकरण Rh sensitization वाले बच्चों में एनीमिया की गंभीरता का मूल्यांकन करने के लिए

अमीनोसेन्टिसिस कितना सटीक है?

अमीनोसेन्टिसिस की सटीकता 99.4% है। डाउन सिंड्रोम के निदान के लिए 99% से अधिक सटीक है। यह कभी कभी असफल हो सकता है, जैसे कि संवर्धित होने के लिए पर्याप्त मात्रा में अमीनोटिक द्रव नहीं होना या सेल्स को एकत्र करने में असमर्थता आदि।

क्या एम्नियोसेंटेसिस कराने में रिस्क है?

हाँ,एम्नियोसेंटेसिस कराने में रिस्क है।

एक रिस्क है कि एम्नियोसेन्टेसिस से गर्भपात (कम से कम 1%) हो सकता है। बच्चे या मां, को संक्रमण, और प्रीटरम लेबर अन्य संभावित जटिलताओं में शामिल हैं, लेकिन बहुत दुर्लभ हैं।

एम्नोयोटिक द्रव लीक होना

एम्नियोसेंटेसिस के बाद एम्नियोटिक द्रव लीक हो सकता है। यदि रिसाव बंद हो जाता है तो गर्भावस्था सामान्य रूप से आगे बढ़ने की संभावना है। यदि रिसाव बंद नहीं होता तो बच्चे में लिए अस्थि-विकार संबंधी विकार हो सकता है।

आरएच संवेदीकरण Rh sensitization

एम्नियोसेंटेसिस से बच्चे और मां का खून में मिल सकता है। यदि आरएच नेगेटिव माँ खून का खून आरएच पॉजिटिव बच्चे से मिल जाता है तो समस्या हो सकती है। ऐसे में एम्नियोसेन्टेसिस के बाद आरआईएच इम्यूनोग्लोब्युलिन नामक एक दवा दी जाती है जिससे बच्चे के रक्त कोशिकाओं के प्रति एंटीबॉडी तैयार करने से रोका जा सके।

इसे भी पढ़ें -  आरएच फैक्टर Rh factor और गर्भावस्था

गर्भपात

दूसरी तिमाही में अमीनोसेंटिस करने से गर्भस्राव का मामूली जोखिम होता है – 1 में 300 और 1 में 500 में। रिसर्च बताती है 15 सप्ताह से पहले एम्नियोसेंटेसिस कराने पर गर्भपात का रिस्क अधिक रहता है।

 बच्चे को संक्रमण या चोट

एम्नियोसेंटेसिस के दौरान सुई से बच्चे के हाथ या पैर में चोट लग सकती है। गंभीर सुई की चोटें दुर्लभ हैं।

यदि महिला को कोई संक्रमण है – जैसे हेपेटाइटिस सी, टोक्सोप्लाज्मोसिस या मानव इम्युनोडिफीसिअन्सी वायरस – तो यह संक्रमण बच्चे को एम्निओसेंटिस के दौरान स्थानांतरित हो सकता है।

एम्नियोसेन्टेसिस कैसे करते हैं?

एम्नियोसेंटेसिस टेस्ट के लिए, डॉक्टर अपॉइंटमेंट के अनुसार बुलाता है। यदि गर्भावस्था 20 सप्ताह से के आस-पास है, तो अल्ट्रासाउंड के लिए आपका मूत्राशय भरा होना चाहिए। अपनी अपॉइंटमेंट से पहले बहुत सारे तरल पदार्थ पीयें।

गर्भावस्था के 20 हफ्तों के बाद, आपका मूत्राशय अमोनीओसेंटिस के दौरान खाली होना चाहिए।

परीक्षण से पहले, आपके रक्त के प्रकार और आरएच कारक जानने के लिए रक्त लिया जा सकता है यदि आप आरएच नकारात्मक हैं, तो आपको Rho (D) इम्यून ग्लोब्युलिन (RhoGAM और अन्य ब्रांड) नामक दवा का एक शॉट मिल सकता है।

  • महिला का अल्ट्रासाउंड किया जाता है और सिरिंज के प्रयोग के लिए रास्ता तय किया जाता है।
  • पेटपर एंटीसेप्टिक घोल लगा कर साफ़ करते हैं।
  • सिरिंज को गर्भाशय में प्रवेश कराते हैं। थोड़ी मात्रा में तरल पदार्थ (लगभग 4 चम्मच या 20 मिलीलीटर) निकालते हैं।
  • प्राप्त तरल को टेस्ट के लिए लैब भेजते हैं।

द्रव एक प्रयोगशाला में भेजा जाता है। परीक्षण में शामिल हो सकते हैं:

  • आनुवांशिक अध्ययन
  • अल्फा- फेफ्रोप्रोटीन (एएफपी) के स्तर का मापन (विकासशील बच्चे के यकृत में उत्पादित पदार्थ)
  • संक्रमण के लिए कल्चर

आप अमीनोओन्टिसिस के दौरान या कार्यविधि के कुछ घंटों के लिए मासिक धर्म की तरह ऐंठन या बेचैनी महसूस कर सकते हैं। अमीनोसेंटिस के परिणाम आम तौर पर 2-3 सप्ताह में उपलब्ध होते हैं। एम्नियोसेंटेसिस के बाद, घर जाकर और शेष दिन के लिए आराम करना चाहिए। आपको किसी भी तरह का भारी काम नहीं करना चाहिए, न ही बच्चों को उठाना चाहिए तथा पेट पर दबाव पड़ने वाला कोई काम नहीं करना चाहिए।

इसे भी पढ़ें -  प्रीटर्म लेबर, Premature डिलीवरी और समय से पहले जन्म

अगर आप को बुखार, रक्तस्राव, योनि स्राव या पेट के दर्द हो तो अपने चिकित्सक को तुरंत संपर्क करें।

आनुवांशिक amniocentesis विभिन्न आनुवंशिक स्थितियों का निदान कर सकते हैं, जैसे डाउन सिंड्रोम। यदि amniocentesis से पता लगता है कि बच्चे को गुणसूत्र या आनुवंशिक स्थिति है जिसका इलाज नहीं किया जा सकता है, तो महिला और उसके परिवार को निर्णय लेना होगा कि गर्भावस्था को जारी रखना है या नहीं। परिपक्वता के लिए amniocentesis, परीक्षण के परिणाम से बच्चे के फेफड़े की परिपक्वता का संकेत मिलता है। यदि आपको बच्चा को जल्दी ही देने की आवश्यकता है, तो यह जानकारी आश्वासन देती है कि आपका बच्चा जन्म के लिए तैयार है।

In Amniocentesis, amniotic fluid (fluid that surrounds and protects a baby during pregnancy) is taken from the uterus for testing or treatment. Amniotic fluid contains fetal cells and various chemicals produced by the baby and helps to find genetical abnormalities such as Down syndrome and spina bifida, baby’s lungs maturity and infection or other illness in fetus.

This is not a routine test. This test is available in few selected hospitals only.

The result of Genetic amniocentesis helps to take decision, whether to continue pregnancy or not.

Amniocentesis rarely causes harm to either the mother or her baby in the long term. Amniocentesis is only performed on women thought to be at higher risk of delivering a child with a birth defect.

Complications following amniocentesis are very rare. However, if you experience unusual symptoms, such as bleeding from your vagina, seek medical attention promptly.

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.