पेनिस की टाइट फोरस्किन Tight Penis foreskin (Phimosis and Paraphimosis)

जानिये लिंग की आगे की चमड़ी शख्त हो तो क्या करना चाहिए, Penis foreskin problems in adults and tight foreskin treatment without surgery and stretching exercises in Hindi।

फिमोसिस Phimosis फाइमोसिस, में फोरस्किन के बहुत टाइट होने से, यह पीछे पेनिस (लिंग) के हेड (ग्लांस) penis glans से पीछे नहीं हटती। यह बार-बार होने बैलेनाइटिस का कारण बन सकता है क्योंकि अच्छी स्वच्छता hygiene मुश्किल हो जाती है। इरेक्शन के दौरान फॉरस्किन में घाव हो सकता है और रक्तस्राव हो सकता है। टाइट फॉरस्किन पेशाब में बाधा डाल सकती है। कुछ मामलों में, फॉरस्किन पेशाब से भरने के कारण एक छोटे गुब्बारे सी लग सकती है। बचपन में फॉरस्किन को हटा देना ? बचपन में खतना कराने का फ़ाइमोसिस सबसे आम कारण है।

Loading...

पैराफिमोसिस Paraphimosis, स्थायी रूप से पीछे हटी हुई फोरस्किन को कहते हैं। इसमें फॉरस्किन पीछे हटा देने के बाद अंपनी नार्मल स्थिति में नहीं आ पाती। यह एक एक तंग रबर बैंड की तरह पेनिस को दबाती हैं, जिससे सूजन और दर्द होता है। यह स्थिति वयस्क खतना का दूसरा सबसे आम कारण है।

यह स्थितियां, बच्चो और वयस्कों में दोनों में ही पायी जाती हैं और उपचार कारणों और लक्षणों पर निर्भर है।

Phimosis is a condition where the foreskin is too tight to be pulled back over the head of the penis (glans). Paraphimosis is where the foreskin can’t be returned to its original position after being retracted.

फिमोसिस क्या होता है Phimosis

फाइमोसिस, आमतौर पर शिशुओं और बच्चों में पाया जाता है लेकिन बड़ों adults में भी यह स्किन की स्कार्रिंग के कारण से हो सकता है। यह कोई समस्या नहीं है जब तक इसमें लक्षण न पैदा हों। ज्यादातर बच्चों में दो से छः साल की उम्र में फॉरस्किन को अपने आप ही ग्लांस से अलग हो जाना चाहिए। कुछ लड़कों में यह बाद में अलग होती है लेकिन इसका यह कतई मतलब नहीं है कि कोई समस्या है। कभी भी बच्चों में फॉरस्किन को ज़बरदस्ती पीछे न नहीं खींचा जाना चाहिए क्योंकि इस दर्द हो सकता है, ब्लीडिंग जो सकती है, फोरस्किन डैमेज हो सकती है, इन्फेक्शन हो सकता है और स्कार बनने से यह अधिक चिपक सकती है।

इसे भी पढ़ें -  जानिये गुदा कैंसर क्या होता है और इसकी पहचान कैसे की जाती है?

फिमोसिस कब एक समस्या है?

फिमोसिस में जब तक कोई लक्षण नहीं हैं, कोई समस्या नहीं है। यदि लक्षण हो रहें हैं जैसे कि लाली, सूजन, दर्द आदि तो समस्या है। बच्चे के पेनिस के हेड में सूजन हो, फोरस्किन के नीचे थिक डिस्चार्ज balanitis (inflammation of the head of the penis) दिखे तो डॉक्टर से संपर्क करें।

सही हाइजीन रखें, क्रीम लगायें और डॉक्टर के निर्देशानुसार उपचार करें।

यदि बैक्टीरियल इन्फेक्शन होगा तो एंटीबायोटिक की भी ज़रूरत होगी।

बड़ों में यदि इस प्रकार की समस्या देखी जाती हैं तो, यह यौन संचारित रोग के कारण से हो सकती है। इसके अतिरिक्त यह एक्जिमा, सोराइसिस, अन्य कारण से lichen planus, lichen sclerosus से हो सकती है।

बच्चे में यदि पेनिस पर स्किन टाइट हो तो क्या करें?

पेरेंट्स को पेनिस की टाइट फोरस्किन को जबरदस्ती नहीं खींचना चाहिए।

इससे बच्चे को न केवल दर्द होता हैं बल्कि चोट भी लग सकती है। इससे आप जब भी स्किन को खींचेंगे, तो छोटा घाव हो सकता है, ब्लीडिंग दिख सकती है और घाव की जगह पर स्कार टिश्यू बनते हैं। स्कार टिश्यू से फोरस्किन मजबूती से हेड पर अटैच हो सकती है। यह स्थिति अक्वायर्ड या पैथोलॉजिकल फिमोसिस acquired or pathological phimosis कहलाती है। हो सकता है की यह वापस से आगे न बढ़े और बच्चे को पैराफिमोसिस की समस्या हो जाए।

बच्चे जब छोटे होते हैं तो यह बिलकुल जरुरी नहीं है की फोरस्किन को हटाकर ही पेनिस की सफाई की जाए। इसे बाहर से ही धो देना पर्याप्त है।

किसी भी स्थिति में इसे रूई से न साफ़ करें, रोई पेनिस के स्पेस में फंस सकती है और संक्रमण कर सकती है।

कई मामलों में जब पेरेंट्स फोरस्किन को पीछे हटाने की कोशिश करते हैं तब तो यह हट जाती है लेकिन बाद में अपनी स्थिति में वापस आ जाती है और जब बच्चा यूरिन करता हैं तो यह यूरिन पेनिस के अंदर रुक जाता है और यह बैलून की तरह फूल जाता है। इस तरह की किसी भी समस्या में अस्पताल में भरती करने की भी नौबत हो सकती है।

इसे भी पढ़ें -  गर्भनिरोधक इंजेक्शन के फायदे, नुकसान और लगवाने का तरीका

इसलिए, कृपया ज़बरदस्ती फोरस्किन पुल न करें। यदि आप ज्यादा कंसर्न हैं तो डॉक्टर से सलाह लें। ट्रीटमेंट बच्चे की उम्र, समस्या, समस्या के कारण आदि पर निर्भर है।

स्टेरॉयड क्रीम से टाइट स्किन Treating the tight foreskin with steroid cream का इलाज़ कैसे करते हैं?

गैर-सर्जिकल उपचार में, एक स्टेरॉयड क्रीम चार से आठ सप्ताह की अवधि के दौरान दिन में दो बार फोरस्किन की टिप पर लगाई जाती है।

स्टिरॉइड क्रीम त्वचा के फैलने को आसान बनाती है। दो सप्ताह के बाद, बच्चे या उसके माता-पिता एक दिन में धीरे-धीरे चमड़ी को आगे बढ़ाने की कोशिश करना शुरू कर सकते हैं।

इस में फोरस्किन को केवल इतना ही खींचा जाना चाहिए जितने में दर्द न हो और चोट न लगे। त्वचा को धीरे से फैलाने के लिए महत्वपूर्ण है ताकि ऊतक को नुकसान न पहुंचे। एक बार जब चमड़ी को थोड़ी देर तक खींच लिया जा सकता है, तो क्रीम ग्लान्स के सामने वाले भाग पर भी लगाई जा सकती है। फिर चमड़ी को अपनी सामान्य स्थिति में वापस कर दिया जाता है।

पैराफिमोसिस Paraphimosis

Loading...

पैराफाइमोसिस Paraphimosis, में एक बार फोरस्किन को पीछे खींच दिए जाने पर वह अपने आप आगे नहीं बढ़ पाती। इससे दर्द, सूजन और कई मामलों में पेनिस में खून का दौरा कम होने के कारण इमरजेंसी ट्रीटमेंट की भी ज़रूरत पड़ सकती है।

पैराफिमोसिस का क्या इलाज है?

पैराफिमोसिस में अनेस्थेटिक क्रीम लगा कर ग्लांस दबाकर स्किन को आगे ग्लांस की तरफ बढ़ाया जाता है। कुछ मामलों में फोरस्किन पर कट भी लगाना पड़ सकता है। इस समस्या में भी समस्या की गंभीरता को देखते हुए खतना / सरकमसाईजेशन किया जा सकता है क्योंकि कुछ गंभीर मामलों में पेनिस में खून का दौरा न होने से गंग्रीन हो सकता है।

टाइट स्किन में कौन सी दवाएं दी जाती हैं?

टोपिकल स्टेरॉयड Topical steroids (a cream, gel or ointment that contains corticosteroids) बाह्य रूप से लगाई जाती हैं।

इसे भी पढ़ें -  गुप्तांग डार्क क्यों होते हैं Dark Private Parts and What You Can Do

वयस्कों में होने पर सेक्स के दौरान कंडोम के प्रयोग से आराम रह सकता है।

यदि इसके कारण बार-बार सूजन, दर्द आदि रहता है तो balanitis or balanoposthitis

खतना Circumcision (surgically removing part or all of the foreskin) का सुझाव भी दिया जा सकता है जिसमें फोरस्किन को सर्जरी से हटा दिया जाता है।

पेनिस की देखभाल कैसे की जाए?

  1. कुछ ऐसी सामान्य सी चीजें हैं जो आप स्वयं की देखभाल करने के लिए कर सकते हैं:
  2. नहाते समय पेनिस को भी साफ़ करें। इस संवेदनशील हिस्से को कभी रगड़ कर को साफ़ न करें।
  3. सरकमसाईजेशन हुआ है तो गर्म पानी से रोजाना पेनिस साफ़ करें।
  4. बच्चों में फॉरस्किन न खींचे क्योंकि यह स्किन को नुकसान कर सकता है और इन्फेक्शन का कारण बन सकता है।
  5. अगर साबुन इस्तेमाल करना है तो बिना खुशबू का माइल्ड सोप ही इत्सेमाल करें।
  6. पाउडर, डियो का प्रयोग नहीं करें।
  7. सुनिश्चित करें कि आपका अंडरवियर पहनने से पहले ठीक से धोया गया, पूरी तरह से साफ हो गया और पूरी तरह से सूख गया।
  8. सुनिश्चित करें कि आप अपने हाथों को मूत्र से पहले या अपने लिंग को छूने से के बाद धो लें।
  9. अंडरवियर को दैनिक बदलें।
Loading...

2 Comments

  1. My penis is lose and semen is also not out more

  2. I want to know how to solve promlem of foreskin cut.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

error: Content is protected !!