अंडकोषों की चोट का इलाज Testicular Injuries Treatment

जानिये अंडकोषों की चोट का इलाज कैसे कराएँ, इनके लक्षण क्या होते हैं, अगर ज्यादा चोट लगी है तो क्या नुक्सान हो सकता है। Testicular Injuries symptoms, treatment and effects in Hindi. अंडकोष की सूजन, दर्द का इलाज।

पुरुषों और लड़कों में, अंडकोष बहार स्किन की थैली में लटकता है, चूंकि अंडकोष बहार त्वचा में लटकते रहते हैं इसलिए किस दुर्घटना की वजह से उनमें चोट लगाने की संभावना बहुत बढ़ जाती है।

Loading...

अण्डकोषों की छोटो में ७५% छोटे अचानक से लगाती हैं जैसे की कुछ उदहारण नीचे दिए गए हैं

  • किसी ने लात मार दी हो
  • बेसबाल या बैट से टक्कर हो गयी हो
  • मोटरसाइकिल दुर्घटना
  • साइकिल दुर्घटना

अन्य दुर्घटनाओं से कट या अंडकोश की थैली में छेद हो सकता है और अंडकोष घायल हो सकते हैं। ये चोटें जानवर के काटने, गोली के घाव, और मशीनरी की दुर्घटनाओं में शामिल हैं।

अंडकोषों की चोट के प्रकार

वृषण (टेस्टिस) की चोट विभिन्न समस्याएं पैदा कर सकती है । ऐसा इसलिए है क्योंकि अंडकोष ऊतक के विभिन्न प्रकार के बने होते हैं और अंडकोश की थैली से जुड़े होते हैं।

टेस्टिस की चोटें निम्न प्रकार की होती हैं

  1. बहुत तेज चोट जिसकी वजह से अंडकोष की थैली को नुकसान पहुंचे और अण्डकोषों में चोट लग जाए, इसको टूट जाना कहते हैं।
  2. कभी कभी अण्डकोषों की थैली चोट की वजह से फट जाती है और अंडकोष फट जाते हैं, इसे अंडकोषों का फ्रैक्चर कहते हैं।
  3. जब चोट की वजह से अण्डकोषों की रक्त धमनिया घायल हो जाती है तो इसे constusion कहते हैं जिसमे की अंडकोष नीले पद जाते हैं और खून बहता है।
  4. एक नली जिसे spermatic cord कहते हैं जो पेट से अन्डकोशों की तरफ रक्त ले जाती है। अंडकोष की थैली में चोट की वजह से मुड़ जाती है जिसे torsion कहते हैं। Torsion बिना चोट के अचानक से अपने आप भी हो सकता है।
  5. कभी कभी अंडकोष की थैली में खून जमा हो जाता है जिसे Hematocelesकहते हैं
  6. कभी कभी किसी दुर्घटना की वजह से टेस्टिस अपनी थैली से ऊपर खिसक जाता है पेट की तरफ। ऐसा कभी कभी किसी motercycle चलते वक़्त चोट लगाने से होता है जिसे Dislocation कहते हैं।
  7. कभी कभी किसी कीड़े के कटाने की वजह से अंडकोष की थैली में इन्फेक्शन भी हो सकता है।
  8. कब्गी कभी दुर्घटना की वजह से अंडकोष की थैली फट जाती है जिससे पूरी चमड़ी उतर जाती है है इसको Degloving कहते हैं।
इसे भी पढ़ें -  विगेलिस Vegalis - 10 for Women Uses, Benefits, Side Effects, Dosages, Warnings in Hindi

Testicular अंडकोषों की चोट के लक्षण

Loading...

जैसा की सभी मर्द और लडके जानते हैं की अंडकोषों की छोड़ में बहुत दर्द होता है, कभी कभी यह दर्द पेट में भी होता है।
दुसरे लक्षण निचे दिए गए हैं:

  1. उलटी या मतली होना
  2. अंडकोषों के रंग में बदलाव
  3. अंडकोषों में सूजन
  4. पेसब में खून का आना
  5. पेसाब करने ने कठिनाई होना
  6. बुखार

Testicular अंडकोषों की चोट का परीक्षण

अगर आप को एक या उससे ज्यादा चोट लगी है तो आप को डॉक्टर को जरूर दिखाना चाहिए, अगर ज्यादा चोट की वजह से अंडकोष की थैली फटी है तो आप को तुरंज हॉस्पिटल जाना चाहिए।

बहुत तेज चोट लगाने की वजह से आप के अंडकोष को निकलना भी पद सकता है या वो सिकुड़ सकते हैं, इसके आप नपुंसक भी हो सकते हैं, तुरंत डॉक्टर को दिखने से अन्डकोशों को बचाया जा सकता है।

तुरंत इलाज से आप को आराम मिल सकता है और आप जल्दी अपनी नार्मल एक्टिविटी कर सकते हैं

अन्डकोशों की चोट के परीक्षण के लिए डॉक्टर आप की मेडिकल हिस्टरी पूछेगा और चोट कैसे लगी है उसके बारे में बताना होगा, आप को डॉक्टर से निम्न बाते करनी चाहिए:

  1. कब चोट लगी
  2. कैसे चोट लगी
  3. चोट लगाने का बाद कैसा महशूस हुआ
  4. अब कैसा लग रहा है

आप को कभी और भी पेनिस, टेस्टिस में कोई समस्या हुई है हो सकता है आप को शर्म आये लेकिन डॉक्टर को सारी बाते सही सही बतानी चाहिए

डॉक्टर आप के अन्डकोशों की जांच भी कर सकता है और साथ में पेनिस और शरीर के दुसरे अंगों की भी जांच कर सकता है

  • कुछ स्थितियों में डॉक्टर अल्ट्रासाउंड और MRIभी कर सकता है।
  • कुछ परिस्थितियों में डॉक्टर किसी शर्जन से ऑपरेशन भी करा सकता है

Testicular अंडकोषों की चोट इलाज

कुछ तरह की छोटो का इलाज निचे दिया गया है:

  • बर्फ की थैली से अन्डकोशों की सिकाई
  • कुछ दिनों का आराम
  • दर्दनिवारक दवाएंऔर सूजन कम करने की दवाएं
  • अगर कोई इन्फेक्शन है तो Antibiotics दवाएं
  • jockstrap को पहनना
इसे भी पढ़ें -  अच्छे से सेक्स करने के लिए ब्यायाम

अगर बहुत ज्यादा चोट की वजह से घाव हो गया है तो डॉक्टर ऑपरेशन करेनेगे और उसके साथ इलाज होगा

Testicular अंडकोषों की चोट से बचाव

  1. हमेशा motorcycles and bicycles चलते समय सावधानी बरतें
  2. कार में हों तो हमेशा सीट बेल्ट पहने
  3. अगर किसी मशीन पर काम करते हो तो हमेशा सावधानी बरतें
Loading...

4 Comments

  1. Mera daya andkosh sota h or daya andkosh bada h dard kabhi nahi hota h pr vo unbalance h iska kiya upay h

  2. Ghanashyam Thapa

    Why paining my left side testicle

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

error: Content is protected !!