ओरकाइटिस (Orchitis) अण्डकोष की सूजन Orchitis

जानिये ओरकाइटिस orchitis क्या होती है और इसके लक्षण कौन कौन से होते हैं। ऑर्काइटिस orchitis के रिस्क फैक्टर्स क्या क्या होते हैं और ऑर्काइटिस orchitis इसका इलाज कैसे कराया जाता है। Orchitis treatment with antibiotics.

ओरकाइटिस, एक या दोनों अंडकोष की सूजन inflammation of one or both of the testicles के लिए प्रयोग की जाने वाली मेडिकल टर्म है। इसे एपिडाइडिमो ऑर्काइटिस या टेस्टिस संक्रमण Epididymo orchitis, Testis infection के नाम से भी जानते हैं। यह स्थिति मुख्य रूप से बैक्टीरियल इन्फेक्शन या मम्प्स के वायरस के कारण हो सकती है।

बैक्टीरियल ऑर्काइटिस, सेक्सुअली ट्रांसमिटेड इन्फेक्शन जैसे की सूजाक या क्लैमाइडिया gonorrhea or chlamydia के कारण हो सकता है। बैक्टीरियल ऑर्काइटिस अक्सर एपीडाईडिमिस (टेस्टिकल के पीछे की ट्यूब्स की सूजन) में भी हो सकता है और उस समय इसे एपिडाइडिमो ऑर्काइटिस कहते हैं।

ओर्किटिस से दर्द होता है और टेस्ट्स का संक्रमण होने के कारण यह पुरुष फर्टिलिटी को भी एफेक्ट कर सकता है। बैक्टीरियल ऑर्काइटिस, में दवाएं देने से कारण का इलाज़ हो सकता है और वायरल ऑर्काइटिस में लक्षणों में आराम मिल सकता है। इस स्थिति के कारण वृषण कोष के दर्द और तकलीफ को दूर होने में कई सप्ताह लग सकते हैं।

Orchitis inflammation of one or both of the testicles by infection. It can be caused due to bacterial or viral infection. Bacterial orchitis can be caused by sexually transmitted infections (STIs), particularly gonorrhea or chlamydia. Viral orchitis is caused by mumps virus.

Orchitis in children is caused by infection with the mumps virus.

Orchitis caused by a bacterial infection most commonly develops from the progression of epididymitis, an infection of the tube that carries semen out of the testicles. This is called epididymo-orchitis. Epididymitis is inflammation of the tube that joins the testicle with the vas deferens. This is usually caused by a sexually transmitted infection in young males.

In mumps-related orchitis shrinkage of testicles takes place and an estimated 1 in 10 men experience a drop in their sperm count.

Orchitis treatment involves Antibiotics, Anti-inflammatory, Pain medicines and rest.

ऑर्काइटिस के अन्य नाम क्या हैं?

इसे भी पढ़ें -  टेस्टिकुलर टॉर्जन Testicular Torsion Information, Symptoms and Treatment in Hindi

ऑर्काइटिस को एपिडाइडिमो ऑर्काइटिस या टेस्टिस संक्रमण Epididymo orchitis, Testis infection के नाम से जाना जाता है।

ओरकाइटिस (Orchitis) के कारण क्या हैं?

ऑर्काइटिस संक्रमण के कारण हो सकता है। कई प्रकार के बैक्टीरिया और वायरस इस स्थिति को पैदा कर सकते हैं।

Bacterial orchitis

ऑर्काइटिस प्रोस्टेट या एपिडीडिमिस epididymitis के संक्रमण के साथ भी हो सकता है।

ऑर्काइटिस यौन संचारित संक्रमण (एसटीआई) जैसे की सूजाक या क्लैमाइडिया के कारण भी होता है। 1 9 से 35 साल के पुरुषों में यौन संचारित ऑर्काइटिस या एपिडीडिमिटिस की दर अधिक है।

Viral orchitis

ऑर्काइटिस का सबसे आम कारण है मम्प्स mumps virus है। यह अक्सर प्यूबर्टी के बाद लड़कों में होता है।

मम्प्स होने के बाद ऑर्काइटिस अक्सर 4 से 6 दिनों होता है। बचपन के टीके के कारण मंप अब नहीं होता है।

यौन संचारित ऑर्काइटिस (Orchitis) के रिस्क फैक्टर्स क्या है?

  1. उच्च जोखिम वाला यौन व्यवहार
  2. एकाधिक यौन साथी Multiple sexual partners
  3. गोनोरिया या एसटीआई का इतिहास
  4. एसटीआई वाला यौन साथी Sex with a partner who has an STI आदि।

बिना यौन संचारित ऑर्काइटिस (Orchitis) के रिस्क फैक्टर्स क्या है?

  1. 45 वर्ष की आयु से अधिक होना
  2. फोले कैथेटर Foley catheter का दीर्घकालिक उपयोग
  3. मम्प टीका नहीं लगाया जाना not vaccinated against mumps
  4. मूत्र पथ की समस्याएं (जन्मजात) congenital problems of the urinary tract
  5. मूत्र पथ के संक्रमणgenitourinary surgery
  6. मूत्र पथ की सर्जरी genitourinary surgery आदि।

ओरकाइटिस (Orchitis) के लक्षण क्या हैं?

लक्षणों में शामिल हैं:

  1. अंडकोष में दर्द Swelling in one or both testicles
  2. दर्द Pain ranging from mild to severe
  3. जी मिचलाना और उलटी Nausea and vomiting
  4. वीर्य में रक्त blood in semen
  5. शिश्न से स्राव discharge from penis
  6. बुखार fever
  7. कमर दर्द waist pain
  8. संभोग या स्खलन के साथ दर्द pain during sex
  9. पेशाब के साथ दर्द (डिस्सूरिया) painful urination
  10. वृषण की सूजन swelling in scrotum
  11. ग्रोइन एरिया में सूजन swelling in groin
  12. अंडकोष में सूजन, भारी लगना swelling in testes आदि।
इसे भी पढ़ें -  क्लीन एंड ड्राई इंटिमेट Clean and Dry Intimate Wash

ओरकाइटिस (Orchitis) के लिए परीक्षाएं और टेस्ट कौन से हैं?

शारीरिक परीक्षा

  1. बढ़े हुई प्रोस्टेट ग्रंथि
  2. प्रभावित में बढ़े लिम्फ नोड्स
  3. बढ़े हुए अंडकोष

टेस्ट में शामिल हो सकते हैं:

  1. पूर्ण रक्त गणना (सीबीसी ) Complete blood count (CBC)
  2. टेस्टिक्युलर अल्ट्रासाउंड Testicular ultrasound
  3. क्लैमाइडिया और गोनोरिया टेस्ट chlamydia and gonorrhea test
  4. मूत्र-विश्लेषण Urinalysis
  5. यूरीन कल्चर Urine culture
  6. अल्ट्रासाउंड Ultrasound

ओरकाइटिस (Orchitis) के लिए क्या इलाज उपलब्ध है?

उपचार में शामिल हो सकते हैं:

एंटीबायोटिक्स, यदि संक्रमण बैक्टीरिया Treating bacterial orchitis के कारण होता है (गोनोरिया या क्लैमाइडिया के मामले में, यौन पार्टनर्स का भी इलाज होना चाहिए।) वायरल ऑर्काइटिस Treating viral orchitis में लक्षणों के लिए दवा दी जाती है।

  1. सूजन को दूर करने के लिए एंटीइन्फ्लेमेटरी दवाएं
  2. दर्द दूर करने की दवाएं
  3. अंडकोश थैली पर बर्फ पैक लगाना
  4. भारी सामान न उठाना
  5. जब तक यह ठीक न हो जाए सेक्स न करना
  6. बिस्तर पर स्क्रोटम को उंचा रख आराम करना आदि।
  7. जिन पुरुषों को मम्प (मम्प्स ऑर्काइटिस) के कारण ऐसा होता है वे बाँझ हो सकते हैं।

For acute epididymitis most likely caused by sexually transmitted chlamydia and gonorrhea,

Ceftriaxone 250 mg IM in a single dose + Doxycycline 100 mg orally twice a day for 10 days.

For acute epididymitis most likely caused by sexually-transmitted chlamydia and gonorrhea and enteric organisms (men who practice insertive anal sex)

Ceftriaxone 250 mg IM in a single dose + Levofloxacin 500 mg orally once a day for 10 days.

OR

Ofloxacin 300 mg orally twice a day for 10 days.

For acute epididymitis most likely caused by enteric organisms:

Levofloxacin 500 mg orally once daily for 10 days.

OR

Ofloxacin 300 mg orally twice a day for 10 days.

ऑर्काइटिस (Orchitis) की संभावित जटिलतायें क्या हैं?

  1. जिन्हें मम्प्स के कारण टेस्टिकल की सूजन होती है, उनकी टेस्ट्स सिकुड़ सकती हैं जिससे इनफर्टिलिटी हो सकती है।
  2. पुरानी एपिडाइडाइसाइटिस Chronic epididymitis
  3. वृषण के ऊतक नष्ट हो जाना Death of testicle tissue (testicular infarction)
  4. सक्रोटम की चमड़ी पर फिस्टुला होना Fistula on the skin of the scrotum (cutaneous scrotal fistula)
  5. स्कॉटल फोड़ा Scrotal abscess
  6. पुरुष बाँझपन male infertility
इसे भी पढ़ें -  योनि में उंगली – Fingering जानकारी, सावधानी और नुकसान

कब डॉक्टर से संपर्क करें?

अगर आपको वृषण समस्याएं हैं तो परीक्षा के लिए डॉक्टर को दिखाएँ।

अगर आपको वृषण में अचानक दर्द हो तो आपातकालीन चिकित्सा सहायता प्राप्त करें।

ओरकाइटिस (Orchitis) का निवारण क्या है?  इससे कैसे बचा जाए?

  1. मम्प के खिलाफ टीकाकरण प्राप्त करें।
  2. यौन संचारित रोगों को न होने दें।
  3. एसटीआई के जोखिम को कम करने के लिए सुरक्षित यौन व्यवहार करें।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.