केवल एक अंडकोष (मोनोरचिज़म) Monorchism जानकारी, लक्षण और इलाज़

मोरोज विज्ञान एक ऐसी स्थिति है जिसमें पुरुष का केवल एक वृषण होता है। इसमें कई कारण हो सकते हैं। इस स्थिति में भंग भ्रूण के विकास का नतीजा हो सकता है, या विभिन्न कारणों से जीवन में बाद में एक वृषण निकल सकता है।

पुरुषों में जब केवल एक अंडकोष होता है तो इस समस्या को मेडिकल भाषा में मोनोर चिज़म / मोनोर चिसम Monorchism (also monorchidism) या मोनोरचिज़म कहा जाता है। सामान्य मेल में दो टेस्टिकल/ टेस्ट्स होते हैं जबकि मोनोरचिसम की स्थिति में केवल एक ही टेस्टिकल या बाल मौजूद होती है।

Loading...
सिर्फ एक अंडकोष का होना

पुरुष प्रजनन अंग – Testis

पुरुषों के प्रजजन अंगों में वृषण Testis दो कोमल और अंडाकार, बॉल जैसी संरचनाएं है। वृषण को टेस्टिस, फ़ोता, शुक्र ग्रन्थि या वीर्यकोष भी कहते हैं।

ये सामान्य स्थिति में जोड़ी में होते हैं तथा उदर गुहा के बाहर एक थैलीनुमा सैक में लटके हुए होते हैं। जिस थैली में यह लटकते हैं उसे वृषणकोष या सक्रोटम या स्क्रोटल सैक Scrotal sac कहते हैं। वृषणकोष या सक्रोटम, शरीर के कुछ दूरी पर टांगों के बीच और पेनिस के आधार पर जुड़ता है।

टेस्ट्स अनेक कुंडलित नालिकायों से बने होते है जिन्हें शुक्रजनन नलिकाएं semniferous tubules कहते हैं। टेस्टिकल के अंदर ही स्पर्म बनते हैं। यह स्पर्म जीवित कोशिकाएं हैं और पेनिस से स्खलन होने पर बाहर आते हैं। मादा प्रजजन अंग में यह आगे बढ़ते हुए अंडाणु तक पहुँच कर उसे निषेचित करते हैं। निषेचित अंडाणु ही विकसित होकर शिशु के रूप में जन्म लेता हैं।

टेस्टिकल लटके हुए क्यों होते हैं?

Loading...

टेस्ट्स, के सक्रोटल सैक में लटकने का कारण है। इंसान एक स्तनपाई जीव है जिसके शरीर का ताप अधिक होता है। शरीर के अधिक ताप से स्पर्म उदर गुहा में परिपक्व नहीं हो सकते। इन स्पर्म सेल्स के मेचुरेशन के लिए कम तापमान चाहिए। इसलिए मेल्स में टेस्ट्स शरीर के बाहर थैले में होते हैं।

इसे भी पढ़ें -  एमोक्सिसिलिन Amoxicillin गर्भावस्था में यूज़

वृषण कोष का तापमान शरीर के नार्मल तापमान से 3 डिग्री कम होता हैं। स्क्रोटल सैक तापक्रम को नियमित करने का काम करते हैं।

सर्दियों में यह सिकुड़ जाते हैं और गर्मियों में ढीले हो जाते हैं। सर्दियों में तापमान कम हो जाता जिससे डारटॉस पेशी सिकुड़ जाती है और वृषणकोष छोटा हो जाता है जिससे त्वचा मोटी हो जाती हैं, साथ ही क्रीमेस्टर पेशियाँ स्क्रोटम को शरीर के पास खीच लेती हैं जिससे शरीर का ताप भी टेस्ट्स तक जाता है और सैक का तापमान सही बना रहता है।

गर्मियों में पेशियाँ ढीली होजाती हैं और तापमान समान बना रहता है।

मोनोरचिसम किसे कहते हैं?

  • मोनोरचिसम वह मेडिकल कंडीशन है जिसमें किसी पुरुष के स्क्रोटल सैक में केवल एक ही बॉल या टेस्ट्स होता है।
  • इसे महसूस कर, देख कर या इमेजिंग परीक्षण, जैसे कि अल्ट्रासाउंड या सीटी स्कैन, आदि से कंफ़र्म किया जा सकता है।

मोनोरचिज़म के लक्षण क्या है?

  • देखने पर या छूने पर स्क्रोटम में एक टेस्ट्स ही महसूस होती है।
  • ज्यादातर मामलों में, स्क्रोटम में उपस्थित केवल एक ही वृषण के अलावा कोई लक्षण नहीं होते हैं।
  • केवल एक वृषण only one testicle in the scrotum
  • बांझपन infertility

मोनोरचिज़म क्यों होता है? कुछ पुरुषों में केवल एक ही बॉल क्यों होती है? एक टेस्ट्स होने का क्या कारण है?

मोनोरचिसम होने के तीन मुख्य कारण हैं:

क्रिप्टॉर्चिडिज्म Cryptorchidism / undescended testicle

क्रिप्टॉर्चिडिसम, सिर्फ एक या दोनों अंडकोश की अनुपस्थिति को कहते है। यह अवस्था भ्रूण के विकास के दौरान उत्पन्न होती है। यह पुरुष जननांग का सबसे आम जन्म दोष है। क्रिप्टॉर्चिडिज्म का शाब्दिक अर्थ छिपी या अस्पष्ट वृषण।

आम तौर पर इसमें सिर्फ एक वृषण प्रभावित होता है, लेकिन लगभग 10 प्रतिशत मामलों में दोनों ही अंडकोष प्रभावित होते हैं।

गर्भ में बच्चे के विकास के दौरान, पेट की गुहा में अंडकोष उत्पन्न होते हैं, और वे आम तौर पर 28 सप्ताह पर इनगनल कैनाल के माध्यम से अंडकोश की थैली (वृषणकोश scrotum) में उतरते हैं। जब एक या दोनों अंडकोश नीचे नहीं उतरते तो क्रिप्टॉर्चिडिसम, हो जाता है।

इसे भी पढ़ें -  इंस्टा किट गर्भपात की दवा Insta Kit for Abortion

यह समस्या समय से पहले जन्मे बच्चे में काफी आम हैं। ऐसा पूर्णकालिक शिशुओं में कम देखा जाता है।

अधिकांश समय,पैदा होने के कुछ महीनों में, अपने आप ही अंडकोश उचित स्थिति में आ जाता है। यदि यह स्थिति स्वयं से ठीक नहीं होती है, तो सर्जरी की जा सकती है।

एक सदी से ज्यादा शोध के बावजूद, क्रिप्टोरचाइडिज्म के कई पहलुओं को अच्छी तरह से परिभाषित नहीं किया जा सका है। अनुपचारित क्रिप्टोग्राफीवाद स्पष्ट रूप से समय के साथ वृषण पर हानिकारक प्रभाव पड़ता है।

क्रिप्टॉर्चिडिज्म होने का सटीक कारण ज्ञात नहीं है। आनुवंशिकी, मातृ स्वास्थ्य और अन्य पर्यावरणीय कारकों का संयोजन हार्मोन, शारीरिक परिवर्तन और तंत्रिका गतिविधि को प्रभावित कर सकता है जो अंडकोष के विकास को प्रभावित करते हैं।

अंडकोष के लिए सामान्य रूप से विकसित होने और काम करने के लिए, उन्हें सामान्य शरीर के तापमान से थोड़ा कूलर होना चाहिए। क्रिप्टॉर्चिडिसम की जटिलताओं में प्रजनन समस्याएं शामिल हैं।

साथ ही पेट के गुहा के भीतर उच्च तापमान का अंडकोष पर नकारात्मक प्रभाव पड़ता है। उपचार के बिना, यह प्रजनन समारोह को जन्म दे सकता हैं तथा टेस्ट्स में ट्यूमर के खतरे को बड़ा देता है।

टेस्टिकुलर रिग्रेसेशन सिंड्रोम Testicular regression syndrome, or vanishing testes

भ्रूण के विकास के दौरान, वृषण विकास में होने वाले विभिन्न अवरोधों के कारण टेस्टिस बनने में पूर्ण विफलता हो सकती है और वृषण का बनना रुक सकता है।

इसमें टेस्टिस (टेस्टिस और आसन्न संरचनाओं के रोटेशन, रक्त की आपूर्ति में कमी और गंभीर इस्किमिया पैदा करने के लिए) का मुड़ जाना, टेराटोजोनिक एजेंट (एजेंट जो भ्रूण के विभिन्न अंगों के विकासको रोकते हैं) और चोट लगना शामिल हैं।

भ्रूण में वृषण के ऊतकों को नुकसान प्रतिरक्षा प्रणाली कोशिकाओं को सक्रिय करता है जो फिर वृषण ऊतक को अवशोषित कर लेता है। ऐसे मामलों में, वृषण न तो अंडकोश में, न ही इनगनल कैनाल inguinal canal में मौजूद होता है।

इसे भी पढ़ें -  पीरियड (माहवारी) जल्दी लाने के 14 उपाय How to Get Periods

वृषण का सर्जिकल निष्कासन Surgical removal of the testis

विभिन्न वृषण ट्यूमर के कारण, वृषण को ओरीचुक्टोमी (पिक्चर 3) द्वारा हटाया जा सकता है।

इसमें से दो कारण जन्मजात हैं और उनके बारे में कुछ नहीं किया जा सकता। जबकि वृषण का सर्जिकल निष्कासन मेडिकल रूप से ज़रूरी कारण से किया जाता है।

केवल एक अंडकोष का इलाज़ क्या है?

केवल एक अंडकोष की समस्या यदि Cryptorchidism के कारण है तो ही इलाज़ संभव है। दूसरे किसी भी मामले के लिए कोई इलाज़ नहीं है।

केवल एक अंडकोष, यदि बच्चे में Undescended Testicles (Cryptorchidism) से है तो इसमें orchiopexy surgery की जानी चाहिए।

वयस्कों में, वृषण ट्यूमर के खतरे की वजह से Undescended Testicles को हटाया जाना चाहिए। अनडेसेंटेड टेस्टिकल में वयस्क पुरुष बांझपन से ग्रस्त हो सकते हैं। यह न केवल अनडेसेंटेड टेस्टिकल की क्षति के कारण हो सकता है,बल्कि ऐसा होने से सूजन, हॉर्मोन की स्थिति के अनुसार स्वस्थ वृषण की क्षमता भी कम हो सकती है।

टेस्टिकुलर रिग्रेसन सिंड्रोम और क्रिप्टॉर्चिडिजम से प्रभावित मरीजों में, हालत जन्म से मौजूद होती है और इसलिए गर्भावस्था के दौरान टेराटोजेनिक एजेंटों के संपर्क से बचने से के आलावा किसी अन्य तरीक से इसे नहीं रोका जा सकता है।

क्या केवल एक अंडकोष से यौन प्रदर्शन पर असर होता है?

नहीं, सामान्यतः ऐसा नहीं होता।

क्या केवल एक अंडकोष से बच्चा हो सकता है?

केवल एक ही अंडकोष फर्टिलिटी Less sperm count, sperm motility, and the percentage of normal sperm को निश्चित ही कम देता है। लेकिन फिर भी बच्चा हो सकता है।

एक वृषण ही टेस्टिकल लाखों शुक्राणु पैदा करता है।

यदि कुछ अन्य कारण भी मौजूद हैं और नार्मल तरीके से गर्भावस्था नहीं होती, तो चिकित्सक सहायता प्रजनन (एआरटी) assisted reproduction (ART)के तरीकों का इस्तेमाल करने के लिए रोगी को सुझाव दे सकता है।

आईवीएफ-आईसीएसआई IVF (in vitro fertilization) with ICSI (intracytoplasmic sperm injection) उन जोड़ों में गर्भावस्था करवा सकता हैं, जहां व्यक्ति में एजोस्पर्मिया irreversible testicular azoospermia है, जब वृषणों से शुक्राणु सामग्री को पाना संभव हो।

इसे भी पढ़ें -  ओवुलेशन को पहचानने के सही तरीके

यदि शुक्राणु नहीं बन पा रहे तो उस केस में स्पर्म डोनर का स्पर्म लेकर प्रेगनेंसी करवाई जा सकती है।

Loading...

3 Comments

  1. मेरा एक आंड मेरे पेड़ू में बायीं तरफ है। जो कभी कभी दर्द करता है।उपाय बताएं।

  2. Sir mera ek andkosh h our ek sarir m reh gaya iska kyaa hoga sir m sex to bachche se kar leta hun aage koi problem toh nhi

  3. सर मेरे एक ही andkosh hai kya m joob kar skta hu police ki

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

error: Content is protected !!