क्लोमीफीन Clomiphene Usage in Infertility

क्लोमीफीन के साइड इफ़ेक्ट क्या हैं? क्लोमीफीन का क्या दुष्प्रभाव हो सकता है? क्लोमीफीन का उपयोग कैसे किया जाना चाहिए? क्लोमिड का पांच दिन का कोर्स पूरा करने के करीब 8-10 दिन बाद ओवुलेशन हो सकता है।

क्लोमीफीन या क्लॉमिड Clomifene or Clomiphene 50 mg (Clomifene citrate, Clomid, Milophene, Serophene), उन महिलाओं को दी जाती हैं जिनमें अंडाणु / ओवा, का उत्पादन नहीं होता और वे इस वज़ह से बांझपन से पीड़ित हैं। यह दवाओं के उस वर्ग से है जिन्हें ऑवुलेटरी उत्तेजक कहा जाता है। यह ओवुलेशन ovulation (अंडे का उत्पादन) को प्रेरित करती है और अंडाणु का उत्सर्जन कराती है।

Loading...

क्लोमिड हाइपोथेलेमस पर एस्ट्रोजेन रिसेप्टर्स को अवरुद्ध करके काम करता है, जो शरीर के लिए महत्वपूर्ण हार्मोनल कंट्रोल सेंटर है। जब ऐसा होता है, हाइपोथैलेमस फोलिकल स्टिमुलेटिंग हॉर्मोन (एफएसएच) और ल्यूटिनाइजिंग हार्मोन (एलएच) को रिलीज़ करता है। यह महिला हार्मोन एस्ट्रोजेन की तरह काम करती हैं अंडाणु ओवरी में विकसित हो कर रिलीज़ होते हैं।

क्लोमिड का पांच दिन का कोर्स पूरा करने के करीब 8-10 दिन बाद ओवुलेशन हो सकता है। कुछ लोगों में यह पहले और कुछ में यह बाद में भी हो सकता है। करीब 80 महिलाओं में, इसे लेने के बाद ओवुलेशन देखा जाता है और करीब 10-12 प्रतिशत उसी महीने कंसीव कर लेती हैं। कंसेप्शन हो / गर्भावस्था ठहरे इसके लिए हर दूसरे दिन सेक्स किया जाना चाहिए। ओवुलेशन होने के फौरान बाद यदि स्पर्म मिलेगा तभी प्रेगनेंसी होगी।

क्लोमीफीन का उपयोग कैसे किया जाना चाहिए?

  1. क्लोमीफीन को मुख्य रूप से फीमेल इनफर्टिलिटी के इलाज़ में ओवरी से ओवा निकलने को प्रेरित करने के लिए दिया जा सकता है।
  2. क्लोमीफीन एक गोली के रूप उपलब्ध है। इसे मुंह से पानी के साथ निगल कर लेते हैं।
  3. इसे पीरियड के शुरू होने पर या तीसरे या पांचवे दिन से, दिन में एक बार, पांच दिन के लिए लिया जाता है।
  4. इसे रोजाना एक ही समय पर लेना चाहिए जिससे इसकी समान मात्रा शरीर में रहे।
  5. इसकी ज़रूरत से ज्यादा या कम मात्रा नहीं लेनी चाहिए।
  6. यह बच्चे मेंबर्थ डिफेक्ट कर सकती है। ऐसा न हो इसलिए इसे डॉक्टर की देख रेख में प्रयोग करें।
इसे भी पढ़ें -  सेक्स के बाद योनी (vegina) से ब्लीडिंग होने के कारण

क्लोमीफीन के अन्य उपयोग

Loading...

क्लोमीफेन का प्रयोग कभी-कभी पुरुष बांझपन, मासिक धर्म संबंधी असामान्यताएं, फाइब्रोसिस्टिक ब्रेस्ट और लगातार ब्रेस्टमिल्क male infertility, menstrual abnormalities, fibrocystic breasts, and persistent breast milk production के उत्पादन के लिए किया जाता है। अपनी स्थिति के लिए इस दवा का उपयोग करने के संभावित खतरों के बारे में अपने डॉक्टर से बात करें।

इस दवा को अन्य उपयोगों के लिए निर्धारित किया जा सकता है। अधिक जानकारी के लिए अपने चिकित्सक या फार्मासिस्ट से बात करें।

क्लोमीफीन लेने से पहले, मुझे कौन सी विशेष सावधानियां बरतनी चाहिए?

  1. अपने चिकित्सक को बताएं कि अगर,
  2. क्लोमीफीन या किसी अन्य दवाओं से एलर्जी हो।
  3. विटामिन, पोषण संबंधी खुराक और हर्बल उत्पादों ले रहे हैं।
  4. यकृत रोग, डिम्बग्रंथि अल्सर (पॉलीसिस्टिक अंडाशय सिंड्रोम से छोड़कर), गर्भाशय फाइब्रॉएड, असामान्य योनि ब्लीडिंग, पिट्यूटरी ट्यूमर, या थायरॉयड या अधिवृक्क रोग हो।
  5. गर्भवती हों या स्तनपान कर रही हों।

क्लोमीफीन के साइड इफ़ेक्ट क्या हैं?

इसके सेवन से धुंधला दिखाई दे सकता है। इसलिए गाड़ी नहीं चलाएं या मशीनों का संचालन न करें, खासकर खराब रोशनी में।

इसके सेवन के बाद होने वाली प्रेगनेंसी में जुड़वां या अधिक बच्चे कंसीव हो सकते हैं। इस बारे में डॉक्टर से बात करें।

यदि मैं एक खुराक भूल जाऊं तो मुझे क्या करना चाहिए?

जैसे ही आप याद आए, मिस खुराक को तुरंत लें। हालांकि, यदि अगले खुराक के लिए लगभग समय है, तो दोहरी खुराक न लें। इस बारे में डॉक्टर को बता दें।

क्लोमीफीन का क्या दुष्प्रभाव हो सकता है?

Clomiphene से साइड इफेक्ट्स हो सकते है। अपने डॉक्टर से कहें यदि कोई लक्षण गंभीर हैं या ठीक नहीं हो रहा

  1. उल्टी vomiting
  2. पेट की ख़राबी upset stomach
  3. फ्लशिंग (गर्मी लगना) flushing
  4. योनि से असामान्य ब्लीडिंग abnormal vaginal bleeding
  5. सरदर्द headache
  6. स्तन में दर्द breast discomfort

कुछ दुष्प्रभाव गंभीर हो सकते हैं। निम्नलिखित लक्षण असामान्य हैं, लेकिन यदि आप उनमें से किसी एक का अनुभव करते हैं, तो तुरंत अपने चिकित्सक को फोन करें:

  1. दृश्य स्पॉट या फ्लैश visual spots or flashes
  2. दोहरी दृष्टि double vision
  3. धुंधली दृष्टि blurred vision
  4. पेट दर्द stomach or lower stomach pain
  5. पेट में सूजन stomach swelling
  6. भार बढ़ना weight gain
  7. साँसों नहीं आना shortness of breath
इसे भी पढ़ें -  Low Sperm Count शुक्राणुओं की कमी जानकारी, दवाएं, उपचार

क्लोमीफीन के दीर्घकालिक उपयोग से डिम्बग्रंथि के कैंसर का खतरा बढ़ सकता है।

इसे छह चक्र से अधिक के लिए इस्तेमाल नहीं किया जाना चाहिए।

Clomiphene से अन्य साइड इफेक्ट्स हो सकते हैं। इस दवा को लेते समय कोई असामान्य समस्या हो, तो अपने चिकित्सक को कॉल करें।

क्लोमीफीन के ओवरडोज़ के क्या लक्षण हैं?

अधिक मात्रा में लेने से निम्न लक्षण हो सकते हैं:

  1. उल्टी vomiting
  2. गर्मी लगना hot flashes
  3. दृश्य स्पॉट या फ्लैश visual spots or flashes
  4. धुंधली दृष्टि blurred vision
  5. पेट की ख़राबी upset stomach
  6. पेट दर्द stomach or lower stomach pain
  7. पेट सूजन stomach swelling

भंडारण

  • यह दवा कंटेनर में आती है, इसे कसकर बंद करके रखें।
  • इसे बच्चों की नज़र और पहुंच से बाहर रहें।
  • इसे कमरे के तापमान पर स्टोर करें।
  • इसे अतिरिक्त गर्मी और नमी (बाथरूम में नहीं) से दूर रखें।

CLOMID (clomiphene citrate tablets USP) is an orally administered, nonsteroidal, ovulatory stimulant designated chemically as 2-[p-(2-chloro 1,2-diphenylvinyl)phenoxy] triethylamine citrate (1:1). It has the molecular formula of C26H28ClNO • C6H8O7 and a molecular weight of 598.09.

With proper management, CLOMID has been demonstrated to be a useful therapy for the anovulatory patient desiring pregnancy. Estrogenic and antiestrogenic properties of clomiphene may participate in the initiation of ovulation.

Clomiphene therapy helps to ovulation and pregnancy in patients with polycystic ovary syndrome, amenorrhea-galactorrhea syndrome, psychogenic amenorrhea, post-oral-contraceptive amenorrhea, and certain cases of secondary amenorrhea of undetermined etiology.

Each course of CLOMID should be started on or about the 5th day of the cycle. Long-term cyclic therapy is not recommended beyond a total of about six cycles (including three ovulatory cycles).

Treatment should begin with a low dose, 50 mg daily (1 tablet) for 5 days. The dose should be increased only in those patients who do not ovulate in response to cyclic 50 mg CLOMID. The patient should be evaluated carefully to exclude pregnancy, ovarian enlargement, or ovarian cyst formation between each treatment cycle.

इसे भी पढ़ें -  क्लोट्रिमेज़ोल Clotrimazole in Pregnancy

If ovulation does not appear to occur after the first course of therapy, a second course of 100 mg daily (two 50 mg tablets given as a single daily dose) for 5 days should be given. This course may be started as early as 30 days after the previous one after precautions are taken to exclude the presence of pregnancy. Increasing the dosage or duration of therapy beyond 100 mg/day for 5 days is not recommended.

If three ovulatory responses occur, but pregnancy has not been achieved, further treatment is not recommended. If menses does not occur after an ovulatory response, the patient should be reevaluated. Long-term cyclic therapy is not recommended beyond a total of about six cycles.

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

error: Content is protected !!