क्लोरम्फेनिकोल Chloramphenicol क्या है?

क्लोरम्फेनिकोल (Chloramphenicol) को किन रोगों में प्रयोग करते हैं? क्लोरम्फेनिकोल (Chloramphenicol) की डोज़ क्या है? क्लोरम्फेनिकोल (Chloramphenicol) को कब नहीं लेना चाहिए? क्लोरम्फेनिकोल (Chloramphenicol) किन लोगों को सावधानी से लेनी चाहिए?

एलोपैथिक दवाई क्लोरम्फेनिकोल (Chloramphenicol), एक ब्रॉड स्पेक्ट्रम एंटीबायोटिक है। इसे बहुत से बैक्टीरियल इन्फेक्शन में प्रयोग किया जा सकता है लेकिन इसे बहुत कम मामलों में ही प्रयोग किया जाता है क्योंकि इसके बहुत से साइड इफेक्ट्स हैं।

क्लोरम्फेनिकोल से शरीर में बैक्टीरिया के साथ की कुछ प्रकार के बॉडी सेल्स भी कम होने लगते हैं। कुछ लोगों में इसे देने से ब्लड सेल्स कम हो गई। इससे चमड़ी पीली सी हो सकती है, सांस लेने में दिक्कत हो सकती है, चक्कर आना, जल्दी ब्लीडिंग होजाना, गले, कफ और अन्य इन्फेक्शन के लक्षण होना आदि हो सकता है, जो दवा का साइड इफ़ेक्ट है।

यह दवा देते समय दैनिक खून की जांच ज़रूरी हो जाती है जिससे शरीर में कोई भी रक्त सम्बन्धी बदलाव समय रहते देखा जा सके और परमानेंट डैमेज होने से बचाया जा सके। यह दवा तब बिलकुल ही नहीं ली जानी चाहिए जब अन्य दवाओं के विकल्प उपलब्ध हैं।

यह दवा बोन मैरो को दबाती है। बोन मैरो, हड्डियों के अंदर भरा हुआ एक मुलायम ऊतक होता है।  बोन मैरो में रेड ब्लड सेल्स का निर्माण होता है। इसके दबने से शरीर में खून की कमी हो सकती है।

यह दवा कोल्ड, कफ, या वायरल इन्फेक्शन पर काम नहीं करती। इसे गर्भावस्था में लेने से गंभीर दुष्परिणाम हो सकते हैं।

इस दवा के बहुत से साइड-इफेक्ट्स हो सकते हैं। इसे कम से कम समय के लिए और कम से कम मात्रा में लेना चाहिए।

यह एक Schedule H (औषधि और प्रसाधन सामग्री अधिनियम और नियमों के तहत) दवा है। ये दवाएं डॉक्टर के लिखे हुए पर्चे / प्रिस्क्रिप्शन पर ही मिलती हैं। ऐसा इन दवाओं का लोगों द्वारा अपने आप प्रयोग करने यानि की सेल्फ मेडीकेशन को रोकने के लिए किया गया है।  इन दवाओं के डिब्बों पर बाएं तरफ पर आरएक्स Rx लिखा हुआ रहता है।

इसे भी पढ़ें -  कॉम्बीफ्लेम आईसीहॉट पेन रिलीफ

क्लोरम्फेनिकोल (Chloramphenicol) को किन रोगों में प्रयोग करते हैं?

क्लोरम्फेनिकोल के चिकित्सीय उपयोग निम्न हैं:

  1. हीमोफिलस इन्फ्लूएंजा Haemophilus influenzae
  2. टाइफाइड बुखार Typhoid fever
  3. सेरेब्रल फोड़ा Cerebral abscess
  4. कर्णमूलकोशिकाशोथ Mastoiditis
  5. बुखार पुनः Relapsing fever
  6. अवसाद Gangrene
  7. ग्रेन्युलोमा Granuloma
  8. लिस्टिरिओसिज़ Listeriosis
  9. गंभीर मेलीओइडोसिस Severe melioidosis
  10. प्लेग Plague
  11. सफ़ेद रोग Whipple’s disease
  12. खून का इन्फेक्शन  Septicaemia
  13. दिमागी बुखार Meningitis
  14. आंख का संक्रमण  Ocular infection

क्लोरम्फेनिकोल Chloramphenicol किन रूपों में उपलब्ध है?

Availability

  1. CAPSULES 250 and 500 mg
  2. SYRUP 125 mg/5 ml
  3. INJECTION 250 and 500 mg/vial
  4. Eye Drops
  5. Ear Drops

क्लोरम्फेनिकोल (Chloramphenicol) की डोज़ क्या है?

Loading...

Dose

Oral, intramuscular or intravenous injection or infusion

Adult- 50 mg/kg body weight in four divided doses (can be doubled in very severe infections, septicaemia, meningitis, reduce as soon as clinically indicated),

Child- Haemophilus epiglotitis and pyrogenic meningitis, 50 to 100 mg/kg body weight daily in divided doses (can be doubled in severe infections, reduce as soon as clinically indicated),

Eye-drops: 0,5%, and Eye ointment, 1%. Local treatment of a wide variety of bacterial infections of the eye. Apply every three hours.

Eye ointment: 1%. Local treatment of a wide variety of bacterial infections of the eye. Apply every three hours.

क्लोरम्फेनिकोल (Chloramphenicol) को कब नहीं लेना चाहिए?

Contraindications

  1. गर्भावस्था Pregnancy
  2. पोरफाइरिया Porphyria
  3. रक्त डिस्क्रियास Blood dyscrasias
  4. पहले से अस्थि मज्जा अवसाद Preexisting bone marrow depression
  5. अतिसंवेदनशीलता Hypersensitivity
  6. विकिरण चिकित्सा प्राप्त करने वाले रोगियों Patients receiving radiation therapy

क्लोरम्फेनिकोल (Chloramphenicol) किन लोगों को सावधानी से लेनी चाहिए?

Precautions

  1. बार-बार और लंबे समय तक उपयोग नहीं करें, यह नुकसान करती है।
  2. यकृत और गुर्दे रोग में इसे कम मात्रा में प्रयोग किया जाता है।
  3. उपचार से पहले और उसके दौरान ब्लड काउंट की जांच करें।
  4. दौरे पड़ना।

क्लोरम्फेनिकोल प्रेगनेंसी केटेगरी क्या है

केटेगरी सी C – पशु प्रजनन के अध्ययन से भ्रूण पर प्रतिकूलadverse प्रभाव दिखा।  गर्भवती महिलाओं पर कोई पर्याप्त, नियंत्रित अध्ययन नहीं किया गया है।   लेकिन संभावित लाभ तथा संभावित जोखिम को तौलते हुए इसको डॉक्टरों द्वारा गर्भावस्था  में प्रयोग किया जा सकता है।

इसे भी पढ़ें -  नोवेक्स टैबलेट Uses, Benefits, Side Effects, Dosages, Warnings in Hindi

क्लोरम्फेनिकोल के साइड इफ़ेक्ट क्या हो सकते हैं?

Adverse Effects

बोन मेरो के लिए टॉक्सिक होने के कारण, क्लोरैम्फेनेनिक को एक साधारण व्यापक स्पेक्ट्रम एंटीबायोटिक के तौर पर इस्तेमाल नहीं किया जाता है। इसे उस स्थिति में इलाज के लिए प्रयोग किया जा सकता है जबकि अन्य एंटीबायोटिक्स  ठीक से काम नहीं कर रहे होते। इसे बार बार और लम्बे समय तक इस्तेमाल करना स्वास्थ्य पर न ठीक हो पाने वाले गंभीर दुष्प्रभाव छोड़ सकता है।

दयां रहें, यह कोई साधारण एंटीबायोटिक नहीं है। इसके बहुत से गंभीर साइड इफेक्ट्स हैं और इस कारण से ही इसे टाइफाइड में प्रयोग करने से अब बचा जाता है।

बोन मेरो को दबा देना – प्रतिवर्ती और अपरिवर्तनीय ऐप्लॉस्टिक एनीमिया (ल्यूकेमिया की रिपोर्ट के साथ), एनीमिया, ल्यूकोपेनिया और थ्रोम्बोसाइटोपेनिया) Bone marrow depression-reversible and irreversible aplastic anemia (with reports of leukaemia), anaemia, leukopenia and thrombocytopenia)

  1. रात में हीमोग्लोबिनुरिया Nocturnal haemoglobinuria
  2. परिधीय न्यूरिटिस और ऑप्टिक न्यूरिटिस Peripheral neuritis and optic neuritis
  3. मतली, उल्टी, दस्त, शुष्क मुंह Nausea, vomiting, diarrhoea, dry mouth,
  4. स्टेमाटिस, ग्लोसिटिस Stomatitis, glossitis
  5. सिरदर्द, अवसाद Headache, depression
  6. अतिसंवेदनशीलता प्रतिक्रियाओं सहित, चकत्ते, बुखार, एंजियोएडेमा और शायद ही कभी, एनाफिलेक्सिस Hypersensitivity reactions including, rashes, fever, angioedema and rarely, anaphylaxis
  7. ग्रे बेबी सिंड्रोम (उल्टी, हरी मिट्टी डायरिया, पेट की मात्रा, हाइपोथर्मिया,अनियमित श्वसन, संक्रमणात्मक पतन) अपरिपक्व यकृत चयापचय के साथ नवजातओं में Grey baby syndrome (vomiting, greenish diarrhoea, abdominal distension, hypothermia, pallid cyanosis, irregular respiration, circulatory collapse) may follow excessive doses in neonates with immature hepatic metabolism
  8. गर्भावस्था के दौरान प्रयोग से बच्चे में नुकसान  Also reported in infants born to mothers treated in late pregnancy ocular irritation, angioneuretic edema

यह साइड इफेक्ट की पूरी सूची नहीं है।

क्लोरम्फेनिकोल (Chloramphenicol) कैसे स्टोर करें?

Storage

कैप्सूल: नमी से सुरक्षित रखें।

सिरप और इंजेक्शन: प्रकाश और नमी से सुरक्षित रखें।

Chloramphenicol is a broad-spectrum antibiotic. It was the drug of choice for typhoid fever. But it is associated with serious haematological adverse effects. So, it is reserved for the treatment of severe infections, particularly in case of Haemophilus influenzae and typhoid fever.

इसे भी पढ़ें -  येलो फीवर के टीके की जानकारी

It is recommended, Chloramphenicol should be reserved for use in situations of catastrophic epidemics of meningococcal meningitis occurring mainly in sub-Saharan Africa, during which the medical services are overwhelmed by the epidemic and in which the overwhelming scale of the epidemic precludes any other form of antimicrobial therapy.

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.