डल्कोफ्लेक्स टैबलेट कब्ज की दवा Bisacodyl Tablet

जानिये डल्कोफ्लेक्स टैबलेट क्या होती है और इसे किन बिमारियों में इस्तेमाल करते हैं? जानिये डल्कोफ्लेक्स दावा के साइड इफ़ेक्ट क्या होते हैं और क्या इसे कब्ज में लिया जा सकता है?

एलोपैथिक दवाई डल्कोफ्लेक्स का जेनेरिक फार्मूला बिसाकोडिल है। बिसाकोडील का प्रयोग कब्ज से राहत और आँतों की जांच या सर्जरी से पहले आँतों को साफ़ करने के लिए भी दिया जाता है।

डल्कोफ्लेक्स या बिसाकोडिल एक उत्तेजक विरेचक है। यह आँतों की गति को बढ़ाने वाली दवाई है जिससे स्टूल आँतों से निकल जाए। इस दवा को पानी के साथ निगल कर लेते हैं। दवा को सात दिन से ज्यादा समय तक नहीं लेना चाहिए और इसकी ओवरडोज़ भी नहीं करनी चाहिए। इस दवा के साइड-इफेक्ट्स हो सकते हैं। इसे कम से कम समय के लिए और कम से कम मात्रा में लेना चाहिए।

  1. जेनेरिक: बिसाकोडिल
  2. अन्य उपलब्ध ब्रांड नाम: Dulcolax, Bisacodyl, Correctol
  3. मुख्य प्रयोग: कब्ज़

डल्कोफ्लेक्स को किन रोगों में प्रयोग करते हैं?

  1. डल्कोफ्लेक्स या बिसाकोडिल को कम समय के लिए कब्ज़ से आराम पाने के लिए प्रयोग किया जाता है।
  2. डल्कोफ्लेक्स के चिकित्सीय उपयोग निम्न हैं:
  3. कब्ज़ Constipation
  4. स्टूल ठीक से नहीं होना Incomplete or Infrequent Bowel Movements Medications
  5. आँतों को पूरा साफ़ करना Emptying of the Bowel Medications

कब्ज क्या है? What is constipation?

Loading...

कब्ज को विबंध और कोंसटिपेशन के नाम से जाना जाता है। कब्ज़ होने पर मल बहुत कठोर हो जाता है और कई-कई दिन तक नहीं होता। ऐसे में शौच के समय बहुत जोर लगाना पड़ता है जिससे गुदा छिल जाती है और खून तक बहने लगता है। कब्ज़ के कारण पेट में भारीपन, गैस, दबाव तथा भूख न लगना समेत अनेक समस्याएं हो जाती हैं। कब्ज़ बहुत ही आम समस्या है और हर किसी को कभी न कभी हो जाती है

इसे भी पढ़ें -  लिव 52 Liv 52 Uses, Benefits, Side Effects, Dosage, Warnings in Hindi

कब्ज़ यदि लम्बे समय तक रहे तो बवासीर, फिस्टुला हो जाते है। भूख नहीं लगती और बहुत गैस बनती है। पाचन की विकृति से व्यक्ति कमजोर हो जाता है।

डल्कोफ्लेक्स किन रूपों में उपलब्ध है?

Availability

  1. गोली tablets
  2. गुदा से डालने वाली दवा Suppositories

डल्कोफ्लेक्स की डोज़ क्या है?

Dose

टेबलेट्स

  1. डल्कोफ्लेक्स की टेबलेट को जब ज़रूरत हो तब इस्तेमाल करना चाहिए। इसे लेने के 6 से 12 घंटे बाद स्टूल हो सकता है।
  2. इसे दिन में एक बार से ज्यादा नहीं लेना चाहिए और एक सप्ताह से अधिक नहीं लेना चाहिए।
  3. Constipation: 5-10 mg at night, Max: 20 mg
  4. Bowel evacuation: 10-20 mg the night before procedure, then 10 mg rectally the next morning

सपोजिटरी

सपोजिटरी से आधे-एक घंटे में असर हो सकता है।

Adults and children over 10 years

Put one 10 mg suppository into the back passage for immediate effect। Only use one suppository per day

Children under 10 years

  1. DULCOLAX 5 mg Suppositories for Children should only be used if recommended by a doctor.
  2. The usual dose is: Put one 5 mg suppository into the back passage for immediate effect। Only use one suppository per day.

डल्कोफ्लेक्स को कब नहीं लेना चाहिए?

Contraindications

  1. अल्सरेटिव कोलाइटिस ulcerative colitis
  2. आँतों में रुकावट intestinal obstruction
  3. गंभीर निर्जलीकरण severe dehydration
  4. गुदा में घाव anal fissures
  5. पेट दर्द, मतली और उल्टीsevere abdominal pain associated with nausea and vomiting
  6. पेट रोग Acute abdominal conditions (e।g। appendicitis, intestinal inflammatory bowel disease)

डल्कोफ्लेक्स किन लोगों को सावधानी से लेनी चाहिए?

Precautions

  1. दवा लेने के एक घंटे बाद तक दूध, डेयरी प्रोडक्ट, और एन्टासिड नहीं लेने चाहिए।
  2. इस दवा को एक गिलास पानी के साथ निगल कर लेते हैं।
  3. इस दवा को कभी भी चबा कर या तोड़ कर नहीं लेना चाहिए।
  4. इसे खाली पेट लेने से जल्दी असर हो सकता है।
  5. दवा को ज्यादा मात्रा में लेने से पेट में दर्द, दस्त, हो सकते हैं।
इसे भी पढ़ें -  ए केयर किट की जानकारी A Kare Kit in Hindi

डल्कोफ्लेक्स प्रेगनेंसी केटेगरी क्या है?

केटेगरी सी C – पशु प्रजनन के अध्ययन से भ्रूण पर प्रतिकूलadverse प्रभाव दिखा। गर्भवती महिलाओं पर कोई पर्याप्त, नियंत्रित अध्ययन नहीं किया गया है।  लेकिन संभावित लाभ तथा संभावित जोखिम को तौलते हुए इसको डॉक्टरों द्वारा गर्भावस्था  में प्रयोग किया जा सकता है।

Either studies in animals have revealed adverse effects on the foetus (teratogenic or embryocidal or other) and there are no controlled studies in women or studies in women and animals are not available। Drugs should be given only if the potential benefit justifies the potential risk to the foetus।

डल्कोफ्लेक्स के साइड इफ़ेक्ट क्या हो सकते हैं?

Adverse Effects

  1. पेट में दर्द stomach cramps
  2. बेहोशी faintness, vertigo
  3. पेट में दिक्कत stomach discomfort
  4. दस्त diarrhoea
  5. गुदा से खून जाना rectal bleeding
  6. यह साइड इफेक्ट की पूरी सूची नहीं है।

डल्कोफ्लेक्स का अन्य किन दवाओं से इंटरैक्ट कर सकती है?

Drug Interactions

  1. एन्टासिड antacids
  2. डाईयूरेटिक diuretics or Water tablets such as bendrofluazide or furosemide (frusemide)
  3. स्टेरॉयड दवा Steroid medicines such as prednisolone

डल्कोफ्लेक्स कैसे स्टोर करें?

Storage

  1. दवा को निर्देशों के अनुसार ही स्टोर करें। इसे रौशनी और नमी से दूर रखें।
  2. दवा को बच्चों की दृष्टि और पहुंच से बाहर रखें।
  3. एक्सपायरी डेट के बाद tablet या Suppositories का उपयोग न करें।
  4. सपोजिटरी को 25 डिग्री सेल्सियस से ऊपर न रखें।
  5. Dulcoflex tablets contain 5 mg Bisacodyl.

Bisacodyl is a white or almost white crystalline powder, odourless, or almost odourless and tasteless. Chemically, bisacodyl is 4,4′-(2-pyridylmethylene) di(phenylacetate). Its molecular weight is 361.38.

Bisacodyl is in a class of medications called stimulant laxatives. It works by increasing activity of the intestines to cause a bowel movement.

Bisacodyl is used on a short-term basis to treat constipation, bowel re-training, postoperatively in cases of hemorrhoids and anal fissures, colostomies, preparation for radiography, preparation for sigmoidoscopy or proctoscopy, preoperative preparation, postoperative care, antepartum and postpartum constipation, and preparation for delivery.

इसे भी पढ़ें -  हर्पेरैक्स टैबलेट Herperax Tablet in Hindi

All laxatives are contraindicated in patients with cramps, colic, nausea, vomiting or other symptoms as in appendicitis, inflammatory bowel disease, acute abdominal situations such as ileus, intestinal obstruction or any other undiagnosed abdominal pain, dehydration, hypokalaemia, anal fissure, ulcerative proctitis with mucosal damage, ulcerated haemorrhoids, hypersensitivity to bisacodyl or to any of the excipients.

Milk products and antacids should not be given within one hour of administering Bisacodyl. Prolonged use of laxatives may lead to dependence, chronic constipation and loss of bowel function.

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

error: Content is protected !!