पित्ताशय हटा दिए जाने पर खान-पान Gall bladder Removed and Diet

बहुत से लोगों का पथरी की वजह से पित्ताशय हटा दिया जाता है, जानिये पित्तासय हटाने के बाद खाने पिने का ध्यान कैसे रखें, क्या क्या खाना चाहिए और क्या नहीं खाना चाहिए।

पित्ताशय को गाल ब्लैडर भी कहते हैं। इसमें होने वाली पथरी गाल स्टोंस कहलाती है। इसमें गाल ब्लैडर के अंदर सॉलिड डिपॉजिट्स हो जाते हैं। ज्यादातर लोगों में गाल स्टोंस के लक्षण नहीं होते। पर बहुत से लोगों में इसके लक्षण पाए जाते हैं। इसमें उल्टियां होती हैं और पेट के एक साइड तेज दर्द होता है जोकि पीठ में भी होने लगता है। पहले यह दर्द कम होता है और लम्बे अंतराल के बाद होता हैं लेकिन समय के साथ यह दर्द देर तक और कम अंतराल पर होने लगता है। यह दर्द अक्सर खाना खाने के बाद होता है।

जब गाल ब्लैडर की पथरी के लक्षण होते हैं तो इसे हटा देना ज़रूरी हो जाता है। ऐसा इसलिए है, कि जब गाल ब्लैडर से खाना खाने के बाद पित्त निकलता है तो हो सकता है कि पथरी भी फ्लो में आकर अटक जाए और इस कॉम्प्लिकेशन से पीलिया समेत अन्य सीरियस स्वास्थ्य समस्याएं हो सकती हैं।

Gallstones are solid deposits that may form in the gallbladder. Gallstones can vary from the size of little pebbles to as large as golf balls. The gallbladder may have one or more gallstones of different sizes. The main symptoms of gallstone include pain and nausea in the abdomen (the part of the body that holds the stomach, intestines, and other organs), often after meals. Silent gallstones are usually left alone and sometimes disappear on their own. Gallstones that are causing symptoms are usually treated. In some cases, gallstones may cause serious health problems that require the gallbladder to be removed (cholecystectomy).

गाल ब्लैडर के हटा देने पर अक्सर लोगों को खान-पान के विषय में चिंता हो जाती है। वे क्या खा सकते हैं और क्या नहीं। ऐसे तो गाल ब्लैडर रिमूवल के बाद कुछ सप्ताह तक कुछ परहेज बताएं जाते हैं, लेकिन या ज़रूरी नहीं की यह हमेशा किये जाएँ।

इसे भी पढ़ें -  गुदा में दर्द Pain in Anus क्यों होता है

ज्यादातर लोगों को पित्ताशय की थैली को हटाने के लिए सर्जरी करने के बाद एक विशेष आहार का पालन करने की आवश्यकता नहीं है, क्योंकि पित्ताशय पाचन के लिए आवश्यक नहीं है। आप आम तौर पर ऑपरेशन के बाद नार्मल भोजन शुरू कर सकते हैं, लेकिन इसकी एक बार ली गई मात्रा कम होनी चाहिए।

सर्जरी बाद आपको अपच, पेट फूलना, दस्त आदि स्वास्थ्य समस्याओं से सामना करना पड़ सकता है। गाल ब्लैडर हटा दिए जाने के ऑपरेशन के बाद दस्त, कुछ सप्ताह तक हो सकती है। दस्त होने का कारण है कि बाईल सीधे आपके आंत में जा रहा है। आम तौर पर, पित्ताशय में पित्त इकट्ठा होकर कंसन्ट्रेट होता है और जब आप वसा युक्त भोजन करते हैं तो यह पिताशय से निकलता है। जब पित्ताशय को हटा दिया जाता है तो यह कम कंसन्ट्रेटड पित्त आंतों में अधिक लगातार जाता है जिससे विरेचक प्रभाव होता है। एक समय में आपके द्वारा खाई गई वसा की की मात्रा भी दस्त होने में भूमिका निभाती है। कम मात्रा में वसा को पचाना में आसान होता है, जबकि बड़ी मात्रा में वसा पचता नहीं और गैस, सूजन और दस्त का कारण होता है।

हालांकि पित्ताशय की थैली हटाने के बाद कसीस विशेष प्रकार के खान-पान की ज़रूरत तो नहीं है लेकिन निम्नलिखित सुझाव आपके लिए मददगार हो सकते हैं:

उच्च वसा वाले खाद्य पदार्थ, तला हुआ और चिकना भोजन, और फैटी सॉस और ग्रेवी से बचें।

वसा रहित या कम वसा वाले खाद्य पदार्थ चुनें। कम वसा वाले खाद्य पदार्थ वे होते हैं जिनमें एक्टिव फैट 3 ग्राम से अधिक नहीं होता है। लेबल की जांच करें और सूचीबद्ध सेवा आकार का पालन करें।

अपने आहार में घुलनशील फाइबर लें, लेकिन फाइबर की मात्रा को धीरे-धीरे बढ़ाना सुनिश्चित करें, क्योंकि बहुत अधिक फाइबर गैस बना सकता है।

कम मात्रा में और अधिक बार भोजन खाएं जिससे उपलब्ध पित्त के साथ बेहतर मिश्रण हो। स्वस्थ भोजन में कम मात्रा में प्रोटीन, या वसा रहित डेयरी शामिल करें और साथ में सब्जियां, फल और साबुत अनाज भी शामिल करें।

इसे भी पढ़ें -  बवासीर का इलाज Piles Treatment and Recommended Diet in Hindi

मसालेदार या फैटी खाद्य पदार्थ, कैफीन, डेयरी उत्पादों, फाइबर बिना आहार, मीठा आदि न खाएं।

पित्ताशय की थैली सर्जरी के दुष्प्रभाव आमतौर पर केवल कुछ हफ़्ते ही रहते हैं। शल्य चिकित्सा के पहले कई हफ्तों तक आपको कम वसा वाले आहार खाने की सलाह दी गई होगी लेकिन बाद में इसे जारी रखने की आवश्यकता नहीं है। इसके बजाय, आप को आम तौर पर संतुलित आहार जिसमें कम मात्रा में वसा हो, खाना चाहिए।

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

error: Content is protected !!