रेबीज : लक्षण, कारण और उपचार | Rabies

रेबीज आमतौर पर एक जानवर के काटने से प्रेषित होता है, उदाहरण के लिए, आवारा कुत्तों, चूहे, बिल्ली से। लक्षणों में बुखार, सिरदर्द, अतिरिक्त लार, मांसपेशियों की ऐंठन, पक्षाघात और मानसिक भ्रम शामिल हैं। काटने या संदिग्ध काटने के बाद तत्काल चिकित्सा ध्यान रखना चाहिए। रेबीज के लिए कोई विशेष उपचार नहीं होता है। लक्षण दिखाई देने के बाद, यह लगभग हमेशा घातक (जानलेवा) होता है। काटने के तुरंत बाद रेबीज का एक टीका संक्रमण को रोक सकता है।

रेबीज को हाइड्रोफोबिया भी कहते हैं। यह एक एक्यूट जानलेवा पशुओं के काट लेने से होने वाला रोग है। यह सेंट्रल नर्वस सिस्टम का वायरल रोग है। जब कोई जानवर, जिसमें रेबीज़ है मनुष्य को काट लेता है तो यह जानवर की लार से काटे गए हिस्से के द्वारा शरीर में चला जाता है।

rabies

रेबिड वायरस rabid virus belong to family Rhabdoviridae कुत्ते, सियार, लोमड़ी, भेड़िये, भालू, बाघ, खच्चर, घोड़े, चीते आदि में पाया जा सकता है। लोगों को यह सबसे ज्यादा पागल कुत्ते के काट लेने से होता है। पागल कुत्ते यदि काट ले तो रेबीज़ का वायरस इंसान के शरीर में चला जाता है। काटे गए शरीर के हिस्से में घाव, दर्द, काला रक्त, घाव के आस-पास सुन्नता, आदि हो जाते हैं। यदि टीका नहीं लगवाया जाता तो व्यक्ति में एक सप्ताह के अंदर ही, हाइड्रोफोबिया Hydrophobia यानिकी पानी के डर का लक्षण दिखाई देने लगता है। उसे दौरे, भ्रम, चेहरे का फालिस, लार गिरना, ब्लड प्रेशर कम होना, पैरालिसिस, वोकल कार्ड का पैरालिसिस आदि हो जाता है। इन लक्षणों के बाद व्यक्ति की जान नहीं बच पाती।

रेबीज क्या है?

  • रेबीज एक खतरनाक वायरल रोग है जो अक्सर रेबिड जानवर के काटने के माध्यम से फैलता है।
  • जंगली जानवरों जैसे कि रैकून, चमगादड़, लोमड़ी आदि के काटने से यह हो सकता है।
  • शहरी लोगों में इस रोग का मुख्य कारण पागल कुत्ते का काटना है।
  • रेबीज वायरस केंद्रीय तंत्रिका तंत्र को संक्रमित करता है और अंततः मस्तिष्क की बीमारी कर देता है जिससे मौत हो जाती है।

लोगों में रेबीज के प्रारंभिक लक्षण कई अन्य बीमारियों के समान हैं, जिनमें बुखार, सिरदर्द, और सामान्य कमजोरी या असुविधा शामिल है। जैसे-जैसे रोग बढ़ता है, अनिद्रा, चिंता, भ्रम, मामूली या आंशिक पक्षाघात, मतिभ्रम, आंदोलन, हाइपरसिलिवेशन (लार में वृद्धि), निगलने में कठिनाई, और हाइड्रोफोबिया (पानी का डर) शामिल हो सकते हैं। मौत आम तौर पर इन लक्षणों की शुरुआत के दिनों के भीतर होती है।

इसे भी पढ़ें -  चिकन पॉक्स का लक्षण और ट्रीटमेंट Chicken Pox in Hindi

मानव में रेबीज का पहला संकेत क्या है?

Loading...

मस्तिष्क संबंधी शिथिलता, चिंता, भ्रम, दौरे, काटने के हिस्से पर परेशानी या चिड़चिड़ापन या खुजली हो सकती है । जैसे-जैसे रोग बढ़ता है, व्यक्ति को उन्माद , असामान्य व्यवहार, मतिभ्रम और अनिद्रा का अनुभव हो सकता है ।

रेबीज कैसे होता है?

रेबीज का वायरस केवल लार या मस्तिष्क / तंत्रिका तंत्र के टिश्यू के माध्यम से ही फैलता है। केवल लार और ऊतकों के संपर्क में आकर ही रेबीज हो सकता है।

रेबीज वायरस कैसे फैलता है?

रेबीज सभी गर्म रक्त वाले जानवरों में हो सकता है और हमेशा घातक होता है। यह संक्रमित जानवर की लार द्वारा संचरित होता है। तंत्रिका तंत्र को प्रभावित करने वाला वायरस आम तौर पर पशु के काटने से, श्लेष्म झिल्ली (आँखें, नाक या मुंह) या त्वचा में घाव के लार के संपर्क में आने से होता है।

रेबीज के लक्षण क्या हैं?

रेबीज के पहले लक्षण सामान्य रूप से कमजोरी या असुविधा, बुखार या सिरदर्द सहित फ्लू वाले लोगों के समान हो सकते हैं। ये लक्षणकुछ दिन तक रह सकते हैं।

मस्तिष्क संबंधी शिथिलता, चिंता, भ्रम, दौरे के लक्षण कुछ दिनों में हो सकते हैं।

काटने की जगह पर परेशानी या चिड़चिड़ापन या खुजली हो सकती है। जैसे-जैसे रोग बढ़ता है, व्यक्ति को उन्माद, असामान्य व्यवहार, मतिभ्रम और अनिद्रा का अनुभव हो सकता है।

रोग की एक्यूट अवधि आमतौर पर 2 से 10 दिनों के बाद समाप्त होती है। एक बार रेबीज के नैदानिक ​​लक्षण दिखाई देते हैं, तो रोग लगभग हमेशा घातक होता है, और उपचार केवल सपोर्टिव ही रह जाता है। एक बार रोग के लक्षण प्रदर्शित होने पर जान बच पाना दुर्लभ होता है

Disease prevention रेबीज़ का रोग नहीं हो / रोग निवारण के लिए मानव प्रतिरक्षा ग्लोब्युलिन के इंजेक्शन और रेबीज वैक्सीनदी जाती हैं जिससे रोग आगे नहीं बढ़ता।

हाइड्रोफोबिया Hydrophobia क्यों होता है? रेबीज़ से पीड़ित व्यक्ति पानी से क्यों डरता है?

इसे भी पढ़ें -  गुप्तांग हरपीज के लक्षण और उपचार | Genital Herpes

हाइड्रोफोबिया आमतौर पर उग्र रेबीज से जुड़ा होता है, जो रेबीज-संक्रमित 80% लोगों को प्रभावित करता है।

रेबीज ने एन्सेफेलिटिक चरण में हाइड्रोफोबिया होता है। इस समय रेबीज़ का वायरस मस्तिष्क को प्रभावित करता है और मस्तिष्क के कई क्षेत्रों के सूजन कारण बनता है। यह मस्तिष्क में गले के जटिल निगलने वाले क्षेत्रों को प्रभावित करता है। शुरू में इस बीमारी के दौरान, मरीज को गर्दन की मांसपेशियों में अनैच्छिक संकुचन होता है जब वह पानी पीता है। बाद के चरणों में, रोगी पानी की सोच से भी उसे निगलने की कोशिश करते समय गले में कठिनाई और मांसपेशियों में ऐंठन का अनुभव करने लगता है। मुंह में आती लार को भी वह निगल नहीं पाता और उसके मुंह से लार गिरती रहती है। उसके लिए बोलना भी दिक्कत भरा हो जाता है।

क्योंकि केवल पानी को देखने मात्र से ही उसे दर्द का अनुभव होने लगता है वह पानी से डरने लगता है और इस पानी के डर को हाइड्रो=पानी + फोबिया=डर, कहते हैं।

किन जानवरों को रेबीज़ हो सकता है?

किसी भी स्तनपायी जानवर को रेबीज हो सकता है।

रेबीज के सबसे आम स्रोत है बंदर, जंगली जानवर, चमगादड़, लोमड़ियों, भेड़िये आदि। घरेलू स्तनपायी भी रेबीज प्राप्त कर सकते हैं जैसेकि कुत्ते, बिल्ली, मवेशियों में आदि।

किसी भी जानवर के काटने के लिए आपको चिकित्सा मूल्यांकन करना चाहिए।

क्या गायें रेबीज संचारित कर सकती हैं?

कोई भी स्तनपायी रेबीज वायरस से संक्रमित हो सकता है और लक्षण विकसित कर सकता है। अधिकांश जानवर वायरस से संक्रमित हो सकते है और फिर संक्रमित जानवर से यह रोग मनुष्यों को हो सकता है। संक्रमित चमगादड़, बंदरों, रैकून, लोमड़ियों, मवेशी , भेड़िये, कुत्तों या बिल्लियों के काटने से यह अन्य पशुओं, जैसे की गाय या मनुष्य को हो सकता है। रेबीज होने के पहले लक्षणों में सुस्ती , बुखार , उल्टी , आदि लक्षण होते हैं ।

इसे भी पढ़ें -  जेनाईटल वार्ट्स  (जननांग मस्सा): कारण, लक्षण और उपचार | Genital warts

गाय में रेबीज के लक्षण या किसी अन्य पशु में रेबीज़ के लक्षण हैं:

  • व्यवहार में अचानक परिवर्तन
  • प्रगतिशील पक्षाघात
  • गतिभंग
  • डेयरी जानवरों में दुग्ध नहीं होना
  • अतिसंवेदनशीलता / सतर्कता
  • गले का पक्षाघात
  • लार गिरना आदि।

इसी प्रकार से भेड़ में भी इन्फेक्टेड जानवर के काट लेने से रेबीज़ हो सकता है। भेड़ के नैदानिक ​​लक्षण रेबीज से ग्रस्त मवेशियों के समान होते हैं । मुख्य अंतर यह है कि भेड़ का एक समूह संक्रमित हो जाएगा, क्योंकि संक्रमित मांसाहारी एक से अधिक जानवरों को आसानी से काट सकता है।

रेबीज संक्रमित जानवर अजीब तरह से व्यवहार करते है। यह जानवर पागल हो सकते हैं और इंसानों या अन्य जानवरों को काटने की कोशिश कर सकते हैं।

पशुओं में, लक्षणों का विकास 2 सप्ताह से कई महीनों तक हो सकता है। मनुष्यों में, लक्षण आमतौर पर 3-8 सप्ताह के बाद विकसित होते हैं । कुछ मामलों में, लक्षण 9 दिनों की शुरुआत में और एक्सपोजर के 7 साल बाद तक दिखाई देते हैं।

रेबीज का उपचार / इलाज क्या है?

रेबीज में दो चीजें हैं, पहला घाव की देखभाल और दूसरा रेबीज के खिलाफ टीका लगवाना।

घाव की देखभाल

काटने के घावों से तंत्रिका, टेंडन को गंभीर चोट लग सकती है और स्थानीय अथवा सिस्टम संक्रमण हो सकता है।

तुरंत काटे हुए घाव को धो लें। संक्रमण होने के रिस्क को कम करने का सबसे प्रभावी तरीका घाव साबुन और पानी के साथ अच्छी तरह से घाव को धोना है। इसे डाईल्यूटेड पानी povidone-iodine solutionसे भी धोया जा सकता है जिससे बैक्टीरियल संक्रमण का रिस्क कम हो सके।

घाव पर मिर्च, सरसों के तेल या किसी अन्य प्रकार के जलन कराने वाले पदार्थ को नहीं लगाएं।

किसी भी ड्रेसिंग को घाव पर नहीं लगाएं।

यदि पिछले 10 साल में टेटनस का टीका नहीं लगा हो तो टेटनस का टीका लगवाएं। घाव के लिए एंटीबायोटिक दवाओं के इस्तेमाल के बारे में निर्णय, और प्राथमिक घाव के बारे में सही सलाह के लिए डॉक्टर से मिलना चाहिए।

इसे भी पढ़ें -  ब्रेन टीबी का कारण और उपचार

पोस्ट एक्सपोज़र टीकाकरण

पोस्ट एक्सपोस्पोर प्रोफाईलेक्सिस postexposure prophylaxis में प्रतिरक्षा ग्लोब्युलिन की एक खुराक और रेबीज वैक्सीन के चार खुराक, 14 दिन के अंतर पर लगवाई जाती हैं।

  • मानव रेबीज इम्यून ग्लोब्युलिन
  • रेबीज के टीके

रेबीज प्रतिरक्षा ग्लोब्युलिन और रेबीज वैक्सीन की पहली खुराक, जितनी जल्दी हो सके लगवाई जानी चाहिए। इसके बाद रेबीज वैक्सीन 3, 7, और 14 पर दिया जाना चाहिए।

क्या कोई एक अकेला ऐसा टीका है जो एक या दो खुराक में रेबीज होने से बचा सकता है?

पूरी दुनिया में ऐसी कोई टीका मौजूद नहीं है जो केवल 1 या 2 इंजेक्शन से ही रेबीज के खिलाफ सुरक्षात्मक प्रतिरक्षा कर सके।

इंजेक्शन का कम्पलीट कोर्स (ल्यूफिलाइज्ड वैक्सीन के साथ) लगवाना होता हैं जो 0.1 मिलीलीटर की मात्रा में शरीर पर दो जगह 0, 3रे, 7वें और 28 दिनों में पर लगाया जाता है। वर्तमान टीके अपेक्षाकृत पीड़ारहित हैं और हाथ में लगाए जाते हैं जैसे की फ्लू या टेटनस टीका।

क्या पशु काटने वाले पीड़ितों के लिए जो एंटी-रेबीज वैक्सीन लगवाते हैं, के लिए कोई आहार प्रतिबंध हैं?

  • वैक्सीन के बाद कोई आहार प्रतिबंध लगाने की आवश्यकता नहीं है।
  • हालांकि, शराब का सेवन नहीं किया जाना चाहिए।

क्या टीका लगाए गए कुत्ते से रेबीज हो सकता है?

जिस कुत्ते को प्रभावी और सही ढंग से रेबीज के खिलाफ टीका लगाया जाता है

उससे रोग प्रसारित नहीं हो सकता। लेकिन सेफ साइड पर रहते हुए काट लिए जाने पर टीका लगवाना चाहिए।

अगर मुझे चूहे ने काट लिया है तो क्या वैक्सीन लगवानी चाहिए?

कुछ एशियाई देशों में चूहे के रेबीज की सूचना मिली है लेकिन यह बहुत दुर्लभ है। हालांकि, आपको संक्रामक रोग चिकित्सक के साथ परामर्श करना चाहिए यदि जंगली चूहों ने काट लिया है।

Rabies, an acute viral disease causing fatal encephalomyelitis in virtually all the warm-blooded animals including man. It is transmitted to human through bites, scratches, licks on broken skin and mucous membrane by wild and some domestic animals. In urban areas, the disease is mainly transmitted by dogs, cats and bats.

इसे भी पढ़ें -  पेट और पेड़ू का फोड़ा : लक्षण, कारण और उपचार

Every animal bite is potentially suspected as a rabid animal bite and the treatment should be started immediately.Because of long incubation period, which is typical of most cases of human rabies, it is possible to institute prophylactic post-exposure treatment. This must be started at the earliest to ensure that the individual will be immunised before the rabies virus reaches the nervous system.

However, people who present for treatment even months after a possible rabies exposure should be evaluated and treated as if the event had occurred recently.

Treatment is done by

Management of animal bite wound

Passive immunisation: Rabies Immunoglobulins (RIG)

Active immunisation: Anti-Rabies Vaccines (ARV)

Suturing and Cauterisation of wound is no longer recommended.

A regimen of four 1-mL doses of Human Diploid Cell Vaccine (HDCV) or Purified Chick Embryo Cell Vaccine (PCEC) vaccines should be administered intramuscularly to previously unvaccinated persons. The first dose of the four-dose course should be administered as soon as possible after exposure. Additional doses should be administered on days 3, 7, and 14 after the first vaccination. For adults, the vaccination should always be administered intramuscularly in the deltoid area (arm). For children, the anterolateral aspect of the thigh is also acceptable.

Injection tetanus toxoid should be given to the un-immunized individual. To prevent sepsis in the wound, a suitable course of an antibiotic may be recommended.

Pregnancy, lactation, infancy, old age and concurrent illness are no contra indications for rabies post-exposure prophylaxis in the event of an exposure. Post-exposure prophylaxis against rabies takes preference over any other consideration since it is a lifesaving procedure. Moreover, rabies vaccine does not have any adverse effect on fetus, mother-to-be and the course of pregnancy. Hence complete post-exposure treatment should be given depending on the category of the exposure. It is reemphasized that treatment should be started as early as possible after exposure.

इसे भी पढ़ें -  ऑपरेशन के बाद घाव में इन्फेक्शन का इलाज

Related Posts

पीला बुखार (पीत-ज्वर) क्या होता है
स्तन संक्रमण का कारण और इलाज
गला खराब होने का इलाज
प्रेगनेंसी में किस इन्फेक्शन से क्या खतरा होता है Infections in Pregnancy
ह्यूमन पैपिलोमा वायरस (एचपीवी) जानकारी और उपलब्ध वैक्सीन

Loading...

19 Comments

  1. Mere cat Ko kutte ne kata hai aur cat Ko lar gir Raha hai kya yah rebiz ka lakchhan hai

  2. टिका लगाने के बाद भी रेबीज होने का खतरा कितने दिन तक हो सकता है

  3. तापकीर

    २टिका लगाने के बाद नाॅनव्हेज खाने से कूछ हो समस्या हो सकती है क्या जैसे की पाणी की बास अाना

  4. kya kutte ke lar logon par gire to ho Sakta hai rebiz

    • शालिनी

      agar ghaw par lar lagati hai to ho sakata hai

      • kitne dino me lakshan dikhne lagta hai.

        • शालिनी

          पशुओं में, लक्षणों का विकास 2 सप्ताह से कई महीनों तक हो सकता है। मनुष्यों में, लक्षण आमतौर पर 3-8 सप्ताह के बाद विकसित होते हैं । कुछ मामलों में, लक्षण 9 दिनों की शुरुआत में और एक्सपोजर के 7 साल बाद तक दिखाई देते हैं।

  5. mere Ko cHoohe ne Kat liya haa kya rabij Ho sakta haa chuhe ki mot bhi hogia Haa mane koi teeka bhi nahi lagaya haa Ab kya Karna chahia or gaav to Bhar gaya Haa

  6. Mere gay ko ek kutte ne kat liya .tika ka dose lag rha h.per kuchh din se use bukhar lag rha h .animal Doctor ne use injection diya h . 20 din ke bad nak se gaj nikal rha h .kya yah rabij ka lakshan h? Please mam jaldi reply dijiye.

  7. Mujhe pet dog ne small finger or thumb me thoda sa dat lag Gaya hai blood bhi aaya hai by thoda sa hi Laga hai dog 6 months pehle Ribes Laga tha to mujhe bhi antirebes lagna chahiye

  8. शिबाजी

    शालिनी मुझे कुत्ते ने काट लिया हे पर वो बहुत कम घाब है यानि की बस थोड़ी तबचा हैट गयी है और हल्का खून भी निकल आया है किया मुझे इंजेक्शन लगवा लेना चाहिए
    सरकारी अस्पताल में कुत्ते काटने के एक दिन में कितने ठीके लगते है मरीज को कृपया जानकारी दे

  9. mujhe apne ghar ke kutte ne lagbhag 6 mahine pehle ungli me kata tha maine us samay to ghaav saraab se dho diya tha kutte ko bhi rebij ka injection kaatne se 1 saal pehle lagvaya tha abhi kutta thik hai aur swasth hai kya mujhe bhi rabies ho sakta hai batane ki kirpa kijye aur mujhe kya karni chahiye

    • शालिनी

      ji aap ko hone ke chances to kam hain lekin aap ko injection dr ko dikhakar lagawa lena chahiye.

      • Doctor ko us time dikhaaya tha unhone injection nahi lagaya kutte pe dhyan rakhne ko bola tha yadi kutta bimaar hota hai to aapko injection lagegi aisa unhone bola tha maidam mujhe ye batayiye ki iska koi specialist doctor bhi hota hai kya ya koi test hota hai kya

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

error: Content is protected !!