ह्यूमन पैपिलोमा वायरस (एचपीवी) जानकारी और उपलब्ध वैक्सीन

जानिये ह्यूमन पैपिलोमा वायरस (Human Papillomavirus HPV) क्या होता है, इस वायरस के इन्फेक्शन के लक्षण क्या हैं, इसका इलाज कैसे किया जाता है और ह्यूमन पैपिलोमा वायरस की वक्सीन कौन कौन सी हैं और ह्यूमन पैपिलोमा वायरस वक्सीन का प्राइस क्या है?

एचपीवी वैक्सीन, को ह्यूमन पैपिलोमा वायरस Human papillomavirus (HPV) से बचाव के लिए लगाया जाता है। HPV एक कॉमन वायरस है और बच्चे के लेकर वयस्कों तक को संक्रमित करता है। अमेरिका में तो यह 80 मिलियन लोगों या हर 4 में 1 व्यक्ति को इन्फेक्ट कर चुका है। हर साल करीब 14 मिलियन लोग ह्यूमन पैपिलोमावायरस प्रभावित हो रहें है।

Loading...

एचपीवी सबसे आम यौन संचरित संक्रमण (एसटीआई) है। यह योनि, गुदा या ओरल सेक्स के द्वारा इन्फेक्टेड व्यक्ति से स्वस्थ्य व्यक्ति को हो सकता है। एचपीवी उन लोगों में भी हो सकता है जोकि केवल एक ही व्यक्ति के साथ यौन संबंध रखते हों। इससे संक्रमण होने के कई वर्षों बाद भी लक्षणों का विकास हो सकता है। यह वायरस अलग त्वचा या गुप्तांग के रोगों का कारण बन सकता है।

ज्यादातर लोगों में इससे कोई समस्या नहीं होती और यह संक्रमण 2 साल के अन्दर खुद ठीक हो जाता है। लेकिन कुछ लोगों में इसका प्रभाव लम्बे समय तक हो सकता है और गंभीर बीमारियाँ करा सकता है।

HPV का टीका या वैक्सीन उपलब्ध है जोकि 9 साल से अधिक उम्र के बच्चों को बड़ों को लगाई जा सकती है। 11-12 साल के बच्चों को इसकी 2 डोज़ 6 से 12 महीने के अंतराल पर दी जा सकती है। अमेरिका में डॉक्टर बच्चों को 9 वर्ष की आयु के बाद यह टीका लगवा लेने को कहते हैं। यदि उम्र 14 वर्ष से अधिक होती है तो इसकी तीन डोज़ लगानी होती हैं। इसे लड़कों और लड़कियों को किशोरावस्था में लगवा देने से रोगों से HPV द्वारा होने वाले रोगों से बचाव संभव है।

इसे भी पढ़ें -  जानिये गुदा कैंसर क्या होता है और इसकी पहचान कैसे की जाती है?

ह्यूमन पैपिलोमा वायरस वैक्सीन के प्रमुख उपलब्ध प्रकार

पूरी दुनिया में दो तरह की एचपीवी (ह्यूमन पैपिलोमा वायरस) वैक्सीन मुख्य रूप से उपलब्ध हैं, बाईवेलेंट और क्वाड्रीवेलेंट।

  1. बाईवेलेंट वैक्सीन Bivalent vaccine: HPV प्रकार 16 और 18 (these two types cause 70% of cervical cancers in most of the world) के लिए है।
  2. क्वाड्रीवेलेंट वैक्सीन Quadrivalent vaccine: क्वाड्रीवेलेंट वैक्सीन quadrivalent एचपीवी 16, 18, 6 और 11 (6 and 11 are responsible for benign anogenital warts and recurrent respiratory papillomatosis, a disease where recurrent growths occur in the airways, frequently on the vocal cords) के लिए है।

दोनों ही वैक्सीन रोग होने से बचाती prophylactic (prevent HPV infections) हैं लेकिन रोग हो जाने पर इन्हें लगवाने से अधिक लाभ नहीं होता। यह रोग का इलाज़ नहीं करती। टीके में लाइव वायरस नहीं होते इसलिए यह इन्फेक्शन नहीं करती। यह वैक्सीन गर्भावस्था और दवा के प्रति गंभीर रिएक्शन, में नहीं दी जाती।

Human papillomavirus (HPV) is the most common sexually transmitted infection in the United States. There are many different types of HPV. Some types can cause health problems including genital warts and cancers. Some health effects caused by HPV can be prevented with vaccines.

The vaccines cannot treat HPV infection or HPV-associated disease. Both vaccines are prophylactic (prevent HPV infections) and are most effective when administered prior to infection with HPV, which is acquired by most individuals shortly after sexual debut. The vaccines are not therapeutic (cannot be used to treat existing HPV and HPV-related disease).

Two prophylactic HPV vaccines are currently available worldwide, Bivalent vaccine, against HPV types 16 and 18 and Quadrivalent vaccine, against HPV 16 and 18 as well as HPV 6 and 11. The primary target population for HPV vaccination is girls before initiation of sexual activity. The recommended target ages for HPV vaccination is 9-13 years.

Both vaccines are administered in a schedule of currently 3 doses within 6 months. For the bivalent vaccine, the second dose is administered 1 month after the first, and the third dose at 6 months after the initial dose. For the quadrivalent vaccine, the second dose is given 2 months after the first dose, and the third is given 6 months after the first dose.

इसे भी पढ़ें -  मौखिक हर्पीज (कोल्ड सोर्स) : कारण, लक्षण और उपचार

ह्यूमन पैपिलोमा वायरस क्या है?

Loading...

What is Human papillomavirus (HPV)?

ह्यूमन पैपिलोमावायरस (एचपीवी) वायरस उन वायरस के समूहों को नाम दिया गया हैं जो मानव त्वचा और शरीर की नम झिल्ली moist membranes lining को प्रभावित करते हैं। उदाहरण के लिए:

  1. गर्भाशय ग्रीवा
  2. गुदा
  3. मुंह
  4. गला

ज्यादातर मामलों सेक्सुअल कांटेक्ट के बाद यह वायरस संक्रमित व्यक्ति में एक्टिव नहीं होता लेकिन जब यह एक्टिव होता है तो यह शरीर की म्यूकस मेम्ब्रेन जैसे की योनि, सर्विक्स, गुदा, जीभ और गले की लाइनिंग पर मस्से wart कर देता है.

एचपीवी के 200 से अधिक प्रकार के हैं। लगभग 30 प्रकार के एचपीवी संक्रमण जननांग क्षेत्र को प्रभावित कर सकते हैं। जननांग एचपीवी संक्रमण आम और अत्यधिक संक्रामक हैं ये यौन संभोग और जननांग क्षेत्रों के त्वचा से त्वचा के संपर्क के दौरान फैलते हैं।

एचपीवी संक्रमण कैसे फैलता है?

ह्यूमन पैपिलोमा वायरस (एचपीवी) योनि, गुदा या ओरल सेक्स करने से फैलता है। यह त्वचा से त्वचा के कांटेक्ट से भी फ़ैल सकता है। इससे बचने का तरीका यही है कि किसी संक्रमित व्यक्ति के साथ सेक्स न किया जाये।

एचपीवी संक्रमण के होने के रिस्क को बढ़ा देने वाले फैक्टर्स है:

  1. बहुत लोगों के साथ सेक्स सम्बन्ध
  2. उम्र
  3. कमजोर प्रतिरक्षा प्रणाली
  4. क्षतिग्रस्त त्वचा
  5. व्यक्तिगत संपर्क जैसे सार्वजनिक स्विमिंग पूल,  पब्लिक शोवर,  इन्फेक्टेड व्यक्ति का मस्सा छूने से आदि।

क्या एचपीवी संक्रमण एक STD है?

हाँ, ह्यूमन पैपिलोमावायरस सबसे कॉमन यौन संचारित संक्रमण है। यह छूत वाला रोग है और बच्चे-स्त्री-पुरुष किसी को भी हो सकता है। यह यौन संपर्क, गुप्तांगों से गुप्तांगो, त्वचा के गुप्तांगों या त्वचा से त्वचा के संपर्क से फ़ैल सकता है। त्वचा पर कट, घाव और कम इम्युनिटी इसके होने के खतरे को बढ़ा देते हैं।

इस वायरल रोग के लिए कोई भी टेस्ट उपलब्ध नहीं है।

एचपीवी संक्रमण (ह्यूमन पैपिलोमा वायरस) के क्या लक्षण हो सकते हैं?

  1. महिलाओं में इससे वल्वा vulva, गुदा anus,  सर्विक्स cervix, योनि vagina, में मस्से हो सकते हैं।
  2. पुरुषों में इससे पेनिस penis, सक्रोटम scrotum या गुदा anus के आस-पास मस्से हो जाते हैं।
  3. मस्से या वार्ट, में दर्द तो नहीं होता लेकिन खुजली होती है।
इसे भी पढ़ें -  मनुष्यों के पेट में कीड़े : प्रकार, जांच, लक्षण और उपचार

एचपीवी संक्रमण क्या कर सकता है?

What Human papillomavirus (HPV) can do?

कुछ प्रकार के जननांग एचपीवी से संक्रमण निम्न कर सकते हैं:

  1. जेनाइटल वार्ट्स
  2. गर्भाशय ग्रीवा के भीतर कोशिकाओं में असामान्य ऊतक वृद्धि और अन्य परिवर्तन

क्या एचपीवी संक्रमण ठीक Curable किया जा सकता है?

  1. नहीं, इस वायरस के कारण होने वाले रोग के लिए कोई दवाई उपलब्ध नहीं है।
  2. इससे बचाव संभव है।

क्या एचपीवी संक्रमण का कोई इलाज treatment है?

ह्यूमन पैपिलोमावायरस एक वायरल रोग है जिसके लिए कोई उपचार नहीं है। लेकिन जो इसके कारण रोग या लक्षण होते हैं उनका उपचार किया जाता है जैसे गुप्तांग पर होने वाले मस्सों genital warts के लिए प्रिस्क्रिप्शन दवाएं दी जाती हैं।

ज्यादातर लोगों में यह वायरल इन्फेक्शन अपने आप एक-दो साल में हट जाता है। शरीर का इम्यून सिस्टम इस इन्फेक्शन को दूर लेता है। कई बार तो पता भी नहीं लगता की यह संक्रमण है।

यदि गुप्तांग पर मस्से हैं तो वे भी कुछ महीने से लेकर कुछ साल में साफ़ हो जाते हैं।

क्या जननांग एचपीवी संक्रमण को रोका जा सकता है?

How to prevent Human papillomavirus (HPV)?

इसे रोकने के लिए निम्न तरीके अपना सकते हैं:

  1. कंडोम का उपयोग करना: सेक्स के दौरान कंडोम का उपयोग एचपीवी संक्रमण को रोकने में मदद कर सकता है। लेकिन, कंडोम पूर्ण सुरक्षा प्रदान नहीं करते हैं क्योंकि एचपीवी जननांगों और गुदा के आसपास के क्षेत्र में मौजूद हो सकता है, और जननांग क्षेत्र के त्वचा से त्वचा के संपर्क के माध्यम से फैल सकता है।
  2. एचपीवी टीकाकरण HPV vaccination

एचपीवी (ह्यूमन पैपिलोमावायरस) वैक्सीन क्यों लगवाएं?

एचपीवी अक्सर यौन संबंधों से फैलते हैं। बहुत से लोगों में यह संक्रमण होकर ठीक हो जाता और कोई गंभीर समस्या नहीं होती। लेकिन बहुत से लोगों में इससे कई भयानक रोग हो सकते हैं।

एचपीवी (ह्यूमन पैपिलोमा वायरस) वैक्सीन मानव को उन संक्रमणों से रोकता है जो कि बहुत से रोगों के कारण हैं, जैसे:

इसे भी पढ़ें -  डेंगू Dengue: लक्षण, कारण , इलाज और बचाव

कई कैंसर, जिनमें शामिल हैं:

  1. महिलाओं में सर्वाइकल कैंसर,
  2. महिलाओं में योनि और भग सम्बन्धी कैंसर,
  3. महिलाओं और पुरुषों में गुदा कैंसर,
  4. महिलाओं और पुरुषों में गले के कैंसर, और
  5. पुरुषों में पेनिल कैंसर
  6. जननांग सम्बन्धी मस्से

एचपीवी (ह्यूमन पैपिलोमावायरस) वैक्सीन किसे लगवाना चाहिए?

एचपीवी टीका एफडीए द्वरा स्वीकृत है। यह महिला और पुरुष दोनों के लिए है। इसे 9 वर्ष की आयु से शुरू कर २6 वर्ष तक लगाया जा सकता है। यह नियमित रूप से 11-12 वर्ष की आयु में लगाया जाता है।

किशोरों में: 9-14 वर्ष तक की आयु के किशोरों को इसकी 2 डोज़ दी जाती हैं। इन टीकों में 6 से लेकर 12 महीने का अंतराल होना चाहिए।

15 वर्ष से अधिक आयु: जो लोग 15 वर्ष की आयु के बाद यह टीका लगवाना शुरू करते हैं उन्हें यह टीका 3 डोज़ में लगाया जाता है। पहले टीके के 1-2 महीने बाद दूसरा टीका और 6 महीने बाद तीसरा टीका लगवाना चाहिए।

यह दवा बहुत महंगी है और इसके लिए दी गई उम्र 26 साल है। जो इसे 26 की उम्र के बाद लगवाना चाहते हैं उन्हें डॉक्टर से संपर्क कर सही सलाह लें कि यह लगवानी चाहिए की नहीं।

क्या लड़के और लड़कियों को एक ही वैक्सीन दी जाती है?

हाँ, सभी के लिए वैक्सीन समान है।

11 वर्ष की आयु के लड़के और लड़कियों का इसका इंजेक्शन लगवा सकते हैं।

उपलब्ध वैक्सीन | इंजेक्शन के क्या नाम हैं?

  1. सरवेरिक्स Cervarix
  2. गार्डासिल Gardasil
  3. गार्डासिल Gardasil-9

किन लोगों को एचपीवी (ह्यूमन पैपिलोमा वायरस) वैक्सीन नहीं लगवानी चाहिए?

  1. जिन लोगों में पहले टीके के बाद गंभीर प्रतिक्रियां देखी गईं हो उन्हें यह टीका आगे नहीं लगवाना चाहिए।
  2. गर्भवती महिला को एचपीवी (ह्यूमन पैपिलोमावायरस) वैक्सीन नहीं दी जानी चाहिए।
  3. स्तनपान के दौरान यह टीका लगवाया जा सकता है।
  4. यदि कुछ बीमार हैं तो ठीक होने पर टीका लगवाएं।

टीका लगवाने के बाद क्या-क्या दिक्कत हो सकती है?

इसे भी पढ़ें -  शराब Alcohol का सेवन और गर्भावस्था

एचपीवी (ह्यूमन पैपिलोमावायरस) वैक्सीन ज्यादातर मामलों में सुरक्षित है। इससे होने वाले दुष्प्रभाव अक्सर हलके होते हैं और अपने आप दूर हो जाते हैं।

कुछ लोगों में निम्न समस्याएं हो सकती हैं Common side-effects:

  1. दर्द (10 में 9 लोगों में)
  2. सूजन (3 में एक में)
  3. बुखार (10 में एक)
  4. सिरदर्द (3 में से 1)
  5. इंजेक्शन की जगह गाँठ जैसा
  6. बेहोशी होना

दुर्लभ लेकिन हो सकने वाली दिक्कतें

  1. चक्कर आना, ठीक से दिखाई न देना, बेहोशी
  2. कानों में आवाज़ आना
  3. इंजेक्शन की जगह पर तेज दर्द

गंभीर प्रतिक्रिया Adverse Reactions

गंभीर एलर्जी प्रतिक्रिया में निम्न लक्षण हो सकते हैं:

  1. त्वचा पर रैशेज़
  2. चेहरे और गले पर सूजन
  3. सांस लेने में दिक्कत
  4. हृदय गति बढ़ जाना
  5. चक्कर, बेहोशी
  6. यह रिएक्शन कुछ मिनटों से लेकर घंटों बाद प्रकट हो सकते हैं।

ह्यूमन पैपिलोमा वायरस वैक्सीन के दाम क्या है?

यह वैक्सीन ब्रांड नाम सरवेरिक्स Cervarix by GlaxoSmithKline (GSK), जिसका मूल्य करीब Rs 3,299 per dose और गार्डासिल Gardasil by Merck मूल्य करीब Rs 2,800 per dose, के नाम से उपलब्ध हैं। GARDASIL 9 is the only vaccine that helps protect against 9 types of HPV (Types 6, 11, 16, 18, 31, 33, 45, 52, and 58). These 9 types are responsible for the majority of HPV-related cancers and diseases. सरवेरिक्स इंजेक्शन HPV 16 और 18 के लिए और सरवेरिक्स HPV 16, 18, 11 और 6 के लिए इम्युनिटी देता है।

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

error: Content is protected !!