चिकन पॉक्स का लक्षण और ट्रीटमेंट Chicken Pox in Hindi

जानिये चिकन पॉक्स ट्रीटमेंट्स क्या हैं और यह कितने दिन रहता है, इसके होते पर हमें चिकन पॉक्स में परहेज क्या करना चाहिए और क्या खाना चाहिए, चिकन पॉक्स में नारियल पानी बहुत फायदेमंद होता है। चिकन पॉक्स कितने दिन में ठीक होता है और रोकथाम कैसे करते हैं।

चिकन पॉक्स (chicken pox) को आम बोलचाल की भाषा में छोटी माता, छोटी चेचक, जल चेचक आदि कहते हैं। यह एक संक्रामक या छूत की बीमारी है जो एक वायरस वेरीसेला जोस्टर वायरस (हर्पीस फैलाने वाले परिवार से सम्बंधित) से फैलती है।

चिकन पॉक्स के संक्रमण से पूरे शरीर में छोटे दाने निकल आते हैं जिनमें खुजली होती है। शुरू में प्रमुख रूप से चेहरे, सिर और पीठ पर लाल, उभरे दोदरे पड़ते हैं जो बाद में मवाद से भर जाते है, फूटते हैं और खुरदरे हो जाते हैं। इसमें कमर दर्द और सीने में जकड़न भी होती है।

चिकन पॉक्स (Chicken Pox) का प्रभाव 7-10 दिन तक दिखता है। यदि घर में यह संक्रमण है, तो दूसरों को होने की संभावना भी अधिक हो जाती है।

चिकन पॉक्स क्या है? What is Chicken Pox?

  • यह एक वायरल रोग है जो वैरिसेला-ज़ोस्टर वायरस (वीजेडवी) से होता है।
  • यह बहुत ही बहुत ही संक्रामक बीमारी है।
  • इसके मुख्य लक्षण दाने, खुजली, थकावट, और बुखार है।
  • दाने पेट, पीठ और चेहरे पर पहले होते हैं। इसके बाद पूरे शरीर में 250 से 500 खुजली युक्त छाले हो जाते हैं।
  • चिकन पॉक्स बच्चों, वयस्कों और कमजोर इम्युनिटी वाले लोगों में गंभीर हो सकता है।

चिकन पॉक्स के लक्षण क्या हैं? Chicken Pox Symptoms

Loading...

चिकन पॉक्स उन लोगों को हो सकता हैं जिन्हें इसका टीका नहीं लगा है या जिन्हें यह पहले कभी नहीं हुआ है।  कुछ लोगों में जिन्हें चिकनपॉक्स का टीका लगा हुआ है, उन्हें भी यह बीमारी हो सकती है। हालांकि, उनमें लक्षण आमतौर पर हल्के होते हैं। लेकिन कुछ दुर्लभ मामलों में टीका प्राप्त हुए लोगों में चिकनपॉक्स  गंभीर लक्षण विकसित कर सकता है।

इसे भी पढ़ें -  दाँत का फोड़ा : लक्षण, कारण और उपचार

चिकनपोक्स का क्लासिक लक्षण दाने हैं जिनमें शुरू में खुजली होती है और बाद में वे मवाद से भरे छाले में बदल जाते हैं। यह छाले सूखने पर पपड़ी छोड़ देते हैं।

दाने पहले चेहरे, छाती, और पीठ पर दिख सकते है, फिर शरीर के बाकी हिस्सों में, जिसमें मुंह, पलकें या जननांग क्षेत्र शामिल है, में हो जाते हैं।

यह आमतौर पर एक सप्ताह में सभी फफोले पर पपड़ी बन जाती है।

चिकनपोक्स (Chickenpox) के अन्य विशिष्ट लक्षण

दाने निकलने से 1-2 पहले निम्न लक्षण होते हैं:

  • थकान tiredness
  • बुखार fever
  • भूख में कमी loss of appetite
  • सरदर्द headache

चिकन पॉक्स (Chicken pox) की जटिलतायें Complications क्या हैं?

चिकन पॉक्स से जटिलताएं हो सकती हैं, लेकिन यह ज्यादा इस तरह की जटिलताएं होना कॉमन नहीं है।

निम्न लोगों में चिकन पॉक्स के कारण जटिलतायें हो सकती हैं:

  • शिशु
  • किशोर
  • वयस्क
  • गर्भवती महिला
  • बीमारियों या दवाओं की वजह से कमजोर प्रतिरक्षा प्रणाली वाले लोग; उदाहरण के लिए,
  • एचआईवी / एड्स या कैंसर वाले लोग
  • जिन रोगियों में ट्रांसप्लांट थे,
  • केमोथेरेपी, इम्यूनोसपॉईसरिव दवाएं, या स्टेरॉयड के दीर्घावधि उपयोग करने वाले लोग।

चिकन पॉक्स की गंभीर जटिलताओं में शामिल हैं:

  • त्वचा और मुलायम ऊतकों में बैक्टीरियल (ग्रुप ए स्ट्रेप्टोकोकल) संक्रमण
  • निमोनिया
  • मस्तिष्क में संक्रमण या सूजन (एन्सेफलाइटिस, सेरेबेलर एनेटिक्स)
  • ब्लीडिंग होना
  • खून में संक्रमण या सेप्सिस
  • निर्जलीकरण

चिकनपॉक्स (Chickenpox) के कारण गंभीर जटिलताओं वाले कुछ लोग इतने बीमार हो सकते हैं कि उन्हें अस्पताल में भर्ती करने की आवश्यकता है। चिकनपॉक्स से जान भी जा सकती है।

इस लये किसी को भी चिकनपॉक्स हो तो सावधान रहें।

चिकन पॉक्स कितने दिन रहता है?

चिकनपोक्स की बीमारी आमतौर पर लगभग 5 से 7 दिन तक होती है।

चिकन पॉक्स कैसे फैलता है?

चिकन पॉक्स वायरस Varicella-zoster virus की वजह से होने वाली एक बहुत ही संक्रामक बीमारी है। वायरस उन लोगों से आसानी से फैलता है जिनको यह बीमारी कभी भी नहीं हुई है या टीका नहीं लगाया गया है।

इसे भी पढ़ें -  एड्स से बचने के उपाय और एचआईवी एड्स से बचने का तरीका

वायरस मुख्य रूप से चिकनपॉक्स के छाले को छूने या श्वास से फैलता है। यह वायरस संभवतः संक्रमित लोगों से निकल कर छोटी बूंदों की तरह आस-पास की हवा में फ़ैल जाता है और निकट के लोगों में संक्रमण फैला देता है। यह संक्रमित व्यक्ति के छींकने-खांसने से भी फैलता है।

चिकन पॉक्स (Chicken Pox) से संक्रमित व्यक्ति रैश निकलने से 1-2 दिन पहले से लेकर जब तक छालों पर पपड़ी नहीं पड़ जाए, तब तक रोग फैला (आमतौर पर 5-7 दिनों) सकता है।

चिकनपॉक्स (Chickenpox) वाले किसी व्यक्ति से संपर्क के बाद या चिकनपॉक्स ले लक्षण विकसित होने में लगभग 2 सप्ताह (10 से 21 दिनों तक) का समय लग सकता है।

अधिकांश लोगों के लिए, यदि चिकन पॉक्स एक बार हो जाता है तो उनमें इम्युनिटी हो जाती है और रोग दुबारा नहीं होता।

Chickenpox चिकन पॉक्स का इलाज / ट्रीटमेंट क्या है?

कई चीजें हैं जो लक्षणों से छुटकारा पाने और त्वचा के संक्रमण को रोकने में मदद करने के लिए घर पर की जा सकती हैं।

दानों पर कैलामाइन लोशन लगाया जा सकता है। छाले को खरोंच ने त्वचा के संक्रमण हो सकते हैं, इसलिए नाखून काट लें और खुजली नहीं करें । पपड़ी पड़ने पर शहद लगा सकते हैं।

चिकनपॉक्स से बुखार को राहत देने के लिए एस्पिरिन या एस्पिरिन युक्त उत्पादों का प्रयोग न करें। चिकनपॉक्स वाले बच्चों में एस्पिरिन का उपयोग रेये सिंड्रोम Reye’s syndrome का कारण बन सकता है। एसिटामिनोफेन का उपयोग करें। एसिटामिनोफेन दवा बुखार और दर्द में राहत देने के लिए दी जाती है। यह बुखार के लक्षण को कम करती है।

एंटीहिस्टामिन दवा, डिफेनहाइड्रामाइन एचसीएल (बेनाड्रिल Benadryl) को खुजली और त्वचा के लक्षणों के लिए दिया जाता है। इससे नींद भी आती है और शरीर को आराम मिलता है।

Acyclovir का प्रयोग

डॉक्टर चिकनपॉक्स वाले उन लोगों के लिए एंटीवायरल दवा प्रेसक्राइब कर सकते हैं, जिनमें गंभीर रोग विकसित होने की संभावना अधिक होती है।

  • अन्यथा स्वस्थ 12 वर्ष से अधिक उम्र के लोग हैं
  • पुरानी त्वचा या फेफड़ों की बीमारी वाले लोग
  • स्टेरॉइड थेरेपी प्राप्त करने वाले लोग
  • गर्भवती महिला
इसे भी पढ़ें -  मूत्र पथ संक्रमण (यूटीआई) का लक्षण, कारण और उपचार

निम्नलिखित लक्षणों में से कोई भी चिकेन पॉक्स में विकसित होने पर, स्थिति गंभीर हो सकती है:

  • बुखार जो 4 दिन से अधिक समय तक रहता है।
  • बुखार जो कि 102 डिग्री सेल्सियस (38।9 डिग्री सेल्सियस) से ऊपर रहता है
  • शरीर के किसी भी भाग में हुए दाने के गर्म, लाल होने पर उसमें से यदि मवाद बहने लगे
  • बहुत अधिक बीमार लगना
  • जागने में दिक्कत अथवा ठीक से सोच नहीं पान
  • चलने में दिक्कत
  • गर्दन में अकड़न
  • लगातार उल्टी
  • सांस लेने मे तकलीफ
  • गंभीर खांसी
  • गंभीर पेट दर्द
  • दाने से रक्तस्राव (hemorrhagic rash)

Acyclovir, एक एंटीवायरल दवा है चिकनपोक्स के उपचार के लिए लाइसेंस प्राप्त है। यदि यह दाने के शुरू होने के पहले 24 घंटों के भीतर दी जाती है तो यह दवाई सबसे अच्छा काम करती है।

इसके अतिरिक्त एंटीवायरल दवाएं वेलसिक्लोविर और फैमसिक्लोविर valacyclovir and famciclovir का उपयोग भी किया जाता है।

चिकन पॉक्स (Chicken Pox) की रोकथाम कैसे करें?

चिकनपोक्स (Chickenpox) को रोकने का सबसे अच्छा तरीका चिकनपॉक्स वैक्सीन लगवाना है। बच्चों, किशोरों और वयस्कों को चिकनपॉक्स वैक्सीन की दो खुराक मिलनी चाहिए।

चिकनपॉक्स वैक्सीन रोग को रोकने में बहुत सुरक्षित और प्रभावी है। अधिकांश लोग जो टीका प्राप्त करते हैं उन्हें चिकनपोक्स नहीं होता।

यदि टीका लगाए व्यक्ति में चिकनपेक्सहोता भी है, तो लक्षण आमतौर पर हल्के होते हैं।

चिकनपॉक्स वैक्सीन की दो खुराक दी जाती हैं। बच्चों को टीकरण में के पहली डोज़ 12 से 15 महीने की उम्र में और दूसरी डोज़ 4 से 6 साल की उम्र में दी जानी चाहिए।

चिकन पॉक्स में परहेज क्या क्या है?

  • ओइली और वसा वाला भोजन नहीं खाएं।
  • पचने में भारी भोजन नहीं खाएं।
  • चॉकलेट, पीनट बटर, मुंगफली नहीं खाएं।
  • प्रोसेस्ड फूड और जंकफूड ना खाएं।
  • मीट, अंडे और डेयरी प्रोडक्ट से बचें।
  • ज्यादा नमक और मसालेदार खाना नहीं खाएं।

घर में किसी को यह रोग हो जाए तो विशेष सावधानी बरतें। कोशिश करें किसी बच्चे या गर्भवती महिला को दूर भेज दें जिससे उन्हें यह संक्रमण नहीं हो। संक्रमित व्यक्ति को अलग कमरे में रखें और खान-पान तथा साफ-सफाई पर विशेष ध्यान दें।

इसे भी पढ़ें -  जेनाईटल वार्ट्स  (जननांग मस्सा): कारण, लक्षण और उपचार | Genital warts

चिकन पॉक्स में क्या खाना चाहिए इन हिंदी

  • शरीर में पानी की कमी नहीं होने दें।
  • फ्लूइड ज्यादा लें जिससे शरीर का तापमान नियंत्रित रहे।
  • हल्का सुपाच्य भोजन करें।
  • उबली हुई सब्जियां खाएं।
  • फल, सूप, सब्जियां खाएं।
  • तरबूज, कीवी, नाशपती, पपीता, स्ट्राबेरीज, तथा अन्य फल खाएं।
  • शरीर में इम्युनिटी बढ़ाने वाला भोजन करें।
  • विटामिन बी और सी युक्त भोजन करें।
  • नींबू को एक गिलास पानी में निचोड़ लें और शहद मिला कर पिएं। ऐसा हर 4 घंटे पर करें। इससे शरीर साफ़ होता रहेगा और पानी की भी कमी नहीं होगी। साथ ही विटामिन सी भी मिलेगा।
  • गाजर का ताजा जूस पीएं।
  • डेयरी प्रोडक्ट में दही या पतले छाछ को थोड़ी मात्रा में ले सकते हैं।
  • विटामिन सी का सप्लीमेंट ले सकते हैं।

चिकन पॉक्स में नारियल पानी

चिकन पॉक्स में अधिक से अधिक नारियल पानी पिलाएं। चिकन पॉक्स में नारियल पानी पीने से निम्न लाभ हो सकते हैं:

  • नारियल पानी पीने से शरीर में पानी और इलेक्ट्रोलाइट की कमी नहीं होगी। यह ORS की तरह काम करेगा।
  • इससे शरीर में ठंडक आएगी।
  • इससे शरीर में निकले दाने में आराम मिलेगा।
  • यह मूत्रल है और शरीर से गंदगी दूर करने में मदद करेगा।
  • नारियल पानी को दानों पर बाहर से भी लगाने पर लाभ मिलेगा।
  • इसको पीने से पेशाब में जलन नहीं होगी।

Chickenpox is a highly contagious disease caused by, a type of herpes virus, the varicella-zoster virus (VZV). Chickenpox is a common childhood illness with 90 percent of the cases occurring in children younger than ten years of age.

The disease transmits from person to person by directly touching the blisters, saliva or mucus of an infected person, through the air by coughing and sneezing and indirectly by touching contaminated items freshly soiled, such as clothing, from an infected person.

Direct contact with the blisters of a person with shingles can cause chickenpox in a person who has never had chickenpox and has not been vaccinated.

इसे भी पढ़ें -  योनि के कैंडिडिआसिस Vaginal Candidiasis की जानकारी और इलाज

Blisters that are dry and crusted are no longer able to spread chickenpox.

Symptoms commonly appear 14 to 16 days (range of ten to 21 days) after exposure to someone with chickenpox or herpes zoster (shingles).

The symptoms are itchy rash on the face, scalp and trunk with pink spots and tiny fluid-filled blisters that dry and become scabs four to five days later. The disease may cause complications including bacterial infections of skin blisters, pneumonia, and encephalitis (inflammation of the brain).

Treatment involves giving fever reducing, antihistamines and lotions. Antiviral medicine Acyclovir is approved for treatment of chickenpox. But as chickenpox tends to be mild in healthy children, most doctor do not feel that it is necessary to prescribe acyclovir.

Most people do not get chickenpox more than once. However, since varicella-zoster virus remains in the body after an initial infection, infection can return years later in the form of shingles in some older adults and sometimes in children.

Vaccine for chickenpox is available and given in 2 doses. First dose at 12 to 15 months and the second dose at four to six years of age. Persons 13 years of age and older who have never had chickenpox or have not received the varicella vaccine should get two doses of the varicella vaccine at least 28 days apart.

Infected people should remain at home and avoid exposing others who are susceptible. Infected persons should remain home until the blisters become dry and crusted. It is very important to avoid exposing non-immune newborns and persons with a weakened immune system to chickenpox.

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.