नाखून कैसे बढ़ाएं How Grow Nails Faster And Stronger

नाखून त्वचा की एपिडर्मल परत में उत्पन्न होता है। इनकी स्थिति व्यक्ति के संपूर्ण स्वास्थ्य पर निर्भर है। विटामिन और पोषक तत्वों से भरा एक संतुलित आहार स्वस्थ, विकार-मुक्त नाखूनों का उत्पादन करने में मदद कर सकता है। जानिये नाखून बढ़ाने और लम्बे करने के तरीके।

नाखून केरेटिन keratin नामक प्रोटीन से बने होते हैं। यह वही प्रोटीन है जो त्वचा और बालों को भी बनाता है। नाखून तब बढ़ते हैं जब उनके बेस में मौजूद सेल्स मल्टीप्लाई होती हैं और लेयर बनाती हैं। परतें एक के उपर एक कठोर होती जाती हैं और नाखून निकलता जाता है। इसे केरेटिनीकरण keratinisation कहा जाता है। सामान्य नाखून फर्म लेकिन लचीला, चमकदार, चिकनी सतह (कोई लहराती लकीरें, गड्ढ़े या विभाजन नहीं) और गुलाबी- सफेद और पारभासी दिखता है। नाखूनों के लिए study of nails मेडिकल ब्रांच को Onychology कहते हैं।

नाखून बढाने के तरीके

नाखून समग्र स्वास्थ्य का प्रतिबिंब है। यदि यह स्वस्थ्य हैं तो पूरा स्वास्थ्य अच्छा है। अगर यह पीले-सफ़ेद, बिना चमक के कमज़ोर हैं तो शरीर में कमियाँ हैं। इस कमियों को अच्छे पोषण से ठीक किया जा सकता है। ताजे फल, सब्जियाँ, प्रोटीन, पर्याप्त मात्रा में कार्बोहाइड्रेट, और बहुत से स्वस्थ वसा युक्त भोजन स्वास्थ्य को बेहतर करता है।

कोई जादुई तरीका नहीं है जो नाखूनों को बहुत जल्दी बढ़ा दे। नाखून की ताकत, मोटाई और विकास दर आदि भी हामरे जीन से निर्धारित होते हैं जो हमे हमारे माता-पिता से मिलते हैं। लेकिन अगर आप उनकी देखभाल करते हैं, तो वे मजबूत हो जाते हैं और पिछले लंबे समय तक बढ़ते हैं, जिससे उन्हें टूटने की संभावना कम हो जाती है।

अगर आपके नाखून धीरे बढ़ते हैं, और उन्हें तेजी से बढ़ाना चाहते हैं, तो कई घरेलू उपचार और सौंदर्य तकनीक हैं जो आपकी मदद कर सकती हैं।

नाखून की संरचना

नाखून की संरचना में शामिल हैं:

  • नाखून मैट्रिक्स Nail matrix जहां नाखून की वृद्धि होती है
  • नेल प्लेट Nail plate नाखून का दिखाई देने वाला हिस्सा
  • नेल बेड Nail bed गुलाबी हिस्सा, नाखून के नीचे एपीडर्मिस
  • लुनुला Lunula आधे चाँद के आकार का हिस्सा जिसे आप नेल प्लेट के आधार पर देख सकते हैं, केराटिन और हवा के मिक्स से यह हिस्सा सफेद दिखाई देता है
  • नेल फोल्ड Nail folds
  • क्यूटीकल Cuticle
इसे भी पढ़ें -  गर्भनिरोधक गोलियों के कुछ सामान्य यौन दुष्प्रभाव Sexual Side Effects of Contraceptive Pills

नाखून की ग्रोथ

Loading...

सामान्य स्वस्थ नाखून मैट्रिक्स के आकार के आधार पर विभिन्न आकारों में विकसित होते हैं। नाखून की विकास की औसत दर – प्रति माह 1/10 एक इंच है।

नाखून की वृद्धि को निम्न प्रभावित करते है:

  • पोषण, सामान्य स्वास्थ्य
  • रोग
  • उम्र (नेल की वृद्धि, उम्र के साथ धीमी होती है)
  • मौसम (गर्मियों में नाखून तेजजी से `बढ़ते हैं )
  • नाखून की स्थिति (मध्य ऊँगली के नाखून सबसे तेज़ बढ़ते हैओं जबकि अंगूठे के नाखून धीरे बढ़ते हैं)

यदि रोग, चोट या संक्रमण के कारण नाखून नष्ट हो जाता है, तो हाथ की ऊँगली के नाखून को आने में लगभग 4-6 महीने लगते हैं और पैर की ऊँगली के नाखून को आने में एक साल तकलग सकता है।

नाखून वृद्धि के लिए घरेलू उपचार Home Remedies for Strong Nails

नाखूनों को तेजी से बढ़ाने के लिए कोई वैज्ञानिक रूप से सिद्ध तरीका नहीं है लेकिन उचित पोषण के माध्यम से, नाखूनों की देखभाल और कुछ अन्य तरीकों से आप अपने नाखूनों को मजबूत कर सकते हैं। मजबूत नाखून ठीक से बढ़ते हैं।

बायोटिन Biotin विटामिन बी 7 का सेवन करें

बायोटिन एक महत्वपूर्ण प्रकार बी विटामिन है जो शरीर को ऊर्जा में बदलने में मदद देता है। बायोटिन (बायोटिन, कोएंजाइम आर, विटामिन एच, बी7) एक पानी में घुलनशील विटामिन है। इसमें एक बाइकिकल रिंग संरचना है। एक रिंग में एक यूरीडो समूह होता है और दूसरे में एक हेट्रोसाइक्लिक सल्फर अणू और एक वैलेरिक एसिड का साइडग्रुप होता है। बायोटिन बैक्टीरिया द्वारा संश्लेषण से प्राप्त होता है। यह यीस्ट, मोल्ड, शैवाल, और कुछ पौधे की प्रजातियों से मिलता है।

बायोटिन की कमी कमज़ोर-टूटते नाखूनों के लिए जिम्मेदार है। इसकी कमी से ग्लूकोज टॉलरेंस भी गड़बड़ हो जाता है। बायोटिन के कमी के लक्षण में शामिल हैं त्वचा की सूजन fine scaly desquamating dermatitis और आंखों, नाक और मुंह के पास स्किन रैश। एनी लक्षणों में शामिल है बाल झड़ना, नेत्रश्लेष्मलाशोथ और मूवमेंट का कोर्डिनेटेड नहीं होना ataxia।एनोरेक्सिया, मतली, मतिभ्रम, अवसाद आदि भी इसकी कमी से देखे जाते हैं।

इसे भी पढ़ें -  खून की खांसी का कारण और इलाज

बालों और नाखूनों की ताकत को बढ़ाने में मदद करने के लिए पूरक के रूप में यह अत्यधिक अनुशंसित है।

कई मानव अध्ययनों से पता चलता है कि दैनिक बायोटिन पूरक लेने से नाखूनों को मजबूत करने में सहायता मिल सकती है। कुछ वैज्ञानिक कहते हैं कि दैनिक 2।5 मिलीग्राम बायोटिन की खुराक सिर्फ कुछ हफ्तों में नाखून की ताकत में सुधार कर सकती है। बायोटिन स्वाभाविक रूप से निम्न में पाया जा सकता है:

  • यीस्ट brewer’s yeast
  • ड्राई फ्रूट्स nuts and nut butters
  • साबुत अनाज whole grains
  • सोया और अन्य सेम soy and other beans
  • गोभी cauliflower
  • केले bananas
  • मशरूम mushrooms
  • अंडे cooked eggs आदि।

फॉलेट (विटामिन बी-9) ए Folate का सेवन करें

फोलेट एक बी विटामिन है। फोलेट, विटामिन बी -9 का प्राकृतिक रूप है। पूरक और खाद्य पदार्थों में पाए जाने वाले कृत्रिम रूप को फोलिक एसिड कहा जाता है। फोलिक एसिड शरीर को स्वस्थ नई कोशिका बनाने में मदद करता है। अधिक फोलिक एसिड युक्त खाद्य पदार्थ खाएं।बीजों, मूंग, तिल, मूंगफली, अंकुरित आनाज, और ड्राई फ्रूट्स में फोलिक एसिड पाया जाता है।

विटामिन ए का सेवन करें

विटामिन ए वसा में घुलनशील विटामिन है। यह इम्युनिटी, दृष्टि, प्रजनन और कोशिकाओं के लिए ज़रूरी है। यह प्रोटीन रोडॉप्सिन का एक आवश्यक घटक है। विटामिन ए, कोशिकाओं के सही काम करने, हृदय, फेफड़े, गुर्दे और अन्य अंगों के सामान्य गठन और रखरखाव में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। शरीर में एपिथेलियल कोशिकाओं की इंटीग्रिटी के लिए रेटिनॉल की आवश्यकता होती है।

रेटिनोइक एसिड उन जीनों की अभिव्यक्ति को नियंत्रित करता है जो संरचनात्मक प्रोटीन, एंजाइम, बाह्य मैट्रिक्स प्रोटीन और रेटिनॉल बंधन प्रोटीन और रिसेप्टर्स को एक्सप्रेस करते हैं। शरीर में जिंक और आयरन की स्थिति और विटामिन ए की स्थिति के बीच सकारात्मक सम्बन्ध देखा गया है। यदि विटामिन ए कम होता है तो जिंक और आयरन भी कम हो सकता है।

इसे भी पढ़ें -  कैल्शियम Calcium के बारे महत्वपूर्ण जानकारी

शाकाहारी इसे दूध, पनीर, क्रीम, फल-सब्जियों से प्राप्त कर सकते हैं। जिन फल या सब्जी का रंग अधिक घर होता है, बीटा-कैरोटीन की मात्रा उतनी अधिक होती है। बीटा-कैरोटीन युक्त शाकाहारी भोजन स्रोत वसा और कोलेस्ट्रॉल- रहित होते हैं। विटामिन ए के पशु स्रोतों के उदाहरण हैं अंडे, मांस, यकृत, मछली का तेल आदि।

शाकाहारी स्रोत

  • मीठे आलू
  • पालक
  • हरी सब्जियां
  • नारंगी और पीली सब्जियां-फल
  • टमाटर उत्पाद
  • और कुछ वनस्पति तेलों

मांसाहरी स्रोत

  • यकृत
  • मछली के तेल
  • अंडे
  • मछली

विटामिन सी युक्त भोजन करें

विटामिन सी, कोलेजन जो संयोजी ऊतक का मुख्य भाग है और घावों को ठीक करने में मुख्य भूमिका निभाता है, के शरीर में संश्लेषण के लिए ज़रूरी है। यह एल-कार्निटाइन और अन्य तंत्रिका-ट्रांसमीटर के संश्लेषण के लिए भी आवश्यक है। यह प्रोटीन चयापचय में शामिल है। विटामिन सी या एस्कॉर्बेट से शरीर में इम्युनिटी बढ़ती है और बार बार होने वाली सर्दी-खांसी के लक्षण कम होते हैं।

फल और सब्जियां विटामिन सी का सर्वश्रेष्ठ स्रोत हैं। यह खट्टे फल जैसे संतरे, मौसंबी, आंवले नीबू आदि में अधिक मात्रा में पाया जाता है।

गंभीर विटामिन सी की कमी बहुत दुर्लभ है, लेकिन बहुत से लोगों में विटामिन सी का निम्न स्तर देखा जाता है जो विटामिन सी युक्त भोजन नहीं करने के कारण होता है। कम विटामिन सी के लक्षणों में शामिल हैं, खून की कमी, मसूड़ों से खून बहना, सूखी त्वचा, सूखे बाल, बालों का फटना, नाक से खून गिरना, जोड़ों और पेशियों में दर्द, कमज़ोर दांत, आदि। विटामिन सी की कमी का एक गंभीर रूप स्कर्वी के रूप में जाना जाता है । यह मुख्य रूप से कुपोषित वयस्कों को प्रभावित करता है। एक दिन में पांच अलग-अलग फलों और सब्जियों का सेवन करना 200 मिलीग्राम से अधिक विटामिन सी प्रदान कर सकता है।

जिंक को डाइट में शामिल करें

जिंक एंजाइमों की बड़ी संख्या (> 300) का एक अनिवार्य घटक है जो कार्बोहाइड्रेट, लिपिड, प्रोटीन और न्यूक्लिक एसिड और के संश्लेषण और टूटने के लिए जिम्मेदार हैं। साथ ही यह अन्य सूक्ष्म पोषक तत्वों का चयापचय और प्रतिरक्षा प्रणाली में एक प्रमुख भूमिका निभाता है। यह एंटीऑक्सिडेंट के रूप में कार्य करता है यह सामान्य वृद्धि, घाव भरने और यौन सवास्थ्य के लिए महत्वपूर्ण है। जिंक प्रोटीन की संरचनात्मक अखंडता को बनाए रखने और जीन अभिव्यक्ति को विनियमित करने में मदद करता है। जिंक की कमी के लक्षणों में वृद्धि और विकास की समस्याएं, बाल झड़ना, दस्त, आंख और त्वचा की दिक्कतें और भूख नहीं लगना शामिल हैं। अन्य लक्षणों में वजन घटना , घाव भरने में देरी, स्वाद के परिवर्तन और मानसिक धीमापन शामिल हो सकते हैं।

इसे भी पढ़ें -  टूटी हुई नाक : लक्षण, कारण और उपचार | nose fracture

जस्ता अनाज, दूध, फलियां और ड्राई फ्रूट्स में पाया जाता है।

लाइसिन युक्त आहार खाएं

एल-लाइसिन lysine, एक आवश्यक अमीनो एसिड है, जिसका अर्थ है कि यह मानव स्वास्थ्य के लिए आवश्यक है, लेकिन शरीर इसे नहीं बना सकता। आपको भोजन या पूरक से लाइसिन प्राप्त करना होगा। यह उचित वृद्धि के लिए महत्वपूर्ण है।

लाइसिन carnitine के उत्पादन में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। carnitine एक पोषक तत्व है जो फैटी एसिड को ऊर्जा में परिवर्तित करने और कोलेस्ट्रॉल को कम करने में मदद करता है। लाइसिन शरीर को कैल्शियम को अवशोषित करने में मदद करता है। यह कोलेजन के गठन में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है जोकि हड्डियों, त्वचा, रंध्र और उपास्थि सहित संयोजी ऊतकों के लिए महत्वपूर्ण पदार्थ है।

लाइसिन मुख्यतः प्रोटीन खाद्य पदार्थ जैसे मांस, अंडे, पनीर और टोफू में पाया जाता है। यह कुछ पौधे प्रोटीनों में भी पाया जा सकता है। सामान्य रूप से सब्जियों में एल-लाइसिन की उच्च मात्रा नहीं होती है, लेकिन कुछ सब्जियां दूसरों की तुलना में अधिक होती हैं।

लाइसिन के खाद्य स्रोतों में लाल मांस, आलू, दूध, मछली, सेम और कुछ सोया आधारित उत्पाद शामिल हैं।

नारियल के तेल से मालिश करें

नाखूनों की नारियल की तेल से मालिश करने से नाखून मजबूत होते हैं। यह नमी को बनाए रखने और मॉइस्चराइजिंग में भी मददगार है। हर रात सोने से पहले नाखूनों की अच्छे से मालिश करें।

नाखूनों पर नाखून हार्डनर लगाएं

कमोर नाखून टूट जाते हैं। हार्डनर वे पदार्थ हैं जो पोलिश की तरह नाखूनों पर लगाए जाते हैं और बाद में नेल पॉलिश रिमूवर से हटा दिए जाते हैं।

यह नाखून को मजबूत करने और टूटने को रोकने में सहायक है। लेकिन विशेषज्ञों का कहना है कि यदि लम्बे समय तक नेल हार्डनर का इस्तेमाल करने से कभी-कभी नाखून कमजोर हो जाते हैं और टूटने की संभावना अधिक होती है।

इसे भी पढ़ें -  नींद की कमी का शरीर और स्वास्थ्य पर दुष्प्रभाव

नेल पोलिश का इस्तेमाल कम करें

केमिकल का नाखूनों पर नियमित रूप इस्तेमाल नाखूनों को कमजोर कर सकता है और उन्हें तोड़ने के लिए अधिक प्रोन कर सकता है। इसलिए नाखूनों पर लगातार नेल पोलिश नहीं लगा आकर रखें। यह नाखूनों को पीला और बदरंग भी कर देता है।

नाखूनों को ग्रूम करें

नाखूनों को सूखा और साफ रखें जिससे बैक्टीरिया का ग्रोथ नहीं हो। नाखूनों को काटने के लिए तेज नेल कटर का इस्तेमाल करें।

  • हाथों और नाखूनों को मॉइस्चराइज रखें।
  • नाखून कतरने की आदत छोड़ दें।
  • साबुन और धोने वाले डिटर्जेंट का उपयोग करने से और लगातार गीले हाथों से नाखून कमज़ोर हो जाते हैं और टूटते हैं। इसलिए इसे अवॉयड करें या ग्लव्स इस्तेमाल करें।

अन्य टिप्स

  • नाखून समस्याओं के जोखिम को कम करने के तरीके शामिल हैं:
  • उचित आहार बनाए रखें आपके शरीर के सभी हिस्सों के साथ, आपके नाखूनों को पोषण दें।
  • पानी ज्यादा पियें। नाखूनों में 10 से 30% ज पानी होता है। पानी नाखूनों के लचीलेपन को प्रभावित करता है। कम पानी से नाखून अधिक भंगुर हो जाते है।
  • सही व्यक्तिगत स्वच्छता का अभ्यास करें।
  • बर्तन धोने, गार्डनिंग, कपड़े धोने से यदि नाखून खराब होते हैं तो ग्लव्स पहने।
  • कठोर साबुन और डिटर्जेंट जैसे कठोर रसायनों से बचें।
  • हेयर डाई जैसी रसायनों से बचें या सीमित करें।
  • नेल पॉलिश के उपयोग को कम करें।
  • नाखूनों के नीचे भी अक्सर या बहुत आक्रामक रूप से साफ न करें।
  • घर पर मैनीक्योर करते समय, क्यूटिकल को पीछे नहीं दबाएं।
  • अपने नाखूनों दांत से नहीं काटें।
  • धूम्रपान न करें।
  • अपने नाखूनों और क्यूटिकल पर मॉइस्चराइजर लगाएं।
  • कवक संक्रमणों से बचाने के लिए, तौलिए साझा न करें, स्नान के बाद पूरी तरह से सुखाएं (विशेष रूप से पैर की उंगलियों के बीच)।
  • सुनिश्चित करें कि आपके जूते अच्छी तरह से फिट हैं।
  • यदि आपके आहार में बहुत अधिक नमक, चीनी, शराब, कैफीन और कार्बोनेटेड पेय होते हैं, तो लोहे और मैग्नीशियम का शरीर में लेवल कम हो जाता है।
इसे भी पढ़ें -  जिंक - जस्ता Zinc खाद्य स्रोत, फायदे और नुकसान

यह याद रखना महत्वपूर्ण है कि नाखून त्वचा की एपिडर्मल परत में उत्पन्न होता है। इनकी स्थिति व्यक्ति के संपूर्ण स्वास्थ्य पर निर्भर है। विटामिन और पोषक तत्वों से भरा एक संतुलित आहार स्वस्थ, विकार-मुक्त नाखूनों का उत्पादन करने में मदद कर सकता है।

अस्वास्थ्यकर नाखून स्थितियों की पहचान करना सीखें और ज़रूरत हो तो डॉक्टर से मिलें।

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

error: Content is protected !!