पतंजलि गाय का शुद्ध घी | पतंजलि देसी घी के फायदे Patanjali Desi Ghee Health Benefits

शुद्ध देसी घी को गाय के दूध से निकाला जाता है। यह सुनहरा, स्वादिष्ट, पोषकता से भरा होता है। घी को पवित्र, औषधीय, और पौष्टिक भोजन माना जाता है।

गाय का घी, पौष्टिक गुणों से भरा होता है। गाय का घी स्मृति, बुद्धि, पाचन की शक्ति, ओजस, और वसा बढ़ाता है। आहार के हिस्से के रूप में इस घी का नियमित सेवन वजन बढ़ाने में उपयोगी है।

यदि पतले दुबले हैं, बच्चे हैं तो गाय का शुद्ध घी, एक से दो चम्मच की मात्रा में ले सकते हैं। यदि मोटे हैं, कम घी लेने की सलाह है, तो इसे कम मात्रा में ही लें। अधिक लेंगे तो और मोटे हो जायेगें।

पतंजलि का देशी घी की पैकिंग और दाम

पतंजलि का देशी घी 200 ग्राम, 1/2 लीटर, 1 लिटर और 5 लिटर के डब्बे में उपलब्ध है

मूल्य:

  • 200 ml की कीमत 125 रूपये है।
  • 500 ml की कीमत 290 रूपये है।
  • 1 liter की कीमत 560 रूपये है।

100 ग्राम घी की पोषकता Nutrition per 100 gram

Loading...
  • ऊर्जा 898 किलो कैलारी
  • प्रोटीन 0 ग्राम
  • कार्बोहाइड्रेट 0 ग्राम
  • चीनी 0 ग्राम
  • कुल वसा 99.78 ग्राम
  • संतृप्त वसा 75.10 ग्राम
  • मुफा 22.6 जी
  • पुफा 2.64 जी
  • ट्रांस फैट 0 जी
  •  कोलेस्ट्रॉल 260.8 मिलीग्राम
  • आहार फाइबर 0 मिलीग्राम
  • सोडियम 0 मिलीग्राम
  • कैल्शियम 0 मिलीग्राम
  • आयरन 1.1 मिलीग्राम
  • विटामिन ए 0.75 मिलीग्राम
  • विटामिन सी 0 एमजी

शुद्ध देसी घी – गाय के दूध से बने घी को खाने के फायदे

शुद्ध देसी घी को गाय के दूध से निकाला जाता है। यह सुनहरा, स्वादिष्ट, पोषकता से भरा होता है। घी को पवित्र, औषधीय, और पौष्टिक भोजन माना जाता है। अनुसंधान भी दिखाते हैं और अधिकांश स्वास्थ्य विशेषज्ञ भी इस बात से सहमत हैं कि प्राकृतिक रूप से होने वाली संतृप्त वसा जैसे देसी घी वास्तव में आपके स्वास्थ्य के लिए अच्छा है। यह चयापचय को विनियमित करते समय शरीर में जिद्दी वसा जलाने में मदद करता है।

इसे भी पढ़ें -  पेट (कोलोन) की सफाई के फायदे और नुकसान

शरीर को दे बल

गाय का घी, शरीर को बल और स्फूर्ति देता है। इससे मेटाबोलिज्म ठीक होता है। कमजोरी में नियमित रूप से एक गिलास गर्म दूध में गाय का शुद्ध घी और मिश्री मिलाकर सेवन करें। इसमें मौजूद विटामिन ए, विटामिन डी, मिनरल्स, कैल्शियम, फॉस्फोरस, पोटैशियम, और अन्य पोषक तत्त्व शरीर को ताकत देते हैं। यह पोषक तत्व स्किन को ग्लोइंग रखते हैं।

घी करे बेहतर पाचन

शुद्ध देसी घी पाचन को बढ़ावा देता है घी पित्त को संतुलित करने के लिए एक प्राकृतिक उपाय है। यह पाचन में सहायता करता है, कब्ज को रोकता है और विषाक्त पदार्थों के विसर्जन में मदद करता है। खाने में आधा चम्मच घी खाएं और पाचन को बेहतर बनाएं।

दिमाग को करे तेज

गाय का घी, दिमाग को तेज बनाता है। इससे दिमाग को पोषण मिलता है। दिमाग की ड्राईनेस दूर होती है और दिमाग सही से काम करता है।

सिर का दर्द करे दूर

माइग्रेन या आधासीसी के दर्द में कुछ दाने काली मिर्च के चबा कर उबार से दूध पीने से सर का दर्द दूर होता है। जो लोग काफी लम्बे समय से ग्रसित हैं, उन्हें तो देसी घी में बनी जलेबी खाने को कहा जाता है। गाय के घी से सिर और पैर की मालिश करने से भी सिर के दर्द में फायदा होता है और नींद आती हैं।

बढायें रोग निरोधक क्षमता

देसी घी से इम्यून सिस्टम मजबूत होता है जो रोगों और संक्रमण से बचाता है|

हॉर्मोन के लिए फायदेमंद

घी में शार्ट चेन फैटी एसिड पाए जाते जो शरीर के हार्मोन्स के लिए भी लाभदायक होते हैं। घी में विटामिन के 2 है जो विटामिन ए, डी, ई एंड के साथ हार्मोन बनाता है।

गर्भवती महिला के लिए फायदेमंद

प्रेगनेंसी में इसे खाने से बच्चे का विकास सही तरीके से होता है। बच्चा शरीर से हृष्ट-पुष्ट और मानसिक रूप से भी मजबूत बनता है। गर्भवती महिला का वज़न ठीक से बढ़ता है तथा प्रसव आसानी से होता है।

इसे भी पढ़ें -  बेजोर - पेट में बाल या अन्य बाहरी पदार्थों का गुच्छा बनना

करे फ्री सेल डैमेज से रक्षा

देसी घी में एंटी ऑक्सीडेंट्स हैं जो फ्री सेल डैमेज से रक्षा करते हैं। देसी घी, एंटीमाइक्रोबियल, एंटी-कैंसर और एंटीवायरल एजेंट के रूप में कार्य करता है।

करे हड्डियां मजबूत

गाय का घी, हड्डियों को मजबूत बनाता हैं। बच्चों को प्रतिरक्षा को बढ़ावा देने और हड्डियों को मजबूत बनाने के लिए उन्हें प्रतिदिन देसी घी का एक चम्मच दिया जाना चाहिए। यह वसा घुलनशील विटामिन का एक समृद्ध स्रोत है जो हड्डियों के विकास और विकास में मदद करता है।

बढायें वज़न

कम वज़न है, पतले हैं, अंडर वेट हैं तो रोज़ देसी घी खाएं।

घी है लैक्टोज – केजिन फ्री

घी दूध से निकलता है लेकिन इसमें लाक्टोज़ नहीं होता । इसलिए जो लोग, डेयरी उताप्द नहीं पचा सके वे भी घी के सेवन से पोषण पा सकते हैं।

दूध में मौजूद प्रोटीन घटक केसीन दूध से एलर्जी के लिए जिम्मेदार है। घी के निर्माण में, लैक्टोज और केसिन हट जाते हैं।

घी है संतृप्त वसा

घी एक संतृप्त वसा है। संतृप्त वसा से हृदय रोग का कारण नहीं होते है। इसलिए इसके सेवन से हृदय रोग का खतरा नहीं होता। देसी घी में पाए गए विटामिन के 2 धमनियों में कैल्शियम जमा को रोकने में मदद करता है जो अवरोध पैदा कर सकता है और रक्त प्रवाह में बाधा डाल सकता है। यह खराब कोलेस्ट्रॉल के स्तर को कम करता है और अच्छे कोलेस्ट्रॉल के स्तर को बढ़ाता है, इस प्रकार स्वस्थ संतुलन बनाए रखता है।

घी से मिले विटामिन के और विटामिन ए

ये विटामिन मुख्य रूप से वसा वाले हिस्से में संग्रहीत होते हैं, इसलिए घी में विटामिन की एकाग्रता दूध की तुलना में अधिक होती है । विटामिन ए हार्मोन संतुलन, यकृत स्वास्थ्य, प्रजनन क्षमता और सहनशक्ति में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।घी में विटामिन ए शरीर द्वारा तत्काल उपयोग योग्य होता है, और इसमें अवशोषण के लिए आवश्यक फैटी एसिड कॉफ़ैक्टर्स भी होते हैं।

इसे भी पढ़ें -  गर्भनिरोधक गोलियों के कुछ सामान्य यौन दुष्प्रभाव Sexual Side Effects of Contraceptive Pills

विटामिन के 2 हड्डियों में कैल्शियम ट्रांसपोर्ट करने में सहयोगी है। आप जितना चाहें उतना कैल्शियम खा सकते हैं, लेकिन यह आपकी हड्डियों को तब तक मजबूत नहीं करेगा जब तक कि यह विटामिन के 2 के साथ न हो।

घी दे ब्यूटरीक एसिड

घी में ब्यूटरीक एसिड का एक महत्वपूर्ण स्तर होता है, जो एक एंटी-कार्सिनोजेनिक शॉर्ट-चेन फैटी एसिड होता है । ब्यूटरीक एसिड स्तन ट्यूमर के विकास को बाधित करने के लिए दिखाया गया है।

लेकिन ध्यान रखें ये सब फायदे, शुद्ध देसी घी जो गाय के दूध से बना है उसके लिए हैं । हमेशा घी के लेबल को पढ़ना सुनिश्चित करें और सही चुने।

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.