कान की मशीन Hearing Aids उपयोगी जानकारी

कान की मशीन कितने प्रकार की होती है और इसे कैसे खरीदना चाहिए? कान की मशीन खरीदते समय किन बातों का ध्यान रखें? कान की मशीन और मोबाइल में गूंजने वाला शोर Mobile and Buzzing in Hearing Aid क्या है?

कान की मशीन को इंग्लिश में hearing aids information in Hindi कहते हैं। इसे कम सुनाई देने वालों के लिए बनाया गया है। यह विशेष प्रकार के उपकरण हैं जो कान में पहनने से ठीक से सुनाई देने लग सकता है। श्रवण यंत्र या सुनवाई मशीन या कान की मशीन आवाज़ को बढ़ा देते हैं जिससे उन्हें सुनना आसान हो जाता है।

अधिकांश कान की मशीन में एक जैसे इलेक्ट्रॉनिक सामान होते हैं जैसे माइक्रोफोन जो ध्वनि उठाता है; एम्पलीफायर सर्किटरी जो ध्वनि को तेज बनाता है; एक छोटा लाउडस्पीकर (रिसीवर) जो कान की नली में इस आवाज़ को देता है; और बैटरी जो इलेक्ट्रॉनिक भागों को चलाती है।

कान की मशीन के डिज़ाइन अलग अलग हो सकते है। यह एनालॉग या डिजिटल हो सकती है या इसमें कुछ स्पेशल फीचर हो सकते हैं। कान की मशीन में आवाज़ के प्रवाह को निर्देशित करने और ध्वनि की गुणवत्ता बढ़ाने के लिए ईयरमोल्ड्स या इयरपीस भी होते हैं। कान की मशीन का चुनाव कितना सुनाई देता है, गंभीरता, सुनने की जरूरतों और जीवनशैली के प्रकार आदि पर आधारित है।

कान की मशीन के अलग-अलग स्टाइल/प्रकार क्या हैं?

बिहाइंड द ईयर Behind-the-ear (BTE) aids:

बिहाइंड द ईयर, कान की मशीन में मशीन के ज्यादातर हिस्से एक छोटे प्लास्टिक के केस में होते हैं। यह केस वाला हिस्सा कान के पीछे लगता है। यह प्लास्टिक का केस एक पतली सी ट्यूब के जरिए आगे कान के छेद में लगाए जाने वाले ईयरमोल्ड earmold या ईयरपीस earpiece से जुड़ा होता है।

बिहाइंड द ईयर मशीन के कुछ लाभ हैं:

  • इस तरह की मशीन बच्चों में लगाई जा सकती है। उम्र के हिस्साब से बच्चे के कान में ईयरपीस को बदला जा सकता है।
  • यह मजबूत होती है।
  • इसे साफ़ करना और हैंडल करना आसान होता है।
इसे भी पढ़ें -  स्टेंट क्या है? What Is a Stent in Hindi?

ऑन द ईयर Mini BTE (or on-the-ear) aids:

यह एक नई तरह की बिहाइंड द ईयर मशीन है। इसे मिनी बिहाइंड द ईयर मशीन कहते हैं। यह भी कान के पीछे लगती है लेकिन यह आकार में छोटी होती है।

इसमें एक बहुत पतली और लगभग गायब ट्यूब होती है जो कान में लगने वाले पीस से जुडी होती है। इन मशीनों में ईयरपीस होता है जो कान के छेद के अंदर फिट होता है।

मिनी बिहाइंड द ईयर मशीन के कुछ लाभ हैं:

  • यह कॉस्मेटिक दृष्टि से अधिक ठीक है क्योंकि यह दूर से पता नहीं लगती।
  • यह साइज़ में काफी छोटी होती है और कान में भारी नहीं लगती।
  • इसे लगाना आरामदायक होता है।

इन द ईयर In-the-ear (ITE) aids:

इन द ईयर मशीन में केवल एक पार्ट होता है। सारे हिस्से एक शेल में होते हैं जो ear कैनाल में लगाई जाती है। इसके हिस्से कान के अंदर लगाई जाने वाली अन्य मशीनों जैसे की इन द कैनाल और कम्प्लीटली इन द कैनाल, से बड़े होते हैं।

इन द कैनाल और कम्प्लीटली इन द कैनाल In-the-canal (ITC) aids and completely-in-the-canal (CIC) aids:

यह मशीनें (hearing aids) बहुत छोटे आकार की होती हैं। पूरी मशीन एक केस में होती है जो ear कैनाल में पूरी तरह से या आंशिक रूप से फिट हो जाती है। यह सबसे छोटी कान की मशीनें है। इस छोटे आकार की वजह से इन्हें आसानी से देखा नहीं जाता और पता नहीं लगता कि व्यक्ति ने कान की मशीन लगाई है। लेकिन इसी छोटे आकार के कारण इसे प्रयोग करना मुश्किल होता है।

एनालॉग और डिजिटल कान की मशीन analog and digital hearing aids

Loading...

 एनालॉग कान की मशीन

एनालॉग कान की मशीन Analog hearing aids ध्वनि तरंगों को ऊँचा loud करती हैं।

यह सभी आवाज़ों (जैसे, भाषण और शोर) को समान रूप से बढ़ाती हैं। कुछ एनालॉग मशीनें प्रोग्राम की जा सकती हैं। इनमें माइक्रोचिप होती है जो अलग-अलग वातावरणों अनुसार प्रोग्राम होती हैं और सेट की जा सकती हैं जैसे कि किसी शांत स्थान पर, पुस्तकालय में, या रेस्तरां में या खेल के मैदान में आदि।

इसे भी पढ़ें -  गर्भवती होने का सही समय के लिए ओवुलेशन किट कैसे इस्तेमाल करें Ovulation Test Kit in Hindi

एनालॉग कान की मशीन (anolog hearing aids), विभिन्न वातावरणों के लिए कई प्रोग्राम को स्टोर कर सकती हैं। सुनने के वातावरण में परिवर्तन केअनुसार मशीन पर एक बटन दबाकर हियरिंग के लिए सेटिंग्स को बदला जा सकता है। एनालॉग मशीने अब कम इस्तेमाल की जाती हैं।

डिजिटल कान की मशीन

डिजिटल कान की मशीन Digital hearing aids में एनालॉग प्रोग्राम की जा सकने वाली मशीन की सभी विशेषताएं हैं, लेकिन वे ध्वनि तरंगों को डिजिटल सिग्नल में परिवर्तित करती हैं और ध्वनि का सटीक दोहराव करती हैं। डिजिटल कान की मशीन में कंप्यूटर चिप्स का प्रयोग होता है जो पर्यावरणीय ध्वनियों का विश्लेषण करती हैं।

यह मशीने प्रवर्धन amplification की प्रक्रिया के दौरान ध्वनि के अधिक जटिल प्रसंस्करण processing की अनुमति देती है जो कुछ स्थितियों (पीछे चल रहे शोर को कम करना, सीटी की आवाज़ कम करना) में अधिक अच्छे रिजल्ट देती हैं। इन मशीनों को सुनाई नहीं देने के विशिष्ट पैटर्न की जरूरतों के अनुसार प्रोग्राम किया जा सकता है।

कान की मशीन के फायदे Benefits of Hearing Aids क्या हैं?

  1. आप उन ध्वनियों को सुनने में सक्षम होंगे जो आप नहीं सुन पा रहे है।
  2. आप अधिक स्पष्ट रूप से टेलीफोन पर बात सुन सकेंगे।
  3. आप परिवार और दोस्तों के साथ अधिक आसानी से संवाद करने में सक्षम होंगे।
  4. शोर वाली जगह जैसे ही भीड़-भाड़, मार्केट आदि में आपकी संवाद करने की क्षमता ठीक हो सकेगी।

कान की मशीन की क्या सीमाएं limitations of hearing Aids हैं?

यह आपकी कान की ताकत को नहीं बढ़ाते। यह आपकी नार्मल हियरिंग को नहीं ला सकते बल्कि आवाज़ के वॉल्यूम को बढ़ा कर आपकी मदद कर सकते हैं।

यह सभी आवाज़ें के वॉल्यूम को बढ़ाते हैं, चाहे वह पृष्ठभूमि में चल रहा शोर ही क्यों न हो जिसे आप सुनना नहीं चाहते हैं।

आपको इसे सही से इस्तेमाल करने में समय लग सकता है और अक्सर फॉलोअप के लिए मशीन के विशेषज्ञ को दिखाना पड़ सकता है जिससे आप मशीन का पूरा लाभ उठा सकें।

इसे भी पढ़ें -  कैथेटर की देखभाल कैसे करें

जब आप मशीन का प्रयोग करना शुरू करते हैं, तो आपको सभी आवाजों के साथ अपनी ही आवाज़ भी बहुत ज़ोर की लग सकती है।

आपको अधिक जटिल तकनीक वाली मशीन में सेटिंग्स को कैसे समायोजित करना सीखना होगा।

कान की मशीन और मोबाइल में गूंजने वाला शोर Mobile and Buzzing in Hearing Aid क्या है?

जो लोग कान की मशीन पहनते हैं या hearing implant कराते हैं उन्हें मोबाइल का उपयोग करते समय कुछ कठिनाइयों का अनुभव हो सकता है। आपको एक बजिंग शोर सुनाई देता है। यह बजिंग फोन से निकलने वाली रेडियोफ्रीक्वेंसी के साथ इंटरफेरेंस interference due to radiofrequency (RF) emissions से होता है। यह फ़ोन पर बात को समझना मुश्किल कर सकता है और कई मामलों में फ़ोन पर बात करना ही मुश्किल हो जाता है।

कौन सी मशीन मेरे लिए सबसे अच्छा काम करेगी?

आपके लिए कौन सी मशीन सबसे सही काम करेगी, यह सुनाई देने की क्षमता और गंभीरता पर निर्भर करता है। यदि आपके दोनों कानों में सुनने की दिक्कत है, तो दो मशीने लेने की सिफारिश की जाती है क्योंकि मस्तिष्क में दो मशीन से अधिक प्राकृतिक संकेत जाते हैं। दोनों कानों से सुनना भी आपको स्पीच को समझने में मदद करेगा और पता लगाने में मदद करेगा कि ध्वनि कहां से आ रही है।

कान की मशीन खरीदते समय किन बातों का ध्यान रखें?

आप और आपके ऑडियोलॉजिस्ट को ऐसी मशीन का चयन करना चाहिए, जो आपकी ज़रूरतों और जीवनशैली के अनुरूप है।

मशीन का मूल्य भी एक महत्वपूर्ण फैक्टर है क्योंकि मशोनों की कीमत मॉडल और फीचर पर निर्भर है।

अन्य उपकरणों की तरह ही स्टाइल और सुविधा के हिसाब से मशीनों का दाम हो सकता है। हालांकि, मशीन खरीदते समय अपनी ज़रूरत को देखें और जो आपके लिए बेस्ट हो। केवल मूल्य से ही कोई मशीन न चुनें। ऐसा बिलकुल ज़रूरी नहीं है कि कोई मशीन क्योंकि की दूसरे से ज्यादा महंगी है,इसलिए बेहतर है। मशीन से आपको आपकी नेचुरल हियरिंग नहीं मेलेगी। अभ्यास के साथ, आप मशीन के माध्यम से सही से जीवन जी सकते हैं।

इसे भी पढ़ें -  कांटेक्ट लेंस के प्रकार : Types of Contact Lense

आपको मशीन हमेशा पहननी होगी इसलिए सुविधाजनक और आसानी से प्रयोग और लगाई जा सकने वाली मशीन का उपयोग करें।

  • मशीन की वारंटी, कवरेज और रिपेयर और अपग्रेड आदि को भी मशीन खरीदते समय ध्यान दें।
  • मशीन की गुणवत्ता और खरीदने के बाद ग्राहक सेवा के बारे में भी पता करें।
  • कम्पनी कैसी कस्टमर सर्विस देती है इसे भी ध्यान में रखा जाना चाहिए।

मशीन खरीदने से पहले मुझे कौन से प्रश्न पूछने चाहिए?

आप ऑडियोलॉजिस्ट से ये महत्वपूर्ण प्रश्न पूछें:

  1. कौन से फीचर मेरे लिए सबसे अधिक उपयोगी होगें?
  2. मशीन की कुल लागत क्या है?
  3. क्या नई प्रौद्योगिकियों के साथ आने वाली नई मशीन से ज्यादा फायदा हो सकता है?
  4. मशीन का परीक्षण करने के लिए कोई ट्रायल पीरियड क्या है?
  5. कितनी वारंटी है? क्या इसे बढ़ाया जा सकता है? क्या वारंटी भविष्य के रखरखाव और मरम्मत को कवर करती है?
  6. क्या ऑडियोलॉजिस्ट इस्क्को एडजस्ट, सर्विस और मामूली मरम्मत प्रदान कर सकता है?

ऑडियोलॉजिस्ट क्या निर्देश देता है?

  1. कान की मशीन को भी अन्य उपकरणों की तरह साफ़-सफाई की ज़रूरत है।
  2. इसे गर्मी और नमी से दूर रखें। निर्देश के अनुसार इसे साफ़ करें। कान बहने से और कान की गंदगी से से मशीन खराब हो सकती है।
  3. इसे बालों के स्प्रे और बालों के अन्य प्रोडक्ट्स से दूर रखें।
  4. जब इस्तेमाल नहीं करना हो, मशीन को ऑफ करें।
  5. बैटरी खत्म होते हैं तुरंत बदलें।
  6. बैटरी को बच्चों की पहुँच से दूर रखें।

कान की मशीन को सही से इतेमाल करने के लिए समय और धैर्य चाहिए। नियमित रूप से इसके प्रयोग से आप इसको ठीक से प्रयोग कर सकेंगे। ऑडियोलॉजिस्ट से इसे लगाने और हटाने के बारे में पूछें। इसकी सफाई करना, दायें और बाएं कान की मशीन की पहचान करना और बैटरी बदलना के बारे में पूछें।

भारत में Widex India, Phonak, Starkey, Siemens, Elkon आदि Hearing aids की निर्माता हैं। उपलब्ध कान की मशीनों का दाम 300 रुपए से लेकर लाखों तक हो सकता है। यह प्रयोग की गई टेक्नोलॉजी, साइज़, ब्रांड, आदि पर निर्भर है। छोटी मशीने, नई तरह की मशीने, और आटोमेटिक मशीनें अधिक महंगी हैं।

इसे भी पढ़ें -  कांटेक्ट लेंस या संपर्क लेंस के बारे में जानकारी, प्राइस और नुकसान

कान की मशीनों को बेसिक, मिड रेंज (50 हजार से 1.5 लाख) और प्रीमियम केटगरी ( 1.5 लाख-2.5 लाख) में बांटा जा सकता है। बेसिक केटगरी के दाम कम होते है और प्रीमियम केटगरी के सबसे ज्यादा। प्रीमियम केटगरी में ज्यादा स्टाइल और कलर उपलब्ध हैं और अधिक एडजस्टमेंट की आप्शन हैं।

किसी भी कान की मशीन को ऑनलाइन नहीं खरीदें बल्कि अच्छे ऑडियोलॉजिस्ट से राय लेकर सही प्रकार की मशीन का चुनाव करें।

A hearing aid is a small electronic device to improve hearing. It amplifies sounds so that a person with hearing loss can listen, communicate, and participate more fully in daily activities. A hearing aid has three basic parts, a microphone, amplifier, and speaker. The hearing aid receives sound through a microphone, which converts the sound waves to electrical signals and sends them to an amplifier. The amplifier increases the power of the signals and then sends them to the ear through a speaker.

A person suffering from hearing loss should consult audiologist before purchasing a good hearing aid. To buy a machine online is not a good idea.

Loading...

One Comment

  1. Mera ek kan band hain purn rup se sunai nahi deta machine lagane ke bad bhi nahi sunai deta

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

error: Content is protected !!