नाक में पोलिप का लक्षण और इलाज Nasal Polyps

नाक में पोलिप क्या होता है और इससे क्या दिक्कत हो सकती है। नेज़ल पोलिप के लक्षण और कारण क्या होते हैं और नाक के पोलिप का इलाज कैसे किया जाता है? Nasal polyp की दवाइयां कौन सी होती हैं?

नाक में पोलिप, ड्राप के आकार की एक्स्ट्रा ग्रोथ है। बड़े और विकसित पोलिप छिले हुए अंगूर की तरह लगते हैं। इनसे नाक का शेप भी बिगड़ सकता है। यह समस्या पुरुषों में अधिक देखी जाती है और अक्सर 40 वर्ष की उम्र से बड़े लोगों में अधिक कॉमन है।

पोलिप नाक के अन्दर या साइनस में हो सकते हैं। ये अक्सर वहां होते हैं जहाँ साइनस, नाक की कैविटी में मिलता है। नाक के पोलिप, एलर्जी या अस्थमा के कारण से हो सकते हैं। इन्हें एलर्जिक रायनाइटिस, साइनस इन्फेक्शन, नाक की पुरानी सूजन से भी जोड़ कर देखा जाता है। कई बार यह आनुवांशिक कारण से होता है और कई बार लम्बे समय से नाक में रहने वाली सूजन से हो सकता है।

कई बार इनके कोई लक्षण नहीं पाए जाते। नाक के अंदर हुए पोलिप का आकार यदि छोटा होता हैं तो इसे इलाज़ की ज़रूरत नहीं होती। बड़े पोलिप साइनस को ब्लाक कर सकते हैं तथा म्यूकस के रुक जाने पर इन्फेक्ट हो सकते हैं इसलिए इलाज़ ज़रूरी हो जाता है।

नाक के पोलिप होने पर, फ्लू जैसे लक्षण जैसे नाक जाम होना, नाक बहना, गंध नहीं आना, स्वाद नहीं आना, इन्फेक्शन, चेहरे में दर्द, आँख के चारों और खुजली, छींक आदि हो सकते हैं। जिन लोगों को नाक के अंदर पोलिप होते हैं उनमें अक्सर एस्पिरिन के लिए एलर्जी भी पायी जाती है। अगर एस्पिरिन दवा से एलर्जी हो तो नेसल पोलिप के लिए चेक किया जाना चाहिए। चेक करने के लिए नेज़ल एण्डोस्कोप का प्रयोग करते हैं। इस एण्डोस्कोप में मैग्नीफाइंग लेंस या कैमरा होता है। इलाज़ के लिए पहले स्टेरॉयड दिए जा सकते हैं और बाद में सर्जरी के लिए कहा जा सकता है।

इसे भी पढ़ें -  दवा प्रतिरोधी टीबी: क्षय रोग जिस पर दवा का असर नहीं होता है

नाक के पोलिप का इलाज़ दवाओं या सर्जरी से किया जाता है। किसी भी सर्जरी की तरह, इस सर्जरी के भी कई साइड इफेक्ट्स हो सकते हैं।

नेज़ल पोलिप के लक्षण

 नेज़ल पोलिप को देखना मुश्किल होता है और यह हमेशा किसी भी लक्षण का कारण नहीं बनता है, इसलिए इसके बारे में बहुत बार पता ही नहीं लगता।

  1. नेज़ल पोलिप बड़े होने या क्लस्टर में होने पर दिक्कतें करते हैं। नाक में पोलिप होने से निम्न लक्षण हो सकते हैं:
  2. नाक जाम होना, नाक से साँस लेने में मुश्किल blocked nose, which can make it difficult to breathe through your nose
  3. नाक बहना runny nose
  4. म्यूकस का नाक के पीछे जाना mucus that drips from the back of your nose down your throat (post-nasal drip)
  5. गंध / स्वाद नहीं पता लगना reduced sense of smell or taste
  6. चेहरे पर या दबाव feeling of fullness or pressure in the face
  7. खर्राटे snoring
  8. ऑब्सट्रक्टिव स्लीप एपनिया obstructive sleep apnoea

अगर पोलिप साइनस को अवरुद्ध करता है, तो साइनोसाईटिस sinusitis हो सकता है । यदि ऐसा होता है, तो चेहरे का दर्द, दांत दर्द और उच्च तापमान (बुखार) हो सकता है।

डॉक्टर से कब मिलें

अगर कोल्ड जैसे नाक के लक्षण हैं जो एक महीने या उससे अधिक समय तक ठीक नहीं हो रहे हैं तो डॉक्टर से मिलें।

नाक में पोलिप के कारण

Loading...

नाक में पोलिप, नाक की लाइनिंगऔर साइनस में सूजन से हो सकता है। यह स्पष्ट नहीं है कि वास्तव में यह सूजन क्यों होती है। हालांकि कुछ चीजें नेज़ल पोलिप विकसित करने के अपने जोखिम को बढ़ा सकती हैं, जिनमें शामिल हैं:

  1. अस्थमा – 20-40% लोगों में दमा भी देखा जाता है।
  2. एस्पिरिन इन्टोलेरेंस – दवा से एलर्जी के लक्षण।

नेज़ल पोलिप कंडीशन आमतौर पर वयस्कों को प्रभावित करती हैं और महिलाओं की तुलना में पुरुषों में अधिक आम होती हैं। वे बच्चों में दुर्लभ हैं।

इसे भी पढ़ें -  Behçet’s Disease: Laskhan aur Upchar in Hindi

नाक में पोलिप का निदान Diagnosing nasal polyps

डॉक्टर लक्षणों के बारे में पूछेगा और आपकी नाक के अंदर की जांच करेगा। कान, नाक और गले (ईएनटी) विभाग में आगे के परीक्षण किये जा सकते हैं।

जाँच में आम तौर पर एन्डोस्कोपी (जहां एक छोर पर एक कैमरे के साथ एक छोटी सी ट्यूब आपके नथुने पर डाली जाती है) या एक कम्प्यूटरीकृत टोमोग्राफी (सीटी) स्कैन शामिल है।

नेज़ल पोलिप का इलाज़ Treating nasal polyps

नेज़ल पोलिप से स्थायी रूप से छुटकारा पाना मुश्किल हो सकता है, लेकिन स्टेरॉयड दवा अक्सर उन्हें सिकुड़ने में मदद दे सकती है, और यदि दवाओं की मदद नहीं करता है तो उन्हें निकालने के लिए सर्जरी की जा सकती है।

मुख्य उपचार हैं:

कोर्टेकोस्टिरॉइड ड्रॉप्स या नाक का स्प्रे corticosteroid nose drops or nasal sprays

नाक के लिए ड्रॉप्स या नाक का स्प्रे, जिसमें स्टेरॉयड चिकित्सा (कॉर्टिकोस्टेरॉयड) शामिल है, लिखे जा सकते है। स्टेरॉयड ड्रॉप्स आम तौर पर स्प्रे से तेज काम करते हैं। हालांकि, आमतौर पर केवल लगभग दो सप्ताह के लिए निर्धारित होते हैं क्योंकि वे दुष्प्रभाव पैदा कर सकते हैं जैसे

  1. नाक के अंदर की जलन
  2. गले में खराश
  3. नाक से खून बहना

यदि बूंदों को लेते समय आपके लक्षण बेहतर होते हैं, तो स्टेरॉयड नाक स्प्रे के साथ दीर्घकालिक उपचार की सिफारिश की जाती है, आमतौर पर पॉलिप्स की संभावनाओं को कम करने की सिफारिश की जाती है।

कॉर्टिकोस्टोरॉइड गोलियां corticosteroid tablets

अगर बड़े पॉलीप्स हैं, या स्टेरॉयड ड्रॉप या स्प्रे का उपयोग करने के बाद भी लक्षण हैं, तो स्टेरॉइड गोलियों (मौखिक कॉर्टिकोस्टेरॉइड) का एक छोटा कोर्स ड्रॉप्स के साथ संयोजन में सुझाया जा सकता है।

दवा प्रीडिनिसोलोन prednisolone को आमतौर पर प्रयोग किया जाता है। यह दवा 5 से 10 दिन के लायक से अधिक समय के लिए उपयोग करने के रूप में निर्धारित नहीं किया जाएगा क्योंकि यह आपके दुष्प्रभावों के विकास के जोखिम को बढ़ाता है जैसे कि:

  1. हड्डियों का कमजोर होना (ऑस्टियोपोरोसिस)
  2. उच्च रक्त चाप
  3. मधुमेह
  4. भार बढ़ना
इसे भी पढ़ें -  सिकल सेल रोग और एनीमिया Sickle Cell Anemea

यदि स्टेरॉइड गोलियां लेने के बाद आपके लक्षण ठीक नहीं होते हैं, तो पोलिप को हटाने के लिए सर्जरी होने का सुझाव दे सकता है। यदि वे बेहतर होते हैं, तो स्टेरॉयड स्प्रे के साथ दीर्घकालिक उपचार की सिफारिश की जाएगी।

शल्य चिकित्सा

शल्य चिकित्सा surgery से नेज़ल पोलिप हटाने के लिए छोटे सर्जिकल उपकरणों को नाक से डाल कर सर्जरी की जाती है।

इस प्रक्रिया को एन्डोस्कोपिक साइनस सर्जरी कहा जाता है। यह साजनरल एनेस्थीसिया के तहत किया जाता है, शल्य चिकित्सा के लगभग दो सप्ताह तक आराम करने की सलाह दी जाएगी।

  1. एन्डोस्कोपिक साइनस सर्जरी के बाद होने वाली सामान्य समस्याएं में शामिल हैं:
  2. नाक के कट लगना, जो आम तौर पर कुछ हफ्तों में बेहतर होगा।
  3. लगातार नाक से खून बहना , जिसके लिए आगे सर्जरी की आवश्यकता हो सकती है।
  4. सर्जरी से संक्रमण, जो आम तौर पर एंटीबायोटिक दवाओं के साथ इलाज किया जा सकता है।

एन्डोस्कोपिक साइनस सर्जरी वाले ज्यादातर लोग अपने लक्षणों में सुधार का अनुभव करेंगे। स्टेरॉयड नाक स्प्रे का दीर्घकालिक उपयोग आम तौर पर सर्जरी के बाद कहा जाता है ताकि फिर से होने वाले पॉलीप्स को रोकने में सहायता मिल सके।

Nasal polyps are common, noncancerous, teardrop-shaped growths that form in the nose or sinuses. Nasal polyps are seen with asthma, hay fever, chronic sinus infections, and cystic fibrosis. The treatment involves steroid drops, sprays and surgery.

Loading...

One Comment

  1. mera naam niranjan h mere naak aksar band ho jate h kabh naak me mans bad jate kabh puri plen ho jate mujhe bahut kathinai hoti h
    kai baar doctor ko dikhaye to bola koi dikkat nhi par mujhe dikkat hoti
    eski koi h bata dijiye

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

error: Content is protected !!