गुदा में खुजली का कारण, लक्षण और घरेलू उपचार

गुदा में खुजली होने के प्रमुख कारकों में शामिल हैं, कृमिरोग, बवासीर, भोज्य पदार्थ, बैक्टीरियल या फंगल इन्फेक्शन, चमड़ी के रोग, गुदा की सफाई नहीं करना या बहुत अधिक करना, एंटीबायोटिक्स आदि। गुदा की खुजली के कारण के आधार पर ही इलाज़ किया जाता है।

गुदा में खुजली या प्रूराईटिस एनी Pruritus ani एक ऐसी स्थिति है जिसमें व्यक्ति की गुदा जिसे एनस कहते हैं, में खुजली होती है। गुदा में खुजली की तीव्रता नमी, दबाव, और कपड़े की रगड़ और बैठने की वजह से बढ़ जाती है।

anus itch

यह एक ऐसी स्थिति होती है जिसमें व्यक्ति चाह कर भी बहुत सी स्थितियों में खुजली नहीं कर सकता। खुजली हो रही हो लेकिन खुजा नहीं सकें, तो समस्या बेचैन कर देती है। साथ ही, गुदा में खुजली करने से सेकेंडरी संक्रमण का खतरा बहुत अधिक रहता है। यह संक्रमण केवल गुदा तक सीमित रह सकता हैं या मुंह के द्वारा शरीर के अंदर जा सकता है। गुदा पर खुजली करने से व्यक्ति की गुदा में चोट लग सकती है, इन्फेक्शन हो सकता हैं व सूजन भी आ सकती है।

गुदा में खुजली होने के प्रमुख कारकों में शामिल हैं, कृमिरोग, बवासीर, भोज्य पदार्थ, बैक्टीरियल या फंगल इन्फेक्शन, चमड़ी के रोग, गुदा की सफाई नहीं करना या बहुत अधिक करना, एंटीबायोटिक्स आदि। गुदा की खुजली के कारण के आधार पर ही इलाज़ किया जाता है। इलाज़ के लिए आपको हमेशा डॉक्टर से संपर्क करना आवश्यक नहीं है। आप स्वयं इसके कारणों को जानने की कोशिश करें और अंडरलाइंग स्थिति को ठीक करने की कोशिश कर सकते हैं।

गुदा में खुजली या प्रूराईटिस एनी के क्या कारण हैं?

  • ज्यादातर मामलों में गुदा में खुजली निम्न कारणों से होती हैं:
  • बहुत कम सफाई करने से गुदा की त्वचा पर मल, पसीना और गंदगी इकठ्ठा हो जाती है।
  • बहुत अधिक सफाई, अक्सर पोंछने और साबुन से धोने आदि से अतिसंवेदनशीलता प्रतिक्रिया हो सकती है जिससे खुजली होती है।
  • बवासीर के मस्से होने से पोस्ट डिफीकेशन सफाई मुश्किल हो सकती हैं। और बड़े आंतरिक मस्से से जलन पैदा होती है जिससे खुजली होती है।
  • बहुत युवा और बुजुर्गों में, मल और मूत्र को नहीं रोक पाने से स्थानीय इरीटेशन और सेकेंडरी फंगल संक्रमण की संभावना होती है जो खुजली के लिए जिम्मेदार हो सकता है।
  • त्वचा रोग के कारण भी खुजली हो सकती है। यदि खुजली त्वचा रोग से होती है तो यह शरीर के अन्य हिस्सों में भी मौजूद होगी।
  • एंटीबायोटिक्स का उपयोग भी कई बार खुजली का कारण होता है। यदि वर्तमान या हाल ही में एंटीबायोटिक उपयोग किया है तो उससे खुजली हो सकती है।
  • बीयर, कैफीन, चॉकलेट, मिर्च, दूध उत्पाद, मेवे, टमाटर उत्पादों, खट्टे फल, मसाले, या विटामिन सी गोलियां भी कुछ लोगों में खुजली का कारण हो सकते हैं।
  • विशेष रूप से तंग और / या सिंथेटिक कपड़े पहनने से भी व्यक्ति को गुदा में खुजली हो सकती है।
इसे भी पढ़ें -  बवासीर का ऑपरेशन कैसे होता है

निम्न रोगों में भी गुदा में खुजली हो सकती है:

  • सूजन आंत्र रोग (जैसे, क्रोहन रोग ) Inflammatory bowel disease (eg, Crohn disease)
  • पेरिअनल कार्सिनोमा (जैसे, बोवेन रोग , एक्सट्रैमररी पेगेट रोग) Perianal carcinoma (eg, Bowen disease, extramammary Paget disease)
  • बवासीर (आंतरिक या बाह्य) Hemorrhoids (internal or external)
  • बैक्टीरियल संक्रमण (खरोंच करने से)
  • स्केबीज़ Scabies
  • एटॉपिक डर्मेटाइटिस Atopic dermatitis
  • सोरायसिस Psoriasis
  • स्किन टैग Skin tags
  • पेट में कीड़े pinworms, threadworm

आमतौर पर बच्चों में गुदा पर खुजली का प्रमुख कारण पेट के कीड़े है। यह कीड़े परिवार के कई सदस्यों में कभी-कभी एक साथ मौजूद होते हैं। पिनवार्म के अंडे गुदा पर होने से पीछे खुजली होने लगती है।

कुछ खाद्य पदार्थों को खुजली वाली गुदा के साथ भी जोड़ा जाता है। इसमें शामिल है:

  • चॉकलेट
  • चटपटा खाना
  • कैफीनयुक्त पेय पदार्थ
  • टमाटर
  • खट्टे फल

बीमारी का इतिहास ध्यान देना चाहिए कि समस्या एक्यूट या आवर्तक है। गुदा या आस पास के क्षेत्र में मलहम, स्प्रे और साबुन समेत गुदा कपर लगाए जाने वाले टोपिकल एजेंटों के बारे पर ध्यान दिया जाना चाहिए कि कहीं यही खुजली का कारण तो नहीं हैं।

विशेष रूप से अम्लीय या मसालेदार भोजन, हाइजिन और स्नान की आवृत्ति के बारे में जानाकर स्वच्छता के बारे में जाना जा सकता है।

मूत्राशय या फेकल इनटॉलेरेंस, गुदा दर्द या गांठ, रक्त स्राव, खूनी दस्त और पेट में ऐंठन (सूजन आंत्र रोग) और सोराइसिस आदि रोगों के कारण यदि खुजली होती हैं तो पहले उनका सही उपचार किया जाना ज़रूरी है।

डॉक्टर से कब मिलें

गुदा में खुजली में हमेशा आपको डॉक्टर से मिलने की ज़रूरत नहीं है। इसके होने के कई सामान्य कारण हैं जो अपने आप ही ठीक हो जाते हैं।

लेकिन निम्न में डॉक्टर से मिलें,

  • फिश्चुआ Draining fistula
  • खूनी दस्त Bloody diarrhea
  • बाहरी बवासीर Large external hemorrhoids
  • आंतरिक मस्से का बाहर निकलना Prolapsing internal hemorrhoids
  • पेरियल त्वचा में बदलाव Dull or thickened perianal skin
इसे भी पढ़ें -  पित्ताशय हटा दिए जाने पर खान-पान Gall bladder Removed and Diet

यदि आप चिकित्सक से मिलते हैं, तो वह आपसे लक्षणों के बारे में सवाल पूछेगा जो आप अनुभव कर रहे हैं।

चिकित्सक जांच के लिए आपको साइड होकर लेटने को कह सकते हैं जिससे वे एनस का एग्जामिनेशन कर सकें और गांठ, मस्से, इन्फेक्शन की स्थिति पता कर सकें। ग्लोव पहनकर वे उंगली डाल कर मलाशय के अंदर की गांठों, कोमलता और रक्तस्राव की जांच भी कर सकते हैं।

यदि आगे के परीक्षणों की आवश्यकता है, तो आपको एक विशेषज्ञ, आमतौर पर एक गैस्ट्रोएन्टेरोलॉजिस्ट या कोलोरेक्टल सर्जन को भेजा जा सकता है।

गुदा में खुजली का उपचार Itchy Anus Treatment  and Tips

Loading...
  • गुदा में खुजली होने के कारण के आधार पर इलाज़ किया जाता है।
  • प्रभावित क्षेत्र में पेट्रोलियम जेली या वेसलीन लगायें।
  • स्नान करते समय पानी और एक मुलायम कपड़े से गुदा क्षेत्र को साफ करें।
  • टॉयलेट और स्नान के बाद अच्छी तरह से गुदा क्षेत्र सुखा लें।
  • एक्यूट मामलों में जो बिना स्पष्ट कारण के वयस्कों में है, भोज्य पदार्थों पर ध्यान दिया जाना चाहिए। बच्चों में, pinworms संदेह किया जाना चाहिए।
  • पुरानी खुजली वाले वयस्कों में और कोई स्पष्ट कारण नहीं है तो अत्यधिक आक्रामक गुदा स्वच्छता कारण हो सकता है।
  •  परजीवी या फंगल संक्रमण का इलाज टोपिकल बैक्टीरियल या फंगल दवा से किया जाना चाहिए।
  • खाद्य पदार्थ और डिटर्जेंट या साबुन से गुदा खुजली हो सकती है। ऐसे फूड्स और टोपिकल एजेंट जो प्ररिटस एनी के होने का कारण हो सकते हैं उनका प्स्तेमाल बंद कर दिया जाना चाहिए।
  • कैफीन, शराब, टमाटर, मसाले और खट्टे फल आदि खाद्य पदार्थों से बचें ।
  • ढीले कपड़े पहनने चाहिए।
  • कॉटन के अंडरवियर पहनें।
  • शौच के बाद गुदा को अच्छे से साफ़ पानी से धोना चाहिए।
  • गुदा पर साबुन, वाइप्स,केमिकल आदि का इस्तेमाल साफ़ सफाई के लिए नहीं किया जाना चाहिए।
  • संवेदनशील त्वचा देखभाल और स्वच्छता उत्पादों, जैसे इत्र-मुक्त क्रीम, साबुन के विकल्प और टॉयलेट पेपर चुनें।
  • यदि पसीना अधिक आता है तो गुदा को सूखा रखने के लिए टेलकम पाउडर लगा सकते हैं।
  • Hydrocortisone acetate 1% का एक सप्ताह लगाने के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है। इसे दिन में 4 बार लगाना चाहिए।
  • पेट के कीड़े, पिनवर्म गुदा पर ख्जली का बच्चों और बड़ों में प्रमुख कारण है। इसलिए पेट की कीड़ों का इलाज़ करने से गुदा में खुजली का भी इलाज़ हो जाता है।
इसे भी पढ़ें -  ओटाइटिस मीडिया (कान की सूजन) Otitis media in Hindi

गुदा में खुजली में हमेशा आपको डॉक्टर से मिलने की ज़रूरत नहीं है। इसके होने के कई सामान्य कारण हैं जो अपने आप ही ठीक हो जाते हैं। अक्सर, चिकित्सक गुदा खुजली के विशिष्ट कारण की पहचान नहीं कर पाते हैं, और समय के साथ खुजली बिना किसी उपचार के ठीक हो जाती है।

जीवन शैली में बदलाव

स्वस्थ जीवन शैली जीने से खुजली वाली गुदा को रोकने में मदद मिल सकती है। इन जीवनशैली उपायों में शामिल हैं:

आहार और व्यायाम

अच्छी तरह से भोजन करना और नियमित व्यायाम करने से दस्त और बवासीर को रोकने के लिए पाचन नियमितता को बढ़ावा देने में मदद मिल सकती है।

अच्छी स्वच्छता

अच्छी स्वच्छता का अभ्यास करना खुजली को रोकने में मदद कर सकता है। अच्छे अभ्यासों में गुदा क्षेत्र को साफ और सूखा रखने से खरोंच और रखरखाव से बचा जाना शामिल है।

ढीले कपड़े

प्राकृतिक, सांस फाइबर के साथ ढीले कपड़े पहनने से जलन और नमी कम हो सकती है।

साफ़ साबुन और डिटर्जेंट

रंजक और इत्र के साथ साबुन और डिटर्जेंट का उपयोग करने से बचा जाने से त्वचा की जलन से बचा जा सकता है जो खुजली वाली गुदा की ओर जाता है।

गुदा खुजली के अधिकांश मामलों को आगे हस्तक्षेप की आवश्यकता के बिना घर पर इलाज किया जा सकता है।

Itchy Anus (Pruritus Ani)

Pruritus ani (itchy bum, itchy butt, itchy bottom) refers to itchy anus. It includes and describes all conditions that result in itching and irritation in the perianal skin. It is very embarrassing and uncomfortable problem. The itch, in or around the anus, can be extremely intense and persistent, causing a constant urge to scratch.

It can be seen in any age group, there is an increased prevalence in ages 30 to 50, as well as in men.

Pruritus ani can be due to many different potential causewhich make it difficult to treat. It can be due to leakage of poo (stool), infections such as herpes, bacteria or tinea, intestinal parasites such as threadworms, haemorrhoids (piles), warts, and in extremely rare cases, cancer of the anus, excessive sweating, skin conditions like psoriasis and contact dermatitis, which occurs when your skin is irritated by soaps, creams or perfumed or bleached toilet paper, overcleaning or lack of hygine etc.

इसे भी पढ़ें -  गुदा में फोड़ा का इलाज कैसे करें | एनोरेक्टल फोड़ा (Anorectal Abscess )

It is important to identify and eliminate any inciting factors, which are often unintentional consequences of the patient’s attempts to alleviate symptoms.

If no cause is found, simple measures with diet modification and hygiene are tried before using topical medications or procedures.

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

error: Content is protected !!