CGM लगातार ग्लूकोज मॉनिटरिंग Continuous Glucose Monitoring

जानिये CGM डिवाइस क्या होती है और कैसे काम करती है? डायबिटीज से ग्रसित लोग इसको कैसे इस्तेमाल कर सकते हैं और इसका क्या फायदा होता है? यदि ब्लड में शुगर बहुत कम हो गयी है या बहुत ज्यादा हो गयी है तो यह तुरंत अलार्म से जरिये बता देता है।

निरंतर ग्लूकोज की निगरानी (Continuous Glucose Monitoring) अपने आप पूरे दिन और रात रक्त शर्करा (blood sugar) के स्तरों को ट्रैक करता है, जिसे blood glucose (ब्लड शुगर) भी कहा जाता है। आप किसी भी समय एक नज़र में अपने ग्लूकोज स्तर देख सकते हैं। आप कुछ घंटों या दिनों में आपके ग्लूकोज में बदलाव कैसे हो रहा है उसे भी देख सकते हैं। वास्तविक समय में ग्लूकोज के स्तर को देखने पाने के कारण आप पूरे दिन के निर्णय आसानी से ले सकते हैं जैसे की कि आपका भोजन, शारीरिक गतिविधि और दवाइयों को कैसे संतुलित किया जाए।

निरंतर ग्लूकोज मॉनिटर (CGM) कैसे काम करती है?

सीजीएम आमतौर पर आपके पेट या बांह पर आपकी त्वचा के नीचे डाले गए एक छोटे सेंसर के माध्यम से काम करता है। संवेदक आपकी त्वचा के निचे के तरल से ग्लूकोज स्तर को मापता है। सेंसर प्रत्येक कुछ मिनटों में ग्लूकोज का परीक्षण करता है। एक ट्रांसमीटर वायर इस जानकारी को मॉनिटर में भेजता है

मॉनिटर एक इंसुलिन पंप का एक हिस्सा या एक अलग डिवाइस का हिस्सा हो सकता है, जिसे आप एक जेब या पर्स में रख सकते हैं कुछ सीजीएम (CGM) सीधे एक स्मार्टफोन या टेबलेट पर जानकारी भेजते हैं, इनके कई मॉडल उपलब्ध हैं।

सीजीएम (CGM)की विशेष विशेषताएं

Loading...

सीजीएम हमेशा ऑन रहता है और ग्लूकोज के स्तर को रिकॉर्ड करता रहता है -चाहे वरिश ही, आप काम कर रहे हों, कसरत कर रहे हों या सो रहे हों कई सीजीएम के पास विशेष विशेषताएं हैं जो आपके ग्लूकोज रीडिंग से जानकारी से काम करती हैं:

  • जब आपके ग्लूकोज का स्तर बहुत कम या बहुत अधिक हो जाता है तो एक अलार्म ध्वनि कर सकता है
    आप अपने भोजन, शारीरिक गतिविधि, और दवाओं को एक सीजीएम डिवाइस में नोट कर सकते हैं, आपके ग्लूकोज के स्तर के साथ भी।
  • आप अपने ग्लूकोज के रुझान को आसानी से देखने के लिए किसी कंप्यूटर या स्मार्ट डिवाइस पर डेटा डाउनलोड कर सकते हैं।
  • कुछ मॉडल तुरंत दूसरे व्यक्ति के स्मार्टफ़ोन को जानकारी भेज सकते हैं- जैसे की उदाहरण के लिए अभिभावक, मित्र या देखभालकर्ता, यदि किसी बच्चे में ग्लूकोज रात भर खतरनाक रूप से कम हो जाता है, तो सीजीएम को अगले कमरे में माता-पिता को जागने के लिए सेट किया जा सकता है।
इसे भी पढ़ें -  गर्भावस्था की डायबिटीज Gestational Diabetes

वर्तमान में, एक सीजीएम मॉडल को उपचार फैसले के लिए मंजूरी दे दी गयी है, डेक्सकॉम जी 5 मोबाइल (Dexcom G5 Mobile)। इसका अर्थ है कि आप अकेले सीजीएम (CGM) परिणामों के आधार पर अपनी मधुमेह देखभाल योजना में बदलाव कर सकते हैं। अन्य मॉडलों के साथ, आपको सबसे पहले किसी दुसरे ग्लूकोस टेस्टिंग डिवाइस से अपना ग्लूकोस चेक करके कन्फर्म करना चाहिए और फिर इंसुलिन लेनी चाहिए या हाइपोग्लाइसीमिया (hypoglycemia) का इलाज करना चाहिए ।

सीजीएम का उपयोग करने के लिए विशेष आवश्यकताएं क्या होती है?

एक दिन में दो बार, आपको को सीजीएम को जांचना पड़ सकता है। आप एक स्टैण्डर्ड ग्लूकोज मीटर पर रक्त की एक बूंद का परीक्षण करेंगे। ग्लूकोज की रीडिंग दोनों उपकरणों पर समान होना चाहिए।

मॉडल पर निर्भर करते हुए आपको हर 3 से 7 दिनों में सीजीएम सेंसर को बदलने की आवश्यकता होगी।

सुरक्षा के लिए जब सीजीएम अलार्म उच्च या निम्न रक्त शर्करा के बारे अलर्ट करे तो कार्रवाई करना महत्वपूर्ण है। आपको अपने ग्लूकोज को लक्ष्य सीमा में लाने या सहायता प्राप्त करने के लिए अपनी उपचार योजना का पालन करना चाहिए।

CGM सीजीएम का उपयोग कौन कर सकता है?

Who can use a CGM?
टाइप 1 मधुमेह से ग्रसित ज्यादातर लोग हैं जो CGMs का उपयोग करते हैं। सीजीएम किस प्रकार टाइप 2 मधुमेह वाले लोगों की मदद कर सकते हैं यह जानने के लिए अनुसंधान चल रहा है ।

सीजीएम को वयस्कों और बच्चों के डॉक्टर के पर्चे के साथ उपयोग के लिए मंजूरी दे दी जाती है। कुछ मॉडल का इस्तेमाल बच्चों की उम्र 2 साल के लिए भी हो सकता है। आपके लिए या आपके बच्चे को आपका डॉक्टर सीजीएम की सिफारिश कर सकता है:

  • यदि गहन इंसुलिन थेरेपी ( intensive insulin therapy) चल रही है
  • हाइपोग्लाइसीमिया न जान पाने की समस्या है
  • अक्सर उच्च या निम्न रक्त शर्करा होता है

आपका डॉक्टर आपकी डायबिटीज की देखभाल योजना को समायोजित करने में मदद करने के लिए हर समय सीजीएम सिस्टम का उपयोग करने या कुछ दिनों के लिए ही करने का सुझाव दे सकता है।

इसे भी पढ़ें -  डायबिटीज ट्रीटमेंट: शुगर की बीमारी का इलाज और कंट्रोल करने के उपाय

सीजीएम के क्या लाभ हैं?

What are the benefits of a CGM?

एक मानक रक्त शर्करा मीटर के मुकाबले, एक सीजीएम प्रणाली का उपयोग आपकी निम्न सहायता कर सकते हैं

  • हर दिन आपके ग्लूकोज के स्तर का बेहतर प्रबंधन करनें
  • कम रक्त शर्करा की आपात स्थिति
  • कम finger sticks की ज़रूरत होती है

सीजीएम स्क्रीन पर एक ग्राफिक दिखाता है कि आपका ग्लूकोज बढ़ रहा है या कम हो रहा है- और कितनी तेज़ी सबदल रहा है- इससे आप आप अपने लक्षित ग्लूकोज स्तर तक पहुंचने का सबसे अच्छा तरीका चुन सकते हैं।

समय के साथ, ग्लूकोज का अच्छा प्रबंधन बहुत मधुमेह वाले लोगों को स्वस्थ रहने और रोग की जटिलताओं को रोकने में मदद करता है। जिन लोगों को सीजीएम से सबसे ज्यादा लाभ मिलता है वे हर दिन या लगभग हर दिन इसका उपयोग करते हैं।

सीजीएम की सीमा क्या है?

What are the limits of a CGM?

शोधकर्ता सीजीएम को अधिक सटीक और उपयोग में आसान बनाने के लिए काम कर रहे हैं। लेकिन आपको एक मानक रक्त ग्लूकोज मीटर से अपने सीजीएम की सटीकता की जांच के लिए दिन में दो बार ग्लूकोमीटर से ग्लूकोज परीक्षण की आवश्यकता होती है।

अधिकांश सीजीएम मॉडल में, आप इलाज के फैसले करने के लिए अकेले सीजीएम पर भरोसा नहीं कर सकते। उदाहरण के लिए, आपकी इंसुलिन खुराक को बदलने से पहले, आपको सबसे पहले ग्लूकोमीटर से ग्लूकोज परीक्षण करके सीजीएम की रीडिंग की पुष्टि करनी होगी।

मानक ग्लूकोज मीटर का उपयोग करने से CGM सीजीएम प्रणाली अधिक महंगा है।

कृत्रिम अग्न्याशय क्या है? What is an artificial pancreas?

सीजीएम “कृत्रिम अग्न्याशय” प्रणालियों का एक हिस्सा है, जो कि मधुमेह वाले लोगों तक पहुंचना शुरू हो रहा हैं।

अमेरिका के राष्ट्रीय मधुमेह संस्थान और पाचन और किडनी रोग (एनआईडीडीके) ने कृत्रिम अग्न्याशय प्रौद्योगिकी के विकास में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। एक कृत्रिम अग्न्याशय में मैनुअल रक्त ग्लूकोज परीक्षण और इंसुलिन शॉट्स का इस्तेमाल होता है। एक सिस्टम हमेशा रक्त शर्करा के स्तर पर नज़र रखता है और इंसुलिन या इंसुलिन के साथ एक दूसरे हार्मोन, ग्लूकागन, को स्वचालित रूप से रक्त में डालता है। सिस्टम की दूर से भी निगरानी किया जा सकता है, उदाहरण के लिए माता-पिता या चिकित्सा कर्मचारी।

इसे भी पढ़ें -  प्री डायबिटीज या पूर्व मधुमेह और इंसुलिन प्रतिरोध

2016 में, अमेरिकी खाद्य एवं औषधि प्रशासन ने एक प्रकार की कृत्रिम अग्न्याशय प्रणाली को मंजूरी दी जिसे hybrid closed-loop system कहा जाता है । यह प्रणाली सीजीएम के माध्यम से हमेशा दिन और रात में आपके ग्लूकोज के स्तर की प्रत्येक 5 मिनट में जांच करती है, और स्वचालित रूप से आपको एक अलग इंसुलिन पंप के माध्यम से बेसल इंसुलिन की सही मात्रा देता है। इसके बाद भी आपको एक दिन में कई बार एक ग्लूकोज मीटर के साथ अपने खून का परीक्षण करने की ज़रूरत होगी।

हाइब्रिड closed loop सिस्टम आपके रक्त ग्लूकोज को स्थिर रखने के लिए आवश्यक कुछ दैनिक कार्यों से आपको मुक्त कर सकता है- या आपके ग्लूकोज को स्थिर करने और दवा लेने की आवश्यकता के बिना रात में आपको सोने में सहायता करता है। अपने स्वास्थ्य देखभाल प्रदाता से बात करें कि क्या यह प्रणाली आपके लिए सही हो सकती है।

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

error: Content is protected !!