सर्वाइकल स्पोंडिलोसिस Cervical spondylosis का उपचार

जानिये सर्वाइकल स्पोंडिलोसिस का कारण क्या है? Cervical spondylosis reasons? स्पोंडिलोसिस के लक्षण क्या हैं? स्पोंडिलोसिस का इलाज क्या है? Cervical spondylosis treatment? सर्वाइकल के लिए आयुर्वेदिक दवाएं कौन कौन सी हैं?

सर्वाइकल स्पोंडिलोसिस Cervical spondylosis (गर्दन दर्द या सर्वाइकल की समस्या), गर्दन में उम्र के साथ वियर और टियर के कारण होने वाले दर्द को कहते हैं। स्पोंडिलोसिस के सबसे आम लक्षण हैं, गर्दन में दर्द, कठोरता और सिरदर्द। जब इसमें गर्दन से जाती हुई अन्य नर्व प्रभावित हो जाती हैं तो बांह में दर्द, हाथ-पैर में सुन्नता व महसूस नही होना, चलने फिरने में दिक्कत आदि हो सकती है।

स्पोंडिलोसिस के अधिकांश मामलों में कुछ हफ्तों के इलाज के बाद अच्छे परिणाम मिलते हैं। 10 में से करीब 1 मामले में, व्यक्ति को क्रोनिक गर्दन के दर्द का सामना करना पड़ सकता है।

सर्वाइकल स्पोंडिलोसिस का कारण क्या है? Cervical spondylosis reasons?

उम्र बढ़ने के प्रभाव और हर रोज के इस्तेमाल से जोड़ों और ऊतकों में टूट फूट होती रहती है। जैसे जब जॉइंट सूखने लगते हैं तब हड्डियों की रगड़ शुरू हो जाती है और जॉइंट दर्द भरे और स्टिफ हो जाते हैं।

सरवाइकल स्पोंडिलोसिस तब होता है जब टूटना ज्यादा और मरम्मत का संतुलन खराब हो जाता है जिससे गर्दन में दर्द और कठोरता हो जाती है।

इसके होने को निम्न रिस्क फैक्टर्स बढ़ा देते हैं:

  1. व्यायाम की कमी Lack of exercise
  2. मोटापा Obesity
  3. पिछली गर्दन या रीढ़ की हड्डी की चोट Previous neck or spinal injuries
  4. पिछली गर्दन या स्पाइनल सर्जरी Previous neck or spinal surgery
  5. गंभीर गठिया Severe arthritis
  6. स्लिप डिस्क slipped disc
  7. बार-बार भारी वजन उठाना Repeatedly carrying heavy weights

सर्वाइकल से कौन प्रभावित हो सकता है?

सरवाइकल स्पोंडिलोसिस एक बहुत ही कॉमन स्थिति है। यह अनुमान लगाया गया है कि 10 में से 9 वयस्कों को 60 वर्ष तक उम में इसके कुछ लक्षण हो सकते हैं।

इसे भी पढ़ें -  रिएक्टिव आर्थराइटिस: लक्षण, कारण और उपचार | Reactive Arthritis

स्पोंडिलोसिस के लक्षण क्या हैं? Cervical spondylosis symptoms?

Loading...

स्पोंडिलोसिस के लक्षणों में गर्दन का दर्द और कंधे का दर्द शामिल है। कभी-कभी सिरदर्द भी हो सकता है जो आम तौर पर सिर के पीछे व गर्दन के ऊपर से शुरू होता है, और माथे तक जाता है। कुछ मामलों में दर्द गंभीर हो सकता है। दर्द आम तौर पर आता है और चला जाता है।

  1. अन्य, अधिक गंभीर, लक्षण आमतौर पर केवल तब होते हैं यदि निम्न स्थिति हो:
  2. सर्वाइकल रेडिकुलोपैथी cervical radiculopathy: सर्वाइकल रेडिकुलोपाथी का सबसे सामान्य लक्षण तेज दर्द है जो शरीर में नीचे की तरफ जाता है। प्रभावित बाहों में कुछ सुन्नता या ” पिन और सुइयों ” का अनुभव भी हो सकता है।
  3. सर्वाइकल मायलोपैथी cervical myelopathy: सर्वाइकल मायलोपैथी तब होता है जब स्पाइनल कार्ड कम्प्रेस हो जाती है। स्पाइनल कार्ड कम्प्रेस होने से निम्न लक्षण प्रकट होते हैं:
  4. समन्वय की कमी
  5. बाहों या पैरों में भारीपन या कमजोरी
  6. चलने में दिक्कत
  7. मूत्र और शौच को न रोक पाना

यदि आपको लगता है कि आपमें सर्वाइकल मायलोपैथी के लक्षणों है तो तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें।

बिना इलाज के यह स्थायी रूप से रीढ़ की हड्डी में क्षति कर सकता है जिससे विकलांगता की स्थिति हो सकती है।

स्पोंडिलोसिस का निदान कैसे किया जाता है? Cervical spondylosis dignosys?

गर्दन में दर्द और स्टिफनेस होने पर स्पोंडिलोसिस की संभावना हो सकती है। लक्षणों के आधार पर टेस्ट कराए जाते हैं।

शारीरिक परीक्षा

यदि दर्द में यह दिक्कत है तो इसे घुमाने में दिक्कत होती है। आपको गर्दन को घुमाने को कहा जा सकता है जिससे दर्द और रेंज को समझा जा सके।

टेस्ट

एक्स-रे: जो स्पॉन्डिलाइटिस की विशिष्ट विशेषताएँ दिखाएगा, जैसे ओस्टिफाइट्स (अतिरिक्त हड्डियों का लम्प)।

एमआरआई स्कैन MRI scans: एक चुंबकीय अनुनाद इमेजिंग (एमआरआई) स्कैन magnetic resonance imaging (MRI) scan एक प्रकार का स्कैन है जो शरीर के अंदर की विस्तृत छवियों का निर्माण करने के लिए मजबूत चुंबकीय क्षेत्र और रेडियो तरंगों का उपयोग करता है।

इसे भी पढ़ें -  खांसी (khansi): दवा, उपचार और कफ निकालने के उपाय

सीटी स्कैन CT scan:एक कम्प्यूटरीकृत टोमोग्राफी (सीटी) स्कैन computerised tomography (CT) scan में एक्स-रे की एक श्रृंखला लेनी होती है, जिसे एक कंप्यूटर द्वारा फिर से एक अधिक विस्तृत छवि बनाने के लिए पुन: संयोजित किया जाता है।

एक सीटी स्कैन आमतौर पर केवल तब होता है जब आप मेडिकल कारणों के लिए एमआरआई स्कैन नहीं कर पा रहे हैं – उदाहरण के लिए, यदि व्यक्ति को पेसमेकर लगा है।

नर्व कंडक्शन टेस्ट और इलेक्ट्रोमोग्राफी (ईएमजी)Nerve conduction test and electromyography (EMG): इन टेस्ट से रेडिकुलोपाथी या मायलोपैथी का निदान करने में मदद होती है।

स्पोंडिलोसिस का इलाज क्या है? Cervical spondylosis treatment?

स्पोंडिलोसिस एक टूट-फूट के कारण होने वाली समस्या है। इसका कोई क्योर नहीं है। इसके लक्षणों से आराम पाने के लिए दवाएं दी जा सकती है जो दर्द-सूजन और स्टिफनेस कम करती हैं। दवा, जैसे कि गैर-स्टेरायडल विरोधी भड़काऊ दवाओं (एनएसएआईडी) , जिसमें इबुप्रोफेन, व्यायाम – जैसे तैराकी और चलना और गर्दन को सही सपोर्ट देना जैसे कि रात में फर्म तकिया के साथ आपकी गर्दन को ठीक रखना आदि से इसका इलाज़ किया जाता है। ।

  1. बहुत कम मामलों में सर्जरी द्वारा डैमेज वाले हिस्से को निकाला या ठीक किया जा सकता है।
  2. दर्द से राहत- ओवर-द-काउंटर दर्दनाशक
  3. गैर-स्टेरायडल सूजनरोधी दवाओं (एनएसएआईडीएस) ग्रीवा स्पोंडिलोसिस के लक्षणों के लिए सबसे प्रभावी दर्दनाशक माना जाता है। कुछ सामान्यतः एनएसएआईडी उपयोग में शामिल हैं:
  4. डाईक्लोफेनाक diclofenac
  5. इबुप्रोफेन ibuprofen
  6. नेपरोक्सन naproxen
  7. यदि एक NSAID दर्द में मदद करने में विफल रहता है, तो आपको एक वैकल्पिक प्रयास करना चाहिए।

अस्थमा , उच्च रक्तचाप , यकृत की बीमारी, हृदय रोग या पेट के अल्सर में एनएसएआईडी उपयुक्त नहीं होता है। इन परिस्थितियों में, पेरासिटामोल का प्रयोग अधिक उपयुक्त है।

कोडीन Codeine

यदि ज्यादा दर्द में कोडीन नामक opiate painkiller दी जा सकती है जिसे एनएसएआईडी या पेरासिटामोल के साथ संयोजन में लिया जाता है।

कोडिन लेने का एक सामान्य दुष्प्रभाव कब्ज है । कब्ज को रोकने के लिए, पानी पियें और फाइबर युक्त भोजन लें जैसे कि रोटी, ब्राउन चावल, जई, मटर, मसूर, अनाज, बीज, फल और सब्जियां।

इसे भी पढ़ें -  कान बहना लक्षण उपचार (Otorrhoea) in Hindi

आम तौर पर उन लोगों के लिए अनुशंसित नहीं किया जाता है जिन्हें श्वास की समस्याएं (जैसे अस्थमा) या सिर की चोटें हैं आदि।

Muscle relaxants

गर्दन में ऐठन वाले दर्द में मसल्स रेलेक्संट muscle relaxant such as diazepam दिया जा सकता है। यह दवा नींद लाती हैइसलिए इसे लेने के बाद ड्राइव न करें। शराब भी नहीं पीना चाहिए, क्योंकि दवा उसके प्रभाव को बढ़ा सकते हैं।

ऐमिट्रिप्टिलाइन Amitriptyline

यदि दर्द एक महीने से अधिक समय तक रहता है और दर्द निवारकों से आराम नहीं है तो डॉक्टर ऐमिट्रिप्टिलाइन नामक दवा लिख ​​सकता है। ऐमिट्रिप्टिलाइन मूल रूप से अवसाद का इलाज करने के लिए दवाई है लेकिन डॉक्टरों ने पाया है कि तंत्रिका दर्द का इलाज करने में एक छोटी सी खुराक भी उपयोगी है।

ऐमिट्रिप्टिलाइन लेने के दौरान आपको कुछ दुष्प्रभाव आ सकते हैं, जिनमें शामिल हैं:

  1. तंद्रा
  2. शुष्क मुँह
  3. धुंधली दृष्टि
  4. कब्ज
  5. पेशाब करने में कठिनाई

गाबापेंटिन Gabapentin

हाथ-पैर की सुन्नता में गाबापेंटिन दवा डी जा सकती है।

कॉलर

एक गर्दन ब्रेस या कॉलर का लम्बे समय के उपयोग अनुशंसित नहीं है, क्योंकि यह आपके लक्षणों को बदतर बना सकता है एक हफ्ते से अधिक समय तक ब्रेस नहीं पहनें।

सर्जरी

सर्जरी की सिफारिश की जा सकती है यदि आपके पास लगातार दर्द होता है जो अन्य उपचारों का जवाब देने में विफल रहता है। सर्जरी से अक्सर लक्षणों का पूरा इलाज नही होता। यह केवल लक्षणों को खराब होने से रोकने में सक्षम है।

सभी सर्जिकल प्रक्रियाओं की तरह, स्पोंडिलोसिस सर्जरी में भी काफी रिस्क है, जिनमें शामिल हैं:

  1. एनेस्थीसिया से जुड़े दुष्प्रभाव
  2. निगलने में दिक्कत
  3. गला बैठ जाना
  4. लकवा होना
  5. नर्व में डैमेज आदि।

यदि आप को लगता है कि आपको सर्जरी से लाभ हो सकता है तो अपने डॉक्टर से तथा अन्य जगहों से इसके फायदे और नुकसान को भलि प्रकार से जांच लें।

इसे भी पढ़ें -  कंधे की अकड़न (फ्रोजन शोल्डर) जानकारी और उपचार

Cervical Spondylosis सर्वाइकल के लिए आयुर्वेदिक दवाएं

  1. दशमूल क्वाथ Dashmula Kwath
  2. पुनार्नावादि गुग्गुल Punarnavadi Guggul
  3. रस्नादी क्वाथ Rasnadi Kwath
  4. लाक्षादि गुग्गुल Lakshadi Guggul
  5. सिंहनाद गुग्गुल Simhanad Guggul/ Singhnad Guggulu

 

बाह्य प्रयोग के लिए

  1. प्रसारणी तेल Prasarani Taila
  2. महानारायण तेल Mahanarayan Oil
  3. लाक्षादि तेल Lakshadi Tail

सर्वाइकल के लिए होम रेमेडीज Cervical Spondylosis Home Remedies

  1. नीम के पत्तों का सेवन करें। इसके लिए पत्तों का पाउडर, काढ़ा या एक्सट्रेक्ट प्रयोग किया जा सकता है।
  2. गर्दन की मालिश के लिए कपूर मिला तेल इस्तेमाल करें।
  3. खाली पेट लहसुन का पेस्ट 3 ग्राम दिन में दो बार लें। ऐसा न करें यदि पेट में जलन, अल्सर है।
  4. गर्म बोतल या गर्म तौलिया से सेंक करें।
  5. हेयर ड्रायर के प्रयोग से भी सेंक कर सकते हैं।
  6. विटामिन सी, ई, का सेवन करें।
  7. ठन्डे और नम वातावरण से बचें।
  8. खट्टे पदार्थ खाने से बचें।
  9. मटर, चना, न खाएं।
  10. गोभी, भिन्डी, पालक आदि न खाएं।

व्यायाम और जीवन शैली में बदलाव

  1. एरोबिक अभ्यास जैसे तैराकी या पैदल चलना अपनाएँ।
  2. गर्दन पर तनाव को कम करने के लिए रात में एक फर्म तकिया का उपयोग करें।
  3. सही तरीके से उठें और बैठें।
  4. कुर्सी पर बैठें जिसमे पीछे सपोर्ट हो।
  5. पेट के बल न सोयें।
  6. ऊँची हील के जूते नहीं पहने।
  7. दिन में न सोयें।

सर्वाइकल के लिए होम्योपैथिक दवाएं

  1. Allen A48 Homeopathy Drops for Spondylitis
  2. Bakson’s Spony Aid for Cervical & Lumbar Spondylosis
  3. Bhargava Spondin Drops
  4. BM 196 For Neck Pain/Spondylosis
  5. Reckeweg R11 Rheuma drops for Muscle pain, Back pain, Spondylosis, Sciatica
  6. Rxhomeo Combo # 36 – Cervical Spondylosis
  7. SBL Homeopathy Drops No।5
  8. Wheezal WL5 drops for Cervical Spondylitis

Cervical spondylosis is a common cause of chronic neck pain and stiffness. In this disorder, there is wear on the cartilage (disks) and bones of the neck (cervical vertebrae). Cervical is caused by aging and chronic wear on the cervical spine. With time, the changes can compress one or more of the nerve roots. In advanced cases, the spinal cord becomes involved causing problems in arms and legs. There can be loss of balance, pain or numbness in the legs, loss of control over the bladder or bowels etc.

इसे भी पढ़ें -  माइग्रेन : कारण, लक्षण, उपचार और दवा | Migraine

Nonsteroidal anti-inflammatory medicines (NSAIDs) are given to manage the pain. Opioids may be prescribed if the pain is severe and does not respond to NSAIDs. If the pain does not respond to these treatments, or you have a loss of movement or feeling, surgery is considered.

Loading...

One Comment

  1. Krishna Murari Saxena

    We got nice information about cervical spondilitus.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.