गोखरू Tribulus terrestris Uses, Benefits, Side Effects, Dosage, Warnings in Hindi

हर्ब ट्रिब्युलस टेरेस्ट्रिस (गोखरू) के साइड इफेक्ट्स और हेल्थ बेनिफिट्स पर जानकारी और नपुंसकता, बांझपन और अन्य बीमारियों के लिए इसका उपयोग।

गोक्षुरा, गोखरू ट्रिब्युलस टेरेस्ट्रिस,  एक जड़ी बूटी जिसे आयुर्वेद में यौन और गुर्दे की समस्या के साथ-साथ पेट दर्द, हाइपरटेंशन और हाइपरकोलेस्टेरोलिया के लिए भी इस्तेमाल किया जाता है।

आयुर्वेदिक प्रणाली में गोखरू मूत्र संबंधी विकारों, गुर्दे की बीमारियों, जीनिटो-मूत्र प्रणाली की बीमारियों, पथरी और नपुंसकता के इलाज के लिए संकेतित है। यह खुजली वाली त्वचा और रक्त साफ़ करने में भी बहुत फायदेमंद है।

गोखरू में विभिन्न फ्लेवेनोइड, फ्लेवेनोल, ग्लाइकोसाइड, स्टेरायडल सोपोनिन,और अल्कालॉयड हैं। यह मूत्रवर्धक, कामोद्दीपक, पथरी नही बनने देने वाला, इम्यूनोमॉड्यूलेटरी, मधुमेह विरोधी, अवशोषण को उन्नत बनाने, लिपिड कम करने वाला, हृदय के लिए टॉनिक, केंद्रीय तंत्रिका तंत्र, लीवर की रक्षा करने वाला, सूजन कम करने वाला, एनाल्जेसिक, एंटीस्पासमोडिक, कैंसर विरोधी, जीवाणुरोधी, कृमिनाशक है। यह दुनिया भर में भूमध्यसागरीय, उपोष्णकटिबंधीय और रेगिस्तानी जलवायु क्षेत्रों में पाया जाता है।

यह पेज गोखरू के बारे में हिंदी में जानकारी देता है जैसे कि दवा का कम्पोज़िशन, उपयोग, लाभ/बेनेफिट्स/फायदे, कीमत, खुराक/ डोज/लेने का तरीका, दुष्प्रभाव/नुकसान/खतरे/साइड इफेक्ट्स/ और अन्य महत्वपूर्ण ज़रूरी जानकारी।यह दवा का प्रचार नहीं है।  इस पेज का उद्देश्य दवा सम्बंधित सही जानकारी देना है।  दवा का इस्तेमाल डॉक्टर की राय पर ही करें।

गोखरू को किन रोगों में प्रयोग करते हैं?

Tribulus terrestris Indications

गोखरू को छाती में दर्द, एक्जिमा, बढ़ी प्रोस्टेट, यौन विकार, बांझपन और कई अन्य स्थितियों के लिए ट्रिब्युलस का उपयोग करते हैं। ट्रिब्युलस में ऐसे रसायन होते हैं जो कुछ हार्मोन के स्तर को बढ़ा सकते हैं।

ट्राईब्यूलस टेरेस्ट्रिस गोखरू के चिकित्सीय उपयोग निम्न हैं:

  • कम एनर्जी, कम कामेच्छा Low energy, vigour
  • पेशाब रोग Urinary tract infection UTI
  • पेशाब रोगों और पुरुषों में यौन कमजोरी
  • वीर्य दोष Semen disorders (too few sperms / oligospermia or no sperms azoospermia or defects in sperm quality)
  • स्तम्भन दोष ED, performance problem
इसे भी पढ़ें -  हेमपुष्पा Uses, Benefits, Side Effects, Dosage, Warnings in Hindi

गोखरू की डोज़ क्या है?

Loading...

Tribulus terrestris Dose

  • 1-9 ग्राम प्रति दिन काढ़े के रूप में।
  • 3-15 मिलीलीटर टिंक्चर प्रति दिन 1: 3 @ 25%।

ट्रिब्युलस की उचित खुराक उपयोगकर्ता की उम्र, स्वास्थ्य और कई अन्य स्थितियों जैसे कई कारकों पर निर्भर करती है। इस समय ट्रिब्युलस के लिए खुराक की उचित सीमा निर्धारित करने के लिए पर्याप्त वैज्ञानिक जानकारी नहीं है।

गोखरू का अन्य किन दवाओं से इंटरैक्ट कर सकती है?

Tribulus terrestris Drug Interactions

एंटीसाइकोटिक दवाएं (विशेष रूप से एमएओ अवरोधक) के साथ इसे नहीं लें।

मधुमेह के लिए दवाएं (एंटीडाइबिटीज दवाएं) : ट्रिब्युलस रक्त शर्करा के स्तर को कम कर सकता है। मधुमेह की दवाओं की खुराक को आपके हेल्थकेयर प्रदाता द्वारा समायोजित करने की आवश्यकता हो सकती है।

यह शल्य चिकित्सा के दौरान और बाद में रक्त शर्करा और रक्तचाप नियंत्रण में हस्तक्षेप कर सकता है।

इसका मूत्रल असर है।

अधिकांश लोगों के लिए ट्रिब्युलस की खुराक पूरी तरह से सुरक्षित होती है। 90 दिनों तक चलने वाले शोध अध्ययनों में ट्रिब्युलस को सुरक्षित दिखाया गया है।

गोखरू के साइड इफ़ेक्ट क्या हो सकते हैं?

Tribulus terrestris Adverse Effects

साइड इफेक्ट आमतौर पर हल्के और असामान्य होते हैं लेकिन इसमें पेट दर्द, क्रैम्पिंग, दस्त, मतली, उल्टी, कब्ज, उत्तेजना, नींद में कठिनाई, या भारी मासिक धर्म रक्तस्राव शामिल हो सकता है।

ट्रिबुलस रक्त शर्करा के स्तर और रक्तचाप को प्रभावित कर सकता है।

हमारा लक्ष्य आपको सही जानकारी प्रदान करना है। क्योंकि दवाएं प्रत्येक व्यक्ति को अलग तरह से प्रभावित करती हैं, हम इस बात की गारंटी नहीं दे सकते हैं कि इस जानकारी में सभी संभावित दुष्प्रभाव शामिल हैं। यह जानकारी चिकित्सा सलाह के लिए एक विकल्प नहीं है। हमेशा डॉक्टर से संभावित दुष्प्रभावों पर चर्चा करें।

गोखरू को कब नहीं लेना चाहिए?

Tribulus terrestris Contraindications

  • बहुत ड्राईनेस होने पर इसे नहीं लेना चाहिए।
  • गर्भावस्था के दौरान इसे नहीं लें।
इसे भी पढ़ें -  अश्वगंधा के फायदे, सेवन का तरीका और नुकसान Benefits and Side Effects of Ashwagandha in Hindi

पशु अनुसंधान से पता चलता है कि ट्रिब्युलस भ्रूण के विकास को नुकसान पहुंचा सकता है। स्तनपान के दौरान ट्रिब्युलस का उपयोग करने की सुरक्षा के बारे में पर्याप्त जानकारी नहीं है। यदि आप गर्भवती हैं या नर्सिंग हैं तो ट्रिब्युलस का उपयोग न करना सबसे अच्छा है।

गोखरू किन रूपों में उपलब्ध है?

Tribulus terrestris Availability

  • सूखे गोखरू कांटे को काढ़ा बनाने में इस्तेमाल करते हैं।
  • गोखरू कैप्सूल उपलब्ध हैं जिन्हें 1-2 कैप्सूल की मात्रा में लेते हैं।

गोखरू कैसे स्टोर करें?

Tribulus terrestris Storage

  • दवा को निर्देशों के अनुसार ही स्टोर करें। इसे रौशनी और नमी से दूर रखें। दवा को अँधेरे में सूखे स्थान पर रखें।
  • दवा को बच्चों की दृष्टि और पहुँच से दूर रखें।
Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

error: Content is protected !!