नीम के तेल Neem Oil के फायदे और नुकसान

नीम का तेल एक शक्तिशाली एंटीफंगल, एंटीप्रेट्रिक, जीवाणुरोधी और एंटी-इंफ्लेमेटरी है। नीम के तेल के अद्भुत लाभों के बारे में जानने और इसके साइड इफेक्ट्स जानने के लिए इस पोस्ट को पढ़ें!

नीम, मार्गोसा या निम्ब एक ऐसा पेड़ है जिसकी पहचान कराने की ज़रूरत नही है। जो किसी दुसरे पेड़ को नहीं पहचानता वो भी नीम को पहचान ही लेता है। नीम ऐसा वृक्ष है जिसके सभी हिस्से दवाई की तरह से इस्तेमाल होते हैं।

नीम त्वचा रोगों में कितना फायदेमंद है यह बताने की आवश्यकता नहीं। चमड़ी के विकारों में नीम के पत्तों को आंतरिक रूप से भी लेते हैं और साथ ही बाहरी रूप से भो प्रयोग करते हैं। रोग हो या सौन्दर्य इसका इस्तेमाल फायदेमंद है। आमजन मुख्य रूप से इसके पत्ते, दातुन और छाल का इस्तेमाल करते हैं।

नीम में लगने वाली नीबोली के अंदर जो बीज पड़ता है उससे तेल निकाला जाता है जिसे नीम का तेल कहते हैं। यह तेल थिक-पीले भूरे से रंग का होता है। यह सर्दियों में जम भी जाता है। नीम के तेल को आजकल त्वचा और बालों के लिए बनाए जा रहे हर्बल उत्पादों में भी काफी इस्तेमाल किया जा रहा है। नीम की ही भाँती यह तेल भी बहुत कड़वा लेकिन बहुत इफेक्टिव है। निम्ब तेल, वेजिटेबल आयल है और इस्तेमाल के लिए बाहरी इस्तेमाल पूरी तरह से सेफ है।

  • समानार्थक: नीम तेलम,निम्म्ब आयल, नीम तेल, नीम बीज तेल, मार्गोसा बीज तेल, Neem Oil, Neem Tel, Neem Seeds Oil, Neem Oil
  • उपलब्धता: ऑनलाइन और चिकित्सा स्टोर पर
  • दवा का प्रकार: शास्त्रीय हर्बल आयुर्वेदिक चिकित्सा, मालिश तेल
  • मुख्य संकेत: त्वचा रोग
  • उपयुक्त: केवल बाहरी टोपिकल उपयोग ONLY FOR TOPICAL USE
इसे भी पढ़ें -  स्पिरुलिना Spirulina के फायदे, नुकसान और सुरक्षा प्रोफाइल in Hindi

नीम तेल के औषधीय उपयोग, लाभ/फ़ायदे Benefits of Neem Oil

नीम तेल में लियंट्रियल, निंबिन, निंबिडिन, निंबिनिन, निंबोलिड्स, फैटी एसिड (ओलेइक, स्टियरिक, और पाल्मिटिक), और सैलानिन होते हैं जो इसे मेडिसिनल गुण देते हैं। नीम तेल पीला भूरा है, स्वाद में कड़वा है, और लहसुन / सल्फर गंध युक्त है। नीम का तेल नीम के पेड़ से बीज में पाया जाने वाला स्वाभाविक रूप से होने वाली कीटनाशक है। यह कीटों और बीमारियों दोनों को नियंत्रित करता है। नीम तेल में मौजूद फैटी एसिड ओलेइक एसिड (52।8 प्रतिशत), लिनोलेइक एसिड (2।1 प्रतिशत), पाल्मेटिक एसिड (12।6 प्रतिशत) और स्टीयरिक एसिड (21।4 प्रतिशत) हैं।

एंटी एजिंग

Loading...

नीम तेल को प्राकृतिक त्वचा देखभाल उत्पादों में नीम का तेल भी प्रयोग किया जाता है। इसमें एंटीऑक्सीडेंट के उच्च स्तर होते हैं जो त्वचा को पर्यावरणीय क्षति से बचाने में मदद करते हैं। इसमें कैरोटीनोइड होते हैं, जो उच्च एंटीऑक्सीडेंट यौगिक प्रदान करते हैं।

नीम के तेल में पाया जाने वाला फैटी एसिड और विटामिन ई आसानी से त्वचा को चिकनाई के बिना त्वचा में अवशोषित कर दिया जाता है। एक बार अवशोषित हो जाने पर, ये शक्तिशाली गुण त्वचा की कोशिकाओं को फिर से जीवंत करने और लोच को बहाल करने के लिए काम करते हैं।

अगर नियमित रूप से उपयोग किया जाता है, तो यह उम्र बढ़ने के संकेतों को रोकने में मदद करते कर सकता है और झुर्रियों को कम कर सकता है।

एक्जिमा

नीम तेलमें विशेष रूप से महत्वपूर्ण फैटी एसिड और विटामिन ई की मात्रा अधिक है इसलिए त्वचा की बाहरी परतों पर लगाने से यह शुष्क और क्षतिग्रस्त त्वचा को ठीक करने में बेहद प्रभावी है। कि नीम का तेल आवश्यक फैटी एसिड (ईएफए), ट्राइग्लिसराइड्स, विटामिन ई और कैल्शियम में समृद्ध है। इसके ईएफए और विटामिन ई की वजह से, नीम का तेल त्वचा के भीतर गहराई से प्रवेश करता है ताकि गंभीर सूखापन से लाई गई छोटी-छोटी दरारों को ठीक किया जा सके।

इसे भी पढ़ें -  डामियाप्लांट Damiaplant (Schwabe) in Hindi की जानकारी, लाभ और कीमत

नीम का तेल एक्जिमा के लक्षणों के लिए एक प्राकृतिक उपाय साबित हो सकता है। लेकिन यह एक्जिमा के मूल कारणों को ठीक नहीं करेगा।

पिगमेंटेशन

ज्यादा पिगमेंटेशन हो जाने की समस्या में यह लाभकारी है। लेकिन यह ड्राई स्किन के लिए अधिक उपयोगी है। तैलीय त्वचा में इसके प्रयोग से स्किन की ओइलिनेस बढ़ सकती अहि।

पौधों के लिए बायोपेस्टेसाइड

नीम तेल प्राकृतिक कीटनाशक है। नीम के तेल में कम से कम 100 जैविक रूप से सक्रिय यौगिक होते हैं। उनमें से, प्रमुख घटक ट्राईपुराइड्स हैं जिन्हें लिमोनोइड्स के नाम से जाना जाता है और यह अधिकांश कीटों पर पर प्रभावी है।

नीम का तेल मनुष्यों के लिए कम से कम विषाक्त है साथ ही फायदेमंद जीवों के लिए बहुत कम विषाक्तता दिखाता है। यह कांटेक्ट कीटनाशक है जो कीड़ों के सम्पर्क में आने से उन्हें नष्ट करता है।

फंगल संक्रमण

नीम के बीज का तेल फंगिटॉक्सिक है और फंगल फेफड़ों के संक्रमण के साथ-साथ थ्रश भी कम करता है।

भरे घावों को

नीम तेल, बैक्टीरिया को नष्ट करता है। यह लाली और सूजन को कम करने में भी मदद करता है।

मुँहासे

नीम तेल के एंटीमाइक्रोबायल गुण से मुंहासे पर असर करता है। इसमें निंबिडिन और निंबिन है जो सूजन और लाली से छुटकारा पाने में मदद करते हैं। यह मुँहासे से पीड़ित लोगों की मदद करता है क्योंकि यह त्वचा की सतह से बैक्टीरिया को हटाकर जलन और सूजन को शांत करने में मदद कर सकता है। नीम के तेल में उच्च फैटी-एसिड सामग्री को मुँहासे से निशान को रोकने और इलाज करने के लिए कहा जाता है और यह गैर-कॉमेडोजेनिक है।

नीम का तेल औमुँहासे के लिए घरेलू उपचार के रूप में उपयोग किया जाता है।

स्कैल्प को करे स्वथ्य, रूसी में लाभप्रद

नीम तेल से बालों में मालिश कर सकते हैं। लेकिन ध्यान रहे इसकी एक अगल से गंध होती है जो लहसुन जैसे तेज होती है। इसलिए इसे लगाने के बाद बालों को धोना बहुत बहुत ज़रूरी है।

इसे भी पढ़ें -  लिव 52 Liv 52 Uses, Benefits, Side Effects, Dosage, Warnings in Hindi

नीम तेल के चिकित्सीय उपयोग Uses of Neem Oil

चिकित्सीय रूप से आप नीम तेल को निम्नलिखित स्वास्थ्य स्थितियों में प्रयोग कर सकते हैं:

  • टिक्स, मक्खियाँ, पतंगे, जूँ, घाव, पशु रिंस Animal Rinse for fleas, ticks, flies, mites, lice, hot spots, sores
  • इनडोर और आउटडोर पौधों, फूलों और सब्जियों के लिए बायोपेस्टिससाइड Biopestiside for indoor and outdoor plants, flowers and vegetables
  • एथलीट फुट athletes foot
  • कवक की स्थिति fungal conditions
  • कान का फंगल संक्रमण Fungal infection of the ear
  • कीट निवारक Insect repellent
  • खुजली Scabies eczema
  • जलन, कटौती और मामूली घाव Burns, cuts and minor wounds
  • त्वचा अल्सर skin ulcers
  • त्वचा और बाल देखभाल Skin & Hair Care
  • बाल गिरने, समय से पहले ग्रेइंग, जूँ, डैंड्रफ़ और खोपड़ी संक्रमण Hair fall, premature greying, lice, dandruff and scalp infections
  • मालिश का तेल Massage oil
  • मुँह के छाले cold sores
  • मौसा और मोल Warts and moles
  • सिर की जूं Head Lice
  • सोरायसिस Psoriasis

मार्गोसा तेल के आंतरिक प्रयोग से उल्टी, उनींदापन, चयापचय एसिडोसिस, पॉलिमॉर्फोन्यूक्लियर ल्यूकोसाइटोसिस, और एन्सेफेलोपैथी होती है। इसका सेवन नहीं करें। बच्चों में इससे रेई सिंड्रोम हो सकता है।

नीम तेल के इस्तेमाल में सावधनियाँ Cautions

  • इसका आन्तरिक इस्तेमाल नहीं करें।
  • कई अध्ययनों में बताया गया है कि बच्चों में, नीम के तेल के इस्तेमाल से विषाक्तता,उल्टी, हेपेटिक विषाक्तता, चयापचय एसिडोसिस, और एन्सेफेलोपैथी होती है।
  • नीम के बीज के तेल ने मौखिक रूप से एंथेलमिंटिक के रूप में दिए जाने पर दस्त, मतली, और सामान्य असुविधा होती है।
  • यद्यपि नीम तेल त्वचा रोगों के खिलाफ सुरक्षित रूप से उपयोग की जाती है, लेकिन संवेदनशील व्यक्तियों में कभी-कभी त्वचा रोग की सूचना मिली है।

नीम तेल का गर्भावस्था में प्रयोग

इसका इस्तेमाल UNSAFE है। इससे गर्भपात हो सकता है।

नीम तेल के साइड-इफेक्ट्स Side effects

आंखों या त्वचा से संपर्क जलन या चोट का कारण बन सकता है। इनहेलेशन से बचा जाना चाहिए।

इसे भी पढ़ें -  इसबगोल का कब्ज और दूसरी बिमारियों में उपयोग

नीम के बीज के तेल और / या निष्कर्षों ने मछली ओरेच्रोमिस निलोोटिकस और साइप्रिनस कार्पीओ, चूहे और खरगोशों के लिए तीव्र विषाक्तता, चूहे पर एक गंभीर हाइपोग्लाइसेमिक प्रभाव, और रीसस बंदरों और मनुष्यों में शुक्राणुनाशक गतिविधि के लिए घातक विषाक्तता का प्रदर्शन किया है।

यह मनुष्यों में उल्टी, दस्त, उनींदापन, एसिडोसिस और एन्सेफेलोपैथी भी पैदा करता है।

नीम तेल प्रभावी गर्भनिरोधक होता है।

कच्चे नीम के तेल में aflatoxin की उपस्थिति कई नैदानिक ​​लक्षणों के साथ तीव्र जहरीले प्रभाव पैदा कर सकता है। यकृत मुख्य लक्ष्य अंग है, और एक उच्च खुराक हेपेटिक विफलता का कारण बनता है।

दीर्घकालिक एक्सपोजर

इस रसायन के विषाक्त गुणों की पूरी तरह से जांच नहीं की गई है।

नीम तेल को कब प्रयोग न करें Contraindications

  • इसे बच्चे और बड़े कोई भी ओरल प्रयोग के लिए नहीं लें।
  • पारंपरिक उपचार में पांच से दस नीम तेल को मामूली बीमारियों के खिलाफ बच्चों को मौखिक रूप से दिया गया। इससे बच्चों में उल्टी, सूजन, अम्लीयोटिक श्वसन के साथ tachypnea, polymorphonuclear ल्यूकोसाइटोसिस, और encephalopathy आदि प्रयोग के कुछ घंटों के भीतर विकसित हो गए।
  • बाहरी इस्तेमाल के लिए ज्यादातर लोगों के लिए यह सेफ है।
  • ओरल रूप से इसे नहीं इस्तेमाल करें।

नीम तेल का ड्रग इंटरेक्शन Drug Interaction

इस बारे में जानकारी उपलब्ध नहीं है। इसलिए डॉक्टर की राय प्राप्त करें।

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

error: Content is protected !!