दशमूलारिष्ट Dashmularishta (Dasamoolarishtam) Uses, Benefits, Side Effects, Dosage, Warnings in Hindi

दशमूलारिष्ट के उपयोग, खुराक और साइड इफेक्ट्स सहित संभावित लाभ और औषधीय उपयोगों के बारे में जानें। दशमूलारिष्ट को खाने के बाद लेना चाहिए। इसे निर्धारित मात्रा से अधिक नहीं लेना चाहिए। अधिक मात्रा में लेने से पेट में जलन, डकार आना आदि लक्षण होते हैं।

दशमूलारिष्ट Dashmoolarishta in Hindi को मुख्य रूप से स्त्रियों को प्रसव के बाद post delivery कमजोरी, थकान, सूजन और बुखार के लिए दिया जाता है। यह आयुर्वेद की बहुत पुरानी दवाई है जिसे बहुत सी आयुर्वेदिक फार्मसी बना रही है, जैसे डाबर दशमूलारिष्ट, बैद्यनाथ दशमूलारिष्ट, पतंजलि, कोट्टाकल दशमूलारिष्टम आदि।

दशमूलारिष्ट के सेवन से बच्चा होने के बाद, गर्भाशय की सूजन, बुखार आना, भूख नहीं लगना तथा अन्य दिक्कतों में फायदा होता है।

दशमूलारिष्ट को खाने के बाद लेना चाहिए। इसे निर्धारित मात्रा से अधिक नहीं लेना चाहिए। अधिक मात्रा में लेने से पेट में जलन, डकार आना आदि लक्षण होते हैं।

यह पेज दशमूलारिष्ट के बारे में हिंदी में जानकारी देता है जैसे कि दवा का कम्पोज़िशन, उपयोग, लाभ/बेनेफिट्स/फायदे, कीमत, खुराक/ डोज/लेने का तरीका, दुष्प्रभाव/नुकसान/खतरे/साइड इफेक्ट्स/ और अन्य महत्वपूर्ण ज़रूरी जानकारी। यह दवा का प्रचार नहीं है। इस पेज का उद्देश्य दवा सम्बंधित सही जानकारी देना है। दवा का इस्तेमाल डॉक्टर की राय पर ही करें।

  • दवा का नाम/उपलब्ध ब्रांड नाम: Dashmularishta
  • मुख्य प्रयोग: पोस्ट-डिलीवरी कमजोरी, महिलाओं के लिए पोषण सिरप

दशमूलारिष्ट क्या है?

दशमूलारिष्ट स्वास्थ्य टॉनिक है जिसमें दशमूल मुख्य द्रव्य है। यह आयुर्वेदिक हर्बल दवा जड़ी बूटियों के किण्वन के माध्यम से तैयार होती है।

स्त्री रोगों में यह बहुत फायदेमंद है। यह महिलाओं के स्वास्थ्य को ठीक रखने में मदद करने वाली दवाई है। बच्चा होने के बाद इसे स्त्रियों को लेने को कहा जाता है जिससे प्रसव बाद होने वाली दिक्कतों जैसेकि गर्भाशय की सूजन, पीठ दर्द, थकान, पेरिनेल क्षेत्र का दर्द, योनि डिस्चार्ज, अवसाद, स्तनॉन में सूजन, गर्भाशय के संक्रामक रोगों की रोकथाम हो सके।

दशमूलारिष्ट की संरचना क्या है?

Loading...

Dashmularishta Composition/Ingredients

इसमें निम्न द्रव्य हैं:

  • बिल्व Aegle marmelos Root/Stem Bark 48 g
  • श्योनाक Oroxylum indicum Root/Stem Bark 48 g
  • गंभारी Gmelina arborea Root/Stem Bark 48 g
  • पाटला Stereospermum suaveolens Root/Stem Bark 48 g
  • अग्निमंथ Premna mucronata (Official substitute) Root/Stem Bark 48 g
  • शालपर्णी Desmodium gangeticum Plant (Whole) 48 g
  • प्रिश्पर्ण Uraria picta Plant (Whole) 48 g
  • बृहती Solanum indicum Plant (Whole) 48 g
  • कंटकारी Solanum xanthocarpum Plant (Whole) 48 g
  • गोक्षुरु Tribulus terrestris Plant (Whole) 48 g
  • चित्रक Plumbago zeylanicum Root 240 g
  • पुष्कर Inula racemosa Root 240 g
  • लोध्र Symplocos racemosa Stem Bark 192 g
  • गुडूची Tinospora cordifolia Stem 192 g
  • आमला Emblica officinalis Pericarp 154 g
  • जवासा Fagonia cretica Plant (Whole) 115 g
  • खदिर Acacia catechu Heart Wood 77 g
  • विजयसार Pterocarpus marsupium Heart Wood 77 g
  • हरीतकी Terminalia chebula Pericarp 77g
  • कूठ Saussurea lappa Root 19 g
  • मजिष्ठ Rubia cordifolia Root 19 g
  • देवदारु Cedrus deodara Heart Wood 19 g
  • विडंग Embelia ribes Fruit 19 g
  • मुलेठी Glycyrrhiza glabra Root 19 g
  • भारंगी Clerodendrum serratum Root। 19 g
  • कपित्थ Feronia limonia Fruit Pulp 19 g
  • बहेड़ा Terminalia bellirica Pericarp 19 g
  • पुनर्नवा Boerhavia diffusa Root 19 g
  • चव्य Piper retrofractum Stem 19 g
  • जटामांसी Nardostachys jatamansi Rhizome 19 g
  • प्रियंगु Callicarpa macrophylla Flower 19 g
  • सारिवा Hemidesmus indicus Root 19 g
  • कृष्णा जीरक Carum carvi Fruit 19 g
  • निशोथ Operculina turpethum Root 19 g
  • रेणुका Vitex negundo Seed 19 g
  • रसना Pluchea lanceolata Leaf 19 g
  • पिप्पली Piper longum Fruit 19 g
  • पुगा Areca catechu Seed 19 g
  • साठी Hedychium spicatum Rhizome 19 g
  • हल्दी Curcuma longa Rhizome 19 g
  • शतपुष्पा Anethum sowa Fruit 19 g
  • पद्माख Prunus cerasoides Stem 19 g
  • नागकेशर Mesua ferrea Stamens 19 g
  • मुष्ट Cyperus rotundus Rhizome 19 g
  • इन्द्रयाव Holarrhena antidysenterica Seed 19 g
  • श्रृंगी Pistacia integerrima Gall 19 g
  • जीवक Pueraria tuberos (Official substitute) Root Tuber 19 g
  • वृश्भक Microstylis wallichii Root Tuber 19 g
  • मेदा Polygonatum cirrhifolium Root Tuber 19 g
  • महामेदा/शतावरी Asparagus racemosus (Official substitute) Root Tuber 19 g
  • काकोली Withania somnifera (Official substitute) Substitute Root 19 g
  • क्षीर काकोली/ असगंध Withania somnifera (Official substitute) Substitute Root 19 g
  • रिद्धि Dioscorea bulbifera (Official substitute) Substitute Root Tuber 19 g
  • वृद्धि Dioscorea bulbifera (Official substitute) Substitute Root Tuber 19 g
  • जल/पानी for decoction Water 20 l reduced to 5 l
  • द्राक्षा Vitis vinifera Dry Fruit 600 g
  • जल for decoction Water 2।45 l reduced to 1।84 l
  • शहद Honey 307 g
  • गुड Jaggery 3।8 kg
  • धातकी Woodfordia fruticosa Flower 290 g
  • कंकोल Piper cubeba Fruit 19 g
  • खस Coleus vettiveroides Root 19 g
  • सफ़ेद चन्दन Santalum album Heart Wood 19 g
  • जतिफल Myristica fragrans Seed 19 g
  • लवंग Syzygium aromaticum Flower Bud 19 g
  • त्वक Cinnamomum zeylanicum Stem Bark 19 g
  • ईला Elettaria cardamomum Seed 19 g
  • तेजपत्र Cinnamomum tamala Leaf 19 g
  • केशर (Nagakeshara) Mesua ferrea Stamens 19 g
  • पिप्पली Piper longum Fruit 19 g
  • कटक फल Strychnos potatorum Seed QS
इसे भी पढ़ें -  Divya Patanjali Sanjivani Vati Uses, Benefits, Side Effects, Dosage, Warnings in Hindi

दशमूलारिष्ट के हेल्थ बेनेफिट्स क्या हैं?

Health Benefits of Dashmoolarishta

  • इसके सेवन से रोजोविकर/मासिक धर्म menstrual disorders के विकारों में लाभ होता है।
  • इसमें इम्यूनो-मॉड्यूलेटर, एंटी-तनाव और एंटीऑक्सीडेंट गुण हैं।
  • इसमें दर्द निवारक गुण हैं।
  • प्रसव बाद बुखार में इसके सेवन से फायदा होता है।
  • बार बार होने वाले गर्भपात में यह लाभकारी है।
  • यह इनफर्टिलिटी infertility में भी लाभप्रद है।
  • यह एंटीऑक्सीडेंट है।
  • यह एक गर्भाशय की टॉनिक uterine tonic है और गर्भाशय को बल देती है।
  • यह खून बढ़ाता है।
  • यह गर्भाशय की मांसपेशियों की कमजोरी को दूर करता है।
  • यह गर्भाशय को साफ़ होने में मदद करता है और विषाक्त पदार्थों को हटा देता है।
  • यह गैसहर है।
  • यह चयापचय में सुधार करने और पाचन शक्ति को बढ़ाने में भी मदद करता है।
  • यह ताकत और सहनशक्ति प्रदान करता है।
  • यह त्वचा के स्वास्थ्य और चमक के लिए अच्छा है।
  • यह दर्द, शारीरिक तनाव से राहत प्रदान करता है।
  • यह दिमाग और शरीर को मजबूत करता है।
  • यह पाचन और अवशोषण में सुधार करता है।
  • यह पाचन में सुधार करता है।
  • यह पोस्ट-डिलीवरी से संबंधित तनाव और कमजोरी से प्रभावी ढंग से और स्वाभाविक रूप से ठीक होने में मदद करता है।
  • यह प्रतिरक्षा में सुधार करता है।
  • यह भूख में सुधार करता है।
  • यह मसल्स को रिलैक्स करता है।
  • यह महिलाओं में सामान्य कमजोरी और थकान से लड़ता है।
  • यह शरीर को शक्ति प्रदान करता है।
  • यह शारीरिक शक्ति में सुधार करता है।
  • यह सूजन को कम करता है।
  • यह स्ट्रेस, अवसाद को कम करने में सहायक है।

दशमूलारिष्ट को किन रोगों में प्रयोग करते हैं?

Dashmularishta Indications

दशमूलारिष्ट के चिकित्सीय उपयोग निम्न हैं:

  • गर्भाशय की कमजोरी uterus weakness
  • गर्भाशय को सामान्य आकार लेने में मदद
  • नई माँ में दूध की मात्रा को बढ़ाना
  • पोस्ट-डिलीवरी कमजोरी को दूर करना
  • प्रसव के बाद कमजोरी दूर करना
  • प्रसव के बाद महिलाओं में कमी को पूरा करने में मदद
  • प्रसव बाद आने वाले बुखार को दूर करना
  • बार-बार होने वाला गर्भपात recurrent miscarriage
  • मन्दाग्नि दूर करने के लिए
  • महिला बांझपन, ovulation के संबंधित विकारों female infertility
  • मासिक धर्म के दौरान दर्द pain during menses
  • रजोनिवृत्ति menopause
  • शरीर से विजातीय पदार्थों को दूर करना
  • सामान्य कमज़ोरी general debility
  • स्वस्थ महिला प्रजनन प्रणाली को बनाए रखने और गर्भ धारण करने की संभावना को बढ़ाना
इसे भी पढ़ें -  पेट साफ कैसे करें | पेट साफ़ करने के तरीके

स्त्री-पुरुष सभी इसे निम्न रोगों में ले सकते हैं:

  • अपच indigestion
  • अर्श piles, भगंदर fistula
  • उदर रोग / पेट के रोग / पाचन की दिक्कतें
  • उलटी, गुल्म
  • ग्रहणी (malabsorption syndrome)
  • पांडू (anaemia), कामला (jaundiue)
  • पेट रोग diseases of stomach
  • भूख न लगना low appetite, anorexia
  • कफ रोग
  • कफ cough
  • अस्थमा asthma
  • मूत्र रोग
  • प्रमेह, मूत्रविबंध (retention of urine)
  • मेह (excessive flow of urine)
  • शर्करा (gravel in urine)
  • अश्मरी (Calculi)
  • तथा बहुत से अन्य रोग
  • शुक्र क्षय (deficiency of semen)धातुक्षय
  • खून की कमी anaemia
  • शुक्र शोधन
  • कमजोरी, थकावट, lethargy, low energy

दशमूलारिष्ट की डोज़ क्या है?

Dashmularishta Dose

  • वयस्क: इसे लेने की मात्रा 12-24 मिलीलीटर है। दवा को पानी की बराबर मात्रा के साथ-साथ मिलाकर लेना चाहिए।
  • दशमूलारिष्ट सुबह नाश्ते के बाद और रात्रि के भोजन करने के बाद लें।
  • दशमूलारिष्ट भोजन के 30 मिनट में बाद, दिन में दो बार, सुबह और शाम लें।
  • दशमूलारिष्ट दवा को 3 महीने या उससे अधिक समय तक लें।
  • दवा के सेवन के दौरान गरिष्ठ भोजन, घी, दूध, चीनी, चावल, आदि का सेवन न करें।

दशमूलारिष्ट का अन्य किन दवाओं से इंटरैक्ट कर सकती है?

Dashmularishta Drug Interactions

कोई ड्रग इंटरेक्शन ज्ञात नहीं है।

दशमूलारिष्ट के साइड इफ़ेक्ट क्या हो सकते हैं?

Dashmularishta Adverse Effects

इससे पेट में जलन हो सकती है, एसिडिटी बढ़ सकती है क्योंकि यह पित्त वर्धक है।

यह साइड इफेक्ट की पूरी सूची नहीं है।

हमारा लक्ष्य आपको सही जानकारी प्रदान करना है। क्योंकि दवाएं प्रत्येक व्यक्ति को अलग तरह से प्रभावित करती हैं, हम इस बात की गारंटी नहीं दे सकते हैं कि इस जानकारी में सभी संभावित दुष्प्रभाव शामिल हैं। यह जानकारी चिकित्सा सलाह के लिए एक विकल्प नहीं है। हमेशा डॉक्टर से संभावित दुष्प्रभावों पर चर्चा करें।

दशमूलारिष्ट को कब नहीं लेना चाहिए?

Dashmularishta Contraindications

  • इसमें गुड़, शहद, द्राक्षा है इसलिए डायबिटीज में इसका सेवन न करें।
  • शरीर में पित्त के रोग हैं तो इसका सेवन कम मात्रा में करें या नहीं करें।
  • पेट में जलन, एसिडिटी, आदि पित्त रोग में इसका सेवन नहीं करें।
इसे भी पढ़ें -  एक्यूपंक्चर पद्धति से चिकित्सा और साइड इफेक्ट

दशमूलारिष्ट किन लोगों को सावधानी से लेनी चाहिए?

Dashmularishta Precautions

  • दशमूलारिष्ट ज्यादातर लोगों में सुरक्षित और अच्छी तरह से टोलरेटेड है।
  • इसके साथ कोई दुष्प्रभाव नहीं है।
  • यह स्तनपान में भी सुरक्षित है क्योंकि यह स्तन दूध की आपूर्ति में वृद्धि करता है।

दशमूलारिष्ट किन रूपों में उपलब्ध है?

Dashmularishta Availability

यह 225 मिलीलीटर, 450 मिलीलीटर और 680 मिलीलीटर की पैकिंग में उपलब्ध है।

दशमूलारिष्ट कितने समय तक लेनी चाहिए?

इसे 1 महीने से 6 महीने तक ले सकते हैं, या ज़रूरत के हिसाब से ले सकते हैं।

दशमूलारिष्ट कैसे स्टोर करें?

Dashmularishta Storage

  • दवा को निर्देशों के अनुसार ही स्टोर करें। इसे रौशनी और नमी से दूर रखें। दवा को अँधेरे में सूखे स्थान पर रखें।
  • दवा के सेवन से पहले एक्सपायरी डेट चेक करें।
  • खराब दवा को ठीक तरह से डिस्पोज करें।
  • दवा को बच्चों की दृष्टि और पहुँच से दूर रखें।
  • गलती से दवा का ओवरडोज़ हो गया हो तो डॉक्टर से संपर्क करें।
Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

error: Content is protected !!