दालचीनी Cinnamon के उपयोग, लाभ और साइड इफेक्ट्स

दालचीनी धरती पर सबसे स्वादिष्ट और स्वस्थ मसालों में से एक है। यह रक्त शर्करा के स्तर को कम कर सकती है, हृदय रोग जोखिम कारकों को कम कर सकता है, और इसमें अन्य प्रभावशाली स्वास्थ्य लाभ भी हैं। जानिये इसके घरेलू उपयोग क्या क्या हैं?

दालचीनी को सिनमन, दारूचीनी, दारू त्वक या केवल त्वक के नाम से जानते हैं। त्वक, त्वचा या पेड़ की छाल को कहते हैं। यह मुख्य रूप से पेट रोगों के लिए दवा है। दालचीनी आँतों को मजबूती देती है।

दालचीनी औषधीय गुणों से भरपूर सुगंधित मसाला है। दालचीनी को मुँहासे, खांसी, और पाचन समस्याओं जैसी कई सामान्य बीमारियों के इलाज और रोकथाम में उपयोग की जा सकती है।

दालचीनी में आवश्यक तेल, टैनिन और श्लेष्म पाया जाता है। आवश्यक तेल (लगभग 75%) का प्रमुख घटक सिनामाल्डेहाइड है। सिनामाल्डेहाइड रक्तचाप को कम करता है, मांसपेशियों में ऐंठन को रोकता है, और परिधीय रक्त प्रवाह बढ़ाता है। दालचीनी, तासीर में गर्म है और शरीर के अंदर ड्राईनेस लाती है। इसे खाने से पेट, सर्कुलेशन, श्वशन अंगों, पेशाब अंगों और प्रजनन अंगों पर असर होता है। यह वात दोष और कफ दोष को कम करती है लेकिन पित्त बढ़ाती है।

दालचीनी का पेड़ सदाबहार और लगभग 6-8 मीटर ऊंचा है। पेड़ की छाल अप्रैल-जुलाई और अक्टूबर-दिसंबर के दौरान एकत्र की जाती है। भारत में, दालचीनी के पेड़ों को पश्चिमी घाट और आस-पास की पहाड़ियों पर खेती की जाती है।

दालचीनी को पाउडर की तरह बना कर इस्तेमाल करते हैं। इसे अकेले ही या अन्य द्रव्यों के साथ ले सकते हैं। अध्ययनों से पता चला है कि दालचीनी सूजन को कम कर सकती है, एंटीऑक्सीडेंट प्रभाव हो सकती है और बैक्टीरिया से लड़ सकती है। दालचीनी मधुमेह वाले लोगों में रक्त शर्करा को कम कर सकती है । कोलेस्ट्रॉल को कम करने और खमीर संक्रमण का इलाज करने के लिए दालचीनी का इस्तेमाल भी किया जाता है।

इसे भी पढ़ें -  गोखरू Tribulus terrestris Uses, Benefits, Side Effects, Dosage, Warnings in Hindi

दालचीनी के लाभ Health Benefits of Dalchini in Hindi

दालचीनी का सेवन कफ और वात को कम करता है, पाचन को उत्तेजित करता है, पेट की गैस निकाल देता है। दालचीनी में संवेदी, एंटीसेप्टिक गुण होते हैं। दालचीनी का उपयोग पाचन और श्वसन रोगों के इलाज के लिए किया जाता है।

खराब या कमजोर पाचन

Loading...

दालचीनी पाचन समस्याओं के इलाज के लिए दालचीनी एक बहुत अच्छा उपाय है। यह धीमे पाचन, मन्दाग्नि, गैस और कोलिक में फायदेमंद है। यह दस्त, पानी जैसे पतले दस्त, आदि में भी लाभप्रद है।

दालचीनी के उत्तेजक गुण परिसंचरण में वृद्धि करते हैं और जीआई ट्रैक्ट में उपचार, गैस्ट्रिक रस बहने में मदद करते है। अध्ययन से पता चला कि यह मसाला अल्सर को रोकने में भी मदद कर सकता है।

इसे आँतों में अच्छे बैक्टीरिया को बढ़ाने में भी इस्तेमाल किया जा सकता है।

पाचन कमजोरी के इलाज के लिए 2-3 ग्राम की खुराक में दालचीनी शक्ति का मौखिक सेवन उपयोगी है। पाचन की दिक्कतों में इसे इलाइची, तेज पत्ता के साथ लेते हैं। दालचीनी, इलाइची और तेज पत्ते को त्रिकुलू या त्रिजात कहते हैं। त्रिजात के सेवन से सांस सम्बन्धी रोगों में भी फायदा होता है।

दस्त में दालचीनी पाउडर को सोंठ और जीरे के साथ लेते हैं।

स्वाद नहीं आना

शहद और दालचीनी का पेस्ट बना कर इस पेस्ट को जीभ पर रगड़ें और कुछ मिनट तक रखें। इससे स्वाद नहीं आने की समस्या में फायदा होता है।

डायबिटीज

मधुमेह में कम इंसुलिन निकलता है। कुछ अध्ययनों ने दिखाया है कि दालचीनी टाइप II मधुमेह वाले लोगों में चीनी को बेहतर ढंग से चयापचय करने में मदद करती है। शुरुआती मधुमेह में पैनक्रियास इंसुलिन पैदा करता है, लेकिन शरीर कुशलता से इसका उपयोग नहीं कर सकता है। शोधकर्ताओं ने पाया कि दालचीनी ग्लूकोज (चीनी) चयापचय के लिए आवश्यक इंसुलिन की मात्रा को कम कर देता है।

इसे भी पढ़ें -  अश्वगंधा के फायदे, सेवन का तरीका और नुकसान Benefits and Side Effects of Ashwagandha in Hindi

दालचीनी के ½ से ¾ चम्मच, लेने से प्रत्येक भोजन के साथ रक्त शर्करा के स्तर को नियंत्रित करने में मदद हो सकती हैं।

फंगल संक्रमण

दालचीनी चाय समग्र स्वास्थ्य के लिए बहुत अच्छी है। एथलीट के पैर जैसे फंगल संक्रमण को रोकने और ठीक करने के लिए इस चाय को धोने के रूप में इस्तेमाल किया जा सकता है।

सर्दी जुकाम

दालचीनी के पाउडर को कफ रोगों में पिप्पली, वासा, सोंठ आदि के साथ लेते हैं। इसकी चाय भी बना सकते हैं और दिन तीन बार पी सकते हैं।

दालचीनी के पाउडर को 2-3 ग्राम की मात्रा में शहद के साथ, दिन में दो बार लेने से कफ में लाभ होता है।

गोरी त्वचा के लिए

शहद और दालचीनी पाउडर मिलाकर चेहरे पर लगायें । जब तक यह सूख जाता है तब तक चेहरे पर रखें और सादे पानी से धोएं।

स्त्री रोगों में

पीरियड्स में दर्द, पीरियड्स में गर्भाशय में ऐंठन, आदि में लिया जाता है। इस पीरियड्स शुरू होने के 3-4 दिन पहले से लिया जाना चाहिए। इसमें लोहे की भी कुछ मात्रा होती है। इसके सेवन से पीरियड की ब्लीडिंग कम होती है। स्त्री रोगों में इसे गुग्गुल, हल्दी, सोंठ और अशोक के साथ लेने से लाभ होता है।

पेशाब रोगों में फायदा

दालचीनी का सेवन मूत्र के रास्ते के संक्रमण को साफ़ करता है। दालचीनी अधिकांश मूत्र-पथ संक्रमण (एस्चेरीचिया कोलाई बैक्टीरिया) को पूरी तरह से दबा देता है।

यह योनि खमीर संक्रमण (कैंडिडा) के लिए जिम्मेदार कवक, कैंडिडा अल्बिकैन्स को भी नष्ट करता है। दालचीनी चाय को मूत्र और योनि खमीर का मुकाबला करने के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है।

दालचीनी लेने की मात्रा कितनी है?

दिन में 1/2 से 1 चम्मच (2-4 ग्राम) पाउडर ली जा सकती हैं। कुछ अध्ययनों ने दालचीनी की औषधीय मात्रा को 1 ग्राम और 6 ग्राम के बीच बताया गया है।

इसे भी पढ़ें -  स्पिरुलिना Spirulina के फायदे, नुकसान और सुरक्षा प्रोफाइल in Hindi

दालचीनी बहुत अधिक खुराक जहरीली हो सकती है।

दालचीनी को कब नहीं लेना चाहिए?

दालचीनी को प्रेगनेंसी में नहीं लेना है। दवा की मात्रा में लेने से इससे पित्त बढ़ता है और शरीर में गर्मी आती है। तासीर में गर्म होने से गर्भावस्था में इसे लेने से मनाही है। यह गर्भाशय के लिए उत्तेजक है।

अधिक पित्त होने पर भी दालचीनी का सेवन नहीं करना चाहिए।

लंबे समय तक बड़ी मात्रा में मुंह से लिये जाने के लिए दालचीनी नुकसानदायक है।

दालचीनी में एक रसायन होता है जो यकृत को नुकसान पहुंचा सकता है। यदि आपके पास जिगर की बीमारी है, तो सामान्य रूप से भोजन में पाए जाने वाली मात्रा से बड़ी मात्रा में दालचीनी न लें।

दालचीनी रक्त शर्करा को कम कर सकती है और सर्जरी के दौरान और बाद में रक्त शर्करा नियंत्रण में हस्तक्षेप कर सकती है। एक निर्धारित शल्य चिकित्सा से कम से कम 2 सप्ताह पहले एक दवा के रूप में कैसिया दालचीनी लेना बंद कर दें।

गर्भावस्था और स्तनपान

यदि आप गर्भवती हैं या स्तनपान करा रही हैं तो दालचीनी लेने की सुरक्षा के बारे में पर्याप्त विश्वसनीय जानकारी नहीं है। इसलिए इसके उपयोग से बचें।

सिनामोन का ड्रग इंटरेक्शन

दालचीनी एंटीबायोटिक्स, मधुमेह की दवाओं, रक्त पतला करने वाली दवाओं, दिल की दवाओं, और दूसरों के साथ इंटरैक्ट कर सकती हैं।

दालचीनी में क्यूमरिन नामक एक रसायन की बड़ी मात्रा होता है। संवेदनशील लोगों में, क्यूमरिन यकृत रोग का कारण बन सकता है या रोग खराब कर सकता है।

दालचीनी के साइड इफेक्ट्स | दालचीनी लेने के जोखिम क्या हैं?

  • दालचीनी को कम डोज़ और कम दिन तक लेने का आमतौर पर कोई साइड इफेक्ट्स का नहीं होता है।
  • दालचीनी को यदि ज्यादा मात्रा में खाते हैं तो मुंह और होंठ में घाव हो जाते हैं।
  • कुछ लोगों दालचीनी पाउडर से एलर्जी प्रतिक्रिया हो सकती है ।
  • त्वचा पर लगाने पर दालचीनी से लालिमा और जलन हो सकती है ।
  • दालचीनी की बहुत अधिक मात्रा विषाक्त हो सकती है, खासकर जिगर की समस्याओं वाले लोगों में।
  • चूंकि दालचीनी रक्त शर्करा को कम कर सकती है इसलिए मधुमेह वाले लोगों को दालचीनी की खुराक का उपयोग करने पर उनके उपचार को समायोजित करने की आवश्यकता हो सकती है।
इसे भी पढ़ें -  पतंजलि शिवलिंगी बीज Uses, Benefits, Side Effects, Dosage, Warnings in Hindi

Related Posts

बादाम रोगन (बादाम तेल) के फायदे Badam Oil (Almond Oil) Roghan Badam Shirin Uses and Benefits in Hindi
गोखरू Tribulus terrestris Uses, Benefits, Side Effects, Dosage, Warnings in Hindi
कायम चूर्ण Uses, Benefits, Side Effects, Dosage, Warnings in Hindi
पतंजलि शिवलिंगी बीज Uses, Benefits, Side Effects, Dosage, Warnings in Hindi
इसबगोल का कब्ज और दूसरी बिमारियों में उपयोग

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

error: Content is protected !!