बादाम रोगन (बादाम तेल) के फायदे Badam Oil (Almond Oil) Roghan Badam Shirin Uses and Benefits in Hindi

रोगन बादाम शिरीन Roghan Badam, बादाम के तेल का यूनानी नाम है। यूनानी में Roghan तेल को कहते हैं। जानिए बादाम के तेल के फायदे क्या क्या हैं ?

बादाम रोग़न शीरीन, उन बादामों में निकाला तेल है जिन्हें हम मेवे की तरह खाते हैं। बादामों को खाने के बहुत से फायदे हैं ऐसा सभी को पता है। जिस तरह से बादाम खाना सेहत के लिए फायदेमंद है वैसे ही बादाम की गिरी को दबा कर निकाले गए तेल के अनेकों बेनेफिट्स हैं।

रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के लिए बादाम

बादाम का तेल कोई दवाई नहीं होकर एक हेल्थ सप्लीमेंट के तौर पर सभी के द्वारा इस्तेमाल लाया जा सकता। इस तेल को पी सकते हैं, दूध में मिला सकते हैं या मालिश भी कर सकते हैं। कहते भीं है हमें त्वचा पर वही चीज लगानी चाहिए जो हम खा सकते हैं। इसलिए बादाम रोगन का इस्तेमाल निश्चित तौर मालिश के लिए किया जा सकता है। इससे छोटे बच्चों की मालिश कर सकते हैं। इसको अगर वे मुंह में भी डाल लें तो फायदा ही होगा। अच्छी त्वचा पानी हो या अच्छे बाल, बादाम रोगन का प्रयोग करके देखें।

रोग़न बादाम शीरीन Roghan Badam Shirin के सेहत के लिए फायदे

रोगन बादाम शिरीन Roghan Badam, बादाम के तेल का यूनानी नाम है। यूनानी में Roghan तेल को कहते हैं।

इसे भी पढ़ें -  नीम के तेल Neem Oil के फायदे और नुकसान

रोगन बादाम को मीठे बादामों (Prunus Amygdalus Dulcis) की गरी से निकाला जाता है। इसमें फैटी एसिड, लिनोलिक एसिड का 30% तक होता है। बादाम तेल में फोलिक एसिड, अल्फा टोकोफेरोल और जिंक पाए जाते हैं जो त्वचा विकारों के उपचार के लिए उपयोगी हैं। यह सदियों से प्रयोग किया जा रहा है। इसे आंतरिक और बाह्य दोनों ही तरीकों से इस्तेमाल किया जाता है। इसे लगाने से मांसपेशियाँ रिलैक्स होती हैं। कॉस्मेटिक रूप से इसमें चमड़ी की सफाई और मॉइस्चराइज़र करने के गुण होते हैं।

रोगन बादाम में एंटी-स्ट्रेस, एंटी-ऑक्सीडेट, इम्यूनोस्टिमुलेंट,लिपिड कम करने के और लेक्सेटिव गुण होते हैं। बादाम मस्तिष्क की शक्ति को संरक्षित करने, मांसपेशियों को मजबूत करने में बेहद फायदेमंद है। इसे सोने से पहले दूध में मिलाकर लेने से पेट ठीक से साफ़ होता है और आंतरिक रूक्षता दूर होती है।

रोगन बादाम के अनेकों स्वास्थ्य लाभ है। जो लाभ बादामों को खाने से मिलते हैं वही बादाम के तेल को पीने से भी मिलते हैं। आप इसे त्वचा पर बाहरी रूप से लगा भी सकते हैं। इसे बालों में लगा सकते हैं और बच्चों की मालिश भी कर सकते हैं।

बादामों से निकाला गया यह तेल, बादामों की अच्छाई लिए हुए है। इसे शिशु, बच्चे और बड़े सभी ले सकते हैं। जैसे बादाम सभी खा सकते हैं वैसे ही यह तेल भी सभी लोग इस्तेमाल कर सकते हैं।

बादाम रोग़न करे त्वचा की देखभाल

Loading...

बादाम तेल विटामिन ई का एक समृद्ध स्रोत है और त्वचा देखभाल उत्पादों के लिए उत्कृष्ट है। रोगन बादाम को त्वचा पर लगाने से त्वचा मॉइस्चराइज़ होती है।

उच्च लिनोलिक एसिड ट्रांस-एपिडर्मल वॉटर लॉस को कम करने में योगदान देता है, जिसके परिणामस्वरूप नमी प्रतिधारण बेहतर होता है जिससे जो त्वचा कोमल होती है।

इसे ड्राई स्किन की स्थिति जैसे सोरायसिस और एक्जिमा के इलाज के लिए प्रयोग किया जाता है।

इसे भी पढ़ें -  मूव क्रीम से दर्द से राहत Moov Cream in Hindi

इसका उपयोग त्वचा की रंगत और टोन में सुधार लाता है।

एलर्जी और जलन की समस्या होने पर यह बहुत उपयोगी होता है, यह स्ट्रेच मार्क्स रोकता है और निप्पल की दरारों को ठीक करता है।

चेहरे को बनाए ग्लोइंग, हटाए दाग धब्बे, हाइपरपिगमेंटेशन

रोगन बादाम से त्वचा मॉइस्चराइज़ होती है। मोनो और पॉलीअनसैचुरेटेड फैटी एसिड, ग्लाइकोसाइड्स और खनिजों की में उच्च मात्रा होने से यह त्वचा के लिए फायदेमंद है।

इसमें ग्लिसरॉलव फैटी एसिड होता है जो सेल्स के सामान्य रूप से कार्य करने के लिए आवश्यक हैं।

इसे लगाने से चेहरे की अनइवन टोन, ज्यादा पिगमेंटेशन, झाई आदि में फायदा होता है।

कम करे झुर्रियां

रोगन बादाम में विटामिन ए, बी 1, बी 2, बी 6, विटामिन ई और डी भी होते हैं। इन विटामिन की मौजूदगी इसे एंटीऑक्सीडेंट गुण देती है।

एंटीऑक्सीडेंट होने से रोगन बादाम, मुक्त कणों को बेअसर करके महत्वपूर्ण सेल संरचनाओं की रक्षा करता है। त्वचा की नमी को खोने से बचा कर यह झुर्रियों को कम करता है।

दे त्वचा को विटामिन ई

इसमें विटामिन ई होता है जो वसा घुलनशील एंटीऑक्सीडेंट है, जिसे केवल खाद्य पूरक के रूप में ही प्राप्त किया जा सकता है। विटामिन ई झुर्रियों, न्यूरोलॉजिकल बीमारियों जैसे अल्जाइमर रोग और मधुमेह जैसी आंखों के विकार आदि के खिलाफ सुरक्षा देता है।

विटामिन ई के सेवन से शरीर में फ्री रेडिकल के कारण होने वाली कोशिकाओं की क्षति से रक्षा करने में मदद मिलती है।

विटामिन ई का टॉपिकल एप्लीकेशन त्वचा के पोषण और बालों के विकास में उपयोगी है।

त्वचा पर विटामिन ई लगाने से बहुत से त्वचा लाभ होते हैं । सोरायसिस, एरिथेमा, आदि विटामिन ई के प्रभाव से कम कहोते हैं। विटामिन ई, घावों के निशान और त्वचा पर खिंचाव के निशान को हल्का करता है।

फटे और डल होठों को दे चमक

बादाम के तेल से होंठों की मालिश करने से खून का दौरा ठीक से होता है और फटे होठों की समस्या दूर होती है। इसे आप रोजाना अपने लिप्स पर लगा सकते हैं।

इसे भी पढ़ें -  झंडू पंचारिष्ट Pancharishta Uses, Benefits, Side Effects, Dosage, Warnings in Hindi

इसे लगाने से कोई भी नुकसान नहीं है अपितु यह होठों से पेट में जाता है तोभी बहुत लाभ होता है।

बालों की ड्राईनेस हटाए और रूसी को कहे बाए

बादम के तेल की मालिश से बालों का रूखापन दूर होता है और बालों को मजबूती मिलती है।

ऑयब्रो को दे घनापन

ऑयब्रो पर इसकी मालिश से बालों की ग्रोथ को मदद मिलती है।

हटाए आँखों के नीचे के काले घेरे

बादाम तेल को आँखों के नीचे की पतली त्वचा पर सोने से पहले लगाना चाहिए और साथ ही दूध में मिलाकर पीना चाहिए। इसे लगाने से त्वचा नरम, और रिलैक्स होती है।

दे दिमाग को ताकत

बादाम खाने से दिमाग तेज होता है और बादाम का तेल पीने से भी दिमाग को ताकत मिलती है। दिमाग की ड्राईनेस दूर होती है और सिर का दर्द दूर होता है।

नसों और हड्डियों को बनाए मजबूत

बादाम तेल नसों और हड्डियों को मजबूत बनाता है। चाहे इसे पियें या मालिश करें, दोनों की तरीकों से इसका लाभ ले सकते हैं।

बच्चों की मालिश के लिए उपयुक्त

बच्चों की मालिश के लिए बादाम तेल का इस्तेमाल कर सकते हैं। जहाँ मार्केट में मिलने वाले प्रसिद्ध ब्रांड में बेस्ड आयल मिनरल होता है, जो शरीर के लिए नुकसानदायक है वहीँ बादाम का आयल वेजिटेबल आयल है जो खाने के लिए उपयुक्त है। इसलिए बादाम के तेल से बच्चों की मालिश करें।

कब्ज़ की समस्या में फायदेमंद

कब्ज़ में स्टूल बहुत हार्ड हो जाता है और मोशन में दर्द गोटा है। दूध पीने वाले बच्चे या बड़े, यह समस्या सभी में देखें को मिलती है। कब्ज़ अक्सर होता हो तो दूध में 1-2 चम्मच बादाम तेल मिलाकर रात में पियें। ऐसा कुछ करके देखें। इससे आँतों की ड्राईनेस दूर होगी और कब्ज़ में आराम मिलेगा।

दे बच्चों को दिमागी और शारीरिक ताकत

बच्चों को दूध में मिलाकर दैनिक देने से दूध की पौष्टिकता बढती है और बच्चों को बादाम का पोषण भी मिलता है। इससे दूध के कैल्शियम के साथ उन्हें विटामिन ए, बी 1, बी 2, बी 6, विटामिन ई और डी भी मिलते हैं। बादाम के तेल से बच्चों का दिमाग तेज होता है और ताकत मिलती है।

इसे भी पढ़ें -  गोखरू Tribulus terrestris Uses, Benefits, Side Effects, Dosage, Warnings in Hindi

सिर के दर्द में करे लाभ

सर में दर्द होने पर इसकी कुछ बूंदों को किसी ड्रॉपर में लेकर दोनों नाक में डालें और लेते रहें। इससे आराम मिलेगा।

बादाम रोग़न या बादाम के तेल को कैसे इस्तेमाल करें

बादाम के तेल को आप इसकी शीशी से एक चम्मच में निकाल कर 1-2 चम्मच की मात्रा में पी सकते हैं या आप इसे एक गिलास दूध में मिला कर पी सकते हैं।

  • बड़ों के लिए इसके सेवन की मात्रा 5 से 10 ml है। बच्चों को आप इसकी आधी मात्रा दे सकते हैं।
  • शिशुओं को आप यह कुछ बूंदों की मात्रा में दे सकते हैं।
  • नाक में या काम में डालने के लिए एक ड्रॉपर में तेल की कुछ बूंदे लेकर नाक में टपकाएं।
  • बालों के लिए उँगलियों पर लेकर, बालों की जड़ों में मालिश करें।

किसी भी ब्रांड के आलमंड आयल का इस्तेमाल करने से पहले आप को लेबल को सही से चेक करना ज़रूरी है। लेबल पर पढ़ कर यह सुनिश्चित करें कि यह तेल पीने के उपयुक्त है। ऐसा करना इसलिए ज़रूरी है क्योंकि आजकाल बाजार में बहुत से उत्पाद है जिनका नाम तो आलमंड आयल है लेकिन वे बादाम का तेल न होकर कई अन्य तेलों का मिक्स है। किसी भी भ्रामक प्रोडक्ट से बचें और सही रोग़न बादाम शिरीन ही इस्तेमाल करें।

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

error: Content is protected !!